Print Sermon

इन संदेशों की पांडुलिपियां प्रति माह २२१ देशों के १,५००,००० कंम्प्यूटर्स पर इस वेबसाइट पते पर www.sermonsfortheworld.com जाती हैं। सैकड़ों लोग इन्हें यू टयूब विडियो पर देखते हैं। किंतु वे जल्द ही यू टयूब छोड़ देते हैं क्योंकि विडियों संदेश हमारी वेबसाईट पर पर पहुंचाता है। यू टयूब लोगों को हमारी वेबसाईट पर पहुंचाता है। प्रति माह ये संदेश ३७ भाषाओं में अनुवादित होकर १२०,००० प्रति माह हजारों लोगों के कंप्यूटर्स पर पहुंचते हैं। उपलब्ध रहते हैं। पांडुलिपि संदेशों का कॉपीराईट नहीं है। आप उन्हें बिना अनुमति के भी उपयोग में ला सकते हैं। आप यहां क्लिक करके अपना मासिक दान हमें दे सकते हैं ताकि संपूर्ण संसार जिसमें मुस्लिम व हिंदु भी सम्मिलित है उनके मध्य सुसमाचार फैलाने के महान कार्य में सहायता मिल सके।

जब कभी आप डॉ हिमर्स को लिखें तो अवश्य बतायें कि आप किस देश में रहते हैं। अन्यथा वह आप को उत्तर नहीं दे पायेंगे। डॉ हिमर्स का ईमेल है rlhymersjr@sbcglobal.net .




अंतिम दिनों के चिंन्ह

SIGNS OF THE LAST DAYS
(Hindi)

डॉ आर एल हायमर्स‚ जूनि
by Dr. R. L. Hymers, Jr.

ल्यॉस ऐंजीलिस के बैपटिस्ट टैबरनैकल में रविवार संध्या‚ ९ सितंबर‚ २०१८
को प्रचार किया गया संदेश
A sermon preached at the Baptist Tabernacle of Los Angeles
Lord’s Day Evening, September 9, 2018


यीशु के चेले जानना चाहते थे कि इस संसार का अंत कब होगा? उन्होंने पूछा‚ ‘‘आप के पुनरागमन और युगांत का चिन्ह क्या होगा?" (मत्ती २४:३) वे मसीह से एक चिंन्ह मांगते हैं। मसीह उन्हें अनेक चिंन्ह बताते हैं जो मत्ती की पुस्तक २४ अध्याय और समानांतर लूका २१ के अध्याय में दर्ज है। मत्ती २४ अनेक चिंन्हों को बतलाता है। लूका की पुस्तक उससे भी बढ़कर बतलाती है। आज रात्रि हम लूका २१ के दर्ज विवरण से ही अधिक सुनेंगे। ‘‘आप के पुनरागमन और युगांत का चिन्ह क्या होगा?" मसीह ने तथापि बहुत सारे चिंन्ह लूका २१ में बतलाये हैं किंतु इसके पहिले हम २ पतरस की पुस्तक खोल लेवें।

२ पतरस‚ अध्याय तीन‚ पद तीन खोल लेवें। यह स्कोफील्ड स्टडी बाइबल में पेज १३१९ पर मिलता है। यहां पर लिखा हुआ है,

‘‘और यह पहिले जान लो कि अन्तिम दिनों में हंसी ठट्ठा करने वाले आएंगे‚ जो अपनी ही अभिलाषाओं के अनुसार चलेंगे" (२ पतरस ३:३)

आज रात मैं अंतिम दिनों के चिंन्हों पर बोलूंगा क्योंकि अब हम अंतिम समय की ओर ही अग्रसर हैं। समय कम है।

२ पतरस ३:३ में भावाव्यक्ति को देखिये‚ ‘‘अन्तिम दिनों में ऐसे लोग आएंगे।" ‘‘अन्तिम दिनों में" शब्दांश को ध्यानपूर्वक देखिये। बाइबल में यह भावाभिव्यक्ति और विचार आप को बार बार पढ़ने को मिलता है।

बाइबल सिखाती है कि इतिहास में एक बारीक बात कही गयी है जो अंतिम समय की ओर संकेत देती है। बाइबल के अनेक शिक्षक सिखाते हैं कि अब हम उसी समय में चल रहे हैं। मेरा मानना है वे सही हैं। बाइबल किसी तिथि निर्धारण के लिये चेतावनी देती है। परंतु इस समय काल को ‘‘अंतिम समय की" संज्ञा अवश्य दी गयी है। लेनार्ड रेवनहिल ने कहा था, ‘‘ये अंतिम दिन हैं।"

२ पतरस ३:३ में अगला शब्द ‘‘हंसी ठट्ठा करने वाले" प्रयुक्त किया गया है। ये लोग मसीह के पुनरागमन और अंतिम समय के विचार का मखौल उड़ाते हैं। वे मखौल उड़ाते, ठटटा करते और हंसते हैं। वे दोषदर्शी और अविश्वासी हैं। उनका कहना है, ‘‘हम तो ईश्वर को कहीं नहीं पाते हैं। हम नहीं मानते कि वे संसार का अंत करने जा रहे हैं। हमें तो इस विषय में भी संशय है कि कोई ईश्वर है।" वे भविष्य में होने वाले न्याय के विषय में सुनकर हंसते हैं। वे यह सुनकर हंसते हैं कि प्रभु यीशु मसीह इस पृथ्वी पर आकाश से एक अन्य आयाम द्वारा पुन: अवतरित होंगे। प्रभु यहोवा के क्रोध में ये समस्त पृथ्वी नष्ट होगी, वे इस संपूर्ण विचार पर हंसते हैं।

‘‘और यह पहिले जान लो कि अन्तिम दिनों में हंसी ठट्ठा करने वाले आएंगे‚ जो अपनी ही अभिलाषाओं के अनुसार चलेंगे" (२ पतरस ३:३)

वे क्यों मखौल उड़ाते और हंसते हैं? आगे के कुछ शब्द हमें इसका कारण बताते हैं‚ वे ‘‘अपनी ही अभिलाषाओं के अनुसार चलेंगे" अथवा ‘‘वे अपनी वासनाओं का अनुसरण करेंगे।"

ये लोग पाप कर्म में समय व्यतीत कर रहे हैं। इसलिए नहीं चाहते हैं कि मसीह आवें और उनकी पाप युक्त जीवन शैली में खलल पहुंचे। उनको अपनी अभिलाषाओं और पाप कर्म से इतना मोह है कि वे नहीं चाहते हैं कि मसीह का आगमन हो। इसीलिए प्रभु यहोवा के न्याय के विषय में बाइबल जो सिखाती है, जानने से इंकार करते हैं! प्रभु यहोवा प्रेम युक्त परमेश्वर हैं किंतु क्रोध करने वाले और न्यायशील प्रभु भी हैं। पाप कर्म और दुष्टता के प्रति क्रोध रखने वाले परमेश्वर। ये मखौल उड़ाने वाले पाखंडी‚ प्रमाणों की परख नहीं करेंगे। वे बाइबल नहीं पढ़ते हैं। वे सत्य से अनभिज्ञ रहना पसंद करेंगे — वजह उनका पाखंडी होना है। वे ठटटा करने वाले हैं‚ अपनी वासनाओं का अनुसरण करने वाले हैं!

इसके आगे अगला पद कहता है‚ ‘‘वे तो जान बूझ कर यह भूल गए‚ कि परमेश्वर के वचन के द्वारा से आकाश प्राचीन काल से विधमान है......" (पद ७ को देखिये) ‘‘पर वर्तमान काल के आकाश और पृथ्वी उसी वचन के द्वारा इसलिये रखे हैं‚ कि जलाए जाएं और वह भक्तिहीन मनुष्यों के न्याय और नाश होने के दिन तक ऐसे ही रखे रहेंगे" (२ पतरस ३:३—७) ।

अब अगले पद दस को देखिये:

‘‘परन्तु प्रभु का दिन चोर की नाईं आ जाएगा‚ उस दिन आकाश बड़ी हड़हड़ाहट के शब्द से जाता रहेगा और तत्व बहुत ही तप्त होकर पिघल जाएंगे और पृथ्वी और उस पर के काम जल जाऐंगे"

धर्मशास्त्र का यह अंश कहता है कि न्याय का दिन प्रकट होने वाला है। संपूर्ण जगत को प्रभु यहोवा के न्याय दंड के समक्ष खड़े होना होगा। अगर आप ने प्रभु यीशु मसीह पर विश्वास नहीं किया है‚ आप भी खड़े होंगे। अगर आप ने यीशु पर विश्वास रखकर पापों से मुक्ति नहीं पायी है तो आप भी दंड के भागीदार होगें।

शिष्य यही पूछ रहे थे कि ये समय कब प्रकट होगा। उनकी जिज्ञासा थी‚ ‘‘ये बातें कब होंगी और आप के आने का और जगत के अन्त का क्या चिन्ह होगा?" (मत्ती २४:३)

अब मसीह ने उन्हें अनेक चिंन्ह बतलाये। मैं उनमें से कुछ आप के समक्ष रखना चाहूंगा।

१॰ पहिला‚ कुछ पर्यावरणीय चिंन्ह हैं जो बतलाते हैं कि अंत निकट है।

यीशु ने बतलाया कि ऐसा समय होगा

‘‘बड़ें बड़ें भूईडोल होंगे......और जगह जगह अकाल और मरियां पड़ेंगी और आकाश में भयंकर बातें......और पृथ्वी पर‚ देश देश के लोगों को संकट होगा क्योंकि वे समुद्र के गरजने और लहरों के कोलाहल से घबरा जाएंगे और संसार पर आनेवाली घटनाओं की बाट देखते देखते लोगों के जी में जी न रहेगा" (लूका २१:११‚ २५—२६)

इस विषय में सोचिए! यीशु कह चुके थे कि लोगों के हृदय घबरा जाएंगे और उनके जी में जी न रहेगा जब वे देखेंगे कि ‘‘इस धरती पर" क्या हो रहा है। ‘‘संसार पर आने वाली घटनाओं के कारण" हताशा‚ व्याकुलता‚ बड़े क्रोध और भयानक प्रकार के डर का वातावरण बना रहेगा।

थोड़े ही समय पूर्व वैज्ञानिकों को उत्तरी ध्रुव के उपर ओजोन परत में मैने राज्य के क्षेत्रफल जितना एक छेद मिला है। टाईम मैगजीन में एक खबर छपी थी — उसके आवरण पर इसका उल्लेख था — ‘‘एक विशाल पिघलाव। आर्कटिक में जैसे जैसे तापमान बढ़ेगा‚ ग्रह पर उतनी शीत के प्रवाह को बढ़ायेगा" (टाईम मैगजीन‚ सितंबर ४‚ २०००‚ पेज ५२—५६) टाईम के द्वारा से कहा गया है‚ ‘‘थोड़ा सा बर्फ पिघलाव भी उत्तरी गोलार्द्ध की जलवायु को नाश करके रख सकता है।" कई वैज्ञानिकों को भय है कि हम एक नये शीत युग में प्रवेश कर जायेंगे। टाईम के लेख में, पेन स्टेट यूनिवर्सिटी के जियो फिजिसिस्ट डॉ रिचर्ड ऐली ने कहा है, ‘‘अभी तक दर्ज जिन जलवायु परिवर्तनों ने मानव को प्रभावित करके रखा है, उनमें तापमान में गिरावट सबसे बड़ा (बृहद्) होगा।’’ तो क्या यह मनुष्य जगत का अंत होगा? डॉ ऐली का कथन है, ‘‘नहीं, किंतु यह मनुष्य जगत के लिये बेहद असहनीय समय होगा। बेहद असहनीय।’’

जीवन में बंदूकों और युद्ध का भय व्याप्त था‚
   फर्श पर हर कोई कुचला हुआ पड़ा था।
मैं चाहता था काश हम में से हरेक तैयार होता।
(‘‘आय विश वी वुड आल बीन रेडी’’ रचनाकार लैरी नार्मन‚ १९४७—२००८)

क्या आप तैयार हैं?

डॉ ऐली जैसे वैज्ञानिक भय संतप्त है।

‘‘और संसार पर आनेवाली घटनाओं की बाट देखते देखते लोगों के जी में जी न रहेगा" (लूका २१:२६)

जब आप उत्तरी ध्रुव का पिघलाव देखते हैं और अगले २५ वर्षो में वे जिस सहसा प्रकट होने वाले शीत — युग की बात करते हैं‚ यह सुनकर भय उत्पन्न होता है। जब आप महसूस कर रहे थे कि एडस बीमारी कैसे दक्षिण अफ्रीका का विनाश किये जा रही है जिस महामारी का कोई अंत नहीं दिखता — तो यह भय उत्पन्न करता है। जब आप ऐंटीबायोटिक से थम जाने वाली तपेदिक बीमारी का पुनरूत्थान देखते हैं और अन्य दूसरी ‘‘दैत्याकार" बीमारियां जिन पर दवाओं का भी असर नहीं होता है‚ उनका उदय होते देखते हैं — तो आप भय खाते हैं।

इसमें कोई आश्चर्य नहीं कि बहुत से युवा अपने भविष्य को लेकर भय में जीते हैं। एक ताजा सर्वे बताता है कि ८० प्रतिशत किशोर यह नहीं सोचते हैं कि उनका भविष्य अच्छा है। यह सर्वे प्रकट करता है कि ये किशोर अक्सर पर्यावरणीय समस्याओं‚ जैसे उत्तरी ध्रुव का पिघलना और उसके कारण आने वाले शीत युग या या इसके प्रभाव से उत्पन्न डूबोने वाली जल राशि से चिंतित रहते हैं।

युवा अपने सहज ज्ञान से जान रहे हैं कि संसार बुरे से बुरा होता चला जा रहा है। यह स्थिति उन्हें डरा देती है। आप क्या कर सकेंगे जब दक्षिणी कैलीफोर्निया में साल भर जमा देने वाली ठंड पड़ती है?

‘‘और संसार पर आनेवाली घटनाओं की बाट देखते देखते लोगों के जी में जी न रहेगा" (लूका २१:२६)

युवा नितांत गंभीर हैं कि मनुष्य जगत हमारे ग्रह की स्थिति को बिगाड़ रहा है। मैं उनकी चिंता में शरीक हूं — पूर्ण रूप से!

मेरी पत्नी और मैं हमारे घर के आंगन में खड़े हुए थे। मैंने उनसे पूछा, ‘‘आखिरी बार तुमने कब मोनार्क बटरफ्लाइ को देखा था? आखिरी बार कब तुमने टोड या मेंढक को देखा था? या तो ये प्राणी चले गये हैं — या जल्द ही चले जायेंगे।’’ उन्होंने मुझसे कहा, ‘‘हां, हमने सच में जलवायु से खिलवाड़ किया है।’’ एक व्यक्ति ने मुझसे कहा, ‘‘हमने अपने घोंसलें को कलुषित कर लिया और संसार को बर्बाद किये जा रहे हैं।’’ दुर्भाग्यवश, मुझे उससे सहमत होना पड़ा। वह बिल्कुल सही था।

प्रतिदिन अखबारों में भयभीत कर देने वाली पर्यावरणीय समस्याएं छपती हैं‚ जो संसार के अंत और मसीह के पुनरागमन समय के बहुत समीप आने के चिंन्ह हैं। बाइबल का कथन है‚ ‘‘अपने प्रभु यहोवा से मिलने के लिए स्वयं को तैयार करें।’’ आप के पास तैयारी के लिए अधिक समय नहीं बचा है! लैरी नार्मन का कथन था‚

जीवन में बंदूकों और युद्ध का भय व्याप्त था‚
   फर्श पर हर कोई कुचला हुआ पड़ा था।
मैं चाहता था काश हम में से हरेक तैयार होता।

क्या आप तैयार हैं?

इसलिए आप को इस चर्च में आने की जरूरत है ताकि अब तो मसीह को पा सकें! हमारे संसार का वक्त समाप्त हो रहा है। मसीह को खोजने के लिए आप को शीघ्रता करनी चाहिए‚ और इसके पहिले कि न्याय दिवस आए‚ मन परिवर्तन हो‚ इस आराधना में सम्मिलित हो सघनता से मसीह को आत्मसात करें। जब आप मसीह के साथ बने रहते हैं‚ प्रभु यहोवा आप को हानि से बचाने और सुरक्षित रखने का वायदा करते हैं।

मुझे छिपा लीजिए‚ मेरे मसीहा‚ मुझे छिपा लीजिए‚
   जब तक इस जिंदगी के तूफान गुजर न जाएं;
आप की शरण स्थली में‚
   अंतत: मेरी आत्मा को ग्रहण कर लेना!
(‘‘जीजस लवर ऑफ माय सोल" रचनाकार चार्ल्स वैस्ली)

२॰ दूसरा‚ जातिमूलक चिंन्ह प्रकट हो रहे हैं जो दर्शाते हैं कि अंत निकट है।

लूका की पुस्तक अध्याय २१:१० इस विषय में कहता है‚

‘‘तब यीशु उनसे कहने लगे‚ जाति (यूनानी भाषा में एथनोस या नस्लीय समूह) के विरूद्ध जाति (नस्लीय समूह) और राज्य (यूनानी में बैसीलियन = राष्ट्र) के विरूद्ध राज्य (राष्ट्र) उठ खड़े होंगे’’ (लूका २१:१०)

यही तो हम आज देख रहे हैं। समस्त उन्नत टेक्नोलॉजी और विज्ञान के होते हुए हम जातियों के मध्य जातिय संघर्ष और देशों के मध्य युद्व रोक पाने में असमर्थ हैं। हर राष्ट्रपति अरब और यहूदियों के मध्य शांति स्थापित करने का प्रयास करते हैं। परंतु हमारे सारे राष्ट्रपति असफल रहते हैं! केवल जब मसीह लौटेंगे तब सारी जातियों और सारे नस्लीय समूहों में शांति छा जाएगी! केवल जब मसीह लौटेंगे, वह, समस्त जातियों और राष्ट्र के मध्य शांति कायम करेंगे। और कोई दूसरा यह नहीं कर सकता — यहां तक कि आने वाला मसीहविरोधी भी यह कर पाने में पूर्णतः सफल नहीं होगा। केवल यीशु मसीह जातियों, नस्लीय समूह और देशों के मध्य शांति कायम कर सकते हैं — जब वे पुन: धरती पर लौट कर आयेंगे केवल तभी धरती पर सच्ची शांति और सब मनुष्यों की भलाई प्रकट होगी!

जीवन में बंदूकों और युद्ध का भय व्याप्त था‚
   फर्श पर हर कोई कुचला हुआ पड़ा था।
मैं चाहता था काश हम में से हरेक तैयार होता।

क्या आज रात आप तैयार हैं?

३॰ तब‚ तीसरी बात‚ हमारे चारों तरफ यहूदी विरोधी चिंन्ह मौजूद हैं‚ जो यह दर्शाते हैं कि अंत निकट है।

कई मूर्ख लोग यहूदियों से नफरत करते हैं‚ जबकि यहूदी इस धरती पर प्रभु यहोवा के चुने हुए लोग हैं। अध्याय २१ में गद्यांश कहता है:

‘‘जब तुम यरूशलेम को सेनाओं से घिरा हुआ (चारों ओर से वश में) देखो‚ तो जान लेना कि उसका उजड़ जाना (निकट है)’’ (लूका २१:२०)

यहूदीविरोध‚ यहूदियों के प्रति नफरत‚ अंत समय में इतनी बढ़ जाएगी कि गैर यहूदियों की बड़ी सेनाएं यरूशलेम में उनके विरूद्ध उठ खड़ी होंगी कि उन्हें खत्म कर डालें‚ जैसे द्वितीय विश्व युद्ध में हिटलर ने किया था। किंतु बाइबल के अनुसार‚ यहूदी‚ प्रभु यहोवा के चुने हुए लोग हैं। बाइबल कहती है‚

‘परंतु निर्वाचन की दृष्टि से पूर्वजों के कारण वे परमेश्वर के प्रिय लोग हैं’’ (रोमियों ११:२८)

अगर अब्राहम‚ मूसा और दूसरे भविष्यदर्शी यहोवा द्वारा चुने हुए नहीं होते तो आज आप यहां नहीं होते। इसलिए बाइबल — विश्वासी बैपटिस्ट‚ यहूदियों के बड़े समर्थकों में से एक हैं।

किंतु बाइबल सिखाती है कि ये पाप कर्म से भरा संसार अंतिम दिनों में यहूदियों के विरूद्ध उठ खड़ा होगा। प्रभु यहोवा कहते हैं‚

‘‘मैं यरूशलेम को भारी चटटान बनाउंगा‚ जो उसे उठाएगा‚ वह स्वयं को गंभीर चोट पहुंचाएगा’’ (जर्कयाह १२:३)

यही तो अभी हो रहा है। यह वह चिंन्ह है जो प्रकट करता है कि हम अंतिम युग में रह रहे हैं।

जीवन में बंदूकों और युद्ध का भय व्याप्त था‚
   फर्श पर हर कोई कुचला हुआ पड़ा था
मैं चाहता था काशहम में से हरेक तैयार होता।

क्या आप तैयार हैं?

४॰ और तब‚ चौथी बात‚ धार्मिक चिंन्ह व्याप्त हैं — झूठे धर्म में छले जाने के चिंन्ह‚ जो दर्शाते हैं कि अंत निकट है।

‘‘यीशु ने कहा‚ सावधान! पथभ्रष्ट न होना। अनेक मेरे नाम से आएंगे और कहेंगे‚ मैं वहीं हूं......परन्तु तुम उनके पीछे न जाना’’ (लूका २१:८)

पुनः मसीह का कथन था:

‘‘क्योंकि झूठे....भविष्यद्वक्ता उठ खड़े होंगे और बड़े चिन्ह और अद्भुत काम दिखाएंगे कि यदि हो सके तो चुने हुओं को भी भरमा दें’’ (मत्ती २४:२४)

जितना आप टीबीएन चैनल पर देखते हैं — इस इलाके में चैनल १७ पर जो आप देखते हैं — छलावा है। बैनी हिम झूठा प्रचारक है। जोएल आस्टिन झूठा प्रचारक है। अधिकतर सुसमाचार के नाम से प्रचार करने वाले रेडियो और टेलीविजन प्रचार एक छलावा है। इसलिए मैं केवल डॉ मैगी के व्याख्यानों की अनुशंसा करता हूं‚ और किसी की नहीं! मैं अभी के नये उपजे‚ नम्र रवैया रखने वाले प्रचारकों पर विश्वास नहीं रखता हूं!

‘‘क्योंकि ऐसा समय आएगा कि लोग खरा उपदेश न सह सकेंगे पर कानों की खुजली के कारण अपनी अभिलाषाओं के अनुसार अपने लिये बहुतेरे उपदेशक बटोर लेंगे’’ (२ तिमोथियुस ४:३)

ये चिंन्ह बिल्कुल अभी दिखाई दे रहे हैं! अंत निकट है!

५॰ पांचवीं बात‚ धार्मिक सताव के चिंन्ह दिखाई देते हैं‚ जो दर्शाते हैं कि अंत निकट है।

दुनिया भर में‚ मसीहियों का सताव‚ अभूतपूर्व दर से जारी है। उदाहरण के तौर पर‚ कम्यूनिस्ट चीन देश में मसीहियों को आराधना करने के लिए गुप्त में मिलना पड़ता है। लॉस ऐंजीलिस टाईम्स ने चीन से निर्वासित किये गये तीन प्रचारकों के बारे में रिपोर्ट छापी थी:

एक मानवाधिकार समूह की रिपोर्ट के अनुसार‚ चीन ने तीन अमेरिकी (इवेंजलिस्ट) प्रचारकों को सेन्ट्रल चीन में भूमिगत रूप से प्रोटेस्टैंट आराधनाकर्ताओं के साथ पकड़ा और निर्वासित किया। रिपोर्ट के अनुसार....यह समाचार सामने आया कि उनके साथ दर्जनों आराधना करने वाले चीनियों को भी जेल भेज दिया गया। हांगकांग में स्थित मानवाधिकार और चीन के लोकतांत्रिक अभियान केंद्र की सूचना के अनुसार तीन अलग अलग राज्यों में प्रोटेस्टैंट आराधनाओं में....लगभग पचास अनुयायियों को बंदी बनाया गया।

यीशु ने संसार भर में मसीहियों के सताए जाने की जो भविष्यवाणी की थी‚ आज हम उस भविष्यवाणी को सच होते हुए देखते हैं। उनके वचन थे‚

‘‘वे मेरे नाम के कारण तुम्हें पकड़ेंगे और सताएंगे.... और बन्दीगृह मे डलवाएंगे’’ (लूका २१:१२)

आगे यीशु के ये वचन थे कि अगर तुम सच्चे मसीही बन जाते हो तो तुम्हारे माता — पिता और संबंधी भी तुम्हें सताएंगे। हमने तो लॉस ऐंजीलिस में ये बात बार बार होते देखी है। सुनिये मसीह के कथन कोः

‘‘और तुम्हारे माता पिता और भाई और कुटुम्ब और मित्र भी तुम्हें पकड़वाएंगे यहां तक कि तुम में से कितनों को मरवा डालेंगे। और मेरे नाम के कारण सब लोग तुम से बैर करेंगे’’ (लूका २१:१६—१७)

मसीह के अनुसार अनेक माता पिता और मित्रगण वास्तव में आप से चिढ़ने लगेंगे‚ अगर आप सच्चे मसीही बन जाते हैं। ये हंसने की बात नहीं है। अधिकतम संसार भर में यह बात पहिले से ही सच सिद्ध हो रही है। मुस्लिम हमसे नफरत करते हैं‚ हमें मार डालते हैं‚ और आज रात भी विश्व के अधिकतम भागों में मसीहियों को जेल में डाला गया होगा।

सबसे पहिले उनका श्रेष्ठ प्रयास होगा कि आप को चर्च आने से रोकें और मसीह में उद्धार पाने से वंचित रखें। परन्तु अगर आप यहां चर्च आना जारी रखते हैं‚ उद्धार पा जाते हैं‚ तो वे आप पर क्रोधित होंगे और चिढ़ने लगेंगे। जब वे देखते हैं कि वे आप को रोक पाने में असफल रहे हैं तो कई महिनों बाद वे सामान्य हो जाते हैं।

परंतु इसकी कीमत जानिये! अगर आप सच्चे मसीही बन जाते हैं तो कई लोग होंगे जो इसे पसंद नहीं करेंगे! कई लोग होंगे जो आप का विरोध करेंगे! इस अंधकार के युग में सच्चे मसीही बनने का मोल चुकाना पड़ता है। यह वह चिंन्ह है जो दर्शाता है कि हम अंतिम समय में रह रहे हैं।

जीवन में बंदूकों और युद्ध का भय व्याप्त था‚
   फर्श पर हर कोई कुचला हुआ पड़ा था
मैं चाहता था काशहम में से हरेक तैयार होता।

क्या आप तैयार हैं?

६॰ अंत में‚ मसीह ने छटवां चिंन्ह दिया है जो दर्शाता है कि हम अंतिम समय में हैं। मैं इसे ‘‘मनोवैज्ञानिक चिंन्ह’’ कहता हूं।

मसीह ने कहा था:

‘‘इसलिये सावधान रहो (ध्यान रखो)‚ ऐसा न हो कि तुम्हारे मन खुमार और मतवालेपन और इस....जीवन (की) चिन्ताओं (फिक्र) से सुस्त हो जाएं (दब जाए या भारी हो जाएं) और वह दिन तुम पर फन्दे की नाईं अचानक आ पड़े। क्योंकि वह सारी पृथ्वी के सब रहने वालों पर इसी प्रकार आ पड़ेगा’’ (लूका २१:३४—३५)

एक युवा जो थोड़े समय तक चर्च आया और फिर उसने कहा‚ ‘‘मैं अगले रविवार चर्च नहीं आ सकता हूं। मुझे मेरी आंटी को उनके घर बदलने में मदद करनी है।’’ उसके पास यह कार्य करने के लिए छः दिन थे तो क्या यह कार्य रविवार सुबह ही ‘‘होना’’ था। वह जीवन की समस्याओं से दबा जा रहा था। वर्तमान में लोग मूर्खता भरे‚ हल्के फुलके कारणों से चर्च आना चूक जाते हैं। वे जीवन की फिक्र तले दबे जा रहे हैं। जब वे ऐसे ही बेखबर बने रहेंगे‚ तब यहोवा का न्याय का दिन अचानक प्रकट होगा — जब उन्होंने इसकी आशा भी नहीं की होगी‚ अंत सामने होगा!

जीवन में बंदूकों और युद्ध का भय व्याप्त था‚
   फर्श पर हर कोई कुचला हुआ पड़ा था
मैं चाहता था हम में से हरेक तैयार होता।

क्या आप तैयार हैं?

आप नशीली दवाओं और सैक्स पर काबू पा सकते हैं परन्तु पारिवारिक चिंताओं से दबे जाते हैं जो आप को निचोड़ डालती हैं। मैंने इतने वर्षो में अनेक युवा दंपत्तियों को इससे जूझते हुए देखा है।

यहां हम यीशु के वचनों पर ध्यान देते हैं:

‘‘इसलिये जागते रहो और हर समय प्रार्थना करते रहो कि तुम इन सब आने वाली घटनाओं से बचने और मनुष्य के पुत्र के साम्हने खड़े होने के योग्य बनो’’ (लूका २१:३६)

संसार के अंत समय और न्याय दिवस की तैयारी के लिये आप को यही कुछ करने की आवश्यकता है। तीन बातें हैं‚ जो आप को करना चाहिये:

(१) इस चर्च में आते रहिये। अगर ऐसा नहीं कर पाते हैं तो कोई आपकी आत्मिक सहायता नहीं कर पायेगा।

(२) मसीह के पास आइये। वे आप को पाप कर्म से छुटकारा देने के लिये मरे। शारीरिक रूप से वे मरकर फिर सशरीर जीवित हुए। वे अब इस समय यहोवा के दाहिने हाथ विराजमान हैं। वह अब आप के लिए वहां उपस्थित हैं। उनके पास आ जाइये। यीशु पर विश्वास कीजिए और उद्धार पाइये!

(३) न केवल आप को इस चर्च में आने की आवश्यकता है, न केवल आप को मसीह के पास आने की आवश्यकता है परन्तु आप को प्रार्थना करने की भी आवश्यकता है। यीशु ने कहा था कि अंतिम समय में सफल मसीही जीवन के लिये प्रार्थना करना एक कुंजी है।


तो आने वाले न्याय से आप किस तरह बचने जा रहे हैं? बाइबल कहती है‚ ‘‘(मसीह ने) क्रूस पर अपने स्वयं के शरीर में हमारे पापों को वहन कर लिया’’ — हां‚ क्रूस पर। वह मसीह हैं जो आप के स्थान पर मर सकते हैं। उन्हें आप के स्थान पर दंड मिला‚ कि क्रूस पर आप के पापों का मूल्य चुकाएं! मसीह का अनमोल लहू क्रूस पर उड़ेला गया। उनका लहू आप के सारे पापों को धो सकता है — और आप अंत समय के लिए तैयार हो चुके होंगे! मैं आप से कहता हूं आज रात यीशु पर विश्वास करें! चार्ल्स वैस्ली ने कहा था‚

मुझे छिपा लीजिए‚ मेरे मसीहा‚ मुझे छिपा लीजिए‚
   जब तक इस जिंदगी के तूफान गुजर न जाएं;
आप की शरण स्थली में‚
   अंतत: मेरी आत्मा को ग्रहण कर लेना!

एक सुसमाचारिय गीत के शब्द हैं‚

आज इस जगत के लिए यीशु एक उत्तर हैं
उनसे उपर कोई नहीं‚ यीशु एकमात्र मार्ग हैं!

यीशु पर आज रात विश्वास कीजिए‚ वे आप को उद्धार प्रदान करेंगे! आमीन।


अगर इस संदेश ने आपको आशीषित किया है तो डॉ हिमर्स आप से सुनना चाहेंगे। जब आप डॉ हिमर्स को पत्र लिखें तो आप को यह बताना आवश्यक होगा कि आप किस देश से हैं अन्यथा वह आप की ई मेल का उत्तर नहीं दे पायेंगे। अगर इस संदेश ने आपको आशीषित किया है तो डॉ हिमर्स को इस पते पर ई मेल भेजिये उन्हे आप किस देश से हैं लिखना न भूलें।। डॉ हिमर्स को इस पते पर rlhymersjr@sbcglobal.net (यहां क्लिक कीजिये) ई मेल भेज सकते हैं। आप डॉ हिमर्स को किसी भी भाषा में ई मेल भेज सकते हैं पर अंगेजी भाषा में भेजना उत्तम होगा। अगर डॉ हिमर्स को डाक द्वारा पत्र भेजना चाहते हैं तो उनका पता इस प्रकार है पी ओ बाक्स १५३०८‚ लॉस ऐंजील्स‚ केलीफोर्निया ९००१५। आप उन्हें इस नंबर पर टेलीफोन भी कर सकते हैं (८१८) ३५२ − ०४५२।

(संदेश का अंत)
आप डॉ.हिमर्स के संदेश इंटरनेट पर प्रति सप्ताह पढ सकते हैं
www.sermonsfortheworld.com पर
''पांडुलिपि संदेशों'' पर क्लिक कीजिये।

पांडुलिपि संदेशों का कॉपीराईट नहीं है। आप उन्हें बिना डॉ.
हिमर्स की अनुमति के भी उपयोग में ला सकते हैं। यद्यपि डॉ.
हिमर्स के सारे विडियो संदेश का कॉपीराईट है और उन्हें
अनुमति से उपयोग में ला सकते हैं।

संदेश के पूर्व मि बैंजामिन किकेंड ग्रिफिथ द्वारा एकल गान:
‘‘आय विश वी वुड आल बीन रेडी’" (लैरी नार्मन रचनाकार‚ १९४७—२००८)


रूपरेखा

अंतिम दिनों के चिंन्ह

SIGNS OF THE LAST DAYS

डॉ आर एल हायमर्स‚ जूनि
by Dr. R. L. Hymers, Jr.

‘‘और यह पहिले जान लो कि अन्तिम दिनों में हंसी ठट्ठा करने वाले आएंगे‚ जो अपनी ही अभिलाषाओं के अनुसार चलेंगे" (२ पतरस ३:३)

१॰ पहिला‚ कुछ पर्यावरणीय चिंन्ह हैं जो बतलाते हैं कि अंत निकट है‚
लूका २१:११‚ २५—२६

२॰ दूसरा‚ जातिमूलक चिंन्ह प्रकट हो रहे हैं जो दर्शाते हैं कि अंत निकट है‚ लूका २१:१०

३॰ तब‚ तीसरी बात‚ हमारे चारों तरफ यहूदी विरोधी चिंन्ह मौजूद हैं‚ जो यह दर्शाते हैं कि अंत निकट है‚ लूका २१:२०; रोमियों ११:२८; जर्कयाह १२:३

४॰ और तब‚ चौथी बात‚ धार्मिक चिंन्ह व्याप्त हैं — झूठे धर्म में छले जाने के चिंन्ह‚
जो दर्शाते हैं कि अंत निकट है‚ लूका २१:८; मत्ती २४:२४; २ तिमोथियुस ४:२—३

५॰ पांचवीं बात‚ धार्मिक सताव के चिंन्ह दिखाई देते हैं‚ जो दर्शाते हैं कि अंत निकट है‚
लूका २१:१२‚ १६—१७

६॰ अंत में‚ छटवीं बात, मसीह ने हमें चिंन्ह दिया है जो दर्शाता है कि हम
अंतिम समय में हैं। मैं इसे ‘‘मनोवैज्ञानिक चिंन्ह’’ कहता हूं‚ लूका २१:३४—३६