Print Sermon

इन संदेशों की पांडुलिपियां प्रति माह २२१ देशों के १,५००,००० कंम्प्यूटर्स पर इस वेबसाइट पते पर www.sermonsfortheworld.com जाती हैं। सैकड़ों लोग इन्हें यू टयूब विडियो पर देखते हैं। किंतु वे जल्द ही यू टयूब छोड़ देते हैं क्योंकि विडियों संदेश हमारी वेबसाईट पर पर पहुंचाता है। यू टयूब लोगों को हमारी वेबसाईट पर पहुंचाता है। प्रति माह ये संदेश ३७ भाषाओं में अनुवादित होकर १२०,००० प्रति माह हजारों लोगों के कंप्यूटर्स पर पहुंचते हैं। उपलब्ध रहते हैं। पांडुलिपि संदेशों का कॉपीराईट नहीं है। आप उन्हें बिना अनुमति के भी उपयोग में ला सकते हैं। आप यहां क्लिक करके अपना मासिक दान हमें दे सकते हैं ताकि संपूर्ण संसार जिसमें मुस्लिम व हिंदु भी सम्मिलित है उनके मध्य सुसमाचार फैलाने के महान कार्य में सहायता मिल सके।

जब कभी आप डॉ हिमर्स को लिखें तो अवश्य बतायें कि आप किस देश में रहते हैं। अन्यथा वह आप को उत्तर नहीं दे पायेंगे। डॉ हिमर्स का ईमेल है rlhymersjr@sbcglobal.net .




मलिकिसिदक - मसीह के समान
(उत्पति की किताब पर 61रु धार्मिक प्रवचन)

MELCHISEDEC – A TYPE OF CHRIST
(SERMON #61 ON THE BOOK OF GENESIS)

डो. आर. एल. हायर्मस, जुनि. द्वारा
by Dr. R. L. Hymers, Jr.

लोस एंजलिस के बप्तीस टबरनेकल में प्रभु के दिन की षाम, 26 जून, 2011
को दिया हुआ धार्मिक प्रवचन
A sermon preached at the Baptist Tabernacle of Los Angeles
Lord’s Day Evening, June 26, 2011

“जब वह कदोर्लाओमेर और उसके साथी राजाओं को जीतकर लौटा आता था तब सदोम का राजा षावे नामक तराई में, जो राजा की तराई भी कहलाती है, उससे भेंट करने के लिये आया। तब षालेम का राजा मलिकिसिदक, जो परमप्रधान ईष्वर का याजक था, रोटी और दाखमधु ले आया! और उसने अब्राम को यह आषीर्वाद दिया, परमप्रधान ईष्वर की ओर से, जो आकाष और पृथ्वी का अधिकारी है, तू धन्य हो। और धन्य है परमप्रधान ईष्वर, जिसने तेरे द्रोहियों को तेरे वष में कर दिया है। तब अब्राम ने उसके सब वस्तुओं का दषमांष दिया” (उत्पति 14:17-20)।


अब इब्रानियों 7:1-3 पर फिरो।

“यह मलिकिसिदक षालेम का राजा, और परमप्रधान परमेष्वर का याजक, सर्वदा याजक बना रहता है। जब अब्राहम राजाओं को मारकर लौटा जाता था, तो इसी ने उससें भेंट करके उसे आषीश दी। इसी को अब्राहम ने सब वस्तुओं का दसवांॅ अंष भी दिया। यह पहले अपने नाम के अर्थ के अनुसार, धर्म का राजा, और फिर षालेम अर्थात् षान्ति का राजा है। जिसका न पिता, न माता, न वंषावली है, जिसके दिनों का न आदि है और न जीवन का अन्त है; परन्तु परमेष्वर के पुत्र के स्वरूप ठहर कर वह सदा के लिये याजक बना रहता है” (इब्रानियों 7:1-3)।

महेरबानी करके आपकी बाइबल इस जगह पर खोलकर रखें। उत्पति 14 की षुरूआत होती है बाइबल में बताये गये पहले युध्ध से। जब अब्राम ने सीखा की उसका भतीजा लूत पकडा गया था उसने उसके 318 तालीम लिये हुए दासों को भेजा और लूत को आजाद किया, “और वह सारे धन को, और अपने (भतीजे) लूत और उसके धन को और स्त्रियों को, और सब बन्दियों को लौटा ले आया” (उत्पति 14:16)। आर्थर. डबल्यु. पींकने कहा,

ये सिर्फ इस जगह पर बहुत ध्यान देनेवाला व्यक्तित्व हमारे सामन लाया गया है, जिसका नाम है, मलिकिसिदक...उन षब्दों में “परमेष्वर के पुत्र के स्वरूप ठहराकर” (इब्रानियों 7:3) हमारे पास रहस्य की चाबी है जो मलिकिसिदक के केन्द्र के आसपास है। मलिकिसिदक मसीह के समान था (ए. डबल्यु. पींक, ग्लीनींग इन जेनेसीस, मुडी प्रैस, 1981 प्रत, पृश्ठ. 159)।

I. पहला, मलिकिसिदक उसके नाम में मसीह के समान था।

मलिकिसिदक का अर्थ है “धर्म का राजा”। पढ़ीये इब्रानियों 7:2।

“इसी को अब्राहम ने सब वस्तुओं का दसवाँ अंष भी दिया। यह पहले अपने नाम के अर्थ के अनुसार, धर्म का राजा और फिर षालेम अर्थात् षान्ति का राजा है” (इब्रानियों 7:2)।

मलिकिसिदक पहले “धर्म का राजा” था और, दूसरा “षालेम का राजा”, जिसका अर्थ है “षान्ति का राजा”। ये हमे बताता है मसीह क्या, मलिकिसिदक का मूल आदर्ष, पापीयो के लिये करते है। व्यवस्था की पवित्र मांग पहले ही मिलनी जरूरी है पापी के पवित्र प्रभु के साथ षान्ति पा सके। ये रोमियो 3:21-26 में बताया गया है,

“परन्तु अब व्यवस्था से अलग परमेष्वर की वह धार्मिकता प्रगट हुई है, जिसकी गवाही व्यवस्था और भविश्यवक्ता देते है, अर्थात् परमेष्वर की वह धार्मिकता जो यीषु मसीह पर विष्वास करने से सब विष्वास करनेवालों के लिये है। क्योंकि कुछ भेद नही; इसलिये कि सब ने पाप किया है और परमेष्वर की महिमा से रहित है, परन्तु उसके अनुग्रह से उस छुटकारे के द्वारा जो मसीह यीषु में है, सेंत-मेंत धर्मी ठहराए जाते है। उसे परमेष्वर ने उसके लहू के कारण एक ऐसा प्रायष्चित ठहराया, जो विष्वास करने से कार्यकारी होता है, कि जो पाप पहले किए गए और जिन पर परमेष्वर ने अपनी सहनषीलता के कारण ध्यान नही दिया। उनके विशय में वह अपनी धार्मिकता प्रगट करे। वरन् इसी समय उसकी धार्मिकता प्रगट हो कि जिससे वह आप ही धर्मी ठहरे, और जो यीषु पर विष्वास करे उसका भी धर्मी ठहरनेवाला हो” (रोमियो 3:21-26)।

यीषु ने क्रूस पर अपना लहू बहाया हमारे पापों के विरूध्ध प्रभु के सच्चे क्रोध का षमन करने। “अतः जब हम विष्वास से धर्मी ठहरे, तो अपने प्रभु यीषु मसीह के द्वारा परमेष्वर के साथ मेल रखें” (रोमियो 5:1)। फिर से, हम पढते है “उस के क्रूस पर बहे हुए लहू के द्वारा से मेलमिलाप करके” (कुलुस्सियों 1:20)।

मलिकिसिदक “धर्म का राजा” “षान्ति का राजा” था। यह बताता है कि वे यीषु मसीह के समान, या उनके जैसे प्रतिमा में थे। जैसे उस पुराने गीत में लिखा है,

पास्कल मेम्ना, प्रभु द्वारा नियुक्त,
   हमारे सारे पाप तुझ पर लादे गये;
सर्वषक्तिमान प्रेम द्वारा अभिशेक किया हुआ,
   आपकी षीघ्रताने पूरा प्रायष्चित किया,
आपके सारे लोग क्षमा किये गये है,
   आपके लहू के प्रभाव से
स्वर्ग का द्वार खुला है,
   षांति बनी है, “आदमी और प्रभु के बीच”।
(“हेइल, थाउ वन्स - डीस्पास्ड जीसस!” जोन बेकवेल द्वारा, 1721-1819)।

II. दूसरा, मलिकिसिदक अपने असल में मसीह के समान थे।

इब्रानियों 7:3 जोर से पढीये।

“जिसका न पिता, न माता, न वंषावली है, जिसके दिनों का न आदि है और न जीवन का अन्त है; परन्तु परमेष्वर के पुत्र के स्वरूप ठहर कर वह सदा के लिये याजक बना रहता है” (इब्रानियों 7:3)।

मलिकिसिदक, मसीह के जैसे, “न पिता, न माता, न वंषावली (वंश-परंपरा इत्यादि) है, जिसके दिनों का न आदि है और न जीवन का अन्त”।

इसका अर्थ यह नही कि मलिकिसिदक अलौकिक थे। इसका अर्थ सिर्फ यह है कि वो उत्पति की किताब में बिना किसी वंष-परंपरा के बताया गया है, और बिना उसकी मृत्यु बताये। ए. डबल्यु. पींक ने कहा, “(उत्पति की किताब) की चुपकीदी उसके जाति का संदर्भ करती है उसकी प्रयोजित प्रतिश्ठा। मलिकिसिदक वंष-परंपरा के किसी भी संदर्भ का पूरी तरह त्याग, जन्म या मृत्यु, वो पवित्र आत्मा द्वारा आदेष किया गया था...प्रभु यीषु के समान पेष करने के लिये” (पइपकण्ए पृश्ठ. 160) बेन्जमिन कीच (1640-1704) ने कहा, “उसे दोनो माता और पिता थे, और वंषज...परन्तु प्रभुने उनके उदेष्य में ये सारा गुप्त रखा, कि वो षायद ज्यादा स्पश्ट, मसीह की तरह जो सच्चाई में बिना पिता के थे, उनके मानवीयरूप के विशय में, या इंसानी स्वभाव; और बिना माता, उनके प्रभुता के विशय में (बेन्जमिन कीच, प्रीचींग फ्रोम ध टाइम्स एन्ड मेटार्फोस ओफ ध बाइबल, क्रेगल प्रकाषन, 1972 में फिर से छपा हुआ, पृश्ठ. 973)।

ये मलिकिसिदक केा मसीह से सदृृृष करता है जिस पर उत्पति जानबझुकर छोड देता है, मलिकिसिदक स्वयं पर नही। इब्रानियों 7:3 भी एक पद है जो खंडन करता है “अवतरित पुत्रता” का। मसीह प्रभु का पुत्र था बिना “आदि के दिनो” के। वे सदा प्रभु के पुत्र थे!

III. तीसरा, मलिकिसिदक मसीह के समान था उसके याजकपद में।

मलिकिसिदक “परमेष्वर के पुत्र के स्वरूप ठहर कर वह सदा के लिये याजक बना रहता है” (इब्रानियों 7:3)। भजनगानेवाले ने कहा,

“यहोवा ने षपथ खाई और न पछताएगा: तू मलिकिसिदक की रीति पर सर्वदा का याजक है” (भजनसंहिता 110:4)।

फिर से, इब्रानियों की किताब कहती है,

“तू मलिकिसिदक की रीति पर सदा के लिये याजक है” (इब्रानियों 5:6)।

मलिकिसिदक हमारे श्रेश्ठ बडे याजक यीषु के समान या प्रतिमा स्वरूप थे। डो. मेकगीने कहा, “भजनसंहिता 110 में जो भविश्यवाणी दी गई है उसमें हम देखते है कि मलिकिसिदक मसीह की प्रतिमा स्वरूप है...(मसीह) याजक है क्योंकि वे प्रभु के पुत्र है, और वे याजक ही रहे। वो है, वे याजक बने रहते है उनके याजकपद में कोई भी बदलाव नही आयेगा क्योंकि वे अमर है” (जे. वेरनोन मेकगी, टीएच. डी., थ्रु ध बाइबल, थोमस नेल्सन प्रकाषन, 1983, भाग ट, पृश्ठ. 552; इब्रानियों 7:3 पर टीप्पणी)।

मलिकिसिदक लंबा जीये मूसा के अधीन हारूनके ;।ंतवदपबद्ध याजकपद संस्थापन के पहले। एरोनिक ;।ंतवदपबद्ध याजकपद खत्म हुआ 70 ए.डी. में रोमी द्वारा मंदिर के नाष के साथ। परन्तु यीषु, प्रभु के अनंत पुत्र, हमारे अनंत याजक भी है। बेन्जामिन कीच ने यह मलिकिसिदक और मसीह की तुलना दी ः “मलिकिसिदक याजक थे, हारून के आदेष के बाद नही; वे द्रव्य तेल द्वारा अभिशेक नही किये गये थे, ना ही उनका याजकपद किसी ओर से मिला था, परन्तु सिर्फ प्रभु के मुंह के द्वारा घोशित हुए थे। उनका याजकपद दूसरे आदमीयों को नहीं दिया गया; क्योंकि ये उसे किसिसे मिला नही था, इसलिये उसने ये किसी को नही दिया; ना ही किसीने...उसे सफल किया ः इसलिये मसीह (मलिकिसिदक मसीह के समान की परिपूर्णता की तरह) ने उनका याजकपद किसी ओर से नही परन्तु स्वयं प्रभु से पाया है, और किसी द्रव्य तेल द्वारा अभिशेक नही किये गये थे...और जैसे (मसीहने) उनका याजकपद किसीने पाया नही; इसीलिये उन्होने ये किसी ओर को नहीं दीया; (मसीह) के पास कोई नही था जो उसे सफलता दे, परन्तु (रहते है) सदा ही याजक...स्वर्ग में” (बेन्जामिन कीच, पइपकण्ए पृश्ठ. 973)।

जैसे हमारे याजक, यीषु ने हमारे पापो के लिये पूरा बलिदान किया। उन्होने हमारे पाप क्रूस पर सहे, जहाँ उन्होनें अपना बहुमूल्य लहू बहाया। इब्रानियों की किताब कहती है,

“परन्तु जब मसीह आनेवाली अच्छी अच्छी वस्तुओं का महायाजक होकर आया, तो उसने और भी बडे और सिध्ध तम्बू से होकर, जो हाथ का बनाया हुआ नही अर्थात् इस सृश्टि का नही, और बकरों और बछड़ो के लहू के द्वारा नही पर अपने ही लहू के द्वारा, एक ही बार पवित्र स्थान में प्रवेष किया और अनन्त छुटकारा प्राप्त किया। क्योंकि जब बकरों और बैलों का लहू और कलोर की राख का अपवित्र लोगों पर छिडका जाना षरीर की षुध्धता के लिये उन्हें पवित्र करता है, तो मसीह का लहू जिसने अपने आप के सनातन आत्मा के द्वारा परमेष्वर के सामने निर्दोश चढ़ाया, तुम्हारे विवेक को मरे हुए कामों से क्यों न षुध्ध करेगा ताकि तुम जीविते परमेष्वर की सेवा करो ?”
    (इब्रानियों 9:11-14)।

“उसने एक ही बार प्रवेष किया” स्वर्ग में उनके लहू के साथ।

केथलिक कलीसिया के पास “याजक” सेवक थे। परन्तु वहाँ पर इसके लिये बाइबल का कोई आधार नही। नये नियमावली ने उपदेषक को कभी भी “याजक” नही कहा। बेप्टीस्ट और प्रोटेस्टन्ट ने सदा विष्वास किया है कि वहाँ पर सिर्फ एक ही याजक है, प्रभु यीषु मसीह! और हम मसीह का फिर से त्याग नही करते कोई भी “धर्म समाज” में। “अपने ही लहू के द्वारा, एक ही बार पवित्र स्थान में प्रवेष किया और अनन्त छुटकारा प्राप्त किया” (इब्रानियों 9:12)। वहाँ नये त्याग की जरूरत नही है कोई भी “धर्म समाज” में। मसीह मरे और अपना बहुमूल्य लहू बहाया, हमारे पापो का प्रायष्चित करने सदा के लिये!

“यह नही कि वह अपने आप को बार-बार चढ़ाए, जैसा कि महायाजक प्रति वर्श दूसरे का लहू लिए पवित्र स्थान में प्रवेष किया करता है, नही तो जगत की उत्पति से लेकर उसको बार-बार दुःख उठाना पडता; पर अब युग के अन्त में वह एक ही बार प्रगट हुआ है, ताकि अपने ही बलिदान के द्वारा पाप को दूर कर दे” (इब्रानियों 9:25-26)।

“उसने अपने आप को बलिदान चढ़ाकर एक ही बार में पूरा कर दिया” (इब्रानियों 7:27)।

वे एकबार मरे हमारे पापो का प्रायष्चित करने! उन्होने अपना लहू एकबार बहाया हमे सारे पापो से षुध्ध करने!

यीषु सिर्फ हमारे पापों के लिये त्याग नही करते। हमारे बडे याजक की तरह, वे स्वर्ग में हमारे लिये प्रभु के दाहिने हाथ पर मध्यस्थी भी है।

“इसीलिये जो उसके द्वारा परमेष्वर के पास आते है, वह उनका (पूरा पूरा) उदधार कर सकता है, क्योंकि वह उनके लिये विनती करने को सर्वदा जीवित है” (इब्रानियों 7:25)।

चार्ल्स वेस्ली (1707-1788) ने कहा,

वे सदा ऊपर रहते है, मेरे लिये मध्यस्थी के लिये;
   उसका सारा बचानेवाला प्रेम, उनका बहुमूल्य लहू प्रार्थना करने के लिये।
उनके लहूने प्रायष्च्ति किया हमारी सारी जाति के लिये,
   और अब अनुग्रह का सिंहासन बिछाने,
और अब अनुग्रह का सिंहासन बिछाने।
   (“उठो! मेरी आत्मा, उठो!” चार्ल्स वेस्ली द्वारा, 1707-1788)।

आखिरकार, यीषु बहुत प्रेमल बडे याजक है, इब्रानियों 4:14-16 पर फिरो। महेरबानी करके खडे रहिये और यह पद जोर से पढीये।

“इसलिए जब हमारा ऐसा बड़ा महायाजक है, जो स्वर्गो। से होकर गया है, अर्थात् परमेष्वर का पुत्र यीषु, तो आओ हम अपने अंगीकार को दृढता से थामे रहे। क्योंकि हमारा ऐसा महायाजक नही जो हमारी निर्बल्ताओ में हमारे साथ दुःखी न हो सके; वरन् वह सब बातों में हमारे समान परखा तो गया, तौ भी निश्पाप निकला। इसलिये आओ, हम अनुग्रह के सिंहासन के निकट हियाव बाँधकर चलें कि हम पर दया हो, और वह अनुग्रह पाएँ जो आवष्यकता के समय हमारी सहायता करें”     (इब्रानियों 4:14-16)।

आप बैठ सकते हो। डो. मेकगीने कहा,

“चलिये इसीलिये हम आते है (बडी आजादी के साथ) अनुग्रह के सिंहासन पर”। हम आजादी से बात कर सकते है प्रभु यीषु मसीह के साथ। मैं उनसे सब कह सकता हूं जो मैं आप से नही कह सकता। वे मुझे समझ सकते है। उन्हे मेरी कमजोरीयाँ पता है...मैं बडी आजादी के साथ उनके पास आ सकता हूं। मैं उनसे मेरे मन की बात कर सकता हूं। मैं अपना मन उनके सामने खोल सकता हूं (जे वेरनोन मेकगी, टीएच.डी., पइपकण्ए पृश्ठ. 537; इब्रानियों 4:16 पर टीप्पणी)।

यीषु वहाँ पर है हर सच्चे मसीही को उनके “आवष्यकता के समय” में। वे वहाँ पर है आपके लिये। वे आपको आपके कठिन समय में मदद करेंगे। जब आप उदास या मनसे बिमार महसूस करते हो तो उनके पास आओ, “और अनुग्रह पाएँ जो आवष्यकता के समय सहायता करे”। वे आपको नाकामियाब नहीं करेंगे।

सेवा के करीबन 54 वर्श बाद मैं जानता हूं वो सच्चे है। मसीह आपको नाकमियाब नहीं करेंगे! कोई बात नही आप कितने भी उदास या मन से बिमार हो, यीषु आपको मदद करेेंगे। वे आपको नाकमियाब नहीं करेंगे! आप ये मानसिक व्यथा से करेंगे, क्योंकि यीषु आपको इसके द्वारा ले जायेंगे! “चाहे मैं घोर अन्धकार से भरी हुई तराई में होकर चलूँ...तू मेरे साथ रहता है” (भजनसंहिता 23:4)।

मलिकिसिदक अब्राम के पास आये और उसे खाना दिया और उसे आषीर्वाद दिया जब वो युध्ध करके थक चुका था। इसीलिये, यीषु आपके पास आयेगें, आपको आषीर्वाद करेगे और आपको खिलायेंगे, जब सब थके हुए और उदास होगे मसीही जीवन के युध्ध से!

और अगर आप अभी भी खोये हुए पापी हो, आप यीषु के पास आ सकते हो। वो आपको दूर नही करेंगे। यीषु ने कहा, “जो काई मेरे पास आएगा उसे मैं कभी न निकालूँगा” (यूहन्ना 6:37)। यीषु के पास आओ। वे आपके पाप माफ करेंगे, और उनके बहुमूल्य लहू से आपको षुध्ध करेंगे।

(संदेश का अंत)
आप डॉ0हिमर्स के संदेश प्रत्येक सप्ताह इंटरनेट पर पढ़ सकते हैं क्लिक करें
www.realconversion.com अथवा www.rlhsermons.com
क्लिक करें ‘‘हस्तलिखित संदेश पर।

आप डॉ0हिमर्स को अंग्रेजी में ई-मेल भी भेज सकते हैं - rlhymersjr@sbcglobal.net
अथवा आप उन्हें इस पते पर पत्र डाल सकते हैं पी. ओ.बॉक्स 15308,लॉस ऐंजेल्स,केलीफोर्निया 90015
या उन्हें दूरभाष कर सकते हैं (818)352-0452

ये संदेश कॉपी राईट नहीं है। आप उन्हें िबना डॉ0हिमर्स की अनुमति के भी उपयोग में ला सकते
 हैं। यद्यपि, डॉ0हिमर्स के समस्त वीडियो संदेश कॉपीराइट हैं एवं केवल अनुमति लेकर
ही उपयोग में लाये जा सकते हैं।

धार्मिक प्रवचन से पहले डो. क्रेगटन एल चान द्वारा पढ़ा हुआ पवित्रषास्त्र: भजनसंहिता 110:1-4।
धार्मिक प्रवचन से पहले श्रीमान बेन्जामिन कीनकेड ग्रीफिथ द्वारा गया हुआ गीत:
“मेरी आषा प्रभु में है” (नोरमन. जे. क्लेटोन द्वारा, 1903-1992)।


रूपरेखा

मलिकिसिदक - मसीह के समान
(उत्पति की किताब पर 61रु धार्मिक प्रवचन)

डो. आर. एल. हायर्मस, जुनि. द्वारा

“जब वह कदोर्लाओमेर और उसके साथी राजाओं को जीतकर लौटा आता था तब सदोम का राजा षावे नामक तराई में, जो राजा की तराई भी कहलाती है, उससे भेंट करने के लिये आया। तब षालेम का राजा मलिकिसिदक, जो परमप्रधान ईष्वर का याजक था, रोटी और दाखमधु ले आया! और उसने अब्राम को यह आषीर्वाद दिया, परमप्रधान ईष्वर की ओर से, जो आकाष और पृथ्वी का अधिकारी है, तू धन्य हो। और धन्य है परमप्रधान ईष्वर, जिसने तेरे द्रोहियों को तेरे वष में कर दिया है। तब अब्राम ने उसके सब वस्तुओं का दषमांष दिया” (उत्पति 14:17-20)।

“यह मलिकिसिदक षालेम का राजा, और परमप्रधान परमेष्वर का याजक, सर्वदा याजक बना रहता है। जब अब्राहम राजाओं को मारकर लौटा जाता था, तो इसी ने उससें भेंट करके उसे आषीश दी। इसी को अब्राहम ने सब वस्तुओं का दसवांॅ अंष भी दिया। यह पहले अपने नाम के अर्थ के अनुसार, धर्म का राजा, और फिर षालेम अर्थात् षान्ति का राजा है। जिसका न पिता, न माता, न वंषावली है, जिसके दिनों का न आदि है और न जीवन का अन्त है; परन्तु परमेष्वर के पुत्र के स्वरूप ठहर कर वह सदा के लिये याजक बना रहता है” (इब्रानियों 7:1-3)।

(उत्पति 14:16)

I.    पहला, मलिकिसिदक उसके नाम में मसीह के समान था इब्रानियों 7:2; रोमियो 3:21-26; 5:1; कुलुस्सियों 1:20।

II.   दूसरा, मलिकिसिदक अपने असल में मसीह के समान थे, इब्रानियों 7:3।

III.  तीसरा, मलिकिसिदक मसीह के समान था उसके याजकपद में, इब्रानियों 7:3; भजनसंहिता 110:4; इब्रानियों 5:6; 9:11-14, 25-26;
इब्रानियों 7:27, 25; 4:14-16; भजनसंहिता 23:4; यूहन्ना 6:37।