Print Sermon

इन संदेशों की पांडुलिपियां प्रति माह २२१ देशों के १,५००,००० कंम्प्यूटर्स पर इस वेबसाइट पते पर www.sermonsfortheworld.com जाती हैं। सैकड़ों लोग इन्हें यू टयूब विडियो पर देखते हैं। किंतु वे जल्द ही यू टयूब छोड़ देते हैं क्योंकि विडियों संदेश हमारी वेबसाईट पर पर पहुंचाता है। यू टयूब लोगों को हमारी वेबसाईट पर पहुंचाता है। प्रति माह ये संदेश ३७ भाषाओं में अनुवादित होकर १२०,००० प्रति माह हजारों लोगों के कंप्यूटर्स पर पहुंचते हैं। उपलब्ध रहते हैं। पांडुलिपि संदेशों का कॉपीराईट नहीं है। आप उन्हें बिना अनुमति के भी उपयोग में ला सकते हैं। आप यहां क्लिक करके अपना मासिक दान हमें दे सकते हैं ताकि संपूर्ण संसार जिसमें मुस्लिम व हिंदु भी सम्मिलित है उनके मध्य सुसमाचार फैलाने के महान कार्य में सहायता मिल सके।

जब कभी आप डॉ हिमर्स को लिखें तो अवश्य बतायें कि आप किस देश में रहते हैं। अन्यथा वह आप को उत्तर नहीं दे पायेंगे। डॉ हिमर्स का ईमेल है rlhymersjr@sbcglobal.net .




कोड़े मारना, अपमान और थूंकना

THE SCOURGING, SHAME AND SPITTING

डो. आर. एल. हायर्मस, जुनि. द्वारा
by Dr. R. L. Hymers, Jr.

लोस एंजलिस के बप्तीस टबरनेकल में प्रभु के दिन की षाम, 1 अप्रैल 2012
को दिया हुआ धार्मिक प्रवचन
A sermon preached at the Baptist Tabernacle of Los Angeles
Lord’s Day Evening, April 1, 2012

‘‘मैंने मारनेवालों को अपनी पीठ और गलमोछ नोचनेवालों की ओर अपने गाल किए; अपमानित होने और उनके थूकने से मैंने मुँह न छिपाया” (यषायाह 50:6)।


इथियोपीया के नपुसंक के साथ हम षायद पूछे, ‘‘भविश्यवक्ता यह किसके विशय में कहता है, अपने या किसी दूसरे के विशय में?’’ (प्रेरितों 8:38)। जैसे 53 वे पाठ के साथ, हम संदेह नहीं कर सकते कि यहाँ यषायाह ने प्रभु यीषु मसीह की बात की थी। निष्चित रूप से यह उन भविश्यवाणी में से एक थी जो यीषु ने संदर्भ की थी जब उन्होंने चेलो से बात की जैसे ही वे ऊपर यरूषलेम तक गये और कहा,

‘‘देखो, हम यरूषलेम को जाते है, और जितनी बातें मनुश्य के पुत्र के लिये भविश्यवक्ताओं के द्वारा लिखी गई है, वे सब पूरी होंगी। क्योंकि वह अन्य जातियों के हाथ में सौंपा जाएगा, और वे उसे ठट्ठो में उड़ाएँगे; और उसका अपमान करेंगे और उस पर थूकेंगे, और उसे कोडे मारेंगे, और घात करेंगे; और वह तीसरे दिन जी उठेगा’’ (लूका 18:31-33)।

यीषु ने उनसे कहा कि अन्य जातियां उनकी ठट्ठा उडाएँगे, अपमानित करेंगे, कोडे मारेंगे, और घात करेंगे। और उन्होंने कहा कि ये सब पहले कहा गया था ‘‘भविश्यवक्ताओं’’ द्वारा। इस लिये हमारा पाठ उनके संदर्भ किए गए पदों में से ही एक होना चाहिए,

‘‘मैंने मारनेवालों को अपनी पीठ और गलमोछ नोचनेवालों की ओर अपने गाल किए; अपमानित होने और उनके थूकने से मैंने मुँह न छिपाया’’ (यषायाह 50:6)।

फिर देखिये कैसे वो भविश्यवाणी पूरी की गई थी। पोन्टीयस (Pontius) पिलातुस, रोमी षासक ने उनको कोड़े मारे। फिर रोमी सैनिकों ने

‘‘... काँटो का मुकुट गूँथकर उसके सिर पर रखा, और यह कहकर उसे नमस्कार करने लगे, हे यहूदियों के राजा, नमस्कार! वे उसके सिर पर सरकण्डे मारते, और उस पर थूकते ...’’ (मरकुस 15:17-19)।

मैं इसलिये विष्वास करता हूँ कि ये नासरत के यीषु थे, हमें मुक्त करनेवाले, उन्होंने उस भविश्यवाणी के षब्दों को परिपूर्ण किया,

‘‘मैंने मारनेवालों को अपनी पीठ और गलमोछ नोचनेवालों की ओर अपने गाल किए; अपमानित होने और उनके थूकने से मैंने मुँह न छिपाया’’ (यषायाह 50:6)।

जोसेफ हार्ट को दृष्य का वर्णन करने दो,

देखिये कैसे धैर्य से यीषु खड़े है,
    इस भयानक जगह में अपमानित,
पापीयों ने सर्वषक्तिमान के हाथ बाँध दिये,
    और उनके सर्जनहार के मुँह पर थूकते है।
काँटे उनकी कनपट्टी में घुसे और फटा,
    हर अंग से लहू की धारा बही;
भारी कोड़े उनकी पीठ़ पर मारे गये,
    परन्तु तीक्ष्ण कोड़े ने उनका हृदय चीरा।
(‘‘उनकी उत्तेजना’’ जोसेफ हार्ट द्वारा, 1712 - 1768;
      याजक द्वारा ठीक किया हुआ)।

‘‘मैंने मारनेवालों को अपनी पीठ और गलमोछ नोचनेवालों की ओर अपने गाल किए; अपमानित होने और उनके थूकने से मैंने मुँह न छिपाया’’ (यषायाह 50:6)।

मैं आज रात आपको उद्धारक की तड़प दिखाता हूँ। और मैं पिलातुस के साथ कहता हूँ ‘‘आदमी को देखो।’’ आपके मन को फिराओ और उनको उनकी उत्तेजना में देखो। देखो वे कौन है, कैसा द्रश्टांत उन्होंने दिया है। और उन्होंने नश्ट पापीयों को अनंत ज्वाला से बचाने क्या किया है।

1.पहला, उन्हें अवतरित परमेष्वर की तरह देखो।

प्रभु इंसानी देह में नीचे धरती पर आए आदमीयों के बीच रहने। वे यषायाह 50:2 में कहते है, ‘‘मैं आया।’’ प्रभु के पुत्र ‘‘आये’’ स्वर्ग से नीचे हमारे बीच रहने।

‘‘वचन परमेष्वर था ... और वचन देहधारी हुआ; और अनुग्रह और सच्चाई से परिपूर्ण होकर हमारे बीच में डेरा किया; और हम ने उसकी ऐसी महिमा देखी, जैसी पिता के एकलौते की महिमा’’ (यूहन्ना 1:1, 14)।

‘‘प्रभु षरीर में प्रगट हुआ’’ (1 तीमुथियुस 3:16)।

प्राचीन मसीही सच्चे थे यीषु को पुकारने, ‘‘प्रभु के प्रभु, रोषनी की रोषनी, सच्चे प्रभु के सच्चे प्रभु, पैदा न किया हुआ।’’

इस पर विचार करें और आप देखेंगे कि यह सबसे ज्यादा स्मरण करने योग्य गवाही है जो कभी भी आदमी के मन में प्रवेष की गई हो। स्पर्जनने कहा,

यह अच्छी तरह प्रमाणित नहीं किया गया, यह एकदम अविष्वसनीय होगा, कि अनन्त प्रभु जो सब चीजें पूरी करते है, जो थे और है, और आनेवाले है, सर्वषक्तिमान, त्रिकालदर्षी और विष्वव्यापी, हकीकत में उन्होंने स्वयं को हमारी न्यून मीट्टी के वस्त्रों मे झूका दिया। उन्होंने सब बनाया, और फिर भी उन्होंने अपने आप में जोड़ने जीवो का देह लेने का विचार किया ... हमारे प्रभु का इंसानी होना आभास नहीं था ... ना सिर्फ इंसानी रूप में दिखावा ... सब षक के पीछे, ‘‘वचन देह में बना और हमारे बीच रहा था।’’ ‘‘मुझे पकड़ो और देखो,’’ उन्होंने कहा ‘‘आत्मा को देह (माँस) और हड्डीयाँ नहीं होती जैसे आप मुझ में देखते हो’’ (सी.एच. स्पर्जन, ‘‘ध ग्रेट मीस्ट्री ओफ गोडलीनेस, ध मेट्रोपोलीटन टबरनेकल पुलपीट, पीलग्रीम प्रकाषन, 1979 में फिर से छपा हुआ, भाग 28, पृश्ठ 698)।

यीषु इंसानी देह में परमेष्वर थे, हायपोस्टेटीक (Hypostatic) संयोग द्वारा, वे अवतरित प्रभु है, पवित्र त्रिलोक के दूसरे व्यक्ति, वचन से बना देह।

यह हमारा पाठ अगाधा है इंसानी मन को प्रकट करता है! यहाँ प्रभु है इंसानी देह में अपने स्वयं को तुच्छ और दुःखी करने के लिये देते हुए! ये इंसानी विचार से ऊपर है कि अवतरित प्रभु कह सकते है,

‘‘मैंने मारनेवालों को अपनी पीठ और गलमोछ नोचनेवालों की ओर अपने गाल किए; अपमानित होने और उनके थूकने से मैंने मुँह न छिपाया’’ (यषायाह 50:6)।

यहाँ त्रिलोक के सृश्टि और सब जो उनमें रहता है, पापी आदमीयों को आज्ञा देता है, उनकी पीठ पर मारने और उनकी दाढ़ी खींचने! यहाँ मेरे परमेष्वर नीच (दुश्ट) पापीयों को उनके पवित्र मुँह पर थूंकने देते है!

देखिये कैसे धैर्य से यीषु खड़े है,
    इस भयानक जगह में अपमानित,
पापीयों ने सर्वषक्तिमान के हाथ बाँध दिये,
   और उनके सर्जनहार के मुँह पर थूकते है।
(‘‘उनकी उत्तेजना’’ जोसेफ हार्ट द्वारा)।

2. दूसरा, उन्हें हमारे द्रश्टांत की तरह देखो।

‘‘मैंने मारनेवालों को अपनी पीठ और गलमोछ नोचनेवालों की ओर अपने गाल किए; अपमानित होने और उनके थूकने से मैंने मुँह न छिपाया’’ (यषायाह 50:6)।

प्रभु के दास की तरह, यीषु ने पापीयों को अनुमति दी उनकी पीठ पर मारने, उनके बाल खींचने और उनके मुँह पर थूंकने। उन्होंने धरती को खोला होता उनको नीचा करने जैसे कोरह के साथ, या उनको खत्म करने के लिये आग लगाते, जैसे एलिय्याह ने किया। परन्तु वे ‘‘जिस प्रकार भेड़ वध होने के समय और भेड़ी ऊन कतरने के समय चुपचाप षान्त रहती है, वैसे ही उसने भी अपना मुँह न खोला’’ (यषायाह 53:7) गये। और प्रेरितो पतरसने कहा,

‘‘और तुम इसी के लिये बुलाए भी गए हो, क्योंकि मसीह भी तुम्हारे लिये दुःख उठाकर तुम्हें एक आदर्ष दे गया है कि तुम भी उसके पद - चिन्हों पर चलो। न तो उसने पाप किया और न उसके मुँह से छल की कोई बात निकली। वह गाली सुनकर गाली नहीं देता था, और दुःख उठाकर किसी को भी धमकी नहीं देता था, पर अपने आप को सच्चे न्यायी के हाथ में सौंपता था’’ (1 पतरस 2:21-23)।

हम षायद प्रभु को हमारा जीवन और पैसा देने की इच्छा रखे, परंतु जब हम अपमानित किये गये हो और कलंकित किये गये हो, हम पीछे हो जाते हैं परंतु यीषु चाहते थे उन पर आरोप लगाए जाय और पाखण्डी कहे जाये दुश्टतम पापीयों के द्वारा बिना अपने आपका बचाव करते हुए। हम क्या कहते है जब मित्र और रिष्तेदार हमें पाखण्डी बुलाते है और हमारे मसीही होने के लिये हमारे बारे में बुरा बोलते है? हमें स्मरण रखना चाहिए कि यीषु ‘‘चूप रहे’’, कुछ भी नहीं कहते हुए जब वे झूठे गवाहो द्वारा दोशी ठहराये गए उनको क्रूस पर चढ़ाने से एक रात पहले (मती 26:63)। जब पिलातुसने उनसे कहा, ‘‘क्या तू नहीं सुनता कि ये तेरे विरोध में कितनी गवाहियाँ दे रहे है?’’ यीषु ने ‘‘एक बात का भी उत्तर नहीं दिया, यहाँ तक कि हाकिम को बड़ा आष्चर्य हुआ’’ (मती 27:13-14)।

मैंने यह पाठ बहुत मुष्किल से सीखा जब मैंने यीषु का बचाव किया, हमने इष्वर निन्दा के चलचित्र ‘‘मसीह का आखरी प्रलोभन (the Last Temptation of Christ)’’ के विरूद्ध देखाव किया। लकड़ी के काम से झूठी गवाही बाहर आयी मुझे एन्टी सेमीटीझम anti-semitism और विष्वासघात से दोशी ठहराने। यह पूरी तरह झूठ था। मुझे यहूदी लोग और इस्त्राएली के राश्ट्र के लिये प्रेम था मेरे अपने मन और आत्मा से। परन्तु मैंने उस नीच चीज को सहना सीखा चूपकीदी से जब मेरे जीवनभर के मित्र मेरे विरूद्ध फिरे मेरे यीषु का बचाव करने के कारण। मैंने बीस वर्शों में मेरे अपने बचाव में बहुत थोडा कहा है। सिर्फ अभी कुछ समय पहले मैंने कथन किया था हमारे कलीसिया की गवाही बचाने को झूठे दोश लगानेवालों से बचाने। यीषु ने कहा,

‘‘धन्य हो तुम जब मनुश्य के पुत्र के कारण लोग तुम से बैर करेंगे और तुम्हें निकाल देंगे, और तुम्हारी निन्दा करेंगे, और तुम्हारा नाम बुरा जानकर काट देंगे। उस दिन आनन्दित होकर उछलना क्योंकि देखो, तुम्हारे लिये स्वर्ग में बड़ा प्रतिफल है; उनके बाप-दादे भविश्यवक्ताओं के साथ भी वैसा ही किया करते थे’’ (लूका 6:22-23)।

उद्धारक के वो षब्द मेरे परिक्षा के समय में मुझे बहुत आरामदायक लगे। मैं नहीं सोचता हमें हमारा बचाव बहुत जल्दी से करना चाहिए जब विष्व यीषु के कारण दोशी ठहराते है। ‘‘आखरी प्रलोभन’’ के देखाव के दौरान आदमी बहुत सरलता से मेरे मुँह पर थूंका। मैं वहाँ खड़ा रहा समाचारवालों के केमेरा की दरारो से मेरे मुँह से थूंक नीचे जाने के साथ। मैंने यीषु से सीखा प्रतिकार करना, क्योंकि उन्होंने उनका मुँह नहीं छिपाया’’ अपमानित होने और उनके मुँह पर थूँकने के कारण। मैंने बहुत प्रयत्न किये बाद में इस आदमी के साथ दयालु रहने। बेचारा आदमी! बाद में वो कत्ल किया गया था। प्रभु जानते है कि मैंने षोक महसूस किया और उनपर और उनके परिवार पर आँसू बहाये।

हमारे पाठ के धार्मिक प्रवचन में स्पर्जनने कहा, ‘‘आपको कम और कम होना चाहिये, चाहे आप आदमीयों से तिरस्कृत या अस्वीकार किए जाओ, क्योंकि ये रास्ता है सदा रहनेवाली महिमा का’’ (‘‘अपमान और थूंकना,’’ ध मेट्रोपोलीटन टबरनेकल पुलपीट, पीलग्रीम प्रकाषन, 1972 में फिर से छपा हुआ, भाग 25, पृश्ठ 431)।

चलिये हम स्मरण करे यीषु के द्रश्टांत का जब लोग हमारा ठट्ठा करे और हमारे विरूद्ध बोले इन बुरे दिनों में उनके अनुकरण करनेवाले बनने के लिये। स्पर्जनने कहा,

क्या आप दर्द और पीड़ा से भरे हुए हो ...? यीषु उनके बारे में सब कुछ जानते है, क्योंकि उन्होंने ‘‘मारनेवालों को उनकी पीठ दी।’’ क्या आप सहन करते हो ... कलंक लगने से? ‘‘अपमानित होने और उनके थूकंने से मैंने मुँह न छुपाया।’’ क्या आपका उपहास किया गया है ...? क्या आपकी आस्तिकता का अनुग्रहरहित मजाक उडाया गया है? यीषु आपसे सहानुभूति रख सकते है, क्योंकि आप जानते हो कैसा उनका अपवित्र मजाक उन्होंने बनाया। हर व्यथा में जो आपके मन को चीरता है आपके परमेष्वर ने जो उनका हिस्सा रहा हो। जाओ और उन्हे कहो। बहुत से आपको समझ नहीं सकेंगे। आप चितीहार पंछी हो, दूसरे सबसे अलग और वे आप पर चोंच मारेंगे, परंतु यीषु यह जानते हैं, क्योंकि वे भी चितीहार पंछी थे ... आपको उनके पास ले जाओ और वे आपसे सहानुभूति करेंगे (स्पर्जन, ibid.)।

देखिये कैसे धैर्य से यीषु खड़े है,
    इस भयानक जगह में अपमानित,
पापीयों ने सर्वषक्तिमान के हाथ बाँध दिये,
    और उनके सर्जनहार के मुँह पर थूकते है।

3. तीसरा, उन्हें पापीयों के प्रतिनिधि की तरह देखो।

‘‘मैंने मारनेवालों को अपनी पीठ और गलमोछ नोचनेवालों की ओर अपने गाल किए; अपमानित होने और उनके थूकने से मैंने मुँह न छिपाया’’ (यषायाह 50:6)।

स्मरण करो कि यीषु ने उनके अपने किसी भी पाप के लिये दर्द नहीं सहा, क्योंकि उनके कोई पाप ही नहीं थे।

‘‘परंतु वह हमारे ही अपराधो के कारण घायल किया गया वह हमारे अधर्म के कामों के कारण कुचला गया; हमारी ही षान्ति के लिये उस पर ताड़ना पड़ी, कि उसके कोड़े खाने से हम लोग चंगे हो जाएँ’’ (यषायाह 53:5)।

यषायाह 53 में ये पद हमें सरलता से कहता है कि उनकी चोट और कोड़े खाने और उनकी मृत्यु भी, आवष्यक थी पापीयों को बचानें। यीषुने अपने आप पर हमारे पाप लिये। और बाइबल हमें कहता है कि ‘‘जो पाप से अज्ञात था, उसी को उसने हमारे लिये पाप ठहराया कि हम उस में होकर परमेष्वर की धार्मिकता बन जाएँ’’ (2 कुरिन्थियों 5:21)। जब यीषु तड़पे, वे हमारे पापो के लिये तड़पे, उनके लिये दण्ड चुकाने, ताकि हमें बचा सके। पाप सबसे बुरी संभवित चीज है। पाप कोड़े मारने लायक है। और क्योंकि यीषु ने हमारे पाप उनके अपने ऊपर लिये, वे कोड़े से मारने ही चाहिये। उन पर थूंकना ही चाहिये था। उन्हें षरमिंदा (अपमानित) करना ही चाहिये। अगर आपको जानना है कि प्रभु पाप के लिये सोचते, उनके पुत्र की ओर देखो, पीठ पर कोड़े से मारा हुआ, उनके गालो से बाल खींचे हुए, उनके मुँह पर सैनिको द्वारा थूंका गया जब वे हमारे लिये पाप का बलिदान बनाये गये। अगर आप और मैं कोड़े से मारे जाते और बाल खींचे जाते और हमारे पापो के लिये थूंके जाते, तो यह कुछ आष्चर्यजनक नहीं होगा। परन्तु वे जिन्होंने हमारे पाप सहे वे प्रभु के पुत्र थे। यीषु हमारी जगह (हमारे बदले) खडे रहे, और ‘‘यहोवा को यही भाया कि उसे कुचले; उसी ने उसको रोगी कर दिया; जब वह अपना प्राण दोशबलि करें’’ (यषायाह 53:10)। चाहे हमारे पाप यीषु पर सिर्फ दोशारोपण के द्वारा रखे गये थे, यह उनके लिये सबसे गहरा दर्द और षर्म (अपमान) का कारण बना था क्रूस पर चुकाने से पहले।

ध्यान दीजिये कि हमारा पाठ कहता है, ‘‘मैंने मारनेवालों को मेरी पीठ दी’’। यीषु ने अपनी इच्छा से स्वयं को मारनेवालों, जो उनकी दाढ़ी खीचते थे, और उनके मुँह पर थूकते थे उनको दिया। उन्होंने अपने आपको क्रूस पर मारने के लिये दिया। किसी ने उनको हमारे पापो के लिये सहने नहीं दिया। उन्होंने ऐसा अपनी इच्छा से किया। प्रभु के पुत्र अपनी इच्छा से हमारे लिये षापित बने, हमारे प्रतीनिधि की तरह, हमारे पापो का दण्ड चुकाने - ताकि हम प्रभु द्वारा माफ किए जाये और उनकी दृश्टि में धर्मी ठहरे।

क्या हम ये सुनते है और आष्चर्यचकित महसूस न करें? क्या हम याद रख सकते है कि प्रभु के पुत्र मारे गये थे और बाल खींचे गये थे, और उन पर थूंका गया था, और आष्चर्य, भयानकता और सराहना से भरे नहीं गये? वे जो आसमान को बादलों से ढक सकते है, उन्होंने उनका अपना मुँह, नहीं छिपाया अपमान और थूँकने से। वे जो पहाड़ो की पीठ बना सकते है, उन्होंने अपनी पीठ को बेंत के मारने से दूर न रखी। वे जो सृश्टि को बांधकर रखते है ग्रीडल (gridle) के साथ जो साथ में पकडे रखता है जंजीर में बांधकर, और आदमीयों द्वारा आखों पर पट्टी बांधी जिसे उन्होंने स्वयं रचा था उनके द्वारा। जब स्वर्ग में स्वर्गदूत संगीत की बड़ी लहर से उनकी सराहना गाते है, क्या ऐसा संभव लगता था कि वे कील से क्रूस पर ठोके गए थे? मैं सोचता हूँ कि इसीलिये कील के निषान सदा के लिये उनके हाथों और पैरो में रहेंगे, ताकि हम भूले नहीं कि उन्होंने हमारे लिये क्या किया जब हम उन्हें स्वर्ग में देखे। मैं उनके प्रिय चेहरे की महिमा कैसे देखे बिना रहूंगा याद रखो कि पापीयों ने उनके दाढ़ी के बाल खींचकर निकाले थे जब कि उनके पवित्र गालो से थूंक नीचे बह रही थी!

देखिये कैसे धैर्य से यीषु खड़े है,
    इस भयानक जगह में अपमानित,
पापीयों ने सर्वषक्तिमान के हाथ बाँध दिये,
    और उनके सर्जनहार के मुँह पर थूकते है।

उनका चेहरा! स्वर्गदूत पर क्यों न थूंके? क्या वहाँ पर आपको उनके चेहरे के सिवा कोई और जगह नहीं थी थूंकने के लिये? उनका चेहरा! प्रभु हमें मदद करो! उनका चेहरा! वे यीषु के पवित्र चेहरे पर थूंके। स्पर्जनने कहा, ‘‘मैं आषा कर सकता था कि आदमी कभी भी रचा नहीं गया, या कि ... वे षून्यता में घसीटे गये थे बजाय ऐसी भयानकता को करने के लिये जीने’’ (ibid., पृश्ठ 428)। प्रभु हमें मदद करो! वे हमारे मुक्ति देने वाले के चेहरे पर थूंके!

अगर आप खोये हुए हो, मैं आपसे वीनति करता हूँ उन पर अभी भरोसा करो। आपके पाप खत्म होते है जब आप उन पर भरोसा करते हो, क्योंकि उन्होंने आपके सारे अधर्म और अपमान उठाएँ जब वे क्रूस पर कील से ठोके गये। फिर आपकी सजा निकाल दी गई, क्योंकि वो सारी सजा यीषु ने सही, उनकी पीठ पर, उनके गालों पर, उनके चेहरे पर, और उनके हाथ और पैरो पर किए गए जखमों पर। उन पर भरोसा करो और आपके पाप की सारी सजा निकाली गई, और आप बचाये, न्याय किये गये सारे समय और सारी अनंतता के लिये उनकी मुक्ति के प्रेम के द्वारा! मेहरबानी करके खड़े रहे और गीत क्रमांक 7, ‘‘ओह, कैसा फव्वारा!’’ गाओ डो. जोन. आर. राइस द्वारा।

हमारे पाप कहानी है प्रेम की बीते हुए सारे तरीको ंकी
    हम कहते है पापी कैसे माफ किये जा सकते है।
वहाँ पर मुक्त माफी है, क्योंकि यीषु तड़पे थे।
    और काल्वरी के वृक्ष पर प्रायष्चित किया।
ओह, कैसा फव्वारा दया का बहता है,
    नीचे क्रूस पर चढ़ाए हुए आदमीयों के उद्धारक से,
बहुमूल्य लहू जो उन्होंने बहाया हमें छुड़ाने,
    अनुग्रह और माफी हमारे सारे पापों के लिये।
(‘‘ओह, कैसा फव्वारा!’’ डो. जोन. आर. राइस द्वारा, 1895 - 1980)।

(संदेश का अंत)
आप डॉ0हिमर्स के संदेश प्रत्येक सप्ताह इंटरनेट पर पढ़ सकते हैं क्लिक करें
www.realconversion.com अथवा www.rlhsermons.com
क्लिक करें ‘‘हस्तलिखित संदेश पर।

आप डॉ0हिमर्स को अंग्रेजी में ई-मेल भी भेज सकते हैं - rlhymersjr@sbcglobal.net
अथवा आप उन्हें इस पते पर पत्र डाल सकते हैं पी. ओ.बॉक्स 15308,लॉस ऐंजेल्स,केलीफोर्निया 90015
या उन्हें दूरभाष कर सकते हैं (818)352-0452

ये संदेश कॉपी राईट नहीं है। आप उन्हें िबना डॉ0हिमर्स की अनुमति के भी उपयोग में ला सकते
 हैं। यद्यपि, डॉ0हिमर्स के समस्त वीडियो संदेश कॉपीराइट हैं एवं केवल अनुमति लेकर
ही उपयोग में लाये जा सकते हैं।

धार्मिक प्रवचन से पहले डो. क्रेगटन् एल. चान द्वारा पढ़ा हुआ पवित्रशास्त्र :
      लूका 18:31-33।
धार्मिक प्रवचन से पहले श्रीमान बेन्जामिन किनकेड ग्रीफिथ द्वारा गाया हुआ गीत :
‘‘मुझे काल्वरी ले जाओ’’ (‘‘Lead Me To Calvary’’)
(जेन्नी एवेलीन हस्से द्वारा, 1874-1958)।


रूपरेखा

कोड़े मारना, अपमान और थूंकना

डो. आर. एल. हायर्मस, जुनि. द्वारा

‘‘मैंने मारनेवालों को अपनी पीठ और गलमोछ नोचनेवालों की ओर अपने गाल किए; अपमानित होने और उनके थूकने से मैंने मुँह न छिपाया’’ (यषायाह 50:6)।

(प्रेरितो 8:34; लूका 18:31-33; मरकुस 15:17-19)

1.  पहला, उन्हें अवतरित परमेष्वर की तरह देखो, यषायाह 50:2;
युहन्ना 1:1,14; 1 तीमुथियुस 3:16।

2.  दूसरा, उन्हें हमारे द्रश्टांत की तरह देखो, यषायाह 53:7;
1 पतरस 2:21-23; मती 26:63; 27:13-14; लूका 6:22-23।

3.  तीसरा, उन्हें पापीयों के प्रतिनिधि की तरह देखो, यषायाह 53:5;
2 कुरिन्थियो 5:21; यषायाह 53:10।