Print Sermon

इन संदेशों की पांडुलिपियां प्रति माह २२१ देशों के १,५००,००० कंम्प्यूटर्स पर इस वेबसाइट पते पर www.sermonsfortheworld.com जाती हैं। सैकड़ों लोग इन्हें यू टयूब विडियो पर देखते हैं। किंतु वे जल्द ही यू टयूब छोड़ देते हैं क्योंकि विडियों संदेश हमारी वेबसाईट पर पर पहुंचाता है। यू टयूब लोगों को हमारी वेबसाईट पर पहुंचाता है। प्रति माह ये संदेश ३७ भाषाओं में अनुवादित होकर १२०,००० प्रति माह हजारों लोगों के कंप्यूटर्स पर पहुंचते हैं। उपलब्ध रहते हैं। पांडुलिपि संदेशों का कॉपीराईट नहीं है। आप उन्हें बिना अनुमति के भी उपयोग में ला सकते हैं। आप यहां क्लिक करके अपना मासिक दान हमें दे सकते हैं ताकि संपूर्ण संसार जिसमें मुस्लिम व हिंदु भी सम्मिलित है उनके मध्य सुसमाचार फैलाने के महान कार्य में सहायता मिल सके।

जब कभी आप डॉ हिमर्स को लिखें तो अवश्य बतायें कि आप किस देश में रहते हैं। अन्यथा वह आप को उत्तर नहीं दे पायेंगे। डॉ हिमर्स का ईमेल है rlhymersjr@sbcglobal.net .




मंगलवार को हमारे उपवास — दिवस के लिये लेख जारी

NOTES ON OUR FAST-DAY ON TUESDAY
(Hindi)

डॉ आर एल हायमर्स‚ जूनि
by Dr. R. L. Hymers, Jr.

ल्यॉस ऐंजीलिस के बैपटिस्ट टैबरनैकल में रविवार‚ संध्या १२ अगस्त‚ २०१८
को प्रचार किया गया संदेश
A sermon preached at the Baptist Tabernacle of Los Angeles
Lord's Day Evening, August 12, 2018

‘‘परन्तु जब तू उपवास करे तो अपने सिर पर तेल मल और मुंह धो। ताकि लोग नहीं परन्तु तेरा पिता जो गुप्त में है‚ तुझे उपवासी जाने‚ इस दशा में तेरा पिता जो गुप्त में देखता है‚ तुझे प्रतिफल देगा" (मत्ती ६:१७‚ १८)


ध्यान दीजिए‚ यीशु ने यह नहीं कहा‚ ‘‘अगर तू उपवास करे।" उनका कथन था‚ ‘‘जब तुम उपवास करो।" आजकल सांसारिक लोगों के लिये उपवास कुछ अजीब बात प्रतीत होती है। कभी कभी एक अति — चिंतित मां सोचती है कि अगर आप एक दिन भोजन नहीं करेंगे‚ तो भूखे मर जायेंगे। अपनी मां से झूठ मत बोलिये। उनसे कहिये कि आज आप भोजन नहीं करेंगे।

हरेक जन को उपवास नहीं करना चाहिये। अगर कोई किसी प्रकार से रूग्ण है तो उपवास करने से पूर्व अपने चिकित्सक से परामर्श लेवे। हमारे चर्च में आप डॉ जूडिथ कैगन‚ डॉ क्रेटन एल चान को दिखा सकते हैं। या आप उन्हें फोन कर सकते हैं।

डॉ जूडिथ कैगन का सेल नं (२१३) ३२४ — ३२३१ है । डॉ चान का सेल नं (३२३) — ८१९—५१५३ है। अगर आप को डाइबिटीज या हाई ब्लड प्रेशर या अन्य कोई तकलीफ है तो आप निश्चित डॉ जूडिथ कैगन या डॉ चान को फोन कर सकते हैं या इस आराधना के पश्चात उनसे बात कर सकते हैं। अगर वे आप को उपवास रखने के लिये मना करते हैं तो आप और अधिक समय प्रार्थना में बिता सकते हैं‚ उस अवधि में जब दूसरे लोग उपवासरत रहेंगे। उपवास नहीं रख पाने पर भी आप हमारे साथ सम्मिलित हो सकते हैं और प्रार्थना में लौलीन रह सकते हैं।

१४ अगस्त मंगलवार के दिन हम हमारे चर्च में उपवास रखेंगे। आप में से किसी को आवश्यक नहीं है कि उपवास करें। आप को कोई जांच नहीं रहा होगा कि आप ने उपवास रखा है या नहीं। अगर आप हमारे साथ उपवास रखेंगे तो यह बिल्कुल ऐच्छिक होगा। अगर आप करना चाहते हैं तो करिये। अगर आप नहीं करना चाहते हैं तो मत कीजिए।

कई दिनों के पश्चात यह पहिला अवसर है जब हम सामूहिक उपवास रखने जा रहे हैं। मुझे लिबर्टी यूनिवर्सिटी के सह-संस्थापक डॉ एल्मोर एल टाउंस के द्वारा उपवास की आवश्यकता का स्मरण करवाया गया। जो विचार और टिप्पणियां मैं प्रकट करने जा रहा हूं‚ डॉ टाउंस की किताब‚ दि बिगनर्स गाइड टू फॉस्टिंग‚ बैथेने हाउस पब्लिशर्स‚ २००१ से एकत्रित किये गये हैं। यह एक अच्छी पुस्तक है। अगर आप इसकी एक प्रति चाहते हैं तो अमेजन से आर्डर कर सकते हैं।

डॉ टाउंस की पुस्तक में अनेक प्रकार के उपवास हैं। किंतु हम एक दिन का उपवास रखने जा रहे हैं जिसे वह ‘‘योम किप्पुर उपवास" कहकर बुलाते हैं। यह एक दिन का उपवास हुआ करता था, जिसे यहूदियों को रखना आवश्यक होता था (लैव्यव्यवस्था की पुस्तक १६:२९)।

वर्तमान में मसीहियों को उपवास रखने की अनिवार्यता नहीं है — किंतु हमें अनुमति है कि हम उपवास रखें। यीशु की समझाईश थीं‚ ‘‘जब तुम उपवास करो" (मत्ती ६:१६) क्योंकि उपवास एक अनुशासन है‚ चरित्र और विश्वास की बनावट के लिये।

अगर आप ने कभी उपवास नहीं किया होगा‚ तो यह आप को डरा देगा कि आप को एक दिन बिना भोजन के रहना होगा। उपवास आप को वजन कम करने के लिये अल्प भोजन ग्रहण करने से बढ़कर नुकसान नहीं देगा। एक दिन का उपवास एक सामान्य व्यक्ति को हानि नहीं पहुंचायेगा जिसे डॉक्टर ने ‘‘ओके" कह दिया हो — हमारे चर्च में डॉ जूडिथ और डॉ चान ने आप को अगर कह दिया है तो आप उपवास रख सकते हैं।

मंगलवार को आप का पहिला उपवास आरंभ करने के लिये ‘‘योम किप्पुर उपवास" श्रेष्ठ है। आप को उपवास रखना आवश्यक नहीं है। आप इसे आत्मिक अनुशासन के तहत इच्छा से रखते हैं। मत सोचिए दूसरे क्या कहेंगे। परमेश्वर यहोवा और आप के मध्य एक अनुबंध के अंर्तगत आप इसे रखते हैं। उपवास रखना आप को परम पिता के लिए प्रार्थना लड़ाका बनने में मदद करेगा।

जब आप मंगलवार को उपवास रखेंगे तो रूकावटें का आना सहज मानें। शैतान विरोध करेगा। अगर आप आपके चर्च के किसी व्यक्ति के उद्धार पाने के लिये प्रार्थना करेंगे‚ तो शैतान बाधा उत्पन्न करेगा। आसान नहीं है उपवास करना। इसलिए उपवास की रोमांचक यात्रा अगर आरंभ करें तो यह मान कर कीजिए कि यह कठिन होगा। परिणाम अवश्य याद रखने योग्य होंगे!

बाइबल में एक दिन का योम किप्पुर उपवास सुबह से लेकर शाम तक रखा जाता था। अगर आप हमारे साथ उपवास रखने जा रहे हैं तो आप को एक दिन पूर्व सूर्य अस्त के पहिले तक (लगभग ८:३० बजे) तक कुछ नाश्ता कर लेना चाहिये। एक केला खा सकते हैं या एक छोटी कटोरी खिचड़ी ले सकते हैं। अगले दिन सुबह आप नाश्ता या दोपहर का भोजन नहीं करते हैं। जब मंगलवार के दिन सूर्य अस्त हो जायेगा‚ हम आप के लिये यहां चर्च में भोजन का आयोजन रखेंगे। मंगलवार संध्या को ७ बजे यहां चर्च आने के पूर्व आप नाश्ते के बतौर एक और केला खा सकते हैं। जब आप यहां पहुंचते हैं‚ हम आप को कुछ दलिया या एक सैंडविच प्रदान करेंगे। तब हम कुछ प्रार्थनाएं करेंगे‚ आप को अवसर देंगे कि आप दिन भर के अपने उपवास और प्रार्थना के विषय में कुछ गवाही दें। और मैं एक संक्षिप्त संदेश दूंगा।

जब आप मंगलवार को उपवास करें और प्रार्थना में तल्लीन रहें‚ आप के पास इनके पीछे एक उददेश्य होना चाहिए। इस उपवास का उददेश्य होना चाहिये कि परमेश्वर यहोवा शनिवार संध्या को पुरूषों के लिए खेल के आयोजन में अन्य लोगों को लेकर आने की हमारी योजना को उपयोग में लेवें। अगर यहोवा परमेश्वर उन खेलों को आशीषित नहीं करते हैं तो कोई हमारे चर्च में नहीं आयेगा। ये खेल एक गतिविधि मात्र होकर रह जायेंगे। चर्च की ‘‘व्यवस्था" का एक हिस्सा मात्र। एक और गतिविधि जिससे कोई फल उत्पन्न नहीं होता है। इसके अतिरिक्त हम एक और उपवास दिवस रखेंगे जिसमें हम हमारी महिलाओं के द्वारा कुछ ही दिनों में आरंभ की जाने वाली नयी गतिविधियों के लिए प्रार्थना रत रहेंगे। परन्तु मेरी विनती पुरूषों और महिलाओं दोनों से हैं कि वे शनिवार संध्या होने वाले खेलों के लिये मंगलवार को उपवास सहित प्रार्थना करेंगे‚ ताकि इन खेलों का उपयोग परमेश्वर यहोवा द्वारा नये व्यक्तियों को हमसे जोड़ने के लिए हो सके। आप उपवास के समय दूसरी कुछ बातों के लिए प्रार्थना कर सकते हैं — किंतु इस उपवास का मुख्य उददेश्य इस पर केंद्रित होना चाहिए कि परम प्रधान शनिवार के खेलों का उपयोग नये युवाओं को चर्च में लाने के लिये करें। मुख्य उददेश्य उपवास में प्रार्थना को इस बात पर केंद्रित करें — कि परमेश्वर यहोवा हमारे यहां के व्यक्तियों की सहायता करें कि वे अन्य व्यक्तियों को यहां खेल के लिये लेकर आवें और वे व्यक्ति अगले रविवार की आराधना में भी सम्मिलित हो सकें। इस उददेश्य के लिये उपवास और प्रार्थना कीजिए। हमें महिलाओं की आवश्यकता है कि वे भी इस उददेश्य के लिये प्रार्थना करें।

स्मरण रखें कि सोमवार संध्या से अपने उपवास का आरंभ एक हल्का नाश्ता करने के बाद करें। तब मंगलवार के नाश्ते और दोपहर के भोजन का उपवास रखें। शाम होने पर अल्प मात्रा का हल्का नाश्ता लेवें, तब मंगलवार संध्या ७ बजे चर्च आवें। हम साथ साथ हल्के दलिया और एक सैंडविच के साथ उपवास को तोड़ेंगे।

‘‘जब तुम उपवास करो"......ऐसा कहने से यीशु का तात्पर्य था कि उन्होंने उपवास को अनुमोदित किया था। परमेश्वर यहोवा से मार्गदर्शन और सामर्थ पाने के लिये मसीहियों को उपवास और प्रार्थना करना है। डॉ जॉन आर राईस का कथन था कि‚ ‘‘मैं जानता हूं कि सच्चे तरीके से किया गया उपवास.....उस आशीष को लेकर आयेगा‚ जो यहोवा हमें देना चाहते हैं।" स्पर्जन कहते थे‚ ‘‘हमने उपवास को त्यागकर एक बहुत बड़ी आशीष को चर्च में खो दिया है।‘‘डॉ आर ए टोरी ने कहा था‚ ‘‘अगर हमें सामर्थ के साथ प्रार्थना करना चाहिये, तो फिर हमें उपवास के साथ प्रार्थना करना चाहिए।" महान इवेंजेलिस्ट जॉन वेस्ली ने कहा था, ‘‘क्या आप के उपवास और प्रार्थना करने के कोई दिन निश्चित हैं? अनुग्रह के सिंहासन को हिला डालिये....तो करूणा स्वत: चली आयेगी।" मेरे चीनी पास्टर डॉ तिमोथी लिन ने कहा था, ‘‘हमारी आत्मिक जाग्रति जो ठहरी हुई होती है, उसका मार्ग खुल जाता है, जैसे ही हम उपवास और प्रार्थना करना आरंभ कर देते हैं....यह मैं अपने व्यक्तिगत अनुभव से बोल रहा हूं।"

इस संदेश की हस्तलिपि को आज रात घर ले जाइये। इस संदेश को पढ़ना आरंभ कर दीजिए जैसे आप कल संध्या से उपवास की तैयार आरंभ करते हैं। यहां उपवास संबंधी कुछ बिंदु आप को स्मरण रखना है जब आप सोमवार रात से मंगलवार संध्या तक उपवास करते हैं:

१॰  अपने उपवास को (जितना संभव हो) उतना गुप्त रखिये। लोगों को बताते मत फिरिये कि आप उपवास रख रहे हैं।

२॰  मंगलवार के उपवास के दिन यशायाह ५८:६ को कंठस्थ कीजिए।

‘‘जिस उपवास से मैं प्रसन्न होता हूं‚ वह क्या यह नहीं‚ कि‚ अन्याय से बनाए हुए दासों‚ और अन्धेर सहने वालों का जुआ तोड़कर उन को छुड़ा लेना‚ और‚ सब जुओं को टूकड़े टूकड़े कर देना?" (यशायाह ५८:६)

३॰  मत्ती ७:७—११ को सावधानी पूर्वक मंगलवार के उपवास के दिन बार बार पढ़िये।

‘‘मांगो‚ तो तुम्हें दिया जाएगा; ढूंढ़ो‚ तो तुम पाओगे; खटखटाओ‚ तो तुम्हारे लिये खोला जाएगा। क्योंकि जो कोई मांगता है‚ उसे मिलता है; और जो ढूंढ़ता है‚ वह पाता है और जो खटखटाता है‚ उसके लिये खोला जाएगा। तुम में से ऐसा कौन मनुष्य है कि यदि उसका पुत्र उस से रोटी मांगे‚ तो वह उसे पत्थर दे? वा मछली मांगे‚ तो उसे सांप दे? सो जब तुम बुरे होकर‚ अपने बच्चों को अच्छी वस्तुएं देना जानते हो‚ तो तुम्हारा स्वर्गीय पिता अपने मांगने वालों को अच्छी वस्तुएं क्यों न देगा?" (मत्ती ७:७—११)

४॰  हमारे यहां के पुरूषों के लिये प्रार्थना कीजिए कि वे अधिक से अधिक युवाओं को शनिवार‚ १८ अगस्त‚ बास्केटबॉल के खेल के लिए आमंत्रित कर सकें।

५॰  खूब पानी पीजिए, प्रति दो घंटे में एक गिलास। अगर आप को प्रतिदिन ब्लैक कॉफी या चाय लेने की आदत है तो उसे (बिना क्रीम या चीनी) के ले सकते हैं। अगर ‘‘चक्कर आ रहे" हों तो स्प्राईट या सेवन अप ले सकते हैं (एक या दो गिलास)। पॉवर ड्रिंक्स मत लीजिये!

६॰  अगर अपने स्वास्थ्य के बारे में‚ हाई ब्लड प्रेशर या डायबिटीज के बारे में‚ कुछ पूछना चाहें तो डॉ जूडिथ कैगन या डॉ क्रेटन एल चान से पूछ सकते हैं। उनके सेल नं संदेश के आरंभ में दे रखे हैं।

७॰  अपने उपवास को सोमवार संध्या हल्के नाश्ते के पश्चात आरंभ कीजिए। अगले दिन मंगलवार को हल्के नाश्ते से संध्या समय उपवास को खोलिए — तब यहां चर्च में मंगलवार संध्या ७ बजे भोजन ग्रहण करने हेतु आइये।

८॰  अपने उपवास में इस प्रार्थना पर ध्यान केंद्रित कीजिए कि हमारे पुरूषों को शनिवार को होने वाले बॉस्केटबॉल खेल में भाग लेने के लिये लोगों को लाने में सफलता मिले।


अपने उपवास में इस प्रार्थना पर ध्यान केंद्रित कीजिए कि हमारे पुरूषों को शनिवार को होने वाले बॉस्केटबॉल खेल में भाग लेने के लिये लोगों को लाने में सफलता मिले। आप मुझे‚ डॉ हायमर्स को (८१८) ६४५ — ७३५६ किसी भी समय कोई समस्या आने या कुछ प्रश्न पूछने के लिये फोन कर सकते हैं। या मिसिस हायमर्स को (८१८) ६४५—७३५६ फोन कर सकते हैं कि वे मुझसे बात करवा दें।

मैं आप लोगों के सफलतापूर्वक उपवास के लिए प्रार्थनारत बना रहूंगा! एक बात औरः अगर आप मंगलवार को अपने कार्यस्थल या स्कूल में हो तो मन ही मन में प्रार्थना करते रहिये। इस संदेश को मंगलवार को अपने साथ रखिये ताकि आप इन (उपरोक्त) आठ बिंदुओं को याद रख सकें। परमेश्वर यहोवा आप सभों को आशीष देवें!

डॉ आर एल हायमर्स‚ जूनि
फिलिप्पयों ४:१३

कृपया खड़े होकर अपने स्थानों पर गीत संख्या ४ ‘‘मुझे प्रार्थना करना सिखाइये" गाइये

मुझे प्रार्थना सिखाइये‚ प्रभु‚ प्रार्थना सिखाये;
हर दिन यह मेरे दिल की पुकार;
मैं जानना चाहता हूं आपकी मर्जी आपके रास्ते; मुझे
प्रार्थना करना सिखाइये।

प्रार्थना में सामर्थ‚ प्रभु‚ प्रार्थना
में सामर्थ‚ इस धरा में पाप‚ दुख और चिंता;
मनुष्य हताशा में मरते और खो जाते हैं; मुझे
सामर्थ दीजिए‚ प्रार्थना में सामर्थ!

मुझे प्रार्थना सिखाइये‚ प्रभु‚ मुझे
प्रार्थना सिखायें; आप मेरा आदर्श हर दिन;
आप मेरी निंचितता‚ अब और सदा के लिये; मुझे प्रार्थना सिखाइये‚ प्रभु‚ प्रार्थना सिखायें ।
   (‘‘मुझे प्रार्थना करना सिखाइये" अल्बर्ट एस रिटज‚ १८७९—१९६६)


अगर इस संदेश ने आपको आशीषित किया है तो डॉ हिमर्स आप से सुनना चाहेंगे। जब आप डॉ हिमर्स को पत्र लिखें तो आप को यह बताना आवश्यक होगा कि आप किस देश से हैं अन्यथा वह आप की ई मेल का उत्तर नहीं दे पायेंगे। अगर इस संदेश ने आपको आशीषित किया है तो डॉ हिमर्स को इस पते पर ई मेल भेजिये उन्हे आप किस देश से हैं लिखना न भूलें।। डॉ हिमर्स को इस पते पर rlhymersjr@sbcglobal.net (यहां क्लिक कीजिये) ई मेल भेज सकते हैं। आप डॉ हिमर्स को किसी भी भाषा में ई मेल भेज सकते हैं पर अंगेजी भाषा में भेजना उत्तम होगा। अगर डॉ हिमर्स को डाक द्वारा पत्र भेजना चाहते हैं तो उनका पता इस प्रकार है पी ओ बाक्स १५३०८‚ लॉस ऐंजील्स‚ केलीफोर्निया ९००१५। आप उन्हें इस नंबर पर टेलीफोन भी कर सकते हैं (८१८) ३५२ − ०४५२।

(संदेश का अंत)
आप डॉ.हिमर्स के संदेश इंटरनेट पर प्रति सप्ताह पढ सकते हैं
www.sermonsfortheworld.com पर
''पांडुलिपि संदेशों'' पर क्लिक कीजिये।

पांडुलिपि संदेशों का कॉपीराईट नहीं है। आप उन्हें बिना डॉ.
हिमर्स की अनुमति के भी उपयोग में ला सकते हैं। यद्यपि डॉ.
हिमर्स के सारे विडियो संदेश का कॉपीराईट है और उन्हें
अनुमति से उपयोग में ला सकते हैं।

संदेश के पूर्व मि बैंजामिन किकेंड ग्रिफिथ द्वारा एकल गान:
‘‘मुझे प्रार्थना करना सिखाइये" (रचनाकार‚ अल्बर्ट एस रिटज‚ १८७९—१९६६)