Print Sermon

इन संदेशों की पांडुलिपियां प्रति माह २२१ देशों के १,५००,००० कंम्प्यूटर्स पर इस वेबसाइट पते पर www.sermonsfortheworld.com जाती हैं। सैकड़ों लोग इन्हें यू टयूब विडियो पर देखते हैं। किंतु वे जल्द ही यू टयूब छोड़ देते हैं क्योंकि विडियों संदेश हमारी वेबसाईट पर पर पहुंचाता है। यू टयूब लोगों को हमारी वेबसाईट पर पहुंचाता है। प्रति माह ये संदेश ३७ भाषाओं में अनुवादित होकर १२०,००० प्रति माह हजारों लोगों के कंप्यूटर्स पर पहुंचते हैं। उपलब्ध रहते हैं। पांडुलिपि संदेशों का कॉपीराईट नहीं है। आप उन्हें बिना अनुमति के भी उपयोग में ला सकते हैं। आप यहां क्लिक करके अपना मासिक दान हमें दे सकते हैं ताकि संपूर्ण संसार जिसमें मुस्लिम व हिंदु भी सम्मिलित है उनके मध्य सुसमाचार फैलाने के महान कार्य में सहायता मिल सके।

जब कभी आप डॉ हिमर्स को लिखें तो अवश्य बतायें कि आप किस देश में रहते हैं। अन्यथा वह आप को उत्तर नहीं दे पायेंगे। डॉ हिमर्स का ईमेल है rlhymersjr@sbcglobal.net .




अधोलोक से चार पुकार

FOUR CRIES FROM HELL
(Hindi)

डो. आर. एल. हायर्मस, जुनि. द्वारा
by Dr. R. L. Hymers, Jr.

लोस एंजलिस के बप्तीस टबरनेकल में प्रभु के दिन की षाम, 5 अगस्त, 2012 को दिया हुआ धार्मिक प्रवचन
A sermon preached at the Baptist Tabernacle of Los Angeles
Lord’s Day Evening, August 05, 2012

‘‘और अधोलोक में उसने पीड़ा में पड़े हुए अपनी आँखे उठाई, और दूर से अब्राहम की गोद में लाजर को देखा। तब उसने पुकार कर ...'' (लूका 16:23,24)।


यह धार्मिक प्रवचन डो. डब्ल्यु हश्ोर्ल फोर्ड द्वारा दिया हुआ सरल धार्मिक प्रवचन मुक्ति और सभा पर, (सीम्पल सरमन्स ओन साल्वेषन एन्ड सर्वीसेस), झोन्डरवान प्रकाषन घर, 1971 की प्रत से ‘‘ए जर्नी थ्रु ध हॉलस अॉफ हेल,'' ‘‘अधोलोक के महाकक्ष से सफर'' से लिया और पुनःस्थापित किया था।

यहाँ आदमी अधोलोक में है। अब वो कभी उसके विचार कर सकने से भी ज्यादा यातना में है। हमें कहा गया है कि ‘‘उसने पुकारा''। इसका अर्थ है कि वो ‘‘चिल्लाया''।

अगर हम इस षाम अधोलोक जा सके, हम हजारों आत्माओं को चिल्लाते हुए सुनेंगे, ‘‘रोते और (उनके) दांत पीसते हुए'' (मती 13:42)। चलिये अपने मन में अधोलोक में नीचे जाते है और देखते है कुछ लोगों को विलाप करते हुए और चिल्लाते हुए वहाँ ज्वाला में।

1. पहला, हम सुनते है कैन को पुकारते हुए ‘‘मेरा दण्ड सहने से बाहर है''।

वो बार बार चिल्लाता है, ‘‘मेरा दण्ड सहने से बाहर है'' (उत्पति 4:13)। क्यों कैन वहाँ अधोलोक की ज्वाला में है? ये इस कारण नहीं कि वो हत्यारा था। मुसा हत्यारा था, परन्तु वो अब स्वर्ग में है। दाऊद हत्यारा था, परन्तु अब वो स्वर्ग में है। प्रेरितो पौलुस हत्यारा था, परन्तु वो अभी स्वर्ग में है। क्यों, फिर, कैन अनंत ज्वाला में से सदा पुकारता है, ‘‘मेरा दण्ड सहने से बाहर है''? क्यों कैन अधोलोक में है, जब कि दूसरे हत्यारे स्वर्ग में है?

कैन अधोलोक में है क्योंकि उसने लहू के द्वारा बचाये जाने का इन्कार किया था। उसके बलिदान में वहाँ लहू नहीं था। उसने उसका जीवन और लहू पुनःसुधार करके बचाये जाने का प्रयत्न किया था। परन्तु परमेष्वर ने उसकी निर्गुण भेंट का अस्वीकार किया। प्रभुने कहा,

‘‘बिना लहू बहाए पापों की क्षमा नहीं'' (इब्रानियों 9:22)।

मसीहने उनका बहुमूल्य लहू क्रूस पर बहाया पापों का दण्ड चुकाने, और पापीयों को नास्तिकता से षुद्ध करने। अधोलोक से बचने सिर्फ एक ही रास्ता है मसीह के लहू के द्वारा। परन्तु कैन बहुत अभिमानी था लहू में विष्वास करने। इसीलिये वो अधोलोक में है। इसीलिये वो पूरी अनंतता के लिये पुकारता है, ‘‘मेरा दण्ड सहने से बाहर है''।

प्रचारकने पांचवे आदेष पर बात की, ‘‘तू अपने पिता और अपनी माता का आदर करना'' (निर्गमन 20:12)। प्रचारक पिता को नफरत करने के पाप पर बोले। तीन युवा आदमीयों ने वो पाप किया था। उनमें से दो गये और उनके पिता से उनको माफ करने को कहा, और बेहतर जीवन जिने का वचन दिया। परन्तु तीसरा आदमी यीषु के पास आया और उनके लहू द्वारा धो कर षुद्ध हुआ उसका उसके पिता के सामने पाप स्वीकार करने से पहले। तीसरा लड़का बचाया गया था। परन्तु दो दूसरे खोए हुए ही रहे, द्रोह में कठोर। क्यों? क्योंकि, ‘‘बिना लहू बहाए पापों की क्षमा नहीं''।

मेरे पाप कौन षुद्ध कर सकता है?
    यीषु के लहू के अलावा कुछ नहीं।
क्या मुझे फिर से पूर्ण बना सकता है?
    यीषु के लहू के अलावा कुछ नहीं।
(‘‘लहू के अलावा कुछ नहीं'' रोबर्ट लाउरी द्वारा, 1826-1899)।

यह बहुत सामान्य है उनके लिये जो पाप के अपराध भाव के अधीन उनका जीवन पुनःसुधार करके चैन खोजने की कोषिश करते है। परन्तु वो कैन का धर्म था - लहूरहित इंसानी कामों की भेंट। आदमी जो उसका जीवन बदलता है, बिना यीषु के लहू में विष्वास के, वो अधोलोक में कैन के साथ पुकारेगा, ‘‘मेरा दण्ड सहने से बाहर है''।

पाप के दण्ड के लिये कुछ नहीं कर सकते
   यीषु के लहू के अलावा कुछ नहीं।
कुछ भी अच्छा जो मैंने नहीं किया
   यीषु के लहू के अलावा कुछ नहीं।
ओह! बहुमूल्य बहाव है
    वो मुझे बर्फ की तरह सफेद बनाता है;
कोई और फव्वारा मैं नहीं जानता,
    यीषु के लहू के अलावा कुछ नहीं।

‘‘और अधोलोक में उसने पीड़ा में पड़े हुए अपनी आँखे उठाई ... तब उसने पुकार कर ...'' (लूका 16:23,24)।

2. दूसरा, हम सुनते है नूह के दिन में लोगों को पुकारते, ‘‘हमें अन्दर आने दो! हमें अन्दर आने दो!''

नूह के दिन में लोग खोए हुए पापी थे। नूह अनुग्रह द्वारा बचाया गया और जहाज बनाया अपने स्वयं और अपने परिवार को महा जल-प्रलय से बचाने। जैसे ही नूह ने जहाज तैयार किया उसने लोगों को प्रचार किया। प्रेरितो पतरसने नूह को कहा ‘‘धर्म के प्रचारक'' (2 पतरस 2:5)। परन्तु लोग उस पर हँसे। उन्होेंने कभी भी बारिष नहीं देखी थी, जलप्रलय से कुछ कम। फिर जल-प्रलय आया और पानी बढ़ने लगा। पानी ऊपर और ऊपर बढ़ने लगा। वो अविष्वासु पापी निसंदेहरूप से जहाज पर दौडे, और दरवाजे पर दस्तक दी, पुकारा, ‘‘हमें अन्दर आने दो! हमें अन्दर आने दो!'' परन्तु उनके लिये प्रवेष करने में बहुत देर हो चुकी थी! बाइबल नूह के लिये कहता है, ‘‘यहोवाने जहाज का द्वार बन्द कर दिया'' (उत्पति 7:16)। प्रभु ने जहाज का द्वार बन्द कर दिया था और उसे मुहर कर दिया था। उनके लिये बचाये जाने के लिये बहुत देर हो चुकी थी। वे सब के सब महा जलप्रलय में डूब गये...

इन लोगों ने परमेष्वर के बुलावे को बहुत देर तक रोका था। वे निर्रथक काम करने लगे और खेले, और विलम्ब किया। उन्होंने अपनी मुक्ति बहुत देर तक दूर रखी। क्या आप आज रात उसके समान हो?

बहुत ज्यादा पहले नहीं मैंने करीबन 200 लोगों के जूथ को प्रचार किया। उनमें से चार या - पांच बचाये गये थे। परन्तु दूसरे सारे उनके व्यवसाय, खेलों और मनोरंजन पर रोषनी डालते थे। यह आज रात विष्व का चित्र है। हम उन्हें प्रचार देते है। हम उन्हें गर्म करते है। हम उनको मसीह में मुक्ति के बारे में कहते है। परन्तु उनमें से बहुत से अपने जीवन के साथ वैसे ही चलते है, और उद्धारक पर भरोसा नहीं करते। वे भूल जाते है कि ‘‘मनुश्यों के लिये एक बार मरना और उसके बाद न्याय का होना नियुक्त है'' (इब्रानियों 9:27)। अगर आप मसीह द्वारा बचाये बिना मरते हो, तो आप जल्दी ही अधोलोक में होंगे, उन नूह के दिन के लोगो कें साथ पुकारते हुए, ‘‘हमें अन्दर आने दो! हमें अन्द आने दो! हमें अन्दर आने दो!'' परन्तु आपके लिये अधोलोक में बहुत देर हो चुकी होगी। मुक्ति के द्वार आपके लिये हमेषा के लिये बन्दर हो चुके होंगे।

‘‘और अधोलोक में उसने पीड़ा में पड़े हुए अपनी आँखे उठाई ... तब उसने पुकार कर ...''

3. तीसरा हम यहूदा की पुकार सुनते है, ‘‘मैंने निर्दोश लहू को धोखा दिया''।

जैसे हमारे मन अधोलोक के अर्न्तभाग में जाते है, हम यहूदा का चिल्लाना बार-बार सुनते है, ‘‘मैंने घात किया ... निर्दोश लहू'' (मती 27:4)।

मसीहने इस आदमी को उनके बारह चेलों में से एक चुना। यहूदा उनके साथ तीन वर्श से था। उसने मसीह का प्रचार सुना था। उसने देखा मसीह बड़े चमत्कार करते थे। वो चेलो के खजाने के समान लिया गया। परन्तु वो अधोलोक गया क्योंकि वो बिना बचाया हुआ रहा।

आप हर रविवार कलीसिया जा सकते हो, आत्मा जीतने जाओ और उदारता से दो और फिर भी खोए हुए रहो। आप खोए हुए हो क्योंकि आपने कभी भी मसीह पर भरोसा नहीं किया था और कभी भी परिवर्तित नहीं हुए थे। वहाँ पर अन्दरूनी बदलाव होना चाहिए जो सिर्फ परमेष्वर दे सकते है। आपको फिर से जन्म लेना जरूरी है।

परन्तु यहूदा को पैसो से इतना ज्यादा प्रेम था कि इसके लिये उसने अपनी आत्मा बेची ... फिर भी जो पैसे उसे मिले उसने उसे आनंद नहीं दिया। उसने पैसे फेंक दिये जो उन्होंने उसे मसीह का विष्वासघात करने दिये थे। परन्तु बहुत देर हो चुकी थी। प्रभु ने उसे छोड़ दिया था। वो बाहर गया, अपने आपको फाँसी दी और अधोलोक में गया। मैं उसे चिल्लाते हुए वहाँ उन ज्वाला में से सुन सकता हूँ, ‘‘मैंने निर्दोश लहू को धोखा दिया! मैंने निर्दोश लहू को धोखा दिया!'' यहूदा षायद बचाया जाता, परन्तु अब सदा के लिये बहुत देर हो चुकी है।

‘‘और अधोलोक में उसने पीड़ा में पड़े हुए अपनी आँखे उठाई ... तब उसने पुकार कर ...''

4. चौथा, हम सुनते है राजा अग्रिप्पा को पुकारते हुए, ‘‘तू थोड़े ही समझाने से मुझे मसीही बनाना चाहता है''।

वो पुकारता है, ‘‘लगभग! लगभग! लगभग!'' वे अब राजा नहीं है। प्रेरितो पौलुस उसके गवाह है। परन्तु उसने मसीह का अस्वीकार किया था। उसने पौलुस को कहा, ‘‘तू थोड़े ही समझाने से मुझे मसीही बनाना चाहता है'' (प्रेरितो 26:28)। वो लगभग परिवर्तित था, परन्तु उसने बहुत ज्यादा विलम्ब किया।

प्रचार किया हुआ सुसमाचार सुनना पर्याप्त नहीं हैं आपके मन में सुसमाचार पर विष्वास करना भी पर्याप्त नहीं है। आपको यीषु को समर्पित होना जरूरी है, और उनपर भरोसा करो, बचाये जाने के लिये। राजा अग्रिप्पा यीषु पर भरोसा करने लगभग सहमत थे। परन्तु उसने यह बाजू में रखा बहुत देर होने तक। मैंने ऐसे लोग वर्शभर में देखे है। वे प्रचार को ध्यान से सुनते है। उन में से कुछ के आँखो में आँसू भी होते है। परन्तु वे अपना दृढ विष्वास हिला देते है और मुक्ति के बारे में सब कुछ भूल जाते है। अग्रिप्पा षायद बचाया गया होता। परन्तु अब सदा के लिये बहुत देर हो चुकी है। ऐसा लगता है मैं उसे अधोलोक में चिल्लाते हए सुन सकता हूँ, ‘‘लगभग! लगभग! लगभग!'' जैसे वो ज्वाला में सदा पीड़ा में तड़पता है।

‘‘लगभग प्रतीति दिलाया हुआ'' अब विष्वास करने;
    ‘‘लगभग प्रतीति दिलाया हुआ'' मसीह को प्राप्त करने;
लगता है अब कोई आत्मा को कहना, ‘‘जाओ, आत्मा, जाओ अपने रास्ते,
    कुछ और सुविधायुक्त दिन आप पर मैं पुकारूँगा!''

‘‘लगभग प्रतीति दिलाया हुआ'' कटनी पसार हो चुकी है!
    ‘‘लगभग प्रतीति दिलाया हुआ'' आखिरकार अभाग्य आता है!
‘‘लगभग'' सफल नहीं हो सकते; ‘‘लगभग'' निश्फल होना है।
   दुःखी, दुःखी, वो कड़वा विलाप, ‘‘लगभग'' - परन्तु खोया हुआ।
(‘‘लगभग प्रतीति दिलाया हुआ'' फिलीप पी. ब्लीस द्वारा, 1838-1876)।

आप भी लगभग प्रतीति दिलाये हुए हो। आप अपने मन में कहो, ‘‘किसी दिन मैं यीषु पर भरोसा करूँगा। किसी दिन मैं उनके पास आऊँगा और उनके लहू द्वारा षुद्ध किया जाऊँगा।'' परन्तु वहाँ पर बड़ा खतरा है कहने में ‘‘किसी दिन''। ष्ौतान ने आपको थोड़ा और विलम्ब करने को कहा है। दुश्टात्मा जानता है कि वो आपको प्राप्त करेगा अगर आप विलम्ब करते रहोगे और मुक्ति को दूर रखोगे। परन्तु इन में से किसी दिन मृत्यु आप पर आ जाएगी। आप तैयार नहीं होंगे, और यह सदा के लिये बहुत देर हो चुकी होगी। ऐसा लगता है कि मैं आपको राजा अग्रिप्पा के साथ अधोलोक में पुकारते हुए सुन सकता हूँ, ‘‘लगभग! लगभग! लगभग!''

प्रभु आप पर अभी दया करें, जब वहाँ अभी तक समय है। मैं प्रार्थना करता हूँ कि आप सरल विष्वास में यीषु पर भरोसा करेंगे। मैं प्रार्थना करता हूँ कि आपके पाप उनके बहुमूल्य लहू द्वारा अभी षुद्ध किए जाए, प्रभु आपको छोड़ दे उससे पहले और आपके लिये कहा जाता है,

‘‘...अधोलोक में उसने पीड़ा में पड़े हुए अपनी आँखे उठाई ... तब उसने पुकार कर कहा,''

‘‘लगभग! लगभग! लगभग!''

फिर कितने दुःखी न्याय का आप सामना करोगे
   आप फिर से बुलाओगे बिना दया के,
कि आप रूकोगे और विलम्ब करोगे
   जब तक आत्मा जा चुकी हो;
कैसा तिरस्कार और मातम करते है,
   अगर जब मृत्यु आपको आषाहीन पाती है,
आप रूके और विलम्ब किया और
    बहुत ज्यादा देर तक राह देखी।
(‘‘अगर आपने बहुत ज्यादा विलम्ब किया'' डो. जोन. आर. राइस द्वारा,
      1895-1980)।

हम कैसे प्रार्थना करे कि आप आज रात यषु पर भरोसा करोगे, ताकि आपके पाप उनके बहुमूल्य लहू द्वारा षुद्ध हो सके! मैं वो गाना जो डो. राइस द्वारा दी है वो फिर से गाने जा रहा हूँ। अगर आप मसीह पर भरोसा करने और बचाये जाने को तैयार हो, मेहरबानी करके जब मैं गाता हूँ आप पीछे के कक्ष में जाइये। डो. केगन आपको षांत जगह पर ले जाएगें जहाँ हम आपके साथ बातचीत और प्रार्थना कर सकते है। आप जाओ जब मैं गाता हूँ

आपने विलम्ब किया कितने बकवाद से,
    उनका अस्वीकार किया कितनी सरलता से,
आपने बहुत लंबा और भयानक पाप किये,
   आपका मन इतना गलत है;
ओह, अगर प्रभु अधीर होते है,
    मधुर आत्मा असंतुश्ट होती है,
अगर जल्दी वे आपको नहीं बुलाते,
   अभाग्य आपका है जब वे जा चुके हो!

फर कितना दुःखी न्याय आप सामना करोगे
   आप फिर से बुलाओगे बिना दया के,
कि आप रूकोगे और विलम्ब करोगे
   जब तक आत्मा जा चुकी हो;
कैसा तिरस्कार और मातम करते है,
   अगर जब मृत्यु आपको आषाहीन पाती है,
आप रूके और विलम्ब किया और
   बहुत ज्यादा देर तक राह देखी।

(संदेश का अंत)
आप डॉ0हिमर्स के संदेश प्रत्येक सप्ताह इंटरनेट पर पढ़ सकते हैं क्लिक करें
www.realconversion.com अथवा www.rlhsermons.com
क्लिक करें ‘‘हस्तलिखित संदेश पर।

आप डॉ0हिमर्स को अंग्रेजी में ई-मेल भी भेज सकते हैं - rlhymersjr@sbcglobal.net
अथवा आप उन्हें इस पते पर पत्र डाल सकते हैं पी. ओ.बॉक्स 15308,लॉस ऐंजेल्स,केलीफोर्निया 90015
या उन्हें दूरभाष कर सकते हैं (818)352-0452

ये संदेश कॉपी राईट नहीं है। आप उन्हें िबना डॉ0हिमर्स की अनुमति के भी उपयोग में ला सकते
 हैं। यद्यपि, डॉ0हिमर्स के समस्त वीडियो संदेश कॉपीराइट हैं एवं केवल अनुमति लेकर
ही उपयोग में लाये जा सकते हैं।

धार्मिक प्रवचन से पहले डो. क्रेगटन् एल. चान द्वारा पढ़ा हुआ पवित्रषास्त्र : मती 13:47-50।
धार्मिक प्रवचन से पहले श्रीमान बेन्जामिन किनकेड ग्रीफिथ द्वारा गाया हुआ गीत :
      ‘‘अगर आपने बहुत ज्यादा विलम्ब किया'' (डो. जोन आर. राइस द्वारा, 1895-1980)।


रूपरेखा

अधोलोक से चार पुकार

डो. आर. एल. हायर्मस, जुनि. द्वारा

‘‘और अधोलोक में उसने पीड़ा में पड़े हुए अपनी आँखे उठाई, और दूर से अब्राहम की गोद में लाजर को देखा। तब उसने पुकार कर ...'' (लूका 16:23,24)।

(मती 13:42)।

1. पहला हम सुनते है कैन को पुकारते हुए ‘‘मेरा दण्ड सहने से बाहर है'', उत्पति 4:13; इब्रानियों 9:22; निर्गमन 20:12।

2. दूसरा, हम सुनते है नूह के दिन में लोगों को पुकारते, ‘‘हमें अन्दर आने दो! हमें अन्दर आने दो!'' 2 पतरस 2:5; उत्पति 7:16; इब्रानियों 9:27।

3. तीसरा हम यहूदा की पुकार सुनते है, ‘‘मैंने निर्दोश लहू को धोखा दिया'', मती 27:4।

4. चौथा, हम सुनते है राजा अग्रिप्पा को पुकारते हुए, ‘‘तू थोड़े ही समझाने से मुझे मसीही बनाना चाहता है'', प्रेरितो 26:28।