Print Sermon

इन संदेशों की पांडुलिपियां प्रति माह २२१ देशों के १,५००,००० कंम्प्यूटर्स पर इस वेबसाइट पते पर www.sermonsfortheworld.com जाती हैं। सैकड़ों लोग इन्हें यू टयूब विडियो पर देखते हैं। किंतु वे जल्द ही यू टयूब छोड़ देते हैं क्योंकि विडियों संदेश हमारी वेबसाईट पर पर पहुंचाता है। यू टयूब लोगों को हमारी वेबसाईट पर पहुंचाता है। प्रति माह ये संदेश ३७ भाषाओं में अनुवादित होकर १२०,००० प्रति माह हजारों लोगों के कंप्यूटर्स पर पहुंचते हैं। उपलब्ध रहते हैं। पांडुलिपि संदेशों का कॉपीराईट नहीं है। आप उन्हें बिना अनुमति के भी उपयोग में ला सकते हैं। आप यहां क्लिक करके अपना मासिक दान हमें दे सकते हैं ताकि संपूर्ण संसार जिसमें मुस्लिम व हिंदु भी सम्मिलित है उनके मध्य सुसमाचार फैलाने के महान कार्य में सहायता मिल सके।

जब कभी आप डॉ हिमर्स को लिखें तो अवश्य बतायें कि आप किस देश में रहते हैं। अन्यथा वह आप को उत्तर नहीं दे पायेंगे। डॉ हिमर्स का ईमेल है rlhymersjr@sbcglobal.net .




वे अविष्वास के कारण प्रवेष न कर सके

THEY COULD NOT ENTER IN BECAUSE OF UNBELIEF

डो. आर. एल. हायर्मस, जुनि. द्वारा
by Dr. R. L. Hymers, Jr.

लोस एंजलिस के बप्तीस टबरनेकल में प्रभु के दिन की सुबह, 19 फरवरी, 2012 को दिया हुआ धार्मिक प्रवचन
A sermon preached at the Baptist Tabernacle of Los Angeles
Lord’s Day Morning, February 19, 2012

‘‘उसने किनसे षपथ खाई कि तुम मेरे विश्राम में प्रवेष करने न पाओगे? क्या केवल उनसे नहीं जिन्होने आज्ञा न मानी? अतः हम देखते है कि वे अविष्वास के कारण प्रवेष न कर सके’’ (इब्रानियों 3:18-19)।


इस्त्राएली कनान की निज भूमि पर जाने के लिये मिस्त्र से बाहर बुलाये गये थे। मिस्त्र पाप के समान या द्रश्टांत था। कनान स्वर्ग के समान था। डो. जोन गील (1697-1771) ने कहा कि कनान ‘‘स्वर्ग के समान था, जो विश्राम है परिश्रम और मेहनत से, जो प्रभु के लोगों के लिये रहता है और जिसमें यह कहा गया है कि इस पीढ़ीने प्रवेष नहीं किया’’ (जोन गील, डी.डी., एन एक्सपोझीषन अॉफ ध न्यू टेस्टामेन्ट, भाग ॥।, ध बेप्टीस्ट स्टार्न्डड बेरर, 1989 में फिर से छपा हुआ, इब्रानियों 3:11 पर समालोचना)।

‘‘मैंने क्रोध में आकर षपथ खाई, व मेरे विश्राम में प्रवेष करने न पाएँगे’’ (इब्रानियों 3:11)।

मैथ्यु पुले (1624-1679) ने इस पद के लिये कहा, ‘‘वे मेरे विश्राम में प्रवेष करने न पाएँगे। अगर वे प्रवेष करते है, तो मैं ना तो सत्य हूँ ना ही परमेष्वर। विश्राम अक्षरषः कनान की भूमि था, व्यवस्था विवरण 12:9; उस प्रकार में सत्य, स्वर्ग ... ये उनको सारी षान्ति से बाहर निकालती है, अनंत षोक, वेदना, कठिनाई और परेषानी और दूसरे सब दुश्ट में इस विश्राम के विरूद्ध’’ (मेथ्यु पुले, अ कोमेन्ट्री ओन ध हॉल बाइबल : समस्त बाइबल पर संभाशण, भाग ॥।, ध बेनर अॉफ ध ट्रुथ ट्रस्ट, 1990 में फिर से छपा हुआ, पृश्ठ 821; इब्रानियों 3:11 पर समालोचना)।

यही अर्थ था प्रभु के कहने का जब प्रभुने कहा, ‘‘मैंने क्रोध में आकर षपथ खाई, व मेरे विश्राम में प्रवेष करने न पाएँगे’’ (इब्रानियों 3:11)। प्राचीन रब्बीयों ने कहा, ‘‘जंगल की पीढी को आनेवाले संसार में कोई हिस्सा नहीं है’’।

क्यों जो जंगल में भटके थे उनको कनान की निज भूमि में प्रवेष करने से रोका गया था? हमारा पाठ कहता है, ‘‘वे अविष्वास के कारण प्रवेष न कर सके’’ (इब्रानियों 3:19)। उस पद पर आलोचना करते हुए, स्पर्जनने कहा, ‘‘हमारे लिये कनान प्रकार था महान् और ईष्वरीय चीज का, अनुग्रह की वाचा, का जो विष्वासु से संबंध करती है; परतुं अगर हमे विश्वास नहीं है, तो हम वाचा का एक भी आषिश प्राप्त नहीं कर सकते ... अविष्वासुओं का हिस्सा ज्वाला के सरोवर मे ंहोना ही चाहिए। ओह, वह परमेष्वर उनको अविष्वास के भयंकर पाप से छुडाएँगे’’ (सी. एच. स्पर्जन, ‘‘एन अर्नेस्ट वोर्नींग अगेन्स्ट अनबीलीफ’’, (अविष्वास के विरूद्ध गंभीर चेतावनी), ध मेट्रोपोलीटन टबरनेकल पुलपीट, भाग LVI, पीलग्रीम प्रकाषन, 1979 में फिर से छपा हुआ, पृश्ठ 470; इब्रानियों 3:18-19 पर समालोचना)।

‘‘उसने किनसे षपथ खाई कि तुम मेरे विश्राम में प्रवेष करने न पाओगे? क्या केवल उनसे नहीं जिन्होने आज्ञा न मानी? अतः हम देखते है कि वे अविष्वास के कारण प्रवेष न कर सके’’ (इब्रानियों 3:18-19)।

आपको क्यों चिन्ता होनी चाजिये जो बहुत संदियाँ पहले उस अविष्वासु इस्त्राएली को जंगल में क्या हुआ था उसके बारे में? क्योंकि,

‘‘ये सब बातें, जो उन पर पड़ी, दृश्टांत (नमूने) की रीति पर थी; और लिखी गई है हमारी चेतावनी (सूचना) के लिये...’’ (1 कुरिन्थियों 10:11)।

अविष्वासु इस्त्राएली का जंगल में मरने का, कनान के विश्राम में प्रवेष न पाने का हिसाब हमें द्रश्टांत क लिये दिया गया था। अगर आप मुक्ति और स्वर्ग में प्रवेष पाना चाहते हो, आप ऐसा नहीं करोगे अगर आप यीषु में विष्वास करने से निश्फल होते हो। जब तक आप यीषु के पास विष्वास से नहीं आते, आपके लिये यह कहा जाएगा, ‘‘वे अविष्वास के कारण प्रवेष न कर सके’’ (इब्रानियों 3:19)।

आप अनंतता कहाँ बितायेंगे?
   यह प्रष्न आता है आपको और मुझे;
आपका आखरी जवाब क्या होगा,
   आप अनंतता कहाँ बितायेंगे?
अनंतता, अनंतता,
   आप अनंतता कहाँ बितायेंगे?
(‘‘आप अनंतता कहाँ बितायेंगे?’’ एलीसा ए. होफमेन द्वारा, 1839-1929;
      याजक द्वारा ठीक किया हुआ)।

‘‘मैं अनंतता कहाँ बिताऊँगा?’’ इसे गाइये!

अनंतता, अनंतता,
   मैं अनंतता कहाँ बिताऊँगा?

‘‘वे अविष्वास के कारण प्रवेष न कर सके’’ (इब्रानियों 3:19)।

इस्त्राएली कनान में प्रवेश न कर सके। ये चित्रित करता है उनको जो मसीह में प्रवेष नहीं कर पाते अवष्विास के कारण। इस प्रकार इस्त्राएली का अविष्वास उन्हें कनान की भूमि में विश्राम के लिये प्रवेष करने से रोकता है। हम तीन पाठ सीखते है उन अविष्वासु इस्त्राएली से जो आपको भी लागु होता है अगर आप बिना बचाये हुए हो - अगर आपने मसीह में प्रवेष नहीं किया अविष्वास के कारण।

1. पहला, उन्होंने महान् आषि ा का अनुभव किया, परन्तु वे अविष्वास के कारण प्रवेष न कर सके।

उन्होंने परमेष्वर को महान् चीजें करते हुए देखा था। ये लोग मिस्त्र मे ंथे जब प्रभुने फिरौन को दोशी ठहराया। उन्होंने पानी को लहू में बदलते देखा था। उन्होंने देखा था मिस्त्रीयों को महामारी के बैल और पत्थर की बड़ी बारिष को जिसने कटनी का नाष किया। वे रोषनी में थे जब मिस्त्री अंधेरे में थे, जो महसूस किया जा सकता था। उन्होंने टिड्डीयाँ और जूँओं की महामारी देखी; और दूसरा न्याय फिरौन और दूसरे लोगों पर डाला गया। उन सबने पास्कल (Pascal) मेम्ना खाया और लहू उनके द्वार के अलंगो पर लगाया और रात में बचाया जो प्रभु ने पहले जन्मे को झुलाया हर मिस्त्री घर में। वे मिस्त्र से बाहर गये, उस भूमि से जहाँ वे गुलाम थे, प्रभु के हाथों से आजादी में आगे लाये गये। ये सब लोग मूसा के साथ थे जब फिरौन ने उनका अनुकरण किया और परमेष्वर ने लाल समुद्र खोला, और वे उस में से सलामती से गये। उन्होंने देखा था कि समुद्र मिस्त्रीयों पर बंद हुआ, फिरौन की सेना को ले गये। उनकी आवाजें बजी, ‘‘मैं यहोवा का गीत गाऊँगा, क्योंकि वह महाप्रतापी ठहरा है, घोड़ो समेत सवारों को उसने समुद्र में पटक दिया है’’ (निर्गमन 15:1)। और फिर भी ‘‘वे अविष्वास के कारण प्रवेष न कर सकें।’’

यहाँ इस सुबह आप में से कुछ लोग होंगे जिन्होंने प्रभु द्वारा भेजे गये महान आषिश को देखा होगा! आप जानते हो कि जब हमला हुआ था तब प्रभुने हमारा कलीसिया कैसे बचाया था। जब दुश्टात्मा आप के विरूद्ध चिल्लाया, आपने देखा परमेष्वर हमें छुडाया। आपने देखे होंगे बहुत से लोग प्रभु के पुत्र के लहू द्वारा छुड़ाए और बचाये गये थे। आप हाजिर होंगे जब प्रभु ने हमारी प्रार्थना का जवाब दिया और हमारे समुदाय को आषिश किया। आपकी आँखोंने ये सब चीजें देखी होगी, और आपने हमारे कलीसिया के वृद्ध सदस्यों को कहते हुए सुना होगा प्रभु के आष्चर्यजनक आषिश के बारे में। और फिर भी आप अपने स्वयं अविष्वास के कारण प्रवेष नहीं कर सकते! प्रभु का न्याय चाहता है कि आपको न्याय किया जाना चाहिए, जैसे इस्त्राएली को, क्योंकि आपने ऐसे आषिश देखे है और फिर भी आप अपने आप प्रवेष नहीं कर सकते अविष्वास के कारण!

फिर से, ये इत्राएलीयों को महान् चीजें उद्घाटित की हुई थी। प्रभु किसी और से कभी भी ऐसे नहीं बोले जैसे उन्होंने उनको बोला। प्रभुने उनको दस आदेष दिये, अपनी स्वयं की अंगुलियों से लिखे हुए। वे उनके तम्बू में (टबरनेकल) में पवित्र जगह पर रहे। हररोज के बलिदान ने उनसे कहा आनेवाले मसीह के लहूभरे प्रायष्चित के बारे में किसी और लोगों के पास प्रभु ऐसी की आकाषवाणी नहीं थी! और फिर भी उन्होंने सुनने से इन्कार किया और उन्होंने समर्पण का इन्कार किया। और फिर भी उन्होंने विष्वास नहीं किया। ‘‘अतः हम देखते है कि वे अविष्वास के कारण प्रवेष न कर सके’’ (इब्रानियों 3:19)।

आपने भी प्राप्त की है स्पश्ट आकाषवाणी। हकीकत में आपने सुसमाचार ज्यादा स्पश्टता से सुने है उनके कभी भी सुनने से। आपके पास नयी नियमावली है, जो ज्यादा आकाषवाणी देती है। क्या ये आपके साथ होगा जैसे उनके साथ हुआ था? उनके षव जंगल में सडे़। ‘‘वे अविष्वास के कारण प्रवेष न कर सके’’। क्या वो आपके लिये भी सच होगा?

स्मरण किजीये वो भी कि प्रभुने बहुत धैर्य दिखाया उनकी ओर, ‘‘जहाँ तुम्हारे बापदादों ... चालीस वर्श तक मेरे काम देखे’’ (इब्रानियों 3:9)। कैसा लंबा - तड़पता धैर्य प्रभुने उनको दिखाया चालीस वर्श तक! उन्होंने उनको कई दषक दिये प्रष्चाताप करने, चालीस लंबे वर्श! परन्तु फिर भी वे अविष्वास के कारण प्रवेष न कर सके!

क्या आपके साथ भी यही होगा जिसने महीनों तक सुसमाचार सुने मसीह में विश्राम के लिये प्रवेष किये बिना? आपका क्या होगा जब प्रभु का धैर्य टूट जायेगा? वहाँ पर बाइबल में स्पश्ट चेतावनी है। प्रभु कहते है, ‘‘मेरी आत्मा मनुश्य से सदा लों विवाद करता न रहेगा’’ (उत्पति 6:3)। मुझे डर है कि लंबे समय से पहले आपके लिये ये कहा जायेगा, ‘‘वे अविष्वास के कारण प्रवेष न कर सकें’’। हाँ, इस्त्राएली को बडे आषिश थे, परन्तु वे अविष्वास के कारण प्रवेष न कर सके। क्या वो आपके लिये भी सच होगा?

2. दूसरा, एक ही चीज जिसने उनको बाहर रखा वो थी अविष्वास।

‘‘वे अविष्वास के कारण प्रवेष न कर सके’’। यह उनके पाप नहीं थे जिसने उनको बाहर रखा। प्रभु उनके सारे पाप माफ करने को तैयार थे सिवा अविष्वास के पाप के। यीषु ने कहा, ‘‘मनुश्य का सब प्रकार का पाप और निन्दा क्षमा की जाएगी, परन्तु पवित्र आत्मा की निन्दा क्षमा न की जाएगी’’ (मती 12:31)। यह उनके पाप और ईष्वर निन्दा नहीं थी जिसने उनको मसीह के विश्राम में प्रवेष करने से बाहर रखा। ये उनकी ईष्वर निन्दा पवित्रआत्मा के विरूद्ध थी, उनका उनके मन में उसके काम का अस्वीकार, जिसने उनको विष्वास बचाने से दूर रखा, ‘‘अतः हम देखते है कि वे अविष्वास के कारण प्रवेष न कर सके’’। सबसे बडा पाप किसी को स्वर्ग से बाहर नहीं रखता। अकेला अविष्वास ही आपको ‘‘उनके विश्राम’’ में प्रवेष करने से रोकेगा।

फिर से, ये बाधाएँ नहीं है जिसने उन्हें बाहर रखा। जब वे कनान आए वहाँ पर नगर की दिवारें और दानव थे विरोध करने को। हाँ, परन्तु वो चीजें उनको निज भूमि में लाने प्रभु को रोक न सकी। प्रभु यरीहो (Jericho) की दिवारों को तोड कर जमीन पर गिरा देंगे। प्रभु दानव को हटाने के लिये उनके सामने बर्वे जाति के कीडे (Hornets) भेजेेंगे। उन्हें सिर्फ इतना ही करना था कि अंदर जाकर भूमि का अधिकार लेना था। फिर भी ‘‘वे अविष्वास के कारण प्रवेष न कर सके’’। यह सिर्फ अविष्वास ही था जिसने उनको विश्राम में प्रवेष करने से दूर रखा!

सिर्फ विष्वास करो और आप मसीह के विश्राम में प्रवेष करोगे! यीषु पर भरोसा करो और सारी अषक्यताएँ अदृष्य हो जाएगी, और सारी परेषानीयाँ खत्म हो जाएगी। कुछ भी आपको रोकता नहीं है सिवा आपका अविष्वास। और अगर आप यीषु के पास नहीं आते हो और उन पर विष्वास नहीं करते, आप कभी भी उनके विश्राम में प्रवेष नहीं कर सकोगे! यीषु ने कहा, ‘‘यदि तुम विष्वास न करोगे कि में वही हूँ तो अपने पापों में मरोगे’’ (युहन्ना 8:24)। वो अविष्वास का, आत्मा षापित करनेवाला पाप है! मैं कैसे प्रार्थना करूँ कि प्रभु की आत्मा आपको दोशी ठहराये, ‘‘पाप के विशय में इसलिये कि वे मुझ पर विष्वास नहीं करते’’ (युहन्ना 16:9)। अगर आप यीषु पर विष्वास नहीं करेंगे, आप कमनसीब हो! आपके लिये यह कहा जायेगा, ‘‘वे अविष्वास के कारण प्रवेष न कर सके।’’ स्पर्जनने कहा, ‘‘ये अनाक (Anak) के पुत्र नहीं थे जिसने उनको बाहर रखा; यह निर्रथक चिल्लानेवाला जंगल नहीं था; यह उनके अविष्वास के अलावा कुछ नहीं था’’ (ibid., पृश्ठ 480)।

3. तीसरा, वहाँ थोडे ही थे जिसने विष्वास किया और अंदर प्रवेष किया।

परन्तु, उनमें से थोडे थे जिसने कनान जाने के लिये मिस्त्र छोड़ा। हकीकत में वे थोड़े ही थे। यहोषू (Joshua) और कालेब (Caleb) सिर्फ दो मूल (original) यात्री थे जिन्होंने अंदर प्रवेष किया, चाहे मूसाने बाद में प्रवेष किया आकार के परिवर्तन के पहाड़ (Mount of Transfiguration) पर। प्रभु ने कहा,

‘‘निष्चय इस बुरी पीढ़ी के मनुश्यों में से एक भी उस अच्छे देष को देखने न पाएगा, जिसे मैंने उनके पितरों को देने की षपथ खाई थी। यपुन्ने का पुत्र कालेब ही उसे देखने पाएगा और ... नून का पुत्र यहोषू जो तेरे सामने खडा रहता है, वह तो वहाँ जाने पाएगा...’’ (व्यवस्थाविवरण 1:35, 36, 38)।

हजारो जिसने मिस्त्र छोड़ा था उनमें से सिर्फ दो ही कनान के निज भूमि में प्रवेष कर सके। ये क्या दिखाता है? ये क्यों दिखाता है कि ‘‘बुलाए हुए तो बहुत हैं परन्तु चुने हुए थोड़े है’’ (मती 22:14; सीएफ. मती 20:16)। यह दिखाता है कि कैसे, ‘‘सकेत है वह फाटक और कठीन है वह मार्ग जो जीवन को पहुँचाता है और थोड़े है जो उसे पाते है’ (मती 7:14)। ये हमेषा से थोड़े ही थे नूह के समय में सिर्फ ‘‘आठ प्राणी पानी के द्वारा बच गए’’ (1 पतरस 3:20)। एलिय्याह (Elijah) के समय में प्रभुने कहा, ‘‘मैं सात हजार इस्त्राएलियों को बचा रखूँगा’’ हजारों अनगिनत जो वहाँ थे (1 राजाओं 19:18; रोमियों 11:4)। पौलुस के समय में सिर्फ ‘‘अनुग्रह से चुने हुए कुछ लोग बाकी है’’ (रोमियों 11:5)। और यीषु ने कहा, ‘‘हे छोटे झुण्ड, मत डर’’ (लूका 12:32)। इस प्रकार हमें आष्चर्य नहीं होना चाहिए सीखनेमें, कि हजारों जिन्होंने मिस्त्र छोड़ा उन में से सिर्फ कालेब और यहोषु ही निज भूमि में प्रवेष कर पाए। ‘‘सकेत है वह फाटक और कठीन है वह मार्ग जो जीवन को पहुँचाता है, और थोडे़ है जो उसे पाते है’’ (मती 7:14)।

क्या आप उन थोडे बचाये हुओं में से एक होंगे? ऐसा नहीं मानना कि आप होंगे! करीबन 54 वर्श की सेवा में मैंने हजारो देखे जिन्होंने अंदाजा लगाया कि वे बचाये जायेंगे। फिर भी उन में से जयादातर ‘‘अविष्वास के कारण प्रवेष न कर सके’’। उनमें से कुछ के शव पहिले ही जंगल में सड़ रहे है!

कालेब और यहोषू ने ‘‘उनके विश्राम में प्रवेष’’ नहीं किया क्योंकि वे उनसे बेहतर थे जो उस जंगल में गिरे थे। ओह, नही! उन्होंने अंदर प्रवेष पाया क्योंकि उन्होंने विष्वास किया था जो है ‘‘परमेष्वर का दान और न कर्मो के कारण ऐसा न हो कि कोई घमण्ड करे’’ (इफिसियों 2:8-9)। कालेब और यहोषू ने अंदर प्रवेष किया क्योंकि उन्होंने विष्वास किया। बाकी के प्रवेष न कर सके, प्रभुने कहा, क्योंकि ‘‘तुम ने अपने उस परमेष्वर यहोवा पर विष्वास नहीं किया’’ (व्यवस्थाविवरण 1:32)।

‘‘उसने किनसे षपथ खाई कि तुम मेरे विश्राम में प्रवेष करने न पाओगे? क्या केवल उनसे नहीं जिन्होने आज्ञा न मानी? अतः हम देखते है कि वे अविष्वास के कारण प्रवेष न कर सके’’ (इब्रानियों 3:18-19)।

कालेब के बारे में फिर से सोचिये, जो यहोषू के साथ दो में से एक था अंदर प्रवेष करनेवाला। कालेब को ‘‘भाई’’ थे जिसने विष्वास नहीं किया। उन्होंने कहा ‘‘उन लोगों पर चढ़ने की षक्ति हम में नहीं है’’ (गिनती 13:31)। परन्तु कालेब ने उनका अनुकरण नहीं किया उनके अविष्वास में। बाद में कालेब ने कहा,

‘‘मेरे साथी जो मेरे संग गए थे उन्होंने तो प्रजा के लोगों का मन निराष कर दिया, परन्तु मैंने अपने परमेष्वर यहोवा की पूरी रीति से बात मानी’’ (यहोषू 14:8)।

कालेबने अपने भाई को प्रवेष करने से न रोका! आपके लिये क्या पाठ है। आप अविष्वासु मातापिता या रिष्तेदारों को आपके प्रवेष पाने से रोकने न दिजीये! उन्हें आपका मन ‘‘पीघलाने’’ मत दिजीये, षक और डर से! मसीह ने कहा, ‘‘जो माता या पिता को मुझ से अधिक प्रिय जानता है, वह मेरे योग्य नहीं और जो बेटा या बेटी को मुझ से अधिक प्रिय जानता है, वह मेरे योग्य नहीं’’ (मती 10:37)। और अविष्वासु जो कलीसिया आते है, उन्हें आपको प्रवेष करने से रोकने मत दिजीये!

यहोषू, कालेब के साथ दूसरा एक था जिसने अंदर प्रवेष पाया। जब वो बहुत युवान था तब से उसने मूसा के साथ सेवा की थी। जब दूसरे इस्त्राएलीयों ने सोने की बछियाँ और उसके आसपास नृत्य किया, यहोषू ने उनके पाप मूसा को बताये (निर्गमन 32:17)। जब दूसरे अपने तम्बू (Tent) मे ंकानाफूसी करते थे, यह युवा आदमी ‘‘तम्बू में से न निकलता था’’ (निर्गमन 33:11)। वो वहाँ प्रभु के साथ अकेला रहा. ध्यान दिजीये की यहोषू मूसा के साथ खडा रहा लोगों के पाप के विरूद्ध। ध्यान दिजीये यहोषू तम्बू (टबरनेकल) में प्रभु के करीब रहा। इस प्रकार के युवा व्यक्ति जिसे विष्वास है ‘‘उसके विश्राम में प्रवेष पाने’’ (इब्रानियों 3:18) को। वो युवा लोग जो नेतृत्व के साथ पक्ष लेते है कलीसिया का, विशयी ‘‘कलीसिया बच्चों’’ के विरूद्ध वे अंदर प्रवेष पायेंगे। वे जो प्रभु को ढूँढते है जब वे अकेले होते है, वे अंदर प्रवेष पायेंगे। परन्तु विशयी, विचारहीन, युवा लोग अंदर प्रवेष नहीं पायेंगे। ‘‘अतः हम देखते है कि वे अविष्वास के कारण प्रवेष न कर सके’’। चलिये हर एक युवा आदमी और औरत, जिसे ‘‘अंदर प्रवेष’’ करना है कालेब और यहोषू के साथ, उनके मन में कहें,

चाहे कोई भी मेरे साथ न जाएँ, फिर भी मैं साथ जाऊँगा;
चाहे कोई भी मेरे साथ न जाएँ, फिर भी मैं साथ जाऊँगा;
चाहे कोई भी मेरे साथ न जाएँ, फिर भी मैं साथ जाऊँगा;
पीछे फिरना नहीं, पीछे फिरना नहीं!

यह गीत सूचित करता है भारत के उन युवान लोगों को जो मसीही बने है। तर्ज है भारत से राग पर (सौजन्य : जोन आर. राइस, डी.डी., सोल स्टीरींग सोन्गस एन्ड हीम्स, स्वोर्ड अॉफ ध लोर्ड प्रकाषक, 1972, क्रमांक 316)। ‘‘गीत के रूप की नींव है आदमी की जो आसाम, दक्षिण पूर्व भारत में अपने परिवार के साथ 19 वी सदी के मध्य में परिवर्तित हुआ था, मसीहीता में वेल्स (Welsh) धर्मप्रचारक संस्था के प्रयत्नों के द्वारा। गाँव के मुखियाँ द्वारा बुलाया गया (छोड़ने) उसका विष्वास, परिवर्तन घोशित किया, ‘मैंने यीषु का अनुकरण करने का निष्चय किया है।’ उसके परिवार को (ऊपर) धमकी के प्रतिभाव में, जो जारी रहा, ‘चाहे कोई भी मेरे साथ नहीं जाए, फिर भी मैं साथ जाऊँगा। उसकी पत्नी मारी गयी थी और उसे फाँसी दी गयी थी गाने के समय, क्रूस मेरे सामने, संसार मेरे पीछे।’ यह विष्वास का प्रदर्षन ... ले गया मुखियाँ और गांव के दूसरों को परिवर्तन तक’’ (सौजन्य : वीकीपीडीया (Wikipedia)। इसे गाओ!

क्रूस मेरे सामने, संसार मेरे पीछे,
   क्रूस मेरे सामने, संसार मेरे पीछे,
क्रूस मेरे सामने, संसार मेरे पीछे,
   पीछे फिरना नहीं, पीछे फिरना नहीं!

‘‘वे अविष्वास के कारण प्रवेष न कर सके।’’ क्या आप अंदर प्रवेष करेंगे? क्या आप यीषु पर पर्याप्त विष्वास करोगे उसके पास आने को? उनका लहू आपके पाप को षुद्ध करेगा और आप अंदर प्रवेष करोगे और बचाये जाओगे? क्या आप मसीह में प्रवेष करोगे सरल विष्वास से? इसे फिर से गाइये!

चाहे कोई भी मेरे साथ न जाएँ, फिर भी मैं साथ जाऊँगा;
चाहे कोई भी मेरे साथ न जाएँ, फिर भी मैं साथ जाऊँगा;
चाहे कोई भी मेरे साथ न जाएँ, फिर भी मैं साथ जाऊँगा;
पीछे फिरना नहीं, पीछे फिरना नहीं!

क्रूस मेरे सामने, संसार मेरे पीछे,
   क्रूस मेरे सामने, संसार मेरे पीछे,
क्रूस मेरे सामने, संसार मेरे पीछे,
   पीछे फिरना नहीं, पीछे फिरना नहीं!

(संदेश का अंत)
आप डॉ0हिमर्स के संदेश प्रत्येक सप्ताह इंटरनेट पर पढ़ सकते हैं क्लिक करें
www.realconversion.com अथवा www.rlhsermons.com
क्लिक करें ‘‘हस्तलिखित संदेश पर।

आप डॉ0हिमर्स को अंग्रेजी में ई-मेल भी भेज सकते हैं - rlhymersjr@sbcglobal.net
अथवा आप उन्हें इस पते पर पत्र डाल सकते हैं पी. ओ.बॉक्स 15308,लॉस ऐंजेल्स,केलीफोर्निया 90015
या उन्हें दूरभाष कर सकते हैं (818)352-0452

ये संदेश कॉपी राईट नहीं है। आप उन्हें िबना डॉ0हिमर्स की अनुमति के भी उपयोग में ला सकते
 हैं। यद्यपि, डॉ0हिमर्स के समस्त वीडियो संदेश कॉपीराइट हैं एवं केवल अनुमति लेकर
ही उपयोग में लाये जा सकते हैं।

धार्मिक प्रवचन के पहले डो. क्रेगटन एल. चान द्वारा पढा हुआ पवित्रशास्त्र : इब्रानियों 3:8-19।
धार्मिक प्रवचन के पहले श्रीमान बेन्जामिन किनकेड ग्रीफिथ द्वारा गाया हुआ गीत :
‘‘एलास, एलास, हाउ ब्लाइंड आय हेव बीन’’ (नाथान स्ट्राँग द्वारा, 1748-1816)।


रूपरेखा

वे अविष्वास के कारण प्रवेष न कर सके

डो. आर. एल. हायर्मस, जुनि. द्वारा

‘‘उसने किनसे षपथ खाई कि तुम मेरे विश्राम में प्रवेष करने न पाओगे? क्या केवल उनसे नहीं जिन्होने आज्ञा न मानी? अतः हम देखते है कि वे अविष्वास के कारण प्रवेष न कर सके’’ (इब्रानियों 3:18-19)।

(इब्रानियों 3:11; 1 कुरिन्थियों 10:11)।

1- पहला, उन्होंने महान् आषिश का अनुभव किया, परन्तु वे अविष्वास के कारण प्रवेष न कर सके, निर्गमन 15:1; इब्रानियों; 3:9 उत्पति 6:3.

2- दूसरा, एक ही चीज जिसने उनको बाहर रखा वो थी अविष्वास,
मती 12:31; यूहन्ना 8:24; 16:9।

3- तीसरा, वहाँ थोडे ही थे जिसने विष्वास किया और अंदर प्रवेष किया,
व्यवस्थाविवरण 1:35, 36, 38; मती 22:14; 20:16; 7:14;
1 पतरस 3:20; 1 राजाओं 19:18; रोमियों 11:4, 5; लूका 12:32; इफिसियों 2:8-9; व्यवस्थाविवरण 1:32; गिनती 13:31; यहोषू 14:8; मती 10:37; निर्गमन 32:17; 33:11।