Print Sermon

इन संदेशों की पांडुलिपियां प्रति माह २२१ देशों के १,५००,००० कंम्प्यूटर्स पर इस वेबसाइट पते पर www.sermonsfortheworld.com जाती हैं। सैकड़ों लोग इन्हें यू टयूब विडियो पर देखते हैं। किंतु वे जल्द ही यू टयूब छोड़ देते हैं क्योंकि विडियों संदेश हमारी वेबसाईट पर पर पहुंचाता है। यू टयूब लोगों को हमारी वेबसाईट पर पहुंचाता है। प्रति माह ये संदेश ३७ भाषाओं में अनुवादित होकर १२०,००० प्रति माह हजारों लोगों के कंप्यूटर्स पर पहुंचते हैं। उपलब्ध रहते हैं। पांडुलिपि संदेशों का कॉपीराईट नहीं है। आप उन्हें बिना अनुमति के भी उपयोग में ला सकते हैं। आप यहां क्लिक करके अपना मासिक दान हमें दे सकते हैं ताकि संपूर्ण संसार जिसमें मुस्लिम व हिंदु भी सम्मिलित है उनके मध्य सुसमाचार फैलाने के महान कार्य में सहायता मिल सके।

जब कभी आप डॉ हिमर्स को लिखें तो अवश्य बतायें कि आप किस देश में रहते हैं। अन्यथा वह आप को उत्तर नहीं दे पायेंगे। डॉ हिमर्स का ईमेल है rlhymersjr@sbcglobal.net .




आखरी दिनों में स्वर्गदूतों के षिक्षा की उपेक्षा क्यों की गई है

WHY THE DOCTRINE OF ANGELS
IS NEGLECTED IN THE LAST DAYS

डो. आर. एल. हायर्मस, जुनि. द्वारा
by Dr. R. L. Hymers, Jr.

लोस एंजीलस के बप्तीस टबरनेकल में प्रभु के दिन की सुबह, 15 जनवरी, 2012
को दिया हुआ धार्मिक प्रवचन
A sermon preached at the Baptist Tabernacle of Los Angeles
Lord’s Day Morning, January 15, 2012

‘‘तू वचन का प्रचार कर, समय और असमय तैयार रह, सब प्रकार की सहनषीलता और षिक्षा के साथ उलाहना दे और डाँट और समझा। क्योंकि ऐसा समय आएगा जब लोग खरा उपदेष न सह सकेंगे, पर कानों की खुजली के कारण अपनी अभिलाशाओं के अनुसार अपने लिये बहुत से उपदेषक बटोर लेंगे, और अपने कान सत्य से फेरकर कथा - कहानियों पर लगाएँगे'' (2 तीमुथियुस 4:2-4)।


बीली ग्रेहामने कहा, ‘‘मैंने कभी भी किसी को भी स्वर्गदूतों पर धार्मिक प्रवचन देते हुए नहीं सुना ... मैंने अपने आप से पूछा, ऐसा भ्रम क्यों? हमनें स्वर्गदूतों के बारे में श्रेश्ठ बाइबल की षिक्षा का अस्वीकार क्यों किया?'' (एन्जलस : गोडस सीक्रेट एजन्टस, (स्वर्गदूत : प्रभु के गुप्त प्रतिनिधि) डबलडे एन्ड कम्पनी, 1975, पृश्ठ 17)।

ग्रेहामने फिर बताया कि सीस्टमेटीक थीयोलोजी की सारी किताबों में स्वर्गदूतों के बारे में विभाग है। परन्तु हम इस षिक्षा का प्रचार हमारे दिनों के तख्त से नहीं सुनते।

मैं कुछ विशयों पर बीली ग्रेहाम से सहमत नहीं हूँ, खास करके ‘‘निर्णायक्ता'' के संबंध में। परन्तु ग्रेहामने अच्छा प्रष्न पुछा जब उन्होंने कहा, ‘‘मैंने कभी भी किसी को भी स्वर्गदूतों पर धार्मिक प्रवचन देते हुए नहीं सुना ... मैंने अपने आप से पूछा ऐसा भ्रम क्यों? हमने स्वर्गदूतों के बारे में श्रेश्ठ बाइबल की षिक्षा का अस्वीकार क्यों किया?'' मेरे धार्मिक प्रवचन ‘‘स्वर्गदूत हमारे साथ है!'' (इसे पढने यहाँ क्लिक करें) में मैंने दो कारण बताये थे : (1) बहुत से प्रचारक परिवर्तित नहीं थे और (2) बहुत से दूसरे प्रचार के लिये बुलाये नहीं गये थे। उस अवस्था में याजक से आध्यात्मिक चीजों पर बोलने की आवष्यकता को देखने की आषा नहीं कर सकते।

परन्तु वहाँ उससे ज्यादा है। ये आदमी - केन्द्रित युग है। ज्यादातर लोगो को प्रभु ने बाइबल में आध्यात्मिक चीजों के बारे में क्या घोशणा की है उसमें रूचि नहीं है। वे आदमी - केन्द्रित है बजाय, प्रभु - केन्द्रित के। उन्हें सिर्फ अपने आप में, और वे इस भौतिक संसार में क्या देख और महसूस कर सकते हैं उसमें ही रूचि है। वो निष्चितरूप से समावेष करता है आज बहुत से कलीसिया लोगो का।

उसके छेदक निबंध ‘‘बाइबल का संसार सच्चा संसार है'' (The Bible World is the Real World) में डो. ए. डब्ल्यु. टोझर ने कहा,

     जब पवित्रषास्त्र पढ़ते समय सचेतन व्यक्ति जरूर महसूस करेगा संसार जैसे, बाइबल बताता है और संसार जो आज के धार्मिक लोगो ने अनुमान किया है उन दोनों के बीच की असमानता को। और अंतर हमारे पक्ष में नहीं हैं ... याकूब ने धरती पर सीढ़ी देखी प्रभु को उसके ऊपर खडे हुए देखा और स्वर्गदूत उस सीढ़ी से चढ़ते और उतरते थे। अब्राम और बिलाम और मानोह और दूसरे कितने प्रभु के स्वर्गदूत से मिले और उनसे (बोले) ... स्वर्गदूत प्रत्यक्ष थे यीषु के आनेवाले जन्म के बारे में बताने और उस जन्म का उत्सव मनाने जब वो बैतलहम में हुआ; स्वर्गदूत ने हमारे प्रभु को सान्तवना दी जब उन्होंने गतसमनी में प्रार्थना की; कुछ उत्तेजित पत्र में स्वर्गदूत के बारे में बताया गया है, और आकाषावाणी की किताब प्रकाषित है अन्जान और सुंदर प्राणीयों की हाजरी से जो संसार और स्वर्ग की घटना पर उत्सुक है ...
     हा, सच्चा संसार जनसंख्या से भरा संसार है। आधुनिक मसीहीयों की अंधी आँखे अदृष्य को नहीं देख सकती परन्तु जो आध्यात्मिक सर्जन की हकीकत का नाष नहीं करती (ए. डब्ल्यु. टोझर, डी.डी., ‘‘बाइबल का संसार सच्चा संसार है'', अॉफ गोड एन्ड मेन, मसीही प्रकाषन, 1960, पृपृश्ठ 116 - 117)।

सिर्फ एक चीज में इसके अपवाद में लेता हूँ वो है यह ‘‘आधुनिक मसीही'' पूरे मसीही है - किसी भी षब्द के अर्थपूर्ण ज्ञान में। ‘‘उनकी समझदारी की आँखे'' कभी भी खुली नहीं हैं। ये दिखाता है कि उन्होंने नये जन्म का अनुभव नहीं किया। प्रेरितों पौलुस इस कहे जानेवाले ‘‘मसीहीयों'' का वर्णन करता है हमारे पाठ के पद तीन और चार में।

‘‘क्योंकि ऐसा समय आएगा जब लोग खरा उपदेष न सह सकेंगे, पर कानों की खुजली के कारण अपनी अभिलाशाओं के अनुसार अपने लिये बहुत से उपदेषक बटोर लेंगे, और अपने कान सत्य से फेरकर कथा - कहानियों पर लगाएँगे'' (2 तीमुथियुस 4:3-4)।

ध प्रोफेंसी स्टडी बाइबल हमारे पाठ पर ये समालोचना देती है,

पौलुस ... कलीसिया युग के आखरी दिनों के लिये आगे चेतावनी देते हैं। ‘‘द्रढ रहना'' षब्द का मूल अर्थ है ‘‘आधार देना'' ... इस प्रकार, वहाँ पर समय आएगा जब ज्यादातर लोग कलीसिया में खरी और स्वस्थ षिक्षा को आधार नहीं देंगे। ‘‘Lust'' ‘‘तीव्र लालसा'' षब्द का अर्थ है ‘‘मजबूत इच्छा'' परन्तु इस संदर्भ में इसका नकारात्मक अनुमान है। जुडी षिक्षा की सहनषीलता की षुरूआत होती है लोगो की इच्छा, और भावनाओं से जिसे प्रभु के वचनों का अनुकरण नहीं करता है। ये कलीसिया सदस्य कहे जाते है ‘‘खुजलीवाले कान'' वाले, जिसका अर्थ है कि उन्हें चाहिये की उनके प्रचारक सिर्फ आनंद की बाते ही करे। उन्हें खरी षिक्षा की सुचना नहीं सुननी, नाही वे प्रभु के वचनो द्वारा संतुश्ट होगे, इसलिये वे रिक्त स्थान भरने इंसानी कल्पना और कथा कहानियाँ से आकर्शित होते है (ध टीम लाहेय प्रोफेंसी स्टडी बाइबल, एएमजी प्रकाषक, 2000, पृश्ठ 1304; 2 तीमुथियुस 4:3-4 पर टीप्पणी)।

ज्यादातर समुदाय ‘‘आखरी दिनों में'' अपरिवर्तित लोग जो उपस्थिति में उनकी बहुमती में षासन करते है। प्रवक्ता सिर्फ ‘‘आनंदित चीजों'' के बारे में ही बोल सकते है। जैसे प्रोफेंसी स्टडी बाइबल ने कहा, ‘‘उन्हें चाहिये कि उनके प्रचारक सिर्फ आनंद की बाते करें''। अगर याजक कहते है वे पापी या गलत है तो वे उनमें से बहुतों को खो देंगे! इसी लिये बहुत से याजक सच्चाई पर बोलने से डरते है! जैसे समुदाय में ज्यादातर लोग कभी भी फिर से जन्में नहीं, उन्हें उलाहना, डाँटना और समझाना सुनना नहीं है (2 तीमुथियुस 4:2)। ‘‘वे खरा उपदेष न सह सकेंगे'' (2 तीमुथियुस 4:3)। इसीलिये बहुत से प्रवक्ता ‘‘कथा - कहानियों की ओर फिरते है (2 तीमुथियुस 4:4) जैसे तड़ाके का मानसषास्त्र, हकारात्मक सोच, सुसमाचार की सफलता, ‘‘प्रेरणात्मक'' प्रचार, और बाइबल का ‘‘स्पश्टीकरण'' कि उनके लोगों को ‘‘डाँटना'' ‘‘निन्दा करना'' या ‘‘सलाह'' नहीं दे (देखिये क्राइस्टलेस क्रीस्ट्रानीटी, डो. मिष्‍ोल होर्टन द्वारा, बेकर बुक्स, 2008)।

आज के प्रचार में सिर्फ स्वर्गदूत ही नहीं छोडे़ गये। कब हम पूरा धार्मिक प्रवचन पाप, अधोलोक, ष्‍ौतान, दुश्टात्मा, मसीह के लहू, या स्वयं यीषु मसीह पर सुनते है? हम करीबन कभी भी पूरा धार्मिक प्रवचन स्वयं यीषु मसीह क्रूसपर की तडप पर केन्द्रित हुआ नहीं सुनते! हम करीबन कभी भी पूरा धार्मिक प्रवचन नये जन्म पर नहीं सुनते! निष्चितरूप से हम आखरी दिनों में जी रहे हैं! निष्चितरूप से हम 2 तीमुथियुस 4:2-4 में भविश्यवाणी किये हुए समय में जी रहे है!

‘‘तू वचन का प्रचार कर, समय और असमय तैयार रह, सब प्रकार की सहनषीलता और षिक्षा के साथ उलाहना दे और डाँट और समझा। क्योंकि ऐसा समय आएगा जब लोग खरा उपदेष न सह सकेंगे, पर कानों की खुजली के कारण अपनी अभिलाशाओं के अनुसार अपने लिये बहुत से उपदेषक बटोर लेंगे, और अपने कान सत्य से फेरकर कथा - कहानियों पर लगाएँगे'' (2 तीमुथियुस 4:2-4)।

स्व-सहाय अभ्यास, प्रेरणात्मक संदेष, और पद के बाद पद की बाइबल की पढाई है जिसके बारे में हम हमारे आखरी दिन जिसमें हम जी रहे हैं, सुनते है हमारे तख्त पर। पद के बाद पद की बाइबल पढ़ाई वो नही है जो हमारे दादा परदादाने सुनी थी 18 वी और 19 वी सदी की तीन बडी जागृतता में। संसार के चेहरे से इस प्रकार के ‘‘स्पश्टीकरण'' से दूर! हमने उन्हें दषको तक सुना और उन्होंने हमें मदद नहीं की! हमें आवष्यकता है माँस, षिक्षा संबंधी माँस, प्रभु के पवित्र वचनों से माँस की!

बाइबल के पास बडा परिमाण है स्वर्गदूतों की षिक्षा के बारे में कहने को और आपको आवष्यकता है इसे आज सुनने की! डो. पी.बी. फीटझवोटर ने बहुत वर्शों तक सीस्टमेटीक थीयोलोजी, मुडी बाइबल संस्था में बतौर प्राध्यापक सेवा दी थी। मैं इस विशय पर डो. फीटझवोटर के क्रीस्टीयन थीयोलोजी : ए सीस्टमेटीक प्रेझन्टेषन से दो मुद्दे लेता हूँ (एडरमान्स प्रकाषन कम्पनी, 1958 की प्रत, पृपृश्ठ 255 - 257)।

1- पहला, स्वर्गदूत उनकी सेवा करते है जो उद्वार के वारिस है।

डो. फीटझवोटर ने इब्रानियों 1:13-14 को कथन किया, ‘‘परन्तु स्वर्गदूतों में से उसने किस से कब कहा, तू मेरे दाहिने बैठ, जब तक कि मैं तेरे बैरियों को तेरे पाँवो के नीचे की पीढी न कर दूँ? क्या वे सब सेवा टहल करनेवाली आत्माएँ नहीं जो उद्धार पानेवालों के लिये सेवा करने को भेजी जाती है? (इब्रानियों 1:13-14)। डो. फीटझवोटर ने कहा, ‘‘ये यहाँ सीधे स्थापित किया गया है (कि स्वर्गदूत) प्रभु के बच्चों की आश्रय सेवा करते है। ये नियमित नहीं किया गया है कि वहाँ पर निष्चित स्वर्गदूत है हर एक माननेवाले के लिये। यह जानना परिपूर्ण है कि वहाँ पर यह सेवा है बचाये हुओं के आश्रय। लगता है कि स्वर्गदूतों को युवान माननेवालों में खास रूचि है। ‘देखो तुम छोटो में से किसी को तुच्छ न जानना; क्योंकि मैं तुम से कहता हूँ कि स्वर्ग में उनके दूत मेरे स्वर्गीय पिता का मुँह सदा देखते है' (मती 18:10)। यह रूचि है अपरिपक्व (मसीहीयों) की आवष्यक्ता को रखने के साथ। युवा लोगों की सबसे ज्यादा दोशदर्षी आवष्यक्ताएँ है। उन्हें उनका जीवन दुश्टात्मा के संसार में ही जीना चाहिए। ये सबसे ज्यादा भाग्यवान है जानना कि प्रभु को खास चिंता है युवान माननेवालों के लिये और वे इस प्रकार नियुक्त करते है इसके लिये आवष्यक सेवा (स्वर्गदूतों) के द्वारा।''

स्वर्गदूतों की दिव्य सहाय का स्पश्टीकरण भी होता है जहाँ मसीही बाधित होते है उनके विष्वास के लिये। मुसलमान देषों में और साम्यवादी देषो में, हम सुनते है स्वर्गदूतों की सेवा के बारे में उनके लिये जो ‘‘उद्वार के वारिस'' है। कई बार स्वर्गदूत इस बाधित मसीहीयों को सहाय करते है भय के समय में।

चाहे मैं बीली ग्रेहाम के साथ सहमत नहीं हूँ वियोग, निर्णायक्ता और दूसरे कुछ विशयों पर, परन्तु मैंने जाना स्वर्गदूतों पर उनकी किताब काफी आनंददायक है। बीली ग्रेहामने कहा, ‘‘अठारवी और उन्नीसवी सदी के सेवकों ने बहुत सी अच्छी घटनाएँ बतायी है जहाँ स्वर्गदूत उन्हें सहाय करते है सुसमाचार को घोशित करने'' (ibid, पृश्ठ 112)।

परन्तु स्वर्गदूतों की सहाय सिर्फ भूतकाल को ही सीमाबद्ध नहीं करती। आज, बहुत से राश्ट्रो में जहाँ सुसमाचार प्रतिबंधित है, मसीहीयों ने स्वर्गदूतों की सेवा के द्वारा सहाय प्राप्त की है। हमारे पास चीन, भारत, इराक, पाकिस्तान, इन्डोनेषिया, उत्तर आफ्रिका और तीसरे विष्व के दूसरे भागों से स्वर्गदूतों की सहाय के वृतांत आते है। चीन में देषवासी मसीही कार्यकर्ताने कहा कि अमरीका के लोग कइ बार इस स्वर्गदूतों की सेवा के लिये अंधे है क्योंकि, ‘‘अगर आप सोचते हो कि आप मजबूत और धनवान हो, वहाँ पर आपके आस पास कोई भी चमत्कार नहीं होगा।''

जैसे अमरीका का पतन और गिरावट निरंतर जारी है, समय मूल्य लगाता है जब यहाँ सच्चे मसीही भी उनकी आवष्यक्ता देखेंगे स्वर्गदूतों की सहाय के लिये भय और बाधा के बीच में। दुष्टात्मा के दिनो मे आगे सच्चे मसीही के वंश भी यहाँ देखने कि प्रभु अकेले ही उन्हे सहाय कर सकते है।

2- दूसरा, स्वर्गदूत प्रभु के बैरीयों पर न्याय प्रमाणित करते है।

डो. फीटझवोटर ने प्रेरितो 12:23 को कथन किया, ‘‘और उसी क्षण प्रभु के एक स्वर्गदूत ने तुरन्त उसे मारा, क्योंकि उसने परमेष्वर को महिमा न दी; और वह कीडे पडके मर गया'' (प्रेरितों 12:23)। डो. फीटझवोटर ने कहा, ‘‘दुश्ट हेरोदेस प्रभु के स्वर्गदूत द्वारा मारा गया क्योंकि उसने प्रभु को महिमा नहीं दी थी। ‘और उसी रात में क्या हुआ कि यहोवा के दूत ने निकलकर अष्षूरियों की छावनी में एक लाख पचासी हजार पुरूशों को मारा और भोर को जब लोग उठे, तब देखा कि षव ही षव पडे हैं' (2 राजाओं 19:35)। राजा की प्रार्थना के प्रतिभाव में प्रभु के स्वर्गदूत को भेजा गया अष्षूरियों सेना को मारने, इस्त्राएल को छुटकारा देने हुए ''।

डो. फीटझवोटर और कहने गये, ‘‘(स्वर्गदूत) इकट्ठा करते हैं प्रभु के चुने हुओं को और दुश्टों पर न्याय प्रमाणित करते है। ‘जगत के अन्त में ऐसा ही होगा। स्वर्गदूत आकर दुश्टों को धर्मियों से अलग करेंगे और उन्हें आग के कुण्ड में डालेंगे। जहाँ रोना और दाँत पीसना होगा' (मती 13:49-50)। स्वर्गदूतों के द्वारा दुश्ट अलग किये जाते है न्याय के बीच से ... इस न्याय की सेवा में वहाँ पर निश्फलता की कोई संभावना नहीं, आदमी का कोई भी उपकरण (साधन) रूकावट या आडे नहीं आ सकता उनकी सेवा के'' (ibid, पृपृश्ठ 258-259)।

अगर आप चुने हुओं में से नहीं हो आप निष्चित हो सकते हो कि स्वर्गदूत आपको न्याय के बीच से अलग कर देगा, जहाँ आप सारी अनन्तता के लिये रोएँगे और दांत पीसेंगे।

ओह, प्रभु करे आपको ऐसा नहो! आप षायद अब अपने अविष्वास छोडकर मसीह की ओर फिरो। वे तडपे और मरे क्रूस पर आपके पापो का दण्ड चुकाने। उन्होंने उनका लहू बहाया आपको पापों से षुद्ध करने। वे ऊपर उठे प्रभु के दाहिने हाथ पर और वे अभी वहाँ है आपके लिये! उनके पास आओ! उनपर भरोसा करो वे आपको बचायेंगे, वे आपको बचायेंगे, वे आपको बचायेंगे अभी।''

इस प्रकार के समय में,
   आपको आवष्यकता है उद्धारक की,
इस प्रकार के समय में,
   आपको आवष्यकता है विष्वास के स्थान की,
बहुत निष्चित रहो, बहुत निष्चित रहो,
   आपका विष्वास का स्थान मजबुत
पहाड पकडे और थामे हुए हैं!
   ये पहाड यीषु है, हा, वो ही है;
ये पहाड यीषु है, सिर्फ एक ही!
   बहुत निष्चित रहो, बहुत निष्चित रहो,
आपका विष्वास का स्थान मजबूत
   पहाड पकडे और थामे हुए है!
(‘‘इस प्रकार के समय में'', रूथ काये जोनेस द्वारा, 1902 - 1972)।

आपकी आँखे यीषु पर फिराओ,
   उनके अद्भूत चेहरे को पूरी तरह देखो,
और संसार की चीजें अचानक से
   धुंधली हो जाएगी
उनकी महिमा और अनुग्रह के प्रकाष में!
   (‘‘आपकी आँखे यीषु पर फिराओ'' हेलन एच लेम्मेल द्वारा, 1863-1961)।

‘‘आपकी आँखें यीषु पर फिराओ।'' आपको उनकी आवष्यकता है! सिर्फ यीषु ही आपको आपके पापो से बचा सकते है। परन्तु यीषु पर भरोसा करने के लिये आपको अपने आप पर भरोसा करना बंद करना चाहिये। स्पर्जनने कहा, ‘‘यीषु पर भरोसा करो, और आप बचाये गये हो। अपने आप पर भरोसा करो और आप खो गये हो।'' आप में से कुछ अपने आप पर भरोसा करते होंगे। मैं आपसे कहता हूँ यीषु के पास आओ और उनपर भरोसा करो। परन्तु आप जल्दी से अपने आप को देखते हो, देखने के लिये कि अगर आप अलग महसूस करते हो, देखने कि अगर वहाँ पर आपके अन्दर कोई बदलाव हुआ है। यीषु पर भरोसा करने के बजाय, और वहाँ तक जाने के बजाय, आप अपने आप की ओर देखते हो - देखने अगर आपको ‘‘सही भावना'' या ‘‘सही बदलाव'' है। इस प्रकार, आप अपने आप पर भरोसा करते हो, यीषु पर करने के बजाय! हम लोगो को जानते है जिन्होंने वह वर्शों तक किया बिना बचाये हुए। अगर वो आपका वर्णन करता है, तो इस पुराने गीत के षब्दों को सुनीये,

मैंने हजारो प्रकार से प्रयत्न किये व्यर्थ में
   मेरे भय को दबाने, मेरी आषाओं को उठाने;
परन्तु मुझे क्या आवष्यक है, बाइबल कहता है
   वो सदा के लिये है, सिर्फ यीषु!
(‘‘यीषु में'' जेम्स प्रोक्टेर द्वारा, 1913)।

जैसे मैंने ये धार्मिक प्रवचन लिखा, एक छोटे से काले पंछी ने मेरे घर के कार्यालय की कांच की खिडकी को मारा। पंछी उठा और दोबारा खिडकी को मारा, फिर, दोबारा। आखिरकार मैं उठा और पंछी को दूर उडाया। आप में से कुछ लोग उस छोटे पंछी के समान हो। आप वो ही चीज बार - बार और बार - बार और बार - बार दोबारा करते रहते हो, परन्तु अभी तक आप खोये हुए हो। आप कहते हो आप यीषु पर भरोसा करेंगे, परन्तु आप जल्दी से अपने आपको देखते हो। जब आप कोई बदलाव नहीं देखते, या अपने आप में कोई नयी भावना नहीं देखते, आप कहते हो आप अभी तक खोये हुए हो। मैं आप से कहता हूँ अपने आपको परखना बंद करने के लिये! वहाँ पर समय है अपने आपको परखना बंद करने का और यीषु को परखना षुरू करने का! यीषु के पास आओ और पीछे मुड के अपने आपको देखो ही नहीं। ‘‘मैंने व्यर्थ में प्रयत्न किये।'' इसे मेरे साथ गाओ।

मैंने हजारो प्रकार से प्रयत्न किये व्यर्थ मे
   मेरे भय को दबाने, मेरी आषाओं को उठाने;
परन्तु मुझे क्या आवष्यक है बाइबल कहता है
   वो सदा के लिये है, सिर्फ यीषु!

अगर आप अपने आप के पीछे देखते हो तो आप सिर्फ अंधेरा और पाप ही देखोगे। लूत की पत्नी की तरह मत बनो - जिसने पीछे सदोम की ओर देखा और खो गयी! आपका मन छोटा सदोम है, पूरा पाप और अंधेरे से भरा हुआ। यीषु के पास आओ और अपने आपके पीछे मत देखो! जैसे स्पर्जनने कहा, ‘‘यीषु का भरोसा करो और आप बचाये हुए हो। स्वयं का भरोसा करो और आप खोये हुए हो।'' यीषु के पास आओ, और अपने आपको देखो ही नहीं। बहुत से दूसरे इस प्रकार के लंबे प्रयत्न के बाद बचाये गये है। यीषु को देखो। यीषु के पास आओ! यीषु पर भरोसा करो। और अपने आपके पीछे मत देखो। उनके पास आओ बिना ‘‘सच्ची चेतना'' के और आप बचाये गये हो। अपने आपकी ओर देखो और आप नष्ट हो जाओगे - लूत की पत्नी के साथ। यीषु ने कहा, ‘‘लूत की पत्नी का स्मरण रखो'' (लूका 17:32)। यीषु को देखो, उनका भरोसा करो और पीछे मत देखो! अपने आपको फिर से मत परखो! यीषु के पास आओ और अपने आपके पीछे देखो ही नहीं! ‘‘यीषु पर भरोसा करो, और आप बचाये गये हो। अपने आप पर भरोसा करो और आप खोये हुए हो।'' वो गीत फिर से गाओ।

मैंने हजारो प्रकार से प्रयत्न किये व्यर्थ में
   मेरे भय को दबाने, मेरी आषाओं को उठाने;
परन्तु मुझे क्या आवष्यक है, बाइबल कहता है
   वो सदा के लिये है, सिर्फ यीषु!

स्पर्जनने कहा, ‘‘(क्या आप सोचते हो) कि यह भयानक चीज होती अगर आप को यीषु पर भरोसा करना होता और फिर भी मरना? ऐसा होगा। परन्तु (जब) आपको मरना ही है अगर आप (उनका) भरोसा नहीं करते, खतरा बडा नहीं हैं।

मैं कर सकता परन्तु मरूंगा अगर मैं जाऊँगा
   मैं प्रयत्न करने के लिये निष्चित हूँ
क्योंकि अगर मैं दूर रहूँ, मैं जानता हूँ
   मुझे सदा के लिये मरना है।

आपको कुछ खोना नहीं हैं, क्योंकि आप पहिले से ही खोये हुए हो; इसलिये (मसीह) के लिये देखो और आप पर प्रभु की दया में विष्वास करने का साहस करो - आप भी'' (सी. एच. स्पर्जन, अराउन्ड ध वीकेट गेट, पीलग्रीम प्रकाषन, 1992 में फिर से छपा हुआ, पृपृश्ठ 50, 51)। वो गीत एकबार और गाओ।

मैंने हजारो प्रकार से प्रयत्न किये व्यर्थ में
   मेरे भय को दबाने, मेरी आषाओं को उठाने;
परन्तु मुझे क्या आवष्यक है, बाइबल कहता है
   वो सदा के लिये है, सिर्फ यीषु!

(संदेश का अंत)
आप डॉ0हिमर्स के संदेश प्रत्येक सप्ताह इंटरनेट पर पढ़ सकते हैं क्लिक करें
www.realconversion.com अथवा www.rlhsermons.com
क्लिक करें ‘‘हस्तलिखित संदेश पर।

आप डॉ0हिमर्स को अंग्रेजी में ई-मेल भी भेज सकते हैं - rlhymersjr@sbcglobal.net
अथवा आप उन्हें इस पते पर पत्र डाल सकते हैं पी. ओ.बॉक्स 15308,लॉस ऐंजेल्स,केलीफोर्निया 90015
या उन्हें दूरभाष कर सकते हैं (818)352-0452

ये संदेश कॉपी राईट नहीं है। आप उन्हें िबना डॉ0हिमर्स की अनुमति के भी उपयोग में ला सकते
 हैं। यद्यपि, डॉ0हिमर्स के समस्त वीडियो संदेश कॉपीराइट हैं एवं केवल अनुमति लेकर
ही उपयोग में लाये जा सकते हैं।

धार्मिक प्रवचन के पहले डो. क्रेगटन् एल. चान द्वारा पढा हुआ पवित्रशास्त्र : 2 तीमुथियुस 4:1-5।
धार्मिक प्रवचन से पहले श्रीमान बेन्जामिन किनकेड ग्रीफिथ द्वारा गाया हुआ गीत :
     ‘‘इस प्रकार के समय में'' (रूथ काये जोनेस द्वारा, 1902 - 1972)।


रूपरेखा

आखरी दिनों में स्वर्गदूतों के षिक्षा की उपेक्षा क्यों की गई है

डो. आर. एल. हायर्मस, जुनि. द्वारा

‘‘तू वचन का प्रचार कर, समय और असमय तैयार रह, सब प्रकार की सहनषीलता और षिक्षा के साथ उलाहना दे और डाँट और समझा। क्योंकि ऐसा समय आएगा जब लोग खरा उपदेष न सह सकेंगे, पर कानों की खुजली के कारण अपनी अभिलाशाओं के अनुसार अपने लिये बहुत से उपदेषक बटोर लेंगे, और अपने कान सत्य से फेरकर कथा - कहानियों पर लगाएँगे'' (2 तीमुथियुस 4:2-4)।

1- पहला, स्वर्गदूत उनकी सेवा करते है जो उद्वार के वारिस है,
इब्रानियों 1:13-14; मती 18:10।

2- दूसरा, स्वर्गदूत प्रभु के बैरीयों पर न्याय प्रमाणित करते है,
प्रेरितो 12:23; 2 राजाओं 19:35; मती 13:49-50; लूका 17:32।