Print Sermon

इन संदेशों की पांडुलिपियां प्रति माह २२१ देशों के १,५००,००० कंम्प्यूटर्स पर इस वेबसाइट पते पर www.sermonsfortheworld.com जाती हैं। सैकड़ों लोग इन्हें यू टयूब विडियो पर देखते हैं। किंतु वे जल्द ही यू टयूब छोड़ देते हैं क्योंकि विडियों संदेश हमारी वेबसाईट पर पर पहुंचाता है। यू टयूब लोगों को हमारी वेबसाईट पर पहुंचाता है। प्रति माह ये संदेश ३७ भाषाओं में अनुवादित होकर १२०,००० प्रति माह हजारों लोगों के कंप्यूटर्स पर पहुंचते हैं। उपलब्ध रहते हैं। पांडुलिपि संदेशों का कॉपीराईट नहीं है। आप उन्हें बिना अनुमति के भी उपयोग में ला सकते हैं। आप यहां क्लिक करके अपना मासिक दान हमें दे सकते हैं ताकि संपूर्ण संसार जिसमें मुस्लिम व हिंदु भी सम्मिलित है उनके मध्य सुसमाचार फैलाने के महान कार्य में सहायता मिल सके।

जब कभी आप डॉ हिमर्स को लिखें तो अवश्य बतायें कि आप किस देश में रहते हैं। अन्यथा वह आप को उत्तर नहीं दे पायेंगे। डॉ हिमर्स का ईमेल है rlhymersjr@sbcglobal.net .




पुनरूत्थान अभी!

RESURRECTION NOW!

डॉ. आर. एल. हायमर्स, जुनि. द्वारा
by Dr. R. L. Hymers, Jr.

लोस एंजलिस के बेप्टीस टबरनेकल मे प्रभु के दिन की षाम,
मई 2, 2010 को दिया गया धार्मिक प्रवचन.
A sermon preached at the Baptist Tabernacle of Los Angeles
Lord’s Day Evening, May 2, 2010

“परन्तु परमेष्वर, ने जो दया का धनी है, अपने उस बड़े प्रेम के कारण जिस से उसने हमसे प्रेम किया, जब हम अपराधों के कारण मरे हुए थे तो हमे मसीह के साथ जिलाया, (अनुग्रह ही से तुम्हारा उध्धार हुआ है;) और मसीह यीषु मे उसके साथ उठाया, और स्वर्गीय स्थानो मे उसके साथ बैठाया” (इफिसियों 2:4-6)।


पवित्र धार्मिक सच्‍चाई का दृश्‍टांत देने के लिये यीषु के चमत्‍कार होते थे। उन्‍होने अंध को आँखे दी उसे ये बताने की वह अपने अंधे मनको धार्मिकता से खोल सकता है। उन्‍होने कोढी को ठीक किया ये बताने के लिये की वो अपने दूशित मन को पवित्र धार्मिकता से ठीक करे। परन्‍तु तीन बार उन्‍होने लाष उठायी। मरकुस के पांचवे पाठ में हमे कहा जाता है की याईर की बेटी को मृत्‍यु से उठाया। लूका के सातवे पाठमे हमे कहाँ जाता है की नाईन की विधवा के बेटे को उसने मृत्‍यु से उठाया। यूहन्‍ना के ग्‍यारह वे पाठ में हम पढते है की उन्‍होने लाजर के मृत्‍यु से उठाया। इस पुनरूत्‍थान से हमे ये सिख मिलती है की यीषु उनको मृत्‍यु से उठा सकते है जो “अपने अपराधो और पापो के कारण मरे हुए थे”(इफिसियो 2:1)। आज रात की इस सभामें हमारे पास याईर की बेटी या, कई विधवाओके पुत्रो, कई पुर्नजिवीत लाजर है-क्‍योंकि हम में से कइयोने अपराधों और पापो से मृत्‍यु पायी है, परन्‍तु यीषु की षक्‍ति से हम आत्‍मा की मृत्‍यु से फिर से उठाये गये है, जिंदगी की नयी राह पर चलने के लिये! पुनरूत्‍थान जो हमने अनुभव किया वह “पुनःजन्म” कहा जाता है - षब्‍द जो बताते है जिंदगी से मृत्‍यृ की, नये जन्‍म के नाम से जानी जाती है। डो. डब्‍ल्‍यु. जी.टी.ष्‍ोड बताते है की बाइबल मे कयी बार बताया गया हो की “पुनरुत्‍थान पुनःजन्‍म देने के लिए”...“पुनःजन्‍म की बात करना जैसे आत्‍मीय पुनरूत्‍थान” (डब्‍ल्‍यु.जी.टी.ष्‍ोड, पीएच. डी., डोगमेटीक थीयोलोजी, पी और आर प्रकाषन, 2003 प्रत, पृ.पृश्‍ठ 864, 865)। षारिरिक और आध्‍यात्‍मिक पुनरूत्‍थान के बीच का संबंध इफिसियो के दूसरे पाठमे स्‍पश्‍ट किया गया है,

“परन्तु परमेष्वर, ने जो दया का धनी है, अपने उस बड़े प्रेम के कारण जिस से उसने हमसे प्रेम किया, जब हम अपराधों के कारण मरे हुए थे तो हमे मसीह के साथ जिलाया, (अनुग्रह ही से तुम्हारा उध्धार हुआ है;) और मसीह यीषु मे उसके साथ उठाया, और स्वर्गीय स्थानो मे उसके साथ बैठाया” (इफिसियो 2:4-6)।

इस पद से हम नये जन्म के बारे में तीन महत्व की सच्चाई जान सकते है‘ तीन सच्चाई पुनःजन्म के बारे मे पुनरूत्थान यीषु की षक्ति द्वारा।

प्ण् पहला, हम मरे हुए थे।

बाइबल के अनुसार सारे लोग आत्मीय रूपसे मरे हुए है। कुछ लोग कहते है हमे कहते है की हम कुचलकर गिराये गये - परन्तु वे ये नही मानते की हम इससे मारे गये। परन्तु प्रभु का वचन अेकदम स्पश्ट है। वो कहता है की हम सिर्फ जखमी नही हुए परन्तु हम “अपराधों और पापो के कारण मरे हुए है” (इफिसियो 2:1)। फिर भी ये लोग हमे कहते है की लोगो में बहुत अच्छाईयां है, की लोगो का स्वभाव इन पापोंसे नही मरा। सी.जी फिनेयने गलत राय दी जब उन्होने कहाँ,

मनुश्य मे पाप इतना सामान्य क्यूं है? इसलिये नहीं की उनका स्वभाव ही अपने आप में पापी है... यह मान्यता है... सदा, हमेषा से प्रभु को तुच्छ समझा है और प्रभु से सदा नफरत और मानव से समझदार, और हर तख्त से दूर, और हर मान्यताओसे दूर और दुनियासे भी। यह नास्तिकतावाली मनोवृत्तिसे हमेषासे बचाते है, और ख्रिस्ती धर्मके बारे में अगस्टीयन द्वारा अंधश्रध्दा भर दी गई है (सी.जी.फिनेय, फिनेय की सिस्टमेटीक थीयोलोजी, बेथनी हाउस प्रकाषन, 1994 की प्रत, पृ.पृश्ठ. 268, 263)।

ठीक, हमारे ज्यादातर तख्तों से लोगोकी ये मान्यता दबादी गई है की वह पाप मे मरा हुआ है। नतीजा क्या है? आज जो हम देखते है मानसिक और धार्मिक अराजक्ता-ये है नतीजा!

क्या लोगोकी मान्यता पापोमे मर गई है वो अगस्तीयन की खोज थी? ना, वो नहीं थी! पूरे बाइबल मे सिखाया गया है की इंसान निराषावादी और लाचार पापी है। नूह के दिनो में,

“यहोवा ने देखा कि मनुश्यो की बुराई पृथ्वी पर बढ़ गई है, और उनके मन के विचार मे जो कुछ उत्पन्न होता हे वह निरन्तर बुरा ही होता हे” (उत्पति 6:5)।

अय्यूब को किताब मे हमने पढ़ा,

“अषुध्द वस्तुसे षुध्द वस्तु को कौन निकाल सकता है? कोई नही” (अय्यूब 14:4)।

“मनुश्य है क्या, कि वह निश्कलंक हो? या जो स्त्री से उत्पन्न हुआ, वह है क्या की निर्दोश हो सके? (अय्यूब 15:14)।

भजन संहिता मे कहा,

“देख मैं अधर्म के साथ उत्पन्न हुआः और पाप के साथ अपनी माता के गर्भ में पड़ा” (भजन संहिता 51:5)।

“दृश्ट लोग जन्मते ही पराए हो झूठ बोलते हृए, भटक जातें है” (भजन संहिता 58:3)।

राजा सुलैमानने कहा,

“मनुश्यो के मनों मे बुराई भरी हुई है” (सभोपदेषक 9:3)।

भविश्यवेता यिर्मयाह ने कहॉ,

“मन तो सब वस्तुओसे अधिक धोखा देनेवाली होता है, उस मे असाध्य रोग लगा हैः उसका भेद कौन समझ सकता है?” (यिर्मयाह 17:9)।

और प्ररितो पौलुस हमे कहा,

“उसने तुम्हें भी जिलाया, जो अपने अपराधो और पापो के कारण मरे हुए थे... और अन्य लोगो के समान स्वभाव ही से, क्रोध की सन्तान थे” (इफिसियो 2:1,3)।

फिरसे, कुलुस्सियो में, प्ररितोने कहा,

“तुम्हें भी, जो अपने पापों से मुर्दा थे” (कुलुस्सियों 2:13)।

फिनेय ने लोग पापोमे मरे हुए है इस मान्यता की निंदा करतो हुए ये बात अगस्तीयन पर डाल दी। फिर भी, जैसे मैंने बताया है, ये मान्यता बाइबल मे एक छोर से दूसरे अंत तक सिखाई गई है। हकीकतमे, फिनेय का विचार पुरानी मान्यताओके नये रूपमे दिखानेवाले पेलेगीयससे आया (ए.डी.354-420)। उनकी बदलती सोच सारी सदियो से हर जगह है। जो फिनेयने सिखाया वो पेलेगीयस की षिखमे पुरे जोससे था! चलीये वो मान्यताको पकडे रखे जो पवित्र वाक्या मे स्पश्टता से पढ़ाया गया है ! इंसान, अपने पुनरूध्दार न होने की अवस्था में, पापोमे मरा हुआ है! इंसान बिमार नही है। वह परमेष्वर की चीजो के लिये मरा हुआ है!

“उसने तुम्हें भी जिलाया, जो अपने अपराधो और पापो के कारण मरे हुए थे” (इफिसियो 2:1)।

“हम अपराधो के कारण मरे हुए थे” (इफिसियो 2:5)।

इससे ज्यादा स्पश्ट क्या हो सकता है? कुछ भी नही!

“पापो मे मरा” - ये इंसान के स्वाभाविक अवस्था में सच्चा चित्र नहीं है? महान स्पर्जनने कहा,

उस लाष का निरिक्षण कीजीयेः आप षायद उसे मारो, या आप षायद उसे कुचल दो, परन्तु ये चिल्लायगी ही; आप षायद उस पर बोझा भी रखे, परन्तु वो थकेगी नही; आप षायद उसे अंधेरेमे रखे, परन्तु उसे अंधेरा मेहसूस नहीं होगा। वैसे ही अपरिवर्तित इंसान अपने पापोके बोझसे दबा हुआ है, परन्तु वो इससे थकता नहीं है; वो प्रभु के न्यायालय की जेल मे खडे है, परन्तु वह आजा़दी के लिये सांस नही लेगा; वो परमेष्वर के श्राप के नीचे है... परन्तु वो श्रापसे उसकी आत्मामें कुछ आवाज नही आती है, क्योंकि वह मरा हुआ है... ओह! परन्तु आप जिवीत है।, आप कभी चूप नहीं बैठोगे जब तक आप उसके गुस्से से जो आनेवाला है बचाये गये हो। इंसान धार्मिक (आत्मीय) चीजो के लीये बेहोष रहता है क्योंकि, धार्मिक ज्ञान में, वह मरा हुआ है (सी.एच.स्पर्जन, “यीषु के साथ पुनरूत्थान, ” घ मेट्रोपोलीटन टबरनेकल तख्त, पीलग्रीम प्रकाषन, भाग 14, पृ.पृ.207, 208)।

आप कलीसिया मे बैठ सकते हो और धार्मिक प्रवचन सून सकते हो जिसका आप पर कोई असर नहीं है-क्योंकि आप “पापों से मरे हुअे हो।” आप यीषु की तडप के बारे मे सुन सकते हो, उन्हे चाबूकसे मारा गया और क्रूस पर कीलसे ठोका गया, और कोई मतलब नहीं है-क्योंकि आप “पापोंसे मरे हुअे हो।” आप यीषु की तडप के बारे मे सुन सकते हो, की यीषु मृत्यु से जी उठे और उनके चेलो को दिखे “बहुत से पक्के प्रमाणो से” (प्रेरितो 1:3) और उनके पुनरूत्थान की ताकत और सुंदरता से हील न सके क्योंकि आप “पापो में मरे हुअे हो।” आप उनके लहू को सून सकते हो, आप के पापो को षुध्द करने मौजूद है, और आपकी षुध्दता की षुध्द करने मौजूद है, और आपकी षुध्दता की जरूरत को मेहसूस नही किया-क्योंकि आप पापों में मरे हुअे हो।” आप लुभावने धुन के साथ दूसरो की प्रार्थना सून सकते हो, और अपने जैसी प्रार्थना नही कर सकते हो-क्योंकि आप “पापो से मरे हुअे हो।” आप बड़ी, काली बाइबल लेकर उसे पढ़ कसते हो परन्तु उनके षब्दों में कोई जान नही हागी; वो आपके लिये सिर्फ षब्द ही है-क्योंकि आप “पापो मे मरे हुअे हो।” दूसरो को अपने विष्वास मे आनंद आता है, परन्तु आप में कोई आनंद नही है-क्योंकि आप “पापो मे मरे हुअे हो।” दूसरे यीषु को जानते है, और उनको जानने का आनंद उठाते है, परन्तु आप उनको जानते नही होंगे; आप षक और डर से भरे हुअे हो-क्योंकि आप “पापो मे मरे हुअे हो।” दूसरे आपको यीषु के पास आने को कहते हे, परन्तु आप सिर्फ इतना ही कह सकते हो, बार बार फिर से, की “कैसे?” “मै उनके पास कैसे आऊँ?” उसका जवाब आपको बचाता है और आप ये समझ नहीं सकते-क्योंकि आप “पापो से मरे हुए हो।”

मै अब आपको कहता हुँ के अगर आप कुछ सिखने से बचाये जाओ तो वो हमेषा एक समान रहेगा। आप कभी भी “सिख” नहीं पाओगे की कैसे बचाये जाते हो! कभी नही, बाइबल स्टडी के पचास साल मे - आप कभी नही सिख पाओगे की कैसे बचाया जाता है-क्योंकि आप “पापो से मरे हुअे हो।” और जितना आप ज्यादा अभ्यास करते हो, प्रष्न पूछते हो, उतने आप खराब होंगे, आपको आगे बढते जाना है जब तक थोडासा लगाव दिखाया है उनके एक बार जाने के बाद, और आप कलीसियामे बैठो कुछ बदलने की आषा के बिना-क्योंकि आप “पापो से मरे हुअे हो”-“सदा सीखती, तो रहती हैं पर सत्य की पहिचान तक कभी नहीं पहुचतीं” (2 तीमुथियुस 3:7)। और, आखिरकार, आप अपने पापोमे मर जाओगे और अपने आपके दूसरी दुनियामे पाओगे, जहॉ आप तडपमे होंगे, मौजुदा प्रभु की हाजरीसे बहुत दूर हमेषा के लिये ले जाओगे, पूरी निराषा मे, ज्वालामें, बिना कीसी आषा के, “सदाकाल तक घोर अंधकार” (यहूदा 13)-क्योंकि आप “पापो से मरे हुअे हो।”

परन्तु अब अपनी किताब हमे आषा की उम्मीद दिखाई देती है-और वो आषा सिर्फ यीषु में परमेष्वर की दया और आषीर्वाद है। वह मेरा अनुभव था, और मैं प्रार्थना करता हुं की ये आपका भी हो। प्रभु को धन्यवाद कीजीये, हममे से जो बचाये गये है वो कह सकते है, की हमने यीषु के पुनरूत्थान से जीना षक्य कीया है !

प्प्ण् दूसरा, हमे जिवीत किया गया।

महेरबानी करके खडे रहे और पद चौथा और पांचवा जोर से पढ़ीये।

“परन्तु परमेष्वर, ने जो दया का धनी है, अपने उस बड़े प्रेम के कारण जिस से उसने हमसे प्रेम किया, जब हम अपराधों के कारण मरे हुए थे, तो हमे मसीह के साथ जिलाया, (अनुग्रह ही से तुम्हारा उध्धार हुआ है;) (इफिसियो 2:4-5)।

आप बैठ सकते हो

ओह, ये सुनो, पापी! प्रेरितो के आर्षीवचन सुन, “परन्तु परमेष्वर।” इन षब्दो में आषा है! “परन्तु प्रभु।” आप पापो मे मरे हुअे हो, “परन्तु परमेष्वर!” उनकी इन षब्दो के लिये प्रषंसा करे! जब आप उनको सूनते हो तो आप आनंदसे उछल कर नाचते हो! “परन्तु परमेष्वर!” हम ये षब्द विष्वास के इतिहास मे बार बार लगा सकते है। जब चीजे निराषावादी थी, तब परमेष्वर खुद समय और अपने आपको उसमे सामिल किया, और ये कहॉ जा सकता है, इफिसियों 2:4 के षब्दो मे, “परन्तु परमेष्वर!”

पुरी दुनिया पापों से इतनी भ्रश्टाचारी हो गई थी की प्रभुने कहाँ, “मैं मनुश्य को जीसकी मैंने सृश्टि की है पृथ्वी के ऊपरसे मिटा दूंगा” (उत्पत्ति 6:7)। “परन्तु यहोवा के अनुग्रह की दृश्टि नूह पर बनी रही”(उत्पत्ति 6:8)। “परन्तु परमेष्वर” बीच मे आये और नूह और उसके परिवार को भयंकर बाढ़ से बचा लिया। इस्त्राएल के बच्चे मे फाराओ, के नीचे गुलामीके बंधन में दबे निष्वास और कराह रहे थे। परन्तु प्रभुने मूसा से कहाँ, “इस कारण तू इस्त्राएलियो से कह, “मै यहोवा हूँ, और तुम को मिस्त्रियों के बोझों के नीचे से निकालूँगा, और उनके दासत्व से तुम को छुडाऊँगा, और अपनी भुजा बढ़ाकर और भारी दण्ड देकर तुम्हें छुडा लूँगा, और मैं; तुम को अपनी प्रजा बनाने के लिये अपना लूँगा, और मैं तुम्हारा परमेष्वर ठहरूँगा; और तुम जान लोगे कि मैं तुम्हारा परमेष्वर यहोवा हूँ जो तुम्हें मिस्त्रियोके बोझो के नीचे से निकाल ले आया” (निर्गमन 6:6-7)। “परन्तु परमेष्वर।” न्यायियों के समयमे इस्त्राएल के बच्चे “मिद्यानियों के कारण इस्त्राएली बडी दुर्दषा मे पड़ गए” (न्यायियो 6:6)। परन्तु प्रभु गिदोन के पास आये जैसे उन्होने गेहू छाना “उसे मिद्यानियों से छिपा रखे” (न्यायियो 6:11)। “और परमेष्वरने उससे (गिदोन से) कहाँ, निष्चय मैं तेरे संग रहूँगा, इसलिये तू मिद्यानियों को ऐसा मार लेगा जैसा एक मनुश्य को” (न्यायियो 6:16)। और गिदोन चिल्लाया, “उठो, यहोवा ने मिद्यानी सेना को तुम्हारे वषमें कर दिया है” (न्यायियो 7:15)। “परन्तु परमेष्वर।” यीषु पकडा गये थे, मारा, किल से क्रुस पर टांगे गये, मरे और बंद कब्र मे उन्हे दफनाया गया। परन्तु प्रभु अपनी मृत्युसे जी उठे, “उसको परमेष्वरने तीसरे दिन जिलाया, और प्रगट भी कर दिया” (प्रेरिता 10:40)। “परन्तु परमेष्वर।” ऊँचे याजक और उनके आदमी प्ररितो को ले गये और बंद कर दिया (प्रेरिता 5:18) ताकि वे सुसमाचार प्रवचन बन्द करे। “परन्तु रात को प्रभु के एक स्वर्गदूतने बन्दीगृह के द्वार खोलकर... और कहाँ, जाओ, मन्दिर में खडे होकर इस जीवन की सब बाते लोगो को सुनाओ” (प्रेरितो 5:19,20)। “परन्तु परमेष्वर” ने बन्दीगृह के द्वार खोल दिये और उन्हे प्रवचन देने के लिये आषीर्वाद दीया।

बार बार, पूरी बाइबल मे हमे एक के बाद एक दृश्टांत दिया जाता है प्रभुके दया का।

“परन्तु परमेष्वर, ने जो दया का धनी है, अपने उस बड़े प्रेम के कारण जिस से उसने हमसे प्रेम किया, जब हम अपराधों के कारण मरे हुए थे, तो हमे मसीह के साथ जिलाया, (अनुग्रह ही से तुम्हारा उध्धार हुआ है;)” (इफिसियो 2:4-5)।

और जब से प्रभुने नूह के दिन, और मूसाके दिन मे; और गिदोन के दिनमे, और प्ररितों के दिनमे, और यीषु के पुनरूत्थान के दिन में दया कि तो - क्या आप सोच नही सकते की वे आप पर भी दया कर सकते है?

“परन्तु परमेष्वर, ने जो दया का धनी है, अपने उस बड़े प्रेम के कारण जिस से उसने हमसे प्रेम किया, जब हम अपराधों के कारण मरे हुए थे, तो हमे मसीह के साथ जिलाया, (अनुग्रह ही से तुम्हारा उध्धार हुआ है;)” (इफिसियो 2:4-5)।

देखो और जब जो जल्दीसे हमारे बीच मे है उन्हे देखीये। देखो और जो मृत्यु से लाए गये है उन्हे देखिये, और प्रभुको दया से यीषु द्वारा जीवित किये गये ! रूकिये हमारे सारे अगुअे, कलीसिया के सारे नेता-उन मे से हर एक “पापोसे मरे हुअे थे”। फिर भी, अभी, देखो और देखिये-वे “यीषु के साथ जल्दी से” थे-यीषु जीवित हुअे-यीषु के आषीर्वाद से बचाये गये। कौन कह सकता है की वे नहीं थे “जल्दी से... यीषु के साथ”? किसे संदेह होगा की वे मृत्यु से पुनरूत्थान हुअे “यीषु के साथ”? स्पर्जनने कहा,

बेचारी मार्था को बहुत ताजुब्ब हुआ की यीषु उसके भाई (लाझर) को मृत्यु से जीवित करेंगे, परन्तु उन्होने कहा, जैसे उसे और ज्यादा ताजुब्ब करे, “जो कोई जीवित है और मुझ पर विष्वास करता है, वह अन्तकाल तक न मरेगा। क्या तू इस बात पर विष्वास करती है?” (यूहन्ना 11:26)। ये अेक चीज है जो हमे माननी है, की जब हमे आध्यात्मिक जींदगी मिली है, वो यीषु के जींदगी के साथ जुडी हुई है, और जो कभी मर नही सकती (स्पर्जन, पइपक, पृ 214)।

हा ! “कभी मरो नही !” हम फिनेय के जो फिर से जन्मे है उनके बारेमे गलत वाक्य कहॉ था उसका अस्वीकार करते है। फिनेयने कहॉ, “उन्हे जल्दी माहितीसे वाकेफ किया गया, की उनकी मुक्ति आखीरकार वो पवित्रता की षरतों पर आधारित है। उन्हे बुलाया गया... डरानेके लीये... और वो खो जाअे” (चालर्स जी, फिनेय, फिनेय की सीस्टमेटीक थीयोलोजी, बेथानी हाउस प्रकाषन, 1878 की प्रत को 1994 मे फिर से छापा गया, पृ.पृश्ठ. 546)। हाँ, फिनेय ले कहाँ की बचाया हुआ व्यक्ति अपनी मुक्ति खो सकता है ! हकीकत मे, फिनेयने कहाँ की ख्रिस्ती स्वर्ग से बाहर निकाले जा सकते है और अपनी मुक्ति खो सकते है, उनके मृत्यु के बाद! यहॉ पर फिनेय की थीयोलोजी किताबसे स्पश्ट वाक्य है “स्वर्ग में संत स्वाभाविक संभावना है की अपनी मान्यता से बाहर नीकले, और खो सकते है” (सी.जी. फिनेय, पइपकण् पृश्ठ 508)। हॉ, फिनेय ने कहॉ की ख्रिस्ती स्वर्ग से बाहर आकर खो भी सकता है !

ये पेलेजीयन धार्मिक मान्यता के विरूध्द की मान्यता है। हम इसका अस्वीकार करते है! वे जो परिवर्तित है वह कभी “अपरिवर्तित” नही हो सकता है। वह जो फिर से जन्मा है वह “अजन्मा” नही हो सकता!

“जब हम अपराधों के कारण मरे हुए थे, (परमेष्वर) तो हमे मसीह के साथ जिलाया, (अनुग्रह ही से तुम्हारा उध्धार हुआ है;) (इफिसियो 2:5)।

स्पर्जनने कहाँ, “अेक बार जो इष्वरीय जीवन पाता है, वो उसे कभी नही खोता। प्रभु... हमे जल्दीसे अंदरूनी जीवन नहीं देता... वो आज बचाता नही, और कल दण्ड देता... प्रभु होने की सुंदरता, फिर, आप जो यीषु के विष्वास से जीते हो वो अमर जींदगी जीओगे... इसमे आनंदित हो, और अपने प्रभु को सारी तारीफ दो!” (स्पर्जन, पइपकण् पृ.215)। परन्तु वहॉ पर एक और मुदा है। हम मृत थे। हमे जिवीत किया गया। परन्तु,

प्प्प्ण् तीसरा, हमे ऊपर उठाया गया।

महेरबानी करके खडे रहे और पांचवा और छठ़ा पद जोर से पढ़ीये।

“जब हम अपराधों के कारण मरे हुए थे, तो हमे मसीह के साथ जिलाया, (अनुग्रह ही से तुम्हारा उध्धार हुआ है;) और मसीह यीषु मे उसके साथ उठाया, और स्वर्गीय स्थानो मे उसके साथ बैठाया” (इफिसियो 2:5-6)।

आप बैठ सकते हो।

लोगोने मुझसे पूछा, “मैं यीषु के पास कैसे जाऊँ,” वे उलझन में थे क्योंकि वे जानते थे यीषु कहा है-ऊपर तीसरे स्वर्ग मे (2 कुरिन्थियो 12:2)। उन्हे पता है यीषु वहाँ है, वातावरण के उपर, तारामंडल के पीछे, वह जगह जिसे” “स्वर्गलोक” कहते है (लूका 23:43)। उन्होने बाइबल में पढा है कि यीषु वहॉ है, प्रभुके दाहिने हाथ पर बैठे हुअे। “मैं वहाँ कैसे जा सकता हुँ?” उन्होने पूछा। “मैं यीषु के पास ऊपर वहाँ कैसे आ सकता हूँ-दूसरी दुनिया में?”

ठीक है, जरूर, जवाब सहज होना चाहिये। आप वहाँ अपने आप नही जा सकते हो! परन्तु “निर्णायक्ता” ने बहुतो को अंधकार मे डाल दिया। वो सोचते है की वो यीषु के पास अपनी षक्ति से आ सकते है! इस लिये वे लडखडा जाते है जब वे पढ़ते है यूहन्ना 6:44,

“कोई मेरे पास नहीं आ सकता, जब तक पिता जिसने मुझे भेजा है, उसे खींच न लेः और मैं उस अंतिम दिन फिर जिला उठाऊँगा” (यूहन्ना 6:44)।

उन्हे ये मानने मे कोई परेषानी नही है की प्रभु उनको उपर जायेंगे यीषु से मिलाने हवा मे बहुत खुषी से अंत तक (देखिये प् थिस्सलुनीकियो 4:16-171प् कुरिन्थियो 15:51-53)। फिर भी उन्हे ये मानने मे बहुत परेषानी होती है जब मुक्ति की बात आती है ! परन्तु दोनो चीजे वहाँ है, सभी को पढ़ने के लीये, यूहन्ना 6:44, में,

“कोई मेरे पास नहीं आ सकता, जब तक पिता जिसने मुझे भेजा है, उसे खींच न लेः और मैं उस अंतिम दिन फिर जिला उठाऊँगा” (यूहन्ना 6:44)।

परमेष्वर की वही बडी ताकत, जो ख्रिस्ती यों को ऊपर हवा मे यीषु से मिलाने ले जायेंगे, अब जरूर तुम्हे ऊपर यीषु के पास ले जाना चाहिये प्रभु के दाहिने हाथ पर! ये प्रभु है जो पापीयोको यीषु के पास ले जाते है- पापी खुद नहीं-परन्तु परमेष्वर “कोई मेरे पास नहीं आ सकता जब तक पिता ... उसे खींच न ले।” यह खुषी जैसे है सिर्फ अब होती है-जब आप यीषु के पास आते हो। फिर, वो अद्भूत पल मे, इफिसियो 2:6 होता है ! उसे देखिये ! खडे रहो और जोर से पढ़ो !

“और मसीह यीषु मे उसके साथ उठाया, और स्वर्गीय स्थानो में उसके साथ बैठाया” (इफिसियो 2:6)।

आप बैठ सकते हो।

डो. हेन्ड्रीकसनने उस पद के लीये कहाँ, “हमने हमारी जात से... जिवीत किया, उठाया और स्वर्गीय जगहो पर बैठाया” (वीजीयम हे हेन्ड्रीकसन, पी एच.डी., नये नियमावली पर संभाशण, बेफर बुक हाऊस, 1981 में फिर से छापा गया, पृश्ठ. 118; इफिसियो 2:6 पर टीप्पणी)। घ रीर्फोमेषन स्टडी बाइबल, यह ऐसे बनाते है,

... हमे जिवीत किया... हमे ऊपर उठाया... हमे बिठार्या ये यीषु की जींदगी की अैतिहासिक घटना है : उनका मृत्यु से पुनरूत्थान और प्रभु के दाहिने हाथ पर बिठाना। परन्तु पौलुस ने भी उन्हे बताया की माननेवालो को क्या हुआ। पौलुस सिखाते है यीषु और जो उनके पास आते है उनके बीच का मिलाप...उन्हे ... ताकि जो पापो से मुक्ति वाला कहॉ जाता है (घ रीफोरमेषन स्टीडी बाइबल, लिगोनियस्ट मिनिस्ट्रीस, 2005, पृ.1706; इफिसियो 2:5,6 पर टीप्पणी)।

यीषु के पास आना वह सिर्फ परमेष्वर की कृपा और ताकत से ही संभव हुआ, जो हमारी आत्मा को यीषु के पास ले जाता है जब हम परिवर्तित होते है!

फिर आप क्या कर सकते हो, अगर आप अभी भी खेये हुअे हो? मसीह ने कहॉ, “सकेत द्वार से प्रवेष करने का यत्न करो” (लूका 13:24)। पढ़ीये और दोबारा पढीये ये धार्मिक प्रवचन। “प्रयत्न करो” आपकी सारी षक्ति से “अंदर प्रवेश पाने।” “खटखटाओ, और तुम्हारे लिये खोला जायेगा” (लूका 11:9)। ग्रीक षब्द हमे कहता है “खटखटाते रहो, प्रार्थना करमे रहो।” जब जब संभंव हो प्रार्थना करे प्रभु को की आपको जागृत करे अपने पापो भरे और खोयी हुई अवस्था से। प्रार्थना करें उसे की आपके आत्मा को जल्दी जागृत करे, आपको जिवीत करे, और आपके यीषु के पास ले जाये। नर्क कीह भयानकता के बारे मे सोचीये, और यीषु के बीना मुक्ति। “खटखटाओ अंदर प्रवेष करने” और प्रभु “(आपको) जल्दी यीषु के पास ले जायेंगे... और यीषु मसीह के स्वर्गीय जगह तक ऊपर उठायेंगे। वो आनंदभरी क्षण आपके पास जल्दी आये”! आप जल्द ही जीना षुरू करे - “यीषु की स्वर्गीय जगह” तक ले जाये। षायद आप, जो पापो मे मरे हुए हो, अब पुनरूत्थान का अनुभव करे! आप यीषु मे प्रभु की ताकत से फिर से जन्म ले! आमिन!

“परन्तु परमेष्वर, ने जो दया का धनी है, अपने उस बड़े प्रेम के कारण जिस से उसने हमसे प्रेम किया, जब हम अपराधों के कारण मरे हुए थे तो हमे मसीह के साथ जिलाया, (अनुग्रह ही से तुम्हारा उध्धार हुआ है;) और मसीह यीषु मे उसके साथ उठाया, और स्वर्गीय स्थानो मे उसके साथ बैठाया” (इफिसियो 2:4-6)।

(संदेश का अंत)
आप डॉ0हिमर्स के संदेश प्रत्येक सप्ताह इंटरनेट पर पढ़ सकते हैं क्लिक करें
www.realconversion.com अथवा www.rlhsermons.com
क्लिक करें ‘‘हस्तलिखित संदेश पर।

आप डॉ0हिमर्स को अंग्रेजी में ई-मेल भी भेज सकते हैं - rlhymersjr@sbcglobal.net
अथवा आप उन्हें इस पते पर पत्र डाल सकते हैं पी. ओ.बॉक्स 15308,लॉस ऐंजेल्स,केलीफोर्निया 90015
या उन्हें दूरभाष कर सकते हैं (818)352-0452

ये संदेश कॉपी राईट नहीं है। आप उन्हें िबना डॉ0हिमर्स की अनुमति के भी उपयोग में ला सकते
 हैं। यद्यपि, डॉ0हिमर्स के समस्त वीडियो संदेश कॉपीराइट हैं एवं केवल अनुमति लेकर
ही उपयोग में लाये जा सकते हैं।

धार्मिक प्रवचन के पहले डो. क्रेगटन एल. चान द्वारा पढ़ा गया पवित्र वाक्या : इफिसियो 2:1-7।
धार्मिक प्रवचन के पहले श्रीमान बेन्जानिन कीनकेड ग्रीफिथ व्दारा गाया हुआ गीतः
“आओ, तुम पापीयो” (जोसेफ हार्ट द्वारा, 1712-1768; “हा,
मै जानता हूँ” के राग पर, आना डब्ल्यु वोटरमेन द्वारा, 1920)।


रूपरेखा

पुनरूत्थान अभी!

डॉ. आर. एल. हायमर्स, जुनि. द्वारा

“परन्तु परमेष्वर, ने जो दया का धनी है, अपने उस बड़े प्रेम के कारण जिस से उसने हमसे प्रेम किया, जब हम अपराधों के कारण मरे हुए थे तो हमे मसीह के साथ जिलाया, (अनुग्रह ही से तुम्हारा उध्धार हुआ है;) और मसीह यीषु मे उसके साथ उठाया, और स्वर्गीय स्थानो मे उसके साथ बैठाया” (इफिसियो 2:4-6)।

(इफिसियो 2:1)

I.   पहला, हम मरे हुए थे, इफिसियो 2:1; उत्पत्ति 6:1; अय्यूब 14:4; 15:14; भजन संहिता 51:5; भजन संहिता 58:3; सभोपदेषक 9:3;
यिर्मयाह 17:9; इफिसियों 2:1,3; कुलुस्सियो 2:13; इफिसियों 2:1,5; प्ररितो 1:3; ॥ तीमुथियुस3:7; यहूदा 13।

II.  दुसरा, हमे जिवीत किया गया, इफिसियों 2:4-5; उत्पत्ति 6:7,8;
निर्गमन 6:6-7; न्यायियो 6:6, 11, 16, 7:15; प्रेरितो 10:40;
प्ररितो 5:18; 19, 20; यूहन्ना 11:26।

III. तीसरा, हमे ऊपर उठाया गया, इफिसियोंं 2:5-6; 2 कुरिन्थियो 12:2;
लूका 23:43; यूहन्ना 6:44; 1 थिस्सलुनीकियो 4:16-17; ।
कुरिन्थियो 15:51-53; लूका 13:24; 11:9।