Print Sermon

इन संदेशों की पांडुलिपियां प्रति माह २२१ देशों के १,५००,००० कंम्प्यूटर्स पर इस वेबसाइट पते पर www.sermonsfortheworld.com जाती हैं। सैकड़ों लोग इन्हें यू टयूब विडियो पर देखते हैं। किंतु वे जल्द ही यू टयूब छोड़ देते हैं क्योंकि विडियों संदेश हमारी वेबसाईट पर पर पहुंचाता है। यू टयूब लोगों को हमारी वेबसाईट पर पहुंचाता है। प्रति माह ये संदेश ३७ भाषाओं में अनुवादित होकर १२०,००० प्रति माह हजारों लोगों के कंप्यूटर्स पर पहुंचते हैं। उपलब्ध रहते हैं। पांडुलिपि संदेशों का कॉपीराईट नहीं है। आप उन्हें बिना अनुमति के भी उपयोग में ला सकते हैं। आप यहां क्लिक करके अपना मासिक दान हमें दे सकते हैं ताकि संपूर्ण संसार जिसमें मुस्लिम व हिंदु भी सम्मिलित है उनके मध्य सुसमाचार फैलाने के महान कार्य में सहायता मिल सके।

जब कभी आप डॉ हिमर्स को लिखें तो अवश्य बतायें कि आप किस देश में रहते हैं। अन्यथा वह आप को उत्तर नहीं दे पायेंगे। डॉ हिमर्स का ईमेल है rlhymersjr@sbcglobal.net .




महान् और भययोग्य ईष्वर - भाग 3

THE GREAT AND TERRIBLE GOD – PART III

डो. आर. एल. हायर्मस, जुनि. द्वारा
by Dr. R. L. Hymers, Jr.

लोस एंजलिस के बप्तीस टबरनेकल में प्रभु के दिन की सुबह, 12 फरवरी 2012 को दिया हुआ धार्मिक प्रवचन
A sermon preached at the Baptist Tabernacle of Los Angeles
Lord’s Day Morning, February 12, 2012

‘‘म्हान और भययोग्य ईष्वर’’ (नहेम्याह 1:5)।

‘‘हे प्रभु, महान् और भययोग्य परमेष्वर’’ (दानिय्येल 9:4)।


एक बार फिर से यह धार्मिक प्रवचन अस्पष्टता से डो. जोन. आर. राइस द्वारा दिये गये ‘‘महान् और भययोग्य ईष्वर’’ से लिया गया है (स्वोर्ड अॉफ ध लोर्ड, 1977, पृपृश्ठ 7-38)।

नहेम्याह और दानिय्येल इस पाठ में हमें कहते है कि प्रभु, महान्, भययोग्य और भययोग्य ईष्वर है, हमने देखा कि समस्त बाइबल में प्रभु को भययोग्य और भययोग्य परमेष्वर कहा गया है। वे जो उनके बारे में कहते है कि सिर्फ प्रेम के परमेष्वर, वो पवित्रषास्त्र में सच नहीं है। वो न्याय और बदला लेनेवाले परमेष्वर भी है। आज ज्यादातर प्रचारक कदाचित अगर कभी भी प्रचार करते है कि ‘‘जीवते परमेष्वर के हाथों में पड़ना भयानक बात है’’ (इब्रानियों 10:31) परन्तु ऐसा प्रचार प्रभु का गलत वर्णन करते है। यह प्रभु का अप्रमाणिक वर्णन है। ये कुछ नया नहीं है। यिर्मयाह के समय में प्रभुने कहा,

‘‘इस प्रजा का हठीला और बलवा करनेवाला मन हैं, इन्होंने बलवा किया और दूर हो गए है। वे मन में इतना भी नहीं सोचते कि हमारे परमेष्वर यहोवा का भय माने’’ (यिर्मयाह 5:23-24)।

और उन दिनों के प्रचारकों ने प्रभु का गलत वर्णन दिया, जिन्होंने यिर्मयाह को कहा,

‘‘क्या भविश्यवक्ता, क्या याजक सब के सब छल से काम करते है ... षान्ति है, षान्ति ऐसा कहकर षान्ति कुछ भी नहीं’’ (यिर्मयाह 6:13-14)।

‘‘ओह, उन्होंने यहोवा के वचन को निकम्मा जाना है, उनमें बुद्धि कहाँ रही? ... क्या भविश्यवक्ता, क्या याजक, वे सब के सब छल से काम करते है ... षान्ति, षान्ति है, षान्ति कुछ भी नहीं है’’ (यिर्मयाह 8:9-11)।

‘‘यहोवा की यह भी वाणी है, मैं उन सभों का अन्त कर दूँगाण्.. और जो कुछ मैंने उन्हें दिया है वह उनके पास से जाता रहेगा’’ (यिर्मयाह 8:13)।

‘‘इस कारण जो भविश्यवक्ता मेरे बिना भेजे मेरा नाम लेकर भविश्यवाणी करते है कि, इस देष में न तो तलवार चलेगी और न महँगी होगी। उनके विशय यहोवा यों कहता है, वे भविश्यवक्ता आप तलवार और महँगी के द्वारा नश्ट किए जाएँगे। और जिन लोगों से वे भविश्यवाणी कहते है ... मैं उनकी बुराई उन्हीं के ऊपर उण्डेलूँगा’’ (यिर्मयाह 14:15-16)।

कहाँ, ओह कहाँ, हम सुनते है ऐसा वचन हमारे तख्त से आज के इन दुश्ट दिनों में? कहाँ, ओह कहाँ, प्रचारक हम से कहते है महान् और भययोग्य, यिर्मयाह के प्रभु से जल्दी आनेवाले न्याय के बारे में? फिर भी, वे कहे या न कहे, वे अभी भी पवित्र, धार्मिक, महान् भययोग्य और भययोग्य ईष्वर है।

‘‘इस्त्राएल का परमेष्वर सेनाओं का यहोवा यों कहता है; इस स्थान पर मैं ऐसी विपत्ति डालने पर हूँ कि जो कोई उसका समाचार सुने, उस पर सन्नाटा छा जाएगा’’ (यिर्मयाह 19:3)।

उस षाम मैं अपनी व्यायामषाला के जाकुझी (Jacuzzi) में था। एक आदमी जो वहाँ था उसने मुझसे पूछा मैंने ऐसा क्यों सोचा कि अमरिका इतने खतरे में है। बिना हिचकिचाहट के मैंने कहा, ‘‘क्योंकि हमनें पांचसो चालीस लाख (54 million) बच्चों का संहार किया है। इसलिये हम परेषानी में है। प्रभु अमरिका से क्रोधित है नादान बच्चों की पूरी पीढ़ी को खत्म करने के कारण। और प्रभु हमारे प्रचारक के साथ क्रोधित है कि इस प्रचण्ड अग्नि (Holocaust) को वास्तविक रूप से खत्म करने के लिये कुछ भी न करने की वजह से’’। मैंने कहा, ‘‘आप मेरे साथ सहमत होंगे जब परमेष्वर उनका तीव्र उद्वेग और क्रोध हमारे राश्ट्र पर बरसायेंगे।’’ यिर्मयाह ने कहा,

‘‘अनाथ पर ... उपद्रव मत करो ... न इस स्थान में निर्दोशों का लहू बहाओ’’ (यिर्मयाह 22:3)।

‘‘परन्तु, यदि तुम इन बातों को न मानो तो, मैं अपनी ही सौगन्ध खाकर, कहता हूँ, यहोवा की यह वाणी है, कि यह भवन उजाड हो जाएगा ... निष्चय मैं तुझे मरूस्थल व एक निर्जन नगर बनाऊँगा’’ (यिर्मयाह 22:5-6)।

‘‘और मैं ऐसा करूँगा कि तुम्हारी नाम धराई और अनादर सदा बना रहेगा, और कभी भूला न जाएगा’’ (यिर्मयाह 23:40)।

यही है जो यिर्मयाह के भययोग्य और भययोग्य परमेष्वर कहते है आज इस घंटो में अमरिका को।

वे नूह के महान्, भययोग्य और भययोग्य ईष्वर है, जिसने समस्त मानव जाति पर न्याय लाया। वे अब्राम के महान् भययोग्य और भययोग्य परमेष्वर है जिन्होंने समय समय पर इस्त्राएल के राश्ट्र को दण्ड दिया, उसके पाप के लिये। और, हाँ, वे भययोग्य और भययोग्य परमेष्वर है यिर्मयाह के, जिन्होंने इस्त्राएल के बेबीलोन की बंधुआई (Captivity) की भविश्यवाणी की थी।

बाइबल यह स्पश्ट करता है कि यहूदी प्रभु के चुने हुए थे। यहूदी प्रभु के मन के प्यारे थे वे धरती पर प्रभु के चुने हुए लोग थे (उत्पति 12:1-3)। प्रभु ने उनको सदा रहनेवाली निज भूमि के लिये कनान देष की भूमि दी। प्रभुने उनसे कहा ‘‘मैं तुझ से सदा प्रेम रखता आया हूँ’’ (यिर्मयाह 31:3)। उनके स्वधर्म त्याग में भी, प्रभुने उनसे कहा, ‘‘मैं तुम्हारा स्वामी हूँ’’ (यिर्मयाह 3:14; सीएफ. होषे 2:19-20)।

फिर भी, प्रभु का दण्ड इस्त्राएल पर उसके पापों के लिये, कभी भी इतना भयानक होता था कि हमें थर्रानें के योग्य था! कादेषबर्ने में, जंगल में, इस्त्राएल ने प्रभु पर संषय किया। उन्होंने अविष्वासु जाति को सुना और वचनबद्ध भूमि पर जाने से डरने लगे। फिर प्रभुने कहा वे उनको जंगल में रखेगें जब तक सारे द्रोह मर न जाए और उनके मृतदेह रेगिस्तान में सड़े नहीं। वो उनके बच्चों को उस भूमि में ले जाएंगे सिर्फ अविष्वासु पीढ़ी मरने के बाद ही। प्रभु का सीधा दण्ड उनके चाहनेवाले लोगों पर है पवित्र चेतावनी है कि कोई भी इस से पाप न करे और बच न सके!

इस्त्राएल के बच्चों को सोने के बछड़ों के आसपास नंगा नाचने के बाद, प्रभु ने उन में से 3000 को बुलाया दण्ड में संहार करने। जंगल में, उन्होंने प्रभु के विरूद्ध षिकायत की, ‘‘अतः यहोवा ने सुना, और उनका कोप भड़क उठा, और यहोवा की आग उनके मध्य में जल उठी और छावनी के एक किनारे से भस्म करने लगी’’ (गिनती 11:1)। जब उन्होंने षिकायत की उनके पास मन्ना के अलावा कुछ भी नहीं है खाने को, और उन्हें खाने को माँस चाहिए था, प्रभु उनकी षिकायत से क्रोधित हो गये और उन्हें वे खा सकते थे उससे ज्यादा होमेर (quails) भेजे। ‘‘माँस उनके मुँह ही में था और वे उसे खाने न पाए थे कि यहोवा का कोप उन पर भड़क उठा और उसने उनको बहुत बडी मार से मारा’’ (गिनती 11:33)। ओह, क्रोध और न्याय इस भययोग्य और भययोग्य परमेष्वर का!

फिर कोरह, दातान और अबीमराम ने मूसा और हारून के विरूद्ध द्रोह किया। प्रभुने मूसा से अपने लोगों को उन दृश्ट लोगों से अलग करने को कहा। और धरती उनके लिये खुली और उनको निगल गयी और उनके लोग जो उनके साथ थे उन सबको। वे ‘‘और उनका सारा घरबार जीवित ही अधोलोक में जा पड़े; और पृथ्वी ने उनको ढाँप लिया और वे मण्डली के बीच में से नश्ट हो गए’’ (गिनती 16:33)। अभी भी दूसरों ने इस न्याय पर षिकायत और द्रोह किया, और प्रभुने प्लेग (महामारी) भेजा जिसने 14,700 से भी ज्यादा को मारा! ओह, भययोग्य, भययोग्य परमेष्वर, प्रभु जो पाप के कारण क्रोधित है, भयानक प्रभु जिन्होंने उन पर उनके पाप और द्रोह के लिये दण्ड भेजा!

फिर से, इस्त्राएलीयों ने षिकायत कि की उनके पास मन्ना के अलावा खाने को कुछ नहीं है। ‘‘अतः यहोवा ने उन लोगों में तेज विशवाले साँप भेजे, जो उनको डंसने लगे और बहुत से इस्त्राएली मर गए’’ (गिनती 21:6)।

बाद में लोग आर्कशित हुए, मोआब की पुत्रीयों के साथ व्यभिचार किया। प्रभु का न्याय उन पर आया और 24000 इस्त्राएली के लोग प्लेग (महामारी) में मरे प्रभु के सामने!

न्यायियों की किताब पढ़ीये। देखिये कैसे प्रभु दण्ड देते है उनके षत्रुओं की ओर फिराकर। ओह, ये कितना सच है कि ‘‘जीवते परमेष्वर के हाथों में पड़ना भयानक बात है’’ (इब्रानियों 10:31)।

बाद में लोग फिर से परमेश्वर को भूल गये और मूर्ति की पूजा करने लगे, सब प्रकार के पाप करते हुए। बार बार चेतावनी देने के बाद भी, इस्त्राएल का उत्तरीय साम्राज्य गिरा। फिर यहूदा का साम्राज्य न्याय किया गया और बेबीलोन की बंधुआई में गया। यरूषलेम नश्ट हो गया था। दिवारें तोडी गयी थी। दरवाजे और महलों पर आग जलायी गयी। प्रभु का मंदिर भी नश्ट किया गया! थोड़े से लोग जो बच गये थे वे बेबीलोन में गुलामी के लिये ले जाये गये सत्तर वर्शो के लिये। ओह इस्त्राएल, तेरे पर प्रभु का कितना भारी न्याय! कोई आष्चर्य नहीं नहेम्याह ने बेबीलोन में प्रार्थना की ‘‘महान् और भययोग्य ईष्वर’’ (नहेम्याह 1:5) को। कोई आष्चर्य नहीं कि दानिय्येल ने प्रार्थना की उस दूर की भूमि पर ‘‘महान् और भययोग्य परमेष्वर’’ (दानिय्येल 9:4) को।

दया में प्रभु इस्त्राएल के बचे हुए लोगों को वापस उनकी भूमि पर ले आये नहेम्याह और एज्रा के दिनों में। मंदिर फिर से बाँधा गया था। यीषु जन्मे। इस्त्राएल में बहुत से लोगों ने उन पर विष्वास किया और बचाये गये। परन्तु मुख्य याजक, फरासियों और दूसरों ने उनका अस्वीकार किया।

70 ए.डी. में रोमन के लोग, तीतुस के अधीन ने यरूषलेम को नश्ट किया। षहर में भयानक संहार हुआ था। यहूदी इतिहासकार जोसेफस (Josephus) ने कहा कि 1,100,000 यहूदी मारे गये। दूसरे 50,000 गुलामों की तरह बेचे गये। मंदिर जलाकर नश्ट किया गया। प्रभु के लोग संसार के हर राश्ट्र मे ंबिखर गये जब तक प्रभु ने उनकी दया में, उनको फिर से मिलाना षुरू किया 1948 में। ओ परमेष्वर! हे महान् भययोग्य, भययोग्य परमेष्वर! ओह प्रभु जो पाप को दण्ड के बिना जाने नहीं देंगे! यह प्रभु है जिन्होंने सरलता से चेतावनी दी, दुश्ट अधोलोक में लौट जाएँगे, तथा वे सब जातियाँ भी जो परमेष्वर को भूल जाती है’’ (भजनसंहिता 9:17)। हे महान् और भययोग्य ईष्वर! हे यहोवा, महान् और भययोग्य परमेष्वर!

इसके बारे में गलती मत करना! बाइबल कहता है कि, ‘‘ईष्वर है जो प्रति दिन क्रोध करता है दृश्ट से’’ (भजनसंहिता 7:11)। अगर आपके पाप कभी भी माफ नहीं किये गये, और आप कभी भी बचाये नहीं गये; तो प्रभु इस सुबह आप से क्रोधित है। वहाँ पर सिर्फ एक ही रास्ता है, आपके लिये बचाये जाने का परमेष्वर ने अपना पुत्र, प्रभु यीषु मसीह को भेजा, धरती पर आपके पाप का दण्ड चुकाने क्रूस पर। जब मैंने सिद्ध किया कि वे मुझे बचाने, मैंने जाना कि मैंने उनको मारा, ऐसे निष्चित ऐसे दृढ मैंने कील ठोके उसके हाथ और पाँव मे, जैसे निष्चितरूप से अगर मैंने उनकी बाजु छेदी भाले से! ये हमारे पाप थे जिसने यीषु को क्रूस पर कील से ठोका!

वो आप थे, मेरे पाप, मेरे क्रूर पाप
   उनके मुख्य दुःख देनेवाले थे;
मेरा हर एक गुन्हा कील बन गया,
   और अविष्वास भाला।

मसीह के क्रूस पर चढ़ाने को सहजता से मत लेना! यीषु क्रूस पर मरे प्रभु का क्रोध संतुश्ट करने और आपके पाप को चुकाने। इसीलिये ‘‘हम क्रूस पर चढ़ाए हुए मसीह का प्रचार करते है’’ (1 कुरिन्थियों 1:23)। आपको आपके पापों से फिरना ही चाहिये और यीषु मसीह पर भरोसा करना ही चाहिये। सिर्फ तभी ही उनका बहुमूल्य लहू आपको षुद्ध करेगा ‘‘सब पापो से’’ (1 यूहन्ना 1:7)। सिर्फ क्रूस पर चढ़ाए और मृत्यु से उठे मसीह ही आपको नहेम्याह और दानिय्येल, मूसा और पौलुस के महान् और भययोग्य ईष्वर के क्रोध और न्याय से बचा सकते है। अगर आप यीषु के पास नहीं आते, जो आप की जगह दण्डित किये गये थे, आपके पापो के लिये फिर महान् और भययोग्य ईष्वर आपको सजा देंगे। कोई नहीं परन्तु यीषु आपको क्रोध से बचा सकते है। अभी ही यीषु के पास जाओ!

वीलीयम काउपर (1731 - 1800) ने लिखा, ‘‘वहाँ पर फव्वारा है लहू से भरा, इम्मानुएल के रगो से निकला हुआ और पापीयों को उस बाढ़ के पास डूबाया गया उनके सारे दोशी कलंक छुडाने’’। वीलीयम काउपर ने गीत भी लिखा जो श्रीमान ग्रीफिथ ने गाया मेरे इस धार्मिक प्रवचन प्रचार करने से पहले।

मेरी पहले की इच्छाएँ भाग गयी,
   मेरा आतंक अब षुरू हो रहा है;
मैं महसूस करता हूँ, ओह, कि मैं मर गया हूँ
   कश्ट और पापों में।

आह, यहाँ वहाँ मैं (भाग) (सकता हूँ),
   मैं सुनता हूँ मेघध्वनि पुकारते हुए;
व्यवस्था घोशित करती है लगभग नाष,
   और द्वार पर बदला।

जब मैं मेरे रास्तों को पुनःविचार करता हूँ,
   मैं डरता हूँ भयकारी दण्ड से;
परन्तु निष्चित मित्रतापूर्ण कानाफूसी कहती है,
   ‘‘आनेवाले क्रोध से भाग जाओ।’’
(‘‘अपराध भाव के अधीन’’ वीलीयम काउपर द्वारा, 1731-1800)।

क्या आप अपराधभाव के अधीन हो? क्या आपके पाप रात में आपको परेषान करते है, जब आप अकेले होते हो? क्या आप क्रोधित प्रभु के क्रोध से डरते हो? क्या आप महसूस करते हो आपकी आवष्यकता को यीषु मसीह के लिये, आपके पापो का माफ और षुद्ध करने उनके लहू द्वारा? क्या आप यीषु के पास भाग कर आयेंगे हमारे महान् और भययोग्य ईष्वर के क्रोध से?

(संदेश का अंत)
आप डॉ0हिमर्स के संदेश प्रत्येक सप्ताह इंटरनेट पर पढ़ सकते हैं क्लिक करें
www.realconversion.com अथवा www.rlhsermons.com
क्लिक करें ‘‘हस्तलिखित संदेश पर।

आप डॉ0हिमर्स को अंग्रेजी में ई-मेल भी भेज सकते हैं - rlhymersjr@sbcglobal.net
अथवा आप उन्हें इस पते पर पत्र डाल सकते हैं पी. ओ.बॉक्स 15308,लॉस ऐंजेल्स,केलीफोर्निया 90015
या उन्हें दूरभाष कर सकते हैं (818)352-0452

ये संदेश कॉपी राईट नहीं है। आप उन्हें िबना डॉ0हिमर्स की अनुमति के भी उपयोग में ला सकते
 हैं। यद्यपि, डॉ0हिमर्स के समस्त वीडियो संदेश कॉपीराइट हैं एवं केवल अनुमति लेकर
ही उपयोग में लाये जा सकते हैं।

धार्मिक प्रवचन के पहले डो. क्रेगटन् एल. चान द्वारा पढा हुआ पवित्रशास्त्र : यिर्मयाह 22:1-6।
धार्मिक प्रवचन से पहले श्रीमान बेन्जामिन किनकेड ग्रीफिथ द्वारा गाया हुआ गीत :
‘‘अपराध भाव के अधीन’’ (वीलीयम काउपर द्वारा, 1731-1800)।