Print Sermon

इन संदेशों की पांडुलिपियां प्रति माह २१५ देशों के १,५००,००० कंम्प्यूटर्स पर इस वेबसाइट पते पर www.sermonsfortheworld.com जाती हैं। सैकड़ों लोग इन्हें यू टयूब विडियो पर देखते हैं। किंतु वे जल्द ही यू टयूब छोड़ देते हैं क्योंकि विडियों संदेश हमारी वेबसाईट पर पर पहुंचाता है। यू टयूब लोगों को हमारी वेबसाईट पर पहुंचाता है। प्रति माह ये संदेश ३५ भाषाओं में अनुवादित होकर १२०,००० प्रति माह हजारों लोगों के कंप्यूटर्स पर पहुंचते हैं। लिये उपलब्ध रहते हैं। पांडुलिपि संदेशों का कॉपीराईट नहीं है। आप उन्हें बिना अनुमति के भी उपयोग में ला सकते हैं। आप यहां क्लिक करके अपना मासिक दान हमें दे सकते हैं ताकि संपूर्ण संसार जिसमें मुस्लिम व हिंदु भी सम्मिलित है उनके मध्य सुसमाचार फैलाने के महान कार्य में सहायता मिल सके।

जब कभी आप डॉ हिमर्स को लिखें तो अवश्य बतायें कि आप किस देश में रहते हैं। अन्यथा वह आप को उत्तर नहीं दे पायेंगे। डॉ हिमर्स का ईमेल है rlhymersjr@sbcglobal.net.




सेन्‍डेमानीयानीझम

SANDEMANIANISM
(Hindi)

डो. आर. एल. हायर्मस, जुनि. द्वारा
by Dr. R. L. Hymers, Jr.

लोस एंजलिस के बप्‍तीस टबरनेकल में प्रभु के दिन की
सुबह, 7 जुलै, 2013 को दिया हुआ धार्मिक प्रवचन
A sermon preached at the Baptist Tabernacle of Los Angeles
Lord’s Day Morning, July 7, 2013

‘‘पवित्रषास्‍त्र में ढूँढ़ते हो; क्‍योंकि समझते हो कि उसमें अनन्‍त जीवन तुम्‍हें मिलता है और यह वही है जो मेरी गवाही देता है। और फिर भी तुम जीवन पाने के लिये, मेरे पास आना नहीं चाहते'' (यूहन्‍ना 5:39-40)।


दो हजार वर्शो से वहाँ विवाद हो रहा कि ग्रीक क्रियापद ‘‘ढूँढ़ना'' आज्ञासूचक या बोधक भाव में है या नहीं। क्‍या यीषु उन्‍हें पवित्रषास्‍त्र ढूँढ़ने कहते थे, या क्‍या वे वर्णन करते थे हकीकत का कि उन्‍होंने उसे ढूँढ़ा है? मेरे लिये यह एक महत्‍वपूर्ण प्रष्‍न नहीं है क्‍योंकि वह मुख्‍य मुदद्‌ा नहीं था जो मसीह बनाते थे। मैं सोचता हूँ इसीलिये पवित्र आत्‍मा क्रियापद का भाव नहीं देते - क्‍योंकि वे चाहते थे हम पद के दूसरे आधे भाग पर रोषनी डाले। और भी मैं सोचता हूँ मसीह वर्णन करते थे जो फरीसियों करते थे। वे पवित्रषास्त्र ढूँढ़ते थे - और ऐसा निरन्‍तर करते थे! मसीह को निष्‍चितरूप से उन्‍हें पवित्रषास्‍त्र ढूँढ़ने को कहने की आवष्‍यकता नहीं थी! डॉ. गेबेलियन की टीप्‍पणी कहती है, ‘‘उन्‍होंने पु.नी. ख्‍पुरानी नियमावली, पर विचार किया प्रयत्‍न करने का इसके षब्‍दों से संभवतः संपूर्ण अर्थ निचोडने का, क्‍योंकि उन्‍होंने माना कि वह अभ्‍यास स्‍वयं ही उन्‍हें जीवन देगा'' (फ्रान्‍क ई. गेबेलीयन, डी.डी., संपादक,�ध एक्‍पोझीटर्स बाइबल कोमेन्‍ट्री, अर्थ-प्रकाषक की बाइबल टीप्‍पणी, �झोन्‍डरवान, 1981, भाग 9, पृश्‍ठ. 68; यूहन्‍ना 5:39 पर टीप्‍पणी)।

हमें अनुवादित क्रियापद ‘‘ढूँढ़ना'' का भाव न देते हुए परमेष्‍वर की आत्‍मा हमारा ध्‍यान ज्‍यादा महत्‍वपूर्ण मुददे पर लगाती है - कि उन्‍होंने सोचा की उनके पास अनन्‍त जीवन था पवित्रषास्‍त्र के अभ्‍यास और विष्‍वास से, ‘‘समझते है उसमें कि अनन्‍त जीवन तुम्‍हें मिलता है।'' मेथ्‍यु हेन्री ने कहा, ‘‘उन्‍होंने देखा ख्‍अनन्‍त जीवन, के लिये सिर्फ पवित्रषास्‍त्र को पढ़ने और अभ्‍यास करने के द्वारा यह उनके दरम्‍यान सामान्‍य और सही कहना था ‘वह जिनके पास व्‍यवस्‍था का षब्‍द है'; उनके पास अनन्‍त जीवन हैं; उन्‍होंने सोचा वे स्‍वर्ग के लिये निष्‍चित थे अगर वे मन से कह सके...ऐसा पवित्रषास्‍त्र का वाक्‍यखण्‍ड जैसे वे बड़ो की परंपरा द्वारा नक्‍की किए गए हो'' (मेथ्‍यु हेन्रीस कोमेन्‍ट्री अॉन ध होल बाइबल, संपूर्ण बाइबल पर मेथ्‍यु हेन्री की टीप्‍पणी, हेन्‍ड्रीकसन प्रकाषक, 1996 की प्रत, भाग 5, पृश्‍ठ. 753; यूहन्‍ना 5:39 पर टीप्‍पणी)।

हमें अनुवादित क्रियापद ‘‘ढूँढ़ना'' का भाव न देते हुए परमेष्‍वर की आत्‍मा हमारा ध्‍यान ज्‍यादा महत्‍वपूर्ण मुददे पर लगाती है - कि उन्‍होंने सोचा की उनके पास अनन्‍त जीवन था पवित्रषास्‍त्र के अभ्‍यास और विष्‍वास से, ‘‘समझते है उसमें कि अनन्‍त जीवन तुम्‍हें मिलता है।'' मेथ्‍यु हेन्री ने कहा, ‘‘उन्‍होंने देखा ख्‍अनन्‍त जीवन, के लिये सिर्फ पवित्रषास्‍त्र को पढ़ने और अभ्‍यास करने के द्वारा यह उनके दरम्‍यान सामान्‍य और सही कहना था ‘वह जिनके पास व्‍यवस्‍था का षब्‍द है'; उनके पास अनन्‍त जीवन हैं ; उन्‍होंने सोचा वे स्‍वर्ग के लिये निष्‍चित थे अगर वे मन से कह सके...ऐसा पवित्रषास्‍त्र का वाक्‍यखण्‍ड जैसे वे बड़ो की परंपरा द्वारा नक्‍की किए गए हो'' (मेथ्‍यु हेन्रीस कोमेन्‍ट्री अॉन ध होल बाइबल, संपूर्ण बाइबल पर मेथ्‍यु हेन्री की टीप्‍पणी, हेन्‍ड्रीकसन प्रकाषक, 1996 की प्रत, भाग 5, पृश्‍ठ. 753; यूहन्‍ना 5:39 पर टीप्‍पणी)।

वे पवित्रषास्‍त्र ढूढ ़ने के इच्‍छुक थे और पवित्रषास्‍त्र मानने के इच्‍छुक थे, परंतु वे यीषु के पास आने के इच्‍छित नहीं थे। उन्‍होंने बाइबल के पदो में मानना मसीह के पास आने के बदले नियुक्‍त किया! यहीं है जो विशय पढ़ाता है - और हकीकत में यह बहुत महत्‍वपूर्ण पाठ है!

‘‘पवित्रषास्‍त्र में ढूँढ़ते हो; क्‍योंकि समझते हो कि उसमें अनन्‍त जीवन तुम्‍हें मिलता है : और यह वही है जो मेरी गवाही देता है। और फिर भी तुम जीवन पाने के लिये, मेरे पास आना नहीं चाहते'' (यूहन्‍ना 5:39-40)।

और वह हमें लाता है ैंदकमउंदपंदपेउ के आत्‍मा को षाप देनेवाले दोश पर, दोश जिसने हमारे कलीसिया को हज़ारो बिना बचाए लोगों से भर दिया जो सोचते हैं कि वे मसीही है, जब, हकीकत में, वे दुश्‍टात्‍मा के पुत्र हैं, अधोलोक की अनन्‍त ज्‍वाला के लिए बढे़ हुए। सेन्‍डेमानीयानीझम क्‍या है? यह षिक्षा है जोन ग्‍लास (1695-1773) नामके स्‍कोटलेन्‍ड के कलीसिया के याजक द्वारा पहलीबार सोची गई, और फिर उनके दामाद रोर्बट सेन्‍डेमान (1718-1771) द्वारा प्रचलित की हुई। उनकी मुख्‍य षिक्षा यह थी - कि आप बाइबल जो मसीह के लिए कहता है उसे आपके मनसे मान लो, और यही सब है जो आवष्‍यक है। बचाए जाने के लिये, आप केवल मानते हो जो बाइबल मसीह के बारे में कहता है। यह हकीकत में वही समान दोश है जैसे फरीसियों जिन्‍होंने कहा था, ‘‘वह जिनके पास षब्‍द ख्‍बाइबल के, है उसके पास अनन्‍त जीवन है''। डॉ. लोयड-जोनेसने कहा, ‘‘आप उसे अपने मन से स्‍वीकार करो, और सिर्फ वही है जो आवष्‍यक है...यह अपने स्‍वयं में उदासीनता से दूर है धार्मिक जीवन की किसी भी भावनाओं के प्रदर्षन के अभ्‍यास से। अब वह विशय का बहुत निश्‍कर्श है'' (मार्टीन लोयड-जोन्‍स, एम.डी., ‘‘सेन्‍डेमेनीयानीझम'',�ध पुरीटन्‍स : घेर ओरीजीन एन्‍ड सकसेर्सस, फरीसियो : उनके आरम्‍भ और उत्‍राधिकारी, �में ध बेनर ओफ ट्रुथ ट्रस्‍ट, 1996 की प्रत, पृश्‍ठ. 175)।

रोर्बट सेन्‍डेमान ने कहा कि हरएक जो मसीह के मृत्‍यु और पुनरूत्‍थान को समझता है, और मानता है कि घटना हकीकत में हुई जैसे बाइबल में दर्षायी है, वह बचाया गया है (लोयड-जोन्‍स, पइपकण्‍ए पृश्‍ठ. 174)। आज सेन्‍डेमानीयानीझम हमारे कलीसिया में बड़ा दोश है। यह लाखों को अधोलोक भेजता है। इस सुबह यहाँ लोग है जो इस प्राणनाषक दोश को मानते हैं! इसीलिये, इस धार्मिक प्रवचन पर पूरा ध्‍यान दे, क्‍योंकि षायद आप उनमें से एक हो सकते हो!

‘‘पवित्रषास्‍त्र में�ढूँते हो कि उसमें अनन्‍त जीवन तुम्‍हें मिलता है : और यह वही है जो मेरी गवाही देता है। और फिर भी तुम जीवन पाने के लिये, मेरे पास आना नहीं चाहते'' (यूहन्‍ना 5:39-40)।

हम इस पाठ से दो मुख्‍य बातें सीखते है।

।. पहला, बाइबल में विष्‍वास करना आपको बचाएगा नहीं।

यहूदी जिनसे मसीह ने बात की थी बाइबल में विष्‍वास किया। परंतु वे यीषु के पास नहीं आते। आज इस सुबह कुछ यहाँ है जो बाइबल में विष्‍वास करते हैं। बाइबल यीषु के बारे में क्‍या कहता आप वह भी विष्‍वास करते हो। आप मानते हो कि वे स्‍वर्ग से नीचे आए। आप विष्‍वास करते हो कि वे कुँवारी माता से जन्‍मे थे। आप विष्‍वास करते हो कि उन्‍होंने आपके पाप ऊपर लिये। आप मानते हो कि गतसमनी की वाटिका में वे आपके पाप के बोझ के अधीन तड़पे, जहाँ उन्‍होंने ‘‘पसीना...मानो लहू की बड़ी बड़ी बूँदो के समान भूमि पर गिर रहा था'' (लूका 22:44)। आप विष्‍वास करते हो कि उनकी पीठ पर कोड़े मारे गए। आप मानते हो की पापी उनके कोड़ो की मार के निषान द्वारा चंगे हुए। आप विष्‍वास करते हो कि वे क्रूस पर किल से लट़काए गए थे। आप विष्‍वास करते हो कि उन्‍होंने हमारे पाप वहाँ सहे। आप मानते हा कि वे उस क्रूस पर मरे पापो को पूरा चुकाने। आप मानते हो कि वे षारीरिकरूप में फिर से उठे मृत्‍यु से। आप विष्‍वास करते हो कि वे फिर से स्‍वर्ग में ऊपर चढ़े, पितामह के दाहिने हाथ पर। आप विष्‍वास करते हो कि वे पापीयों के लिये प्रार्थना करते है। आप विष्‍वास करते हो कि वे फिर से आते है उनके अपनो को प्राप्‍त करने आनन्‍द में। आप विष्‍वास करते हो कि वे लौटकर आते है बादलो से संसार पर हज़ारो वर्श तक षासन करने। आप यह भी मानते हो कि कोई भी यीषु के पास आने के बिना बचाया नहीं जा सकता। परंतु, चाहे आप यह सारी बातों पर विष्‍वास करते हो फिर भी यीषु आप से अभी भी कहते है,

‘‘तुम जीवन पाने के लिये मेरे पास आना नहीं चाहते'' (यूहन्‍ना 5:40)।

आप में से कोई व्‍याकुल हो। आप आष्‍चर्यचकित हो आप कैसे वह सारे बहुमूल्‍य सत्‍य बाइबल में है वो मानते हो और बचाए नहीं गए। आप हकीकत नहीं समझ पाए हो कि पवित्रषास्‍त्र में विष्‍वास करने के द्वारा कोई भी बचाया नहीं गया है। प्रेरितो पौलुस ने तीमुथियुस से कहा,

‘‘...पवित्रषास्‍त्र तेरा जाना हुआ है जो तुझे मसीह यीषु पर विष्‍वास करने से उद्धार प्राप्‍त करने के लिये बुद्धिमान बना सकता है'' (2 तीमुथियुस 3:15)।

यही है जहाँ आपका दोश है। आप जो बाइबल कहता है यीषु के बारे में उस पर बिना स्‍वयं ‘‘मसीह यीषु पर विष्‍वास करने''। दूसरे षब्‍दों में, आप उन यहूदियों की तरह है जो यीषु बोले जब उन्‍होंने कहा,

‘‘पवित्रषास्‍त्र में�ढूँढ़ते हो;त्रष्‍ष्‍ कयोंकित्रष्‍ष्‍ समत्रष्‍ष्‍झते हो कि उसमें अनन्‍त जीवन तुम्‍हें मिलता है : और यह वही है जो मेरी गवाही देता है। और फिर भी तुम जीवन पाने के लिये, मेरे पास आना नहीं चाहते'' (यूहन्‍ना 5:39-40)

मुझे आपसे फिर से कहना ही चाहिए, जितना हो सके उतनी मजबूती से - बाइबल में विष्‍वास करना आपको नहीं बचा सकता जबतक आप स्‍वयं यीषु के पास नहीं आते! सिर्फ बाइबल में विष्‍वास, जैसे अपनेआप में अंत, सेन्‍डेमेनीयानीझम की प्राणनाषक षिक्षा है!

          डॉ. ए. डबल्‍यु. टोझर इसके विरूद्ध निरन्‍तर बोले। पाठ जिसका षीर्शक था, ‘‘बाइबल टॉट्‌ ओर स्‍पीरीट टॉट्‌्‌? बाइबल ने सिखाया या आत्‍मा ने सिखाया?'' में डॉ. टोझर ने कहा,
          यह षायद कुछ वाचकों को आघात दे सलाह देना कि वहाँ पर अंतर है बाइबल का सिखाया होना और आत्‍मा का सिखाया होना। तथापि यह एैसा है...
         हम में से ज्‍यादातर परिचित हैं कलीसियाओं के साथ जो उनके बच्‍चों को बचपन के कोमल वर्शो से बाइबल सिखाते हैं, उन्‍हें लंबी सूचनाएँ देते है प्रष्‍नोत्तररूप (या बाइबल कक्षा) में और फिर भी कभी भी उनमें जीवित मसीहीता उत्‍पन्‍न नहीं की नाही पुरूश संबंधी देव-भक्‍ति। उनके सदस्‍य मृत्‍यु से जीवन में पसार होने के कोई प्रभाव नहीं दिखाते। कोई भी ख्‍चिन्‍ह, मुक्‍ति के इतनी सरलता से दर्षाय गऐ हैं पवित्रषास्‍त्र में, वह उनमें नहीं मिलते। उनका धार्मिक जीवन सही और यथोचित रीति धर्मानूरूप है, परंतु पूरी तरह यांत्रिक और संपूर्ण प्रकाष में कम...
         ऐसे व्‍यक्‍ति पाखण्‍डी की तरह हटाए नहीं जा सकते। उनमें से बहुत से इस सबके बारे में करूणाजनकरूप से गंभीर हैं। वे अंधे हैं। अति आवष्‍यक आत्‍मा की कमी से वे विष्‍वास के बाहरी आवरण से जुडने दबाव ड़ाले जाते हैं, जब कि सारा समय उनके गहरे मन भूखे रहते हैं आत्‍मिक वास्‍तविकता के लिये और वे नहीं जानते उनके साथ क्‍या गलत हुआ है...यीषु मसीह स्‍वयं सत्‍य है, और वे सिर्फ षब्‍दो की सीमा में नहीं रह सकते...(ए. डबल्‍यु. टोझर, डी.डी., ‘‘बाइबल टॉट्‌ ओर स्‍पीरीट टॉट्‌?'',�ध रूट ओफ राइटीयासनेस्‌, धार्मिकता की जड़ ,क्रीस्‍टीयन प्रकाषन, 1986, की प्रत, पृपृश्‍ठ. 35, 36, 37)।

डॉ. टोझर इस प्रकार सेन्‍डेमेनीयानीझम की झूठी षिक्षा को खुल्‍ला करते है। डॉ. लोयड-जोन्‍स ने कहा की सेन्‍डेमानीयानीझम ‘‘...बहुत समकालिक विशय है। हकीकत में, मैं आगे जाऊँगा और सूचित करूँगा की यह वर्तमान समय में हमारे सामने मुख्‍य परेषानीयों में से एक हैं'' (पइपकण्‍ए पृश्‍ठ. 177)।

‘‘पवित्रषास्‍त्र में ढूँढ़ते हो; क्‍योंकि समझते हो कि उसमें अनन्‍त जीवन तुम्‍हें मिलता है : और यह वही है जो मेरी गवाही देता है। और फिर भी तुम जीवन पाने के लिये, मेरे पास आना नहीं चाहते'' (यूहन्‍ना 5:39-40)।

॥. दूसरा, आपको आपके आलस्‍य से हिलाना जरूरी है।

कभी कभी यूहन्‍ना के पाँचवे पाठ में मसीह ने जो संदेष प्रचार किया है उन अविष्‍वासुओ को उसे पूरा पढ़ो। उन्‍होंने उनको कहा,

‘‘और पिता, जिसने मुझे भेजा है, उसीने मेरी गवाही दी है। तुम ने न कभी उसका षब्‍द सुना, और न उसका रूप देखा है। और उसके वचन को मन में स्‍थिर नहीं रखते, क्‍योंकि जिसे उसने भेजा तुम उसका विष्‍वास नहीं करते'' (यूहन्‍ना 5:37, 38)।

वह मजबूत प्रचार था। वह उस प्रकार का प्रचार था जो हमारे दादा-परदादाओं ने पहली बड़ी जागृतता में सुना था। वाइटफील्‍ड और एडवार्डस और वेस्‍ली, हॉवेल हेरीस, और उस समय के दूसरे महान्‌ प्रचारकों ने जड़ पर कुल्‍हाडी रखी। और रोर्बड सेन्‍डेमान ने उनसे इसके लिये नफरत की! डॉ. लोयड-जोन्‍स ने कहा,

वे जिन्‍होंने सेन्‍डेमानीयन मंतव्‍य पकडे रखा है वे सदा विरूद्ध होते है, तीव्र भावनात्‍मक प्रचार से और कोई भी प्रचार जो लोगों को महसूस करने के असर में लाए...हकीकत है की वे पापी है, और व्‍यवस्‍था का आतंक, और वह कि उनको पवित्र प्रभु का सामना करना था, और वे उनके सामने जा सके उससे पहले उन्‍हें पवित्र होना चाहिए...क्रीसमस एवान्‍स ख्‍महान्‌ बप्‍तीस सुसमाचार प्रचारक, ने दर्षाया कैसे ख्‍सेन्‍डेमेनीयन, सदा ‘‘तीव्र प्रचार'' करने के विरूद्ध थे उन्‍हें वह पसंद नहीं था। आप देखो ख्‍सेन्‍डेमेनीयनस ने कहा, आपको सिर्फ प्रमाण प्रस्‍तुत करना है...(पइपकण्‍ए पृश्‍ठ. 185)।

रोर्बड सेन्‍डेमान्‌ और उसके अनुकरण करनेवाले अक्षरषः वाईटफील्‍ड, वेस्‍ली, हॉवेल हेरीस, डेनीयल रॉलेन्‍ड, क्रीसमस एवान्‍स और दूसरे आत्‍मा भरे आदमीयों के प्रचार से तिरस्‍कार किया जिन्‍होंने पहली महान्‌ जागृतता में उनके ललाट पर मुहर नित्‍यता के साथ प्रचार किया था।

एक सेन्‍डेमेनीयान याजक मानते है वे लोगो के बचाए जाने की ‘‘षिक्षा'' दे सकते हैं। ऐसे याजक नहीं सोचते वहाँ आवष्‍यकता है किसी ‘‘कठिन'' प्रचार की पाप और व्‍यवस्‍था पर। उन जैसे आदमी सोचते है मजबूत ‘‘व्‍यवस्‍था'' प्रचार करना लोगों को अनावष्‍यकता से बेचैन करते हैं। एक याजक ने मुझे वह कहा, और मैंने उसे पूछा, ‘‘क्‍या आप बकरी को भेड़ बनने ‘सिखा' सकते हो?'' वह उसके लिए नया विचार था। वह निचे ज़मीन को देखता रहा और मुझे जवाब नहीं दिया। परंतु यह अच्‍छा प्रष्‍न हैं। ‘‘क्‍या आप बकरी को भेड़ बनने ‘सिखा' सकते हो?'' धर्मप्रचार सेवा में पचपन वर्श बाद मैंने उस प्रष्‍न का उत्‍तर दिया प्रतिध्‍वनि के साथ ‘‘नहीं!!!'' आप सुसमाचार ‘‘सिखा'' सकते हो जबतक आप चेहरे में नीले होते और बकरी, बकरी ही रहेगी। बकरी को भेड़ बनने के लिये चमत्‍कार होना चाहिए! और परिवर्तन का चमत्‍कार आमतौर पर आत्‍मा-भरे व्‍यवस्‍था प्रचार के साथ जुड़ता है - पाप और न्‍याय, और आषाहीनता बिना मसीह के! डॉ. लोयड़-जोन्‍स ने, सेन्‍डेमानीयानीझम की बात में, कहा, ‘‘आप यंत्रवत्‌ प्रचार कर सकते हो, आप उदासीनता से प्रचार कर सकते हो, आप यंत्रवत्‌ प्रार्थना कर सकते हो, आप, उदासीनता से प्रार्थना कर सकते हो। इस षिक्षा का असर क्रीसमस एवान्‍स पर हुआ कि वह तीव्रता और भावनाएँ महसूस करने से, और तात्‍कालिकता जिसे वह जानता था उसे दूर हो गया, और इस भयानक उदासीनता को उसे प्रत्‍यक्ष करना'' (लोयड-जोन्‍स, पइपकण्‍ए पृपृश्‍ठ. 186-187)।

कुछ समय पहले एक याजक जो कभी भी चिल्‍लाते नहीं थे और कभी भी रोते नहीं थे जब वे प्रार्थना करते है या धार्मिक प्रवचन देते है उन्‍होेंने श्रीमान ली को डांटा प्रार्थना बहुत जोर से करने के लिये। परेषानी श्रीमान ली के साथ नहीं थी, परंतु याजक के साथ थी जो, राश्‍ट्रपति थियोडॉरे रूसवेल्‍ट को कथन करने वाले थे, प्रार्थना करते हैं और प्रचार करते हैं जैसे ‘‘उन षुश्‍क और कायर आत्‍माएँ जो ना विजय जानती है ना पराजय''। मैंने श्रीमान ली से कहा उस याजक पर ध्‍यान न देने क्‍योंकि अवष्‍य ही वे बहुत कम जानते है यर्थाथ, उदास, पीड़ा देनेवाली प्रार्थना के बारे में। वे जो सारा जानते है वो है ठंडी, जीवनरहित सेन्‍डेमानीयन प्रार्थना जो उन्‍होंने सुनी थी बेप्‍टीस्‍ट कलीसियाओं में हमारे समय में। बेचारा आदमी! उन्‍होंने कभी भी पुनःउद्धार नहीं देखा है! कितना जीवनरहित, और कितना दुःखद!

‘‘हाँ'', आप कहो, ‘‘वह अच्‍छा है! श्रीमान ली अपना पूरा मन उनकी प्रार्थनाओं मैं लगाते है। वह अच्‍छा है!'' परंतु क्‍या मैं आप से एक प्रष्‍न पूछ सकता हूँ? क्‍या आपने अपना पूरा मन मसीह को ढूँढने में लगाया है? या आप ऐसे ठंडे और जीवनरहित हो आपकी मसीह की खोज़ में जैसे वह आदमी उसकी प्रार्थनाओं में है?�मैं कहता हूँ आप श्रीमान ली की ओर जरा भी नहीं हो! �मैं कहता हूँ आप सेन्‍डेमानीयन याजक की तरह उस ओर हो! आप सेन्‍डेमानीयन की ओर हो! आपकी मसीह के लिये खोज उत्‍कंट और तीव्र नहीं है। आप तत्‍पर और भावमयरूप से आपकी मसीह के लिये खोज में सामिल नहीं हो, क्‍या आप हो? मैं आप की आँखो में आँसू नहीं देखता जैसे आप पूछताछ कक्ष में चलते हो असावधानी से। मैं कहता हूँ आप ऐसे याजक की तरह ठंडे और कायर हो जो प्रचार करने या प्रार्थना में अपनी आवाज उठाने से ड़रता है - क्‍योंकि वह कुछ ‘‘महत्‍वपूर्ण स्‍त्रीयों से उसकी कलीसिया में ड़रता है!'' ‘‘हाँ'', आप कहते हो, ‘‘एक आदमी उस जैसा उनके कलीसिया में कुछ औरतों से ड़रता है!''�अच्‍छा आप किससे ड़रते हो? �क्‍यों हम कभी भी नहीं सुनते मजबूत पुकार या मजबूत प्रार्थना आप से?�क्‍योंकि आप अपनेस्‍वयं में सेन्‍डेमानीयन हो, इसीलिये! �आप अपनेस्‍वयं में ठंडे़, मृत सेन्‍डेमानीयन हो!

आप कोमलता से पूछताछ कक्ष में आओ और कहो, ‘‘मैं भरोसा करता हूँ की यीषु मेरे लिये मरे!'' आप भरोसा करते हो की वे आपके लिए मरे! आप कितने सुन्‍दर और विनम्र हो! आप बहादूर नहीं सकते और कहो, ‘‘वे मेरे लिये मरे।'' ओह, नहीं! ‘‘मैं भरोसा करता हूँ की वे मेरे लिये मरे।'' एक षिक्षा! एक षिक्षा! ‘‘कि'' वे मेरे लिये मरे! आप षिक्षा पर भरोसा करते हो-और मसीह स्‍वयं पर नहीं! आप बिनापुनःनिमार्ण किए हुए सेन्‍डेमानीयन हो! आप मृदुभाशी, मुलायम-कलाईवाले सेन्‍डेमानीयन हो! आप दुश्‍टात्‍मा से अंध सेन्‍डेमानीयन हो! आप यीषु स्‍वयं पर, भरोसा नहीं करोगे! ओह, नहीं! आप उसके लिये बहुत ज्‍यादा सुन्‍दर हो! यीषु स्‍वयं पर भरोसा करो? ओह, नहीं! वह बहुत गन्‍दा होगा। आप षायद रोए या सिसके! आप षायद उनका थोड़ा लहू अपने कपड़ो पर लो! आप कहते हो, ‘‘आप मुझसे आषा नहीं रख सकते उनके इतना करीब आना! मैं यहाँ खड़ा रहूँगा, अच्‍छा और साफ सुथरा, और ‘भरोसा करूँगा की वे मेरे लिये मरे!' या मैं उनका भरोसा करूँगा मेरे पाप षुद्ध करने।''' क्‍या आप मसीह स्‍वयं पर भरोसा करोगे? ‘‘ओह, वह छोट़ा बहुत स्‍वाभाविक है! वह षायद मुझे रूलाए। नहीं, मैं सीधे उनके पास नहीं आऊँगा। मैं यहाँ षांति से खड़ा रहूँगा और सिर्फ उनका भरोसा करूँगा मेरे पापो को षुद्ध करने। मैं आषा करता हूँ आप समझ गए।''

हाँ, मैं समझ गया। मैं समझ गया कि आप मुलायम-कलाईवाले हो, ‘‘मेरे हाथों को गंदा मत करो'' सेन्‍डेमानीयन। ‘‘परंतु'', आप कहते हो, ‘‘यह इतना कठिन है समझने!'' नहीं यह नहीं है!!! हमारे पास बच्‍चे हैं जो यहाँ थोडे़ ही समय थे वे मसीह के पास आए और बचाए गए। हमारे पास बच्‍चे हैं जिन्‍होंने स्‍वयं मसीह पर भरोसा किया और बचाए गए, जो यहाँ सिर्फ थाडे़ समय ही थे। जीन और रोर्बट और बेरी और जेकी सबने आषा से यीषु का भरोसा किया हाल ही में।�इसलिये आपके पास कोई बहाना नहीं है! कोई बहाना नहीं चाहेजानबूझकर और हठ से यीषु मसीह स्‍वयं का भरोसा करने से इन्‍कार करते हो। और यीषु जानते है कैसे सड़े हुए, द्रोही पापी आप हो, कि आप प्रभु के प्‍यारे पुत्र के पास आने से इन्‍कार करते हो। और इसलिये वे कहते हैं

‘‘तुम जीवन पाने के लिये मेरे पास आना नहीं चाहते'' (यूहन्‍ना 5:40)।

फरीसियों याजक रीचर्ड बाक्‍सटर (1615-1691) ने कहा, और मैं उन्‍हे आधुनिक अंग्रेजी में सविस्‍तार करता हूँ,

अगर आप मसीह को जानने इतने उत्‍सुक होते जितने आप अच्‍छे गुण बनाने में हो, या ज्‍यादा पैसा बनाने में, आपने कोई भी कीमत या दर्द नहीं उठाया होता जबतक आप मसीह को पाते।

अब, क्‍या वह सत्‍य नहीं है? क्‍या यह सच नहीं है की आपके पास मसीह नहीं है क्‍योंकि आप निरर्थक आसपास होते थे, डरे हुए, कमज़ोर छोटे सेन्‍डेमानीयन की तरह? और क्‍या यह सच नहीं है कि�सही�कारण की आपके पास मसीह नहीं है, क्‍योंकि�आपको वे नहीं चाहिए? �आपको आपके पाप रखने है। आपको खोए मित्र छोड़ने नहीं है। आपको कामोन्‍तेजक लेख या चित्र को देखते रहता है। आपको अपना स्‍वयं का जीवन नियंत्रण करते रहना है। आप नहीं चाहते मसीह आपके जीवन का नियंत्रण ले! क्‍या वह सही नहीं है? आप सेन्‍डेमानीयन्‍स मसीह के लिये करते हो, ‘‘हम नहीं चाहते कि यह हम पर राज्‍य करे'' (लूका 19:14)। आप दिखावा करते हो कि आप उनका भरोसा�नहीं कर सकते - परंतु सच्‍चाई यह है कि आप उनका भरोसा करने से इन्‍कार करते हो, क्‍योंकि आप अपने पाप को जारी रखना चाहते हो!

आप जानते हो वह सच है।�मैं जानता हूँ वह सच है।�परमेष्‍वर�जानते हैं वह सच है। इसलिये क्‍यों दिखावा कर रहे हो यह सच नहीं है? इसका स्‍वीकार करो-आप यीषु का भरोसा नहीं करोगे क्‍योंकि आप नहीं चाहते वे आपके जीवन का नियंत्रण करे।�अब क्‍या वह सत्‍य नहीं है? �हमारे पाठ में फरीसियों उनके पास नहीं आते क्‍योंकि वो नहीं चाहते वे उनका जीवन बदले। और आप उनके पास नहीं आते क्‍योंकि आप को नहीं चाहिए कि वे आपका जीवन बदले। आप पाप मेें जीने से संतुश्‍ट हैं। और अगर आप यीषु मसीह का इन्‍कार करते रहोगे, आप अपने पापों में मरोगे। वह फरीसियों उनके पापों में मरे, और आप अपने पापों में मरोगे। और वह एकदम सत्‍य है! आप अपने पापों में मरोगे-खोए हुए सेन्‍डेमानीयन। आप अपने पापों में मरोगे! और यीषु आपको कहते है, ‘‘तुम जीवन पाने के लिये मेरे पास आना नहीं चाहते''।

मैं आपको कुछ भी ऐसा कहने के समर्थ नहीं हूँ आपने इस धार्मिक प्रवचन में पहिले से न सूना हो। मैं आपको सिर्फ कह सकता हूँ की यीषु आपको सारे पापों से षुद्ध करेंगे उनके लहू से जब आप उनका भरोसा करोगे, जब आप उनके पास आओगे और अपने आप को उनपर डालोगे! अगर आपको हमारे साथ उस बारे में बात करनी हो तो अभी सभागृह के पिछे जाओ। डॉ. केगन आपको पूछताछ कक्ष में ले जाएगें। डॉ. चान मेहरबानी करके उन के लिए प्रार्थना करे जिन्‍होंने प्रतिसाद दिया है। आमीन।

(संदेश का अंत)
आप डॉ0हिमर्स के संदेश प्रत्येक सप्ताह इंटरनेट पर पढ़ सकते हैं क्लिक करें
www.realconversion.com अथवा www.rlhsermons.com
क्लिक करें ‘‘हस्तलिखित संदेश पर।

आप डॉ0हिमर्स को अंग्रेजी में ई-मेल भी भेज सकते हैं - rlhymersjr@sbcglobal.net
अथवा आप उन्हें इस पते पर पत्र डाल सकते हैं पी. ओ.बॉक्स 15308,लॉस ऐंजेल्स,केलीफोर्निया 90015
या उन्हें दूरभाष कर सकते हैं (818)352-0452

ये संदेश कॉपी राईट नहीं है। आप उन्हें िबना डॉ0हिमर्स की अनुमति के भी उपयोग में ला सकते
 हैं। यद्यपि, डॉ0हिमर्स के समस्त वीडियो संदेश कॉपीराइट हैं एवं केवल अनुमति लेकर
ही उपयोग में लाये जा सकते हैं।


रूपरेखा

सेन्‍डेमानीयानीझम

डो. आर. एल. हायर्मस, जुनि. द्वारा

‘‘पवित्रषास्‍त्र में ढूँढ़ते हो ; क्‍योंकि समझते हो कि उसमें अनन्‍त जीवन तुम्‍हें मिलता है: और यह वही है जो मेरी गवाही देता है। और फिर भी तुम जीवन पाने के लिये, मेरे पास आना नहीं चाहते'' (यूहन्‍ना 5:39-40)।

।.   पहला, बाइबल में विष्‍वास करना आपको बचाएगा नहीं, लूका 22:44; 2 तीमुथियुस 3:15।

॥.  दूसरा, आपको आपके आलस्‍य से हिलाना जरूरी है, यूहन्‍ना 5:37, 38; ल्का 19:14।