Print Sermon

इन संदेशों की पांडुलिपियां प्रति माह २२१ देशों के १,५००,००० कंम्प्यूटर्स पर इस वेबसाइट पते पर www.sermonsfortheworld.com जाती हैं। सैकड़ों लोग इन्हें यू टयूब विडियो पर देखते हैं। किंतु वे जल्द ही यू टयूब छोड़ देते हैं क्योंकि विडियों संदेश हमारी वेबसाईट पर पर पहुंचाता है। यू टयूब लोगों को हमारी वेबसाईट पर पहुंचाता है। प्रति माह ये संदेश ३७ भाषाओं में अनुवादित होकर १२०,००० प्रति माह हजारों लोगों के कंप्यूटर्स पर पहुंचते हैं। उपलब्ध रहते हैं। पांडुलिपि संदेशों का कॉपीराईट नहीं है। आप उन्हें बिना अनुमति के भी उपयोग में ला सकते हैं। आप यहां क्लिक करके अपना मासिक दान हमें दे सकते हैं ताकि संपूर्ण संसार जिसमें मुस्लिम व हिंदु भी सम्मिलित है उनके मध्य सुसमाचार फैलाने के महान कार्य में सहायता मिल सके।

जब कभी आप डॉ हिमर्स को लिखें तो अवश्य बतायें कि आप किस देश में रहते हैं। अन्यथा वह आप को उत्तर नहीं दे पायेंगे। डॉ हिमर्स का ईमेल है rlhymersjr@sbcglobal.net .




डो. सन्ग के साथ षिश्ट धार्मिक पाठषाला में
(डो. जोन सन्ग पर धार्मिक प्रवचन # 2)

WITH DR. SUNG AT THE LIBERAL SEMINARY
(SERMON #2 ON DR. JOHN SUNG)

डो. आर. एल. हायर्मस, जुनि. द्वारा
by Dr. R. L. Hymers, Jr.

लोस एंजीलस के बप्तीस टबरनेकल में प्रभु के दिन की शाम, 2 अक्तूबर, 2011
को दिया हुआ धार्मिक प्रवचन
A sermon preached at the Baptist Tabernacle of Los Angeles
Lord’s Day Evening, October 2, 2011

‘‘उसने हमें उस प्रिय मे सेंत-मेंत दिया’’ (इफिसियों 1:6)।


मैं डो. जोन सन्ग, 1930 के श्रेश्ठ चीनी सुसमाचार प्रचारक के जीवन का अभ्यास कर रहा था। डो. सन्ग के जीवन के मेरे अभ्यास में मैंने कुछ समानता और कुछ विभिन्नता आविश्कार की, उनके और मेरे जीवन के बीच, जो मैं सोचता हूँ कि जो मेरे धार्मिक प्रवचन पढ़ते है उनको रूचिकर होगी।

पहले का जीवन

वहाँ पर मेरे पहले के जीवन और डो. सन्ग के जीवन में कुछ विभिन्नता है। वे मसीही परिवार में ही जन्मे थे। मैं बिन मसीही परिवार में जन्मा था। मेरे पिता विक्रेता थे। डो. सन्ग के पिता याजक थे। डो. सन्ग के पिता की इच्छा थी कि वे धर्मप्रचारक बने। मेरे पिता की इच्छा नहीं थी कि मैं धर्मप्रचारक बनू। डो. सन्ग पहले से ही दैदीप्यमान विद्यार्थी थे। 21 महिनो में पीएच.डी. बननेवाले छोटे युवा की तरह अपने आयु के दूसरे दषक के मध्य में अमरिका विष्वविद्यालय में। मैं, दूसरी ओर, उच्चविद्यालय से छोड़ा हुआ, रात्रिषाला में अभ्यास पूर्ण करने का प्रयत्न करते हुए और बाईबल की षाला में निश्फल होता हुआ, परंतु षाला छोड़ने के कुछ पहले ही परिवर्तित हुआ था। डो. सन्ग सदा ही दैदीप्यमान विद्यार्थी रहे थे। उन्होंने उनकी स्नातकता और प्रषंसा प्राप्त की थी। उन्हें रसायनषास्त्र में मास्तर की पदवी सिर्फ 9 महीनो में प्राप्त हुई; और रसायनषास्त्र में पीएच.डी. सिर्फ 21 महिनों मे। मैं मेरे परिवर्तन तक बहुत ही गरीब विद्यार्थी था। मैं उच्चविद्यालय में निश्फल हुआ था; और मैं पहली बार महाविद्यालय में जाकर भी निश्फल हुआ था। वो तब परिवर्तित हुआ था जब वो धार्मिक पाठषाला में था,जब कि मैं परिवर्तित हुआ दूसरे बार महाविद्यालय में प्रवेष करने से पहले। मैं डो. चार्ल्स जे वुडब्रीज; बायोला महाविद्यालय (अब विष्वविद्यालय) में उनके द्वारा गिरिजाघर में दिये गये धार्मिक प्रवचन के दौरान 10:30 बजे सुबह में, 28 सीतंबर, 1961 को परिवर्तित हुआ था। डो. सन्ग उनके पहले वर्श की पढ़ाई न्युयोर्क षहर में, युनीयन थीयोलोजिकल धार्मिक पाठषाला में, अंत में परिवर्तित हुए थे। ‘‘सब यीषु के लिये’’ उस समुहगान को गाइये!

सब यीषु के लिये! सब यीषु के लिये!
मेरे सब दिन और मेरे सब घंटे;
सब यीषु के लिये! सब यीषु के लिये!
मेरे सब दिन और मेरे सब घंटे।
   (‘‘सब यीषु के लिये’’ मेरी डी. जेम्स, द्वारा, 1810 - 1883)।

धार्मिक पाठषाला का जीवन

यह तब था जब डो. सन्ग षिश्ट युनीयन धार्मिक पाठषाला में पढ़ रहे थे कि कुछ समानताएँ हुई जिसने हमारे जीवन को समान बना दिया। मैं धर्म प्रचार में बुलाया गया था, मेरे परिवर्तन से पहले, हन्टीगटन पार्क, केलीफोर्निया के पहले बपतीस कलीसिया में। डो. सन्ग की तरह मैं चीनी लोगो को सुसमाचार प्रचार करने के समय बहुत रूचिकर बन गया। जेम्स हडसन टेयलर के जीवन और जोन वेस्ली की जरनल पढ़ने के बाद, मैंने महसूस किया कि प्रभु मुझे धर्म प्रचारक की तरह प्रचार करने बुला रहे थे ताइवान या होन्गकोन्ग में। मैंने चीनी भाशा सीखना षुरू किया 1960 के पहले भागो में, परंतु मेरी चीनी भाशा की पढ़ाई तोड दी, जब मैने लोस एंजीलस षहर के महाविद्यालय में पढ़ना षुरू किया। जनवरी 1961 में मैं लोस एंजलिस के पहले चीनी बपतीस कलीसिया में जुड़ गया। मैं उन्नीस वर्श का था। उन अभ्यास के वर्शो, रात्रि महाविद्यालय में पढ़ने के दौरान मेरा सूचिपत्र बहुत ही भारी था, जब रविवार षाला में पढ़ाना, हर रविवार को छोटे कलीसिया में बच्चों को प्रचार करना, और षुक्रवार और षनिवार को चीनी कलीसिया में बहुत से घंटो तक काम करना। मैं दिन के सारे समय काम करता था और रात को महाविद्यालय जाता था। इन सारे काम के साथ मैं सप्ताह के अंत में कलीसिया में काम करता था, हकीकत में यह बहुत ही मुष्किल सूचिपत्र (schedule) था। रीचर्ड नीकसन, सभापति के उमेदवार द्वारा सोंपी गयी किताब मैंने पढ़ी थी जिसका षिर्शक था ध पावर अॉफ पोझीटीव थींकींग (सकारात्मक विचारो की षक्ति). डो. नोरमन वीन्सेन्ट पीले द्वारा। मुझे उस समय पता नहीं था कि डो. पीले षिश्ट थे। परंतु वहाँ पर उनकी किताब में एक पाठ था जिसने मुझ पर सकारात्मक प्रभाव डाला। उस पाठ में डो. पीले ने फिलिप्पियो 4:13 को याद करने और उसमें वचनबघ्ध होने को कहा,

‘‘जो मुझे सामर्थ्य देता हैं उसमें मैं सब कुछ कर सकता हूँ’’
    (फिलिप्पियों 4:13)।

मैं वचनबध्ध हुँ कि वह पद मेरे जीवन की एक निर्णायक अवस्था थी। मैंने फिलिप्पियों 4:13 पर हर रोज ध्यान केन्द्रित किया और वह वचन मेरे लिये हकीकत बन गया, जैसे मसीह ने मुझे सामर्थ्य दिया आखिरकार महाविद्यालय में अच्छा करने, जब पूरे समय कार्यरत था केलिफोर्निया राज्य के सामाजिक विभाग के डाक कक्ष और दस्तावेज कक्ष में; जब पूरे रात के अभ्यास का बोझ उठाते हुए और सप्ताह के अंत में चीनी बप्तीस कलीसिया में काम करते हुए। मैं लोस एंजलिस के केल राज्य (Cal State) से 1970 की वसंतऋतु में स्नातक हुआ। ‘‘सब यीषु के लिये’’। यह समूहगान फिर से गाइये!

सब यीषु के लिये! सब यीषु के लिये!
मेरे सब दिन और मेरे सब घंटे;
सब यीषु के लिये! सब यीषु के लिये!
मेरे सब दिन और मेरे सब घंटे।

पहला चीनी बपतीस कलीसिया, दक्षिणी बपतीस सभा के साथ जडा हुआ था। मुझे दक्षिण बपतीस द्वारा कहा गया था कि मुझे नियुक्त होने धार्मिक पाठषाला जाना ही चाहिये। मेरे पास केलिफोर्निया के हन्टीन्गटन पार्क के पहले दक्षिण बपतीस कलीसिया में सीतंबर 1960 में प्रचार करने का परवाना होने और 1970 में स्नातक्ता पूर्ण करने के बावजूद भी, दक्षिण बपतीस मुझे नियुक्त नहीं किया जब तक मैं पूरे तीन साल की मास्तर अॉफ डीवाइनीटी (दिव्यता की मास्त की) पढ़ाई धार्मिक पाठषाला में पूरी नहीं कर ली। मेरे पास बायोला में थीयोलोजी की तेलबोट षाला में आगे के सत्र पढ़ने के लिये पूरी बचत नहीं थी, इसलिये मुझे सिर्फ एक ही पर्याय योग्य लगा कि मुझे गोल्डन गेट बपतीस थीयोलोजीकल धार्मिक पाठषाला में जाना चाहिये, जो मरीन कन्ट्री, सान फ्रांसिस्को के करीब मीलवेली में स्थित थी। मुझे जानकारी थी कि पाठषाला षिश्ट है परंतु पहले चीनी बपतीस कलीसिया के आगेवान ने कहा यह मुझे हानि करेगा क्योंकि मेरे याजक, डो. तीमोथी लीन (जिन्होंने बोब जोनेस विष्वविद्यालय में स्नातक विभाग में पढ़ाया था।) ने मुझे पूरा प्रषिक्षण दिया था परिवर्तन विरोधी थीयोलोजी और बाइबल पर मेरे चीनी कलीसिया में उनके अधीन पढ़ाई के वर्शो के दौरान।

मुझे गोल्डन गेट धार्मिक पाठषाला भेजने का उनका इरादा अच्छा था, परंतु यह उत्तम सूझाव नहीं था। मैं धर्म प्रचार छोड़ने के बहुत करीब आ गया था जैसे उस धार्मिक पाठषाला में पढ़ने के सीधे परिणाम की तरह, जो उस समय एकदम षिश्ट था। (आज यह बहुत परिवर्तन विरोधी है फिर भी)। परंतु जब मैं गोल्डन गेट गया वह अत्यावष्यक स्वतंत्र विचार के सिद्धांत का अक्षरषः गर्म बिछौना था, न्यु योर्क में युनीयन थीयोलोजीकल धार्मिक पाठषाला के समान, जब डो. सन्ग वहाँ 1926 के गिरावट में गये। युनीयन धार्मिक पाठषाला ने सीखाया, वही गोल्डन गेट की तरह षिश्ट दृष्य। डो. जोन सन्ग के जीवनी के लेखक ने युनीयन धार्मिक पाठषाला के लिये कहा,

(जोन सन्ग) जल्द ही पता चला कि बाइबल के समान जाना और मसीही विष्वास विषेश करके तत्वज्ञान संबंधी था। सारी परेषानीयाँ मानव कारण की रोषनी में चितंन की जाती थी। बाइबल में जो भी था जो वैज्ञानिकरूप से न्याय नहीं करता था, वो अनावष्यक मान्यता की तरह अस्वीकार किया जाता था। उत्पति को अनैतिहासिक और चमत्कार में मान्यता को अवैज्ञानिक माना जाता था। ऐतिहासिक यीषु मूर्ति की तरह नकल करने के लिये पेष किये गये थे, जब की उनकी मृत्यु और उनका षारीरिक पुनरूत्थान का मूल्य बदली की तरह अस्वीकार किया गया था। प्रार्थना विषेशकर (बेकार) अस्वीकार की गयी थी। ऐसे मंतव्य से मतभेद करना दया और उपहास की वस्तु बन जाता था (लेस्ली टी. लायोल, ए बायोग्राफी अॉफ जोन सन्ग : फ्लेम अॉफ गोड इन ध फार इस्ट, समुद्रपार धर्मप्रचारक सदस्यता, 1965 की प्रत, पृपृश्ठ. 29-30)।

यही था जो मुझे मेरे तीन वर्श के मास्तर की पदवी के अभ्यास में गोल्डन गेट धार्मिक पाठषाला में पढ़ाया गया था।

धार्मिक पाठषाला में, डो. जोन सन्ग अपने पिता जो याजक थे, उनके द्वारा सीखाये गये बचपन के प्रषिक्षण को भूल गये। उसने बुद्ध धर्म की पढ़ाई और ताओइझम पढ़ना षुरू किया और भटकने लगे कि षायद लाओ - त्झे (Lao - Tze) की पढ़ाई उसे षान्ति दे सके जो उसे चाहिये। उसने लाओ - त्झे के ताओ तेह चींग (Tao – Tch Ching) का अनुवाद किया और चीनी तत्वज्ञान पर अखबार पढ़ा उनके वर्गो में से एक वर्ग में। उसने बुद्ध सुसमाचार रटना भी षुरू कर दिया था अकेले में अपने सोने के कक्ष में, “आषा करते हुए कि उसके स्वयं निशेध से वो षायद मुक्ति प्राप्त कर सके जिसके लिये बुद्धने कहा था ... परंतु उनका अपना मन अंधेरे में रहा” (लायोल, ibid, पृश्ठ 31)।

उसने कहा, ‘‘‘मेरी आत्मा’, उसने लिखा, उजाड’ स्थान में भटकती है मैं ना सो सकता हूँ ना खा ... मेरा मन नाराजगी की गहराई से भरा है’’’ (लायोल, पृश्ठ. 31)। आदरणीय वीलीयम इ. स्क्रुबर्ट के द्वारा दी गई डो. सन्ग की जीवनी ‘‘मुझे जोन सन्ग याद है’’ पढ़ने के लिये यहाँ क्लिक करें,या www.strategicpress.org पर जाइये।

डो. जोन सन्ग को उस षिश्ट धार्मिक पाठषाला में, जो बहुत सी भावनाएँ और अनुभव मिले। मुझे भी मेरे गोल्डन गेट थीयोलोजीकल धार्मिक पाठषाला के तीसरे वर्श के दौरान महसूस हुआ। तीसरे वर्श के अंत तक मैं पूरी तरह अकेला हो गया, गहरे मानसिक तनाव में, गंभीरता से विचार करते हुए अच्छे के लिये धर्मप्रचार छोड़ते हुए। इन सब में उस समय मेरी भावनाएँ बहुत समान थी डो. जोन सन्ग की उन भावनाओं की तरह। ‘‘सब यीषु के लिये’’। इसे फिर से गाइये!

सब यीषु के लिये! सब यीषु के लिये!
मेरे सब दिन और मेरे सब घंटे;
सब यीषु के लिये! सब यीषु के लिये!
मेरे सब दिन और मेरे सब घंटे।

फर्क

परंतु वहाँ एक बडा विवाद था। जोन सन्ग अभी तक परिवर्तित नहीं थे। मुझे सीतंबर 1961 में सच्चे परिवर्तन का अनुभव हुआ। मैं मसीह के पास निष्चित रूप से आया था, उनके लहू द्वारा षुद्ध हुआ, और फिर से जन्मा उस दिन बायोला महाविद्यालय में, कुछ वर्श पहले।

गहरे मानसिक तनाव की समान अवस्था में, डो. सन्ग मसीह की ओर फिरे और परिवर्तित हुए। मैं मसीह को पहले से ही जानता था, परंतु मैं दुश्टात्मा से इतनी गइराई से परखा और जाँचा गया था कि मैंने महसूस किया कि मैं धर्मप्रचार करने नहीं जा सकता।

फिर एक देर रात को करीब दो बजे मैं जाग गया मेरे मन में पवित्रषास्त्र के पद के चलते,

‘‘उसने हमें उस प्रिय मे सेंत-मेंत दिया’’ (इफिसियों 1:6)।

मैं बिछौने से उठा और पद को सादृष्य देखा। लगता था प्रभु मुझसे कहते थे, ‘‘यह तेरे लिये है। तु प्रिय में सेंत-मेंत है।’ तेरा स्वीकार किया गया है क्योंकि तु मेरे प्रिय पुत्र यीषु ‘में’ है। कोई और तुझे स्वीकार नहीं करता परंतु मैं करता हूँ। तू मेरे द्वारा स्वीकार किया गया है क्योंकि तू मेरे प्रिय पुत्र ‘में’ है।’’ मैं मेरे बिछौने से बाहर निकला मेरे कपडे पहने और रात में बाहर दौडा - धार्मिक पाठषाला के पीछे छोटी पहाडी पर। मैं वहाँ जाता हूँ हर समय वह जगह जब मैं सान फ्रांसींस्को में होता हूँ। दूरी पर, मैं दक्षिणपूर्व में सान फ्रांसिस्को की रोषनी देख सकता था और पष्चिम में तमालपीस पहाड़। बर्फीला पवन मेरे बालो के बीच से गुजरा, और लगता था प्रभु फिर से मुझ से बोल रहे है। उन्हेांने कहा, ‘अब तू आदमी को प्रसन्न करने प्रचार नहीं करेगा। अब तू मुझे प्रसन्न करने प्रचार करेगा। अब तू मेरा प्रचारक है।’’ प्रभु ने मुझे यह भी कहा कि मुझे मेरे मुख्य काम मेरे वृद्ध होने तक नहीं करने चाहिये। मैं फिर से बिछौने पर गया, हडीयों को षांत किया, जानते हुए कि प्रभु ने मुझे दूसरी बार प्रचार करने बुलाया था। ‘‘सब यीषु के लिये।’’ इसे फिर से गाइये!

सब यीषु के लिये! सब यीषु के लिये!
मेरे सब दिन और मेरे सब घंटे;
सब यीषु के लिये! सब यीषु के लिये!
मेरे सब दिन और मेरे सब घंटे।

मैं डो. जोन सन्ग की तरह सुसमाचार प्रचारक कभी भी नहीं बन सकता, या विदेषी धर्मप्रचारक भी, जैसे मैने सोचा था। अब 70 वर्श की उम्र में मैं बहुत वृद्ध हो चुका हूँ। परंतु मैं प्रार्थना करता हूँ कि दूसरे जो दूर की जगह एषिया और संसार में हैं, मेरे सुसमाचार प्रचारित धार्मिक प्रवचन की हस्तलिपी (Manuscript) ले और उसे प्रचार करेंगे, मेरी जगह खडे रहकर, इन्टरनेट से मेरे धार्मिक प्रवचन प्रचार करते हुए, मैं जो करना चाहता था जब मैं उन्नीस वर्श का था 1961 में वह करते हुए।

अब, सिर्फ कुछ षब्द हमारे युवा लोगो को जो आज रात यहाँ है। हाल ही में प्रकाषित एक्सट्रेक्ट फ्रोम ध डायरी अॉफ जोन सन्ग की प्रस्तावना में, उत्पति, 2008, मलेषिया के आदरणीय हवा योन्ग (Hwa Young) ने कहा,

पीछले चालीस वर्शों में या मेरी अपनी पुख्तावस्था में, मैंने देखा है एषिया में कलीसिया विकसित होते हैं संख्या और दृढ़ विष्वास में। बढ़ते हुए, मैं ज्ञात करता हूँ कि परमेष्वर हमें बुलाते है मसीह को (पूरे संसार में) घोशित करने के मुख्य कार्य में कार्यरत होने। परंतु अगर एषिया के कलीसिया को इस काम के लिये विष्वासु करना है, तो वहाँ पर आवष्यकता है बहुतों की जो मन से जाये जो जेम्स डेनी ने कहा और जो जोन सन्ग इतनी स्पश्टता से समझे ... क्या नये युग के एषिया के मसीहीयों को द्रश्टिगोचर होता है, खास करके हमारे आज के युवा लोग में, जो स्पश्टता से जानते है कि ‘‘इस वर्तमान दुश्टात्मा के संसार में वहाँ पर बडा आत्मत्याग (स्व-निशेध) होना ही चाहिये। अगर वहाँ पर श्रेश्ठ मसीही चरित्र होता है, ‘‘और उस तरह जीने कि हिंमत करें ... विषेश करके युवा पीढ़ीयों में! षायद यह मुहिम हो उनकी जो जानते है क्या श्रेश्ठ (स्व-निशेध) का अर्थ जो बहुत से बडे मसीही चरित्र को ले जायेगा मसीह के साम्राज्य और परमेष्वर की भव्यता की उन्नति के लिये (आदरणीय हवा योन्ग, ध जरनल वन्स लोस्ट : एक्सट्रेक्ट फ्रोम ध डायरी अॉफ जोन सन्ग, उत्पति, 2008, पृपृश्ठ. xiv-xv)।

‘‘सब यीषु के लिये।’’ इसे फिर से गाइये!

सब यीषु के लिये! सब यीषु के लिये!
मेरे सब दिन और मेरे सब घंटे;
सब यीषु के लिये! सब यीषु के लिये!
मेरे सब दिन और मेरे सब घंटे।

आत्मत्याग और स्व-निशेध परिवर्तन से षुरू होता है। आपको आपके पापो को स्वीकार करना चाहिये और उनका त्याग करना चाहिये परिवर्तित होने के लिये। जोन सन्ग बडे मसीही थे क्योंकि उन्होंने श्रेश्ठ परिवर्तन प्राप्त किया था। उन्हें श्रेश्ठ परिवर्तन मिला क्योंकि उन्हें श्रेश्ठ स्व-निशेध था। उन्होंने उनके पाण्डित्य के पदक और स्वर्ण चाबी समुद्र में फेंक दी। उनके पास रसायनषास्त्र में पीएच.डी. होने के बावजुद भी, उन्होंने विद्परिशद की ओर अपनी पीठ फिरायी और चीन और दक्षिणीपूर्ण एषिया के लोगो को सुसमाचार प्रचार करने गये। जोन सन्ग ने अपने जीवन के आनंद का त्याग किया जो उसे मिल सकता था। उसके परिवर्तित होने के कुछ रात पहले, परमेष्वर ने जोन सन्ग से कहा,

‘‘यदि मनुश्य सारे जगत को प्राप्त करे और अपने प्राण की हानि उठाए, तो उसे क्या लाभ होगा?’’ (मरकुस 8:36)।

‘‘सब यीषु के लिये।’’ इसे फिर से गाइये!

सब यीषु के लिये! सब यीषु के लिये!
मेरे सब दिन और मेरे सब घंटे;
सब यीषु के लिये! सब यीषु के लिये!
मेरे सब दिन और मेरे सब घंटे।

अपने पीछे रखे सब पापो को छोड दो। प्रभु के सामने अपने पापो की गहराई को स्वीकार करो। पवित्र आत्मा आपको आपके पापो के गहरे अपराधभाव में लाये। संसार का त्याग करो! इसे छोड़ दो! अपने जीवन में मसीह को प्रथम स्थान दीजीये। यीषु मसीह के पास आओ और उनके लहू द्वारा अपने पापो को षुद्ध करो। फिर अपने पूरे मन और आत्मा और जीवन के साथ मसीह के लिये जीयो! षनिवार रात को हमारे साथ रहो प्रार्थना और सुसमाचार प्रचार के लिये। हर रविवार सुबह और हर रविवार षाम को हमारे साथ रहो। आपके पूरे मन और आत्मा और जीवन से मसीह के लिये जीयो! ‘‘डो. जोन सन्ग का सच्चा परिवर्तन’’ पढ़ने के लिये यहाँ क्लिक करें।

महेरबानी करके खडे रहीये और अपने गीत के पर्चे का 3 गीत ‘‘सब यीषु के लिये’’ गाइये।

सब यीषु के लिये! सब यीषु के लिये!
मेरी सारी मुक्ति की षक्ति :
मेरे सब विचार और वचन और काम,
मेरे सब दिन और मेरे सब घंटे।
सब यीषु के लिये! सब यीषु के लिये!
मेरे सब दिन और मेरे सब घंटे;
सब यीषु के लिये! सब यीषु के लिये!
मेरे सब दिन और मेरे सब घंटे।
   (‘‘सब यीषु के लिये’’ मेरी डी. जेम्स, द्वारा, 1810 - 1883)।

(संदेश का अंत)
आप डॉ0हिमर्स के संदेश प्रत्येक सप्ताह इंटरनेट पर पढ़ सकते हैं क्लिक करें
www.realconversion.com अथवा www.rlhsermons.com
क्लिक करें ‘‘हस्तलिखित संदेश पर।

आप डॉ0हिमर्स को अंग्रेजी में ई-मेल भी भेज सकते हैं - rlhymersjr@sbcglobal.net
अथवा आप उन्हें इस पते पर पत्र डाल सकते हैं पी. ओ.बॉक्स 15308,लॉस ऐंजेल्स,केलीफोर्निया 90015
या उन्हें दूरभाष कर सकते हैं (818)352-0452

ये संदेश कॉपी राईट नहीं है। आप उन्हें िबना डॉ0हिमर्स की अनुमति के भी उपयोग में ला सकते
 हैं। यद्यपि, डॉ0हिमर्स के समस्त वीडियो संदेश कॉपीराइट हैं एवं केवल अनुमति लेकर
ही उपयोग में लाये जा सकते हैं।

धार्मिक प्रवचन के पहले डो. क्रेगटन् एल. चान द्वारा पढ़ा हुआ पवित्रशास्त्र :
इफिसियो 1:3-7।
धार्मिक प्रवचन के पहले श्रीमान बेन्जामिन किनकेड ग्रीफिथ द्वारा गाया हुआ गीत :
‘‘अनुग्रह हमारे पापो से बडा’’ (जुलीया एच. जोन्स्टोन द्वारा, 1849 - 1919)।