Print Sermon

इन संदेशों की पांडुलिपियां प्रति माह २२१ देशों के १,५००,००० कंम्प्यूटर्स पर इस वेबसाइट पते पर www.sermonsfortheworld.com जाती हैं। सैकड़ों लोग इन्हें यू टयूब विडियो पर देखते हैं। किंतु वे जल्द ही यू टयूब छोड़ देते हैं क्योंकि विडियों संदेश हमारी वेबसाईट पर पर पहुंचाता है। यू टयूब लोगों को हमारी वेबसाईट पर पहुंचाता है। प्रति माह ये संदेश ३७ भाषाओं में अनुवादित होकर १२०,००० प्रति माह हजारों लोगों के कंप्यूटर्स पर पहुंचते हैं। उपलब्ध रहते हैं। पांडुलिपि संदेशों का कॉपीराईट नहीं है। आप उन्हें बिना अनुमति के भी उपयोग में ला सकते हैं। आप यहां क्लिक करके अपना मासिक दान हमें दे सकते हैं ताकि संपूर्ण संसार जिसमें मुस्लिम व हिंदु भी सम्मिलित है उनके मध्य सुसमाचार फैलाने के महान कार्य में सहायता मिल सके।

जब कभी आप डॉ हिमर्स को लिखें तो अवश्य बतायें कि आप किस देश में रहते हैं। अन्यथा वह आप को उत्तर नहीं दे पायेंगे। डॉ हिमर्स का ईमेल है rlhymersjr@sbcglobal.net .




डॉ हायमर्स का उनकी सेवकाई की ६० वीं वर्षगांठ पर संबोधन
‘‘मेरे जीवन की आशीषें"

DR. HYMERS SPEAKS ON HIS 60TH ANNIVERSARY IN MINISTRY
"THE BLESSINGS OF MY LIFE"
(Hindi)

डॉ आर एल हायमर्स जूनि
by Dr. R. L. Hymers, Jr.

रिचर्ड निक्सन प्रेसिडेंशियल लायब्रेरी, योर्बा लिंडा कैलीफोर्निया में
८ अप्रैल‚ २०१८
रविवार संध्या को प्रचारित संदेश
A sermon preached at the Richard Nixon Presidential Library,
Yorba Linda, California
Lord’s Day Evening, April 8, 2018


जब मैं अपने जीवन का प्रेरित पद पढ़ता हूं‚ कृपया अपने स्थानों पर खड़े हो जाइये।

‘‘जो मुझे सामर्थ देता है उस में मैं सब कुछ कर सकता हूं।" (फिलिप्पयों ४:१३)

अब आप बैठ सकते हैं।

आप को आश्चर्य हो रहा होगा कि क्यों मैंने अपने सेवकाई की सांठवी वर्षगांठ को मनाने के लिये निक्सन लायब्रेरी का चयन किया। जब आप मेरी आत्मकथा को पढ़ेंगे तो आप को ज्ञात होगा कि कैसे निक्सन से मुझे मेरे जीवन को प्रेरित करने वाला बाइबल पद प्राप्त हुआ।

‘‘जो मुझे सामर्थ देता है उस में मैं सब कुछ कर सकता हूं।" (फिलिप्पयों ४:१३)

जब मैं दो वर्ष का था मेरे पिता हमें छोड़कर चले गये थे। दुबारा मैं उनके साथ कभी नहीं रहा। मैं अपनी मां के साथ १२ वर्ष की आयु तक रहा। उसके बाद मैं एक स्थान से दूसरे स्थान अपने रिश्तेदारों के यहां रहता रहा‚ जो मुझे रखना नहीं चाहते थे। हाई स्कूल से स्नातक होने के पहिले मैं २२ विधालयों में पढ़ चुका था। मैं हमेशा हर स्कूल में ‘‘नया बच्चा" कहलाता था। मैं अप्रत्यक्ष रूप में अनाथ बालक था। किंतु सबसे बड़ी हानि बिना पिता के बड़ा होने में थी। बिना किसी सहायता या मदद के मुझे अपने ही दम पर ही रहना था। इससे बढ़कर बुरी बात यह थी कि पिता के रूप में मेरे कोई आदर्श नहीं थे। इसलिये मैने ऐतिहासिक व्यक्तित्वों की ओर करना आरंभ किया और उनसे सीखा कि एक पुरूष को कैसा होना चाहिये। तो ये व्यक्तित्व ही मेरे जीवन के आदर्श हो गये।

मैंने उन्हें सांसारिक रोल मॉडेल्स और क्रिश्चियन रोल मॉडेल्स की श्रेणियों में रख दिया। मेरे सारे नायक पुरूष थे और उन्होंने उनके जीवनों में कडी मुसीबतों का सामना किया और जयवंत हुए। क्रिश्चियन हीरोज में मेरे सामने अब्राहम लिंकन‚ जॉन वैस्ली‚ रिचर्ड वर्मब्रैंड‚ जॉन आर राईस थे। सांसारिक नायकों में विंस्टन चर्चिल और रिचर्ड निक्सन थे। निक्सन की आत्मकथा के लेखकों में से एक ने कहा था‚ ‘‘वे बहिर्मुखी व्यवसाय में रहते हुए एक अंर्तमुखी व्यक्ति थे।" अविश्वसनीय रूप से वे एक सफल राजनीतिज्ञ हो गये। शर्मिले और पढ़ाकू‚ वे जानते थे कि उन्हें हराया जा सकता है‚ बाहर किया जा सकता है — और तौभी अनगिनत मुसीबतें सामने होते हुए भी — वे फिर उठ खड़े होते थे। नहीं‚ वे क्रिश्चियन नहीं थे। परंतु वे पुनः लड़ने के लिये तैयार हो जाते थे। फिलिप्पयों ४:१३ निक्सन का पसंदीदा बाइबल का पद था।

जब मुझे पता चला कि राष्ट्रपति निक्सन को यह पद क्यों पसंद है तो उसके बाद मैं उन्हें कभी नापसंद नहीं कर सका। उन्होंने इतनी मुसीबतों पर विजय पाई कि मुझे वे बेहद आत्मीय लगने लगे। मेरे जीवन के घोर हताशा वाले क्षणों में मैं अक्सर सोचा करता था‚ ‘‘जब रिचर्ड निक्सन वॉटरगेट की समस्या से उबर गये थे तो मैं भी अपनी समस्या पर जयवंत हो सकता हूं।" न्यूजमैन वाल्टर क्रिकाईट ने कहा था कि‚ ‘‘अगर आप और मैं रिचर्ड निक्सन होते तो हम कब के मर चुके होते।" मेरे लिये तो वह दृढ़ संकल्प के आदर्श थे। निक्सन का कथन था कि‚ ‘‘एक व्यक्ति जब पराजित होता है तो वह खत्म नहीं होता है। वह तब खत्म होता है जब वह साहस छोड़ देता है।" कोई चीज उन्हें आगे बढ़ने से रोक नहीं पाई। वे १९६० में जॉन एफ कैनेडी के विरूद्ध चुनाव में हार गये थे। कैलीफोर्निया में १९६२ में वे गर्वनर का चुनाव हार गये थे। १९६८ में वे राष्ट्रपति चुनाव जीते। वॉटरगेट मुददे पर हाउस से बाहर कर दिये गये। परंतु वे सदैव लौट कर आये। इसलिये‚ भले ही वे क्रिश्चियन नहीं थे‚ किंतु सांसारिक जगत में मेरे आदर्श नायकों में से एक थे।

प्रेरित पौलुस कहते थे‚

‘‘जो मुझे सामर्थ देता है उस में मैं सब कुछ कर सकता हूं।" (फिलिप्पयों ४:१३)

इसका यह अर्थ नहीं था कि मैं अपने सिर पर बाल उगा सकता था! यह अर्थ नहीं था कि मैं उड़ सकता था! इसका यह अर्थ नहीं था कि मैं गणित में अच्छा प्रदर्शन कर सकता था! प्रेरित का कहने का यह तात्पर्य था कि वे सारी मुसीबतों को सहन कर सकते थे‚ समस्त कर्तव्यों का निर्वाह कर सकते थे‚ सारी बाधाओं को पार कर सकते थे — केवल मसीह के द्धारा‚ जो उन्हें मजबूत बनाते हैं। मैंने यह पाया है कि यह मेरे लिये भी सच है। इस पद के लिये मैं प्रभु परमेश्वर का धन्यवाद करता हूं। इससे भी बढ़कर मैं परमेश्वर का धन्यवाद करता हूं कि उन्होंने मेरे लिये मसीह यीशु को भेजा जो मुझे बल प्रदान करते हैं! मैं कॉलेज में फैल हो गया था किंतु मसीह यीशु ने मुझे बल प्रदान किया कि मैं आगे चलकर तीन विषयों में डॉक्टरेट कर सका। मैं एक मिशनरी नहीं बन सका किंतु मेरी वेबसाईट के माध्यम से मसीह यीशु ने मुझे संसार भर के लोगों को ताकत प्रदान करने के लिये प्रयुक्त किया।

जब आप मेरी पुस्तक पढेंगे तो आप को पता चलेगा कि क्यों मि॰ ग्रिफिथ द्वारा गाया गया एकल गीत मेरा पसंदीदा गीत है।

स्वामी ने हमें बुलाया है‚ माना कि पथ निरानन्द है
   उस पथ पर खतरे और दुख मानों गूंथे हुए मिले;
किंतु थके हुए को यहोवा का आत्मा विश्राम देगा;
   हम मसीहा का अनुसरण करते हैं और लौट नहीं सकते;
स्वामी ने हमें बुलाया है संदेह व परीक्षायें तो
   राह में हमें मिलेंगी‚ तौभी हम आनंदपूर्वक गाते रहेंगे:
‘‘आगे बढ़ो‚ उपर दृष्टि करते रहो‚" कितने भी क्लेश क्यों न हों राह में;
   सियोन की संतान को उनके राजा का अनुसरण करना है।
(‘‘मास्टर हैथ कम‚" सारा डूडने द्वारा रचित‚ १८४१—१९२६)

मैंने अपनी आत्मकथा लिखी क्योंकि मेरे पुत्र राबर्ट ने मुझे लिखने के लिये कहा। मुझे इसे लिखने में आनंद नहीं आया क्योंकि मेरा जीवन अपार दुख‚ संघर्ष और दर्द से भरा हुआ था। कई बार ऐसा हुआ कि मुझे लगा कि पांडुलिपि को फेंक दूं क्योंकि इसमें अनेक नकारात्मक बातें थीं। किंतु जॉन सैम्यूएल कैगन ने कहा कि‚ ‘‘इसे मत फेंकिये‚ डा॰ हायमर्स। इसमें बस एक अध्याय की ओर आवश्यकता है। आप उस समय का वर्णन लिखिये जब आप की माता ने कहा था कि ‘अपने जीवन की आशीषों’ को गिनों।’" मैने जॉन की बात मानी और अंतिम अध्याय लिखा‚ जो मैं संक्षिप्त रूप में आप को सुनाउंगा।

मैं अस्पताल में अपने मां के पलंग के सिरहाने बैठा हुआ था। यह थैंक्सगीविंग के त्यौहार के कुछ सप्ताह बाद की बात है। हम हमारे पसंद के व्यक्तियों में से एक व्यक्ति अब्राहम लिंकन के बारे में बात कर रहे थे कि कैसे उन्होंने थैंक्सगीविंग को अवकाश बना दिया। हमने थैंक्सगीविंग पर गाया जाने वाला गीत गाया।

जीवन में जब आंधी तुम पर चलती है‚
और निराशा आ घेरे‚ जब सब हो क्षय‚
अपनी सारी आशीषें गिनो ले नाम‚
और तुम विस्मित होंगे देख के ख्रिस्त के काम।
आशीष गिनों‚ ले‚ ले उन के नाम‚
आशीष गिनो‚ देखो ख्रिस्त के काम!
आशीष गिनों‚ ले‚ ले उन के नाम‚
और तुम विस्मित होंगे‚ देख के ख्रिस्त के काम।
   (‘‘आशीष गिनों‚ जॉनसन ओटमन जूनि‚" १८५६—१९२२)

जब हमने यह गीत गाना समाप्त किया‚ मेरी मां ने कहा कि‚ ‘‘सचमुच‚ राबर्ट हमारे जीवन में धन्यवाद देने के लिये कितनी आशीषें हैं।" तब हमने ‘‘एक के बाद" हमारी आशीषें गिनना आरंभ की। मां ने हमारे पुत्रों राबर्ट और जॉन के लिये धन्यवाद देने से आरंभ किया। तब उन्होंने मेरी पत्नी इलियाना के लिये धन्यवाद दिया। ‘‘वह मेरे प्रति कितनी अच्छी बहु है‚ राबर्ट‚ साथ ही वह एक अच्छी मां और पत्नी भी है।" उन्होंने परमेश्वर को धन्यवाद दिया कि वे हमारे घर में रह रही हैं। उन्होंने घर के प्रत्येक सदस्य के लिये ‘‘एक एक करके" धन्यवाद दिया। फिर मैंने कुछ चीजों के लिये धन्यवाद दिया। और हमने वह कोरस फिर से गाया।

आशीष गिनों‚ ले‚ ले उन के नाम‚
और तुम विस्मित होंगे देख के ख्रिस्त के काम।

रात बहुत हो गयी थी। मैंने उन्हें चूमा और जब मैं उनके कमरे से निकल रहा था मैंने उन्हें जो कहते हुए सुना‚वह मैं मरते दम तक नहीं भूल पाउंगा। वे कह रही थीं‚ ‘‘राबर्ट‚ इस दुनिया में तुम वह सबसे उत्तम उपहार हो‚ जो मुझे मिले।" कमरे से निकलते समय और रात में अस्पताल से जाते समय मेरी आंखे आंसुओं से तर थी। मां के साथ यह मेरा अंतिम वार्तालाप था। देर रात्रि उन को भीषण दौरा पड़ा जिसने उनकी जान ले ली।

‘‘इस पांडुलिपि को मत फेंकिये‚ डा॰ हायमर्स। इसमें बस एक अध्याय की ओर आवश्यकता है। आप उस समय के बारे में बताइये जब आप की माता ने कहा था कि ‘अपने जीवन की आशीषों’ को गिनों।’" तो यहां कुछ अविश्वसनीय आशीषों का वर्णन है जो जीवन की तीर्थयात्रा में मुझे मिलीं।

सबसे पहिले मैं परमेश्वर यहोवा का धन्यवाद देता हूं कि मेरी मां ने उद्धार प्राप्त किया। वह अस्सी साल की थीं और मैंने सोचा था कि वह कभी उद्धार नहीं पा सकेंगी। मैं न्यूयार्क में इलियाना और लड़कों के साथ कई चर्चेस में प्रचार कर रहा था। जब मैं अपने कमरे में घूम रहा था मैं अपनी मां के उद्धार पाने के लिये प्रार्थना कर रहा था। तब एकाएक मुझे अहसास हुआ कि वह उद्धार पा सकती है। जैसे पुराने समय के लोग कहते थे कि मैंने ‘‘लौलीन होकर" प्रार्थना की थी। मैंने डॉ कैगन को फोन किया और कहा कि वे मां के पास अभी जायें और प्रार्थना करें और मां को मसीह के पास लाने में अगुवाई करें। इसके पहिले भी मां‚ डॉ कैगन को कभी नहीं सुनती थी। परंतु इस समय उन्होंने यीशु पर विश्वास किया। हर सच्चे परिवर्तन के समान मां का यह परिवर्तन भी आश्चर्यचकित कर देने वाला था। उस दिन से उन्होंने धूम्रपान और शराब पीना बंद कर दिया। मुझे डॉक्टर्स ने कहा था कि जब एक शराबी इस तरह पीना बंद कर देता है तो उसे ऐंठन होती है और उसे फिनोबार्बिटॉल देना पड़ती है। परंतु मां ने यह दवाई नहीं ली। यह आश्चर्यकर्म था। उसके पश्चात उन्होंने सिगरेट नहीं पी और न ही कभी शराब का सेवन किया। वह कई बार बाइबल पढ़ती थीं और मेरे साथ चार बार चर्च आया करती थी। मैंने उनकी पसंद की छुट्टी ४ जुलाई के दिन उनको बपतिस्मा दिया। मैंने अपनी मां के उद्धार पाने के लिये जीवित परमेश्वर को धन्यवाद दिया।

उसके पश्चात मैं इलियाना‚ मेरी अदभुत पत्नी को धन्यवाद देता हूं। मैं एक शादी दे रहा था‚ वे उसमें आयी हुई थीं। शादी देने के पूर्व मैं एक छोटे से संदेश यूहन्ना ३:१६ पद पर बोल रहा था। किसी प्रोटेस्टैंट चर्च में संदेश सुनने का यह उनका पहिला अवसर था। उन्होंने आमंत्रण का उत्तर दिया और तुरंत उद्धार पाया! पहिली बार जब मैंने उनके समक्ष विवाह का प्रस्ताव रखा‚ उन्होंने कहा‚ ‘‘नहीं!" मेरा दिल टूट गया। ओरलैंडो और आयरिन वॉजक्वेज (जो आज यहां उपस्थित हैं)‚ उन्होंने मुझे अपने साथ प्यूरर्टो रिको चलने का प्रस्ताव रखा। मैं गया‚ लेकिन मैं इलियाना के विषय में सोचता रहा। वे भी मेरे बारे में सोच रही थीं। उन्होंने सोचा कि, ‘‘मैं शायद पुनः उनसे पूछूंगा।" मैंने पूछा और इस बार उन्होंने ‘‘हां" कह दिया। हमें विवाह के पैंतीस साल हो गये हैं। मैं प्रतिदिन अपनी छोटी प्यारी सी पत्नी के लिये परमेश्वर यहोवा का धन्यवाद देता हूं! उन्होंने मुझे एक पत्र में लिखा था‚ ‘‘राबर्ट‚ मैं तुम्हें अपने दिल और आत्मा से प्रेम करती हूं। सदैव मेरा प्यार तुम्हारे लिये है‚इलियाना।" वे बहुत कुछ नीतिवचन ३१ की स्त्री जैसी हैं। आप को यह करना है कि आप नीतिवचन ३१ को पढ़े जिसमें मेरी प्रियतमा इलियाना का वर्णन है। मैं सदैव उनके प्यार को अपने मन में संजोये रखूंगा। उनके पिता आज रात यहां आये हुए हैं। वे दूर ग्वाटेमाला से यहां इस कार्यक्रम में शरीक होने के लिये आये हैं। मि क्वेलर‚ यहां आने के लिये आप को धन्यवाद! इलियाना के भाई और उनका परिवार भी साथ में आये हैं। धन्यवाद‚ इर्विन!

तीसरे स्थान पर मैं प्रभु परमेश्वर को अपने दोनों पुत्र राबर्ट और जॉन के लिये धन्यवाद देता हूं। वे दोनों जुड़वां भाई हैं और इस समय वे चौंतीस वर्ष के हैं। वे दोनों नार्थरिज की कैलीफोर्निया स्टेट यूनिवर्सिटी से स्नातक हैं। राबर्ट का विवाह एक सुंदर कोरियन पुत्री जिन से हुआ है। उसके माता पिता आज रात यहां उपस्थित हैं। उसके भाई और उनकी पत्नी भी समारोह में उपस्थित हैं। मैं आप को आने के लिये धन्यवाद देता हूं! राबर्ट और जिन दो पुत्रियां हन्ना और सारा के माता पिता हैं। मुझे इतनी सुंदर पोतियां देने के लिये मैं परम प्रधान का धन्यवाद देता हूं।

मेरे दूसरे पुत्र का नाम जॉन वेस्ली है जो महान अंग्रेज प्रचारक के नाम पर रखा गया है। राबर्ट और जॉन दोनों हमारे चर्च की प्रत्येक सभा में भाग लेते हैं। वेस्ली प्रार्थना करने वाला इंसान है। वह प्रार्थना में लीन रहता है और अक्सर घंटों बाईबल पढ़ता है। वह एक भला मसीही जन और मेरा मित्र है। मैं मेरे दोनों पुत्रों से बहुत प्रसन्न हूं। ये दोनों मेरी पत्नी और मेरे लिये असाधारण उपहार हैं।

मैं डॉ क्रिस्टोफर कैगन के लिये परमेश्वर पिता को धन्यवाद देता हूं। मेरा कोई भाई नहीं था‚ वे मेरे भाई समान हैं। वे मेरे परम मित्र और नजदीकी सहकर्मी हैं। हम परस्पर एक दूसरे का इतना सम्मान करते हैं कि हम कभी एक दूसरे को पहिले नाम से नहीं पुकारते। यहां तक कि जब हम अकेले भी होते हैं‚ मैं उन्हें डॉ कैगन कहता हूं और वे मुझे डॉ हायमर्स कहते हैं। मैं यहोवा परमेश्वर का धन्यवाद देता हूं कि मुझे इतना बुद्धिमान और विश्वासयोग्य मित्र दिया। हम एक दूसरे को समझते हैं। हम दोनों ही अंर्तमुखी हैं। हम दोनों ही प्रार्थना करने और बाईबल अध्ययन में बहुत सारा वक्त साथ बिताते हैं। उनका दृष्टिकोण वैज्ञानिक और गणितीय आधार लिये हुए है। मैं रहस्यवादी और सहज ज्ञानी हूं। परंतु साथ साथ कार्य करते हुए हमें बहुत सुगमता होती है। हम दोनों होम्स और वॉटसन या जॉनसन या बोस्वेल के समान सहभागी हैं। (किसी ने हमें पुराने जमाने के ‘‘लॉरेल हार्डी या ऐबोट और कोस्टैलो की जोड़ी" भी कहा है।)

वह संचयकर्ता हैं‚ मैं अन्वेषक हूं। मैं साहित्य अभिरूचि रखने वाला इंसान हूं। वे गणितीय दिमाग वाले इंसान हैं। वे मुझे अगुवा कहते हैं। मैं उन्हें प्रवीण कहता हूं। हम दोनों की साझेदारी हम दोनों के लिये सुखप्रद है। मैं परमेश्वर पिता को डॉ क्रिस्टोफर कैगन के लिये धन्यवाद देता हूं।

मैं परमेश्वर पिता को जॉन सैम्यूएल कैगन के लिये धन्यवाद देता हूं। वे डॉ और मिसिस कैगन के बड़े सुपुत्र हैं। जॉन युवा हैं और इस सभा का संचालन कर रहे हैं। कल बैपटिस्ट पास्टर के रूप में उनका अभिषेक हुआ है। तो अब से वे रेवरेंड जॉन सैम्यूएल कैगन हैं! वे एक बहुत अच्छे प्रचारक और परामर्शदाता हैं। सेवकाई की दृष्टि से मैं जॉन को अपना ‘‘पुत्र" समझता हूं। वे बायोला यूनिवर्सिटी के टलबोट थियोलोजिकल स्कूल में स्नातक के दूसरे वर्ष के छात्र हैं। वे अति बुद्धिमान हैं। इसमें कोई आश्चर्य की बात नहीं क्योंकि उनके पिता दो दो विषय में पी एच डी हैं और माता जूडी मेडिकल डॉक्टर हैं। जॉन सीधे ए ग्रेड वाले विधार्थी हैं। वे थियोलॉजी में पी एच डी करने का इरादा रखते हैं। २४ वर्ष की आयु में ही उन्होंने भारत‚ डोमिनिकन रिपब्लिक और दक्षिण अफ्रीका के तीन देशों में शुभ संदेश का प्रचार किया है। वे हमारे चर्च में प्रति रविवार की सुबह संदेश देते हैं। हम प्रत्येक गुरूवार की दोपहर साथ बिताते हैं और थियोलॉजी व सेवकाई के कार्यो के उपर चर्चा करते हैं। मैं परमेश्वर को जॉन के लिये धन्यवाद देता हूं। वह मेरे बाद हमारे चर्च के पास्टर कहलायेगें। वे मेरे मित्र हैं। यह बहुत सरल सी बात है।

मैं नोहा सांग के लिये परमेश्वर पिता को धन्यवाद देता हूं। वे मेरे दूसरे ‘‘प्रचारक पुत्र" हैं। नोहा अपना कॉलेज समाप्त करने वाले हैं‚ उसके पश्चात वे सेमनरी जायेंगे। वे और जॉन कैगन एक अच्छी टीम हैं और भविष्य में वे दोनों हमारे चर्च की अगुवाई करेंगे।

मैं परमेश्वर पिता को नोहा‚ ऐरोन यांसी और जैक नैन के लिये धन्यवाद देता हूं। वे हमारे नये अभिषिक्त डीकंस हैं। ऐरोन मेरा मित्र है। वह मेरा घनिष्ठ मित्र है। जैसे मुर्गी अपने एकमात्र चूजे ही देखभाल करती है‚ ठीक वैसे ही वह मेरी देखरेख करता है। वह मेरे निकटस्थ मित्रों में से एक है। जैक नैन विवाहित हैं और उनके दो पुत्र हैं। अब कुछ ऐसी बात मैं आप को बताने जा रहा हूं जिसे आप नहीं जानते थे। मैं अभी पूरी जानकारी नहीं दे सकता! अगले वर्ष मैं जैक नैन के घर में बिल्कुल नवीन एक चायनीज चर्च आरंभ करने जा रहा हूं।

जॉन कैगन‚ नोहा सांग‚ ऐरोन यांसी‚ जैक नैन और और बेन ग्रिफिथ मेरे साथ प्रार्थना में सहकर्मी हैं। हम प्रति बुधवार की रात्रि मेरे घर के अध्ययन कक्ष में मिलते और प्रार्थना करते हैं। मैं परमेश्वर पिता को इन व्यक्तियों के लिये धन्यवाद देता हूं। इन्होंने मेरे जीवन के कठिनतम समय मेरी कैंसर की बीमारी के समय प्रार्थना करते हुए मेरे सहायक बने रहे।

मैं डॉ चान‚ मिसिस सालाजर और ‘‘३९" लोगों के लिये परमेश्वर का धन्यवाद देता हूं। डॉ चान हमारे सहायक पास्टर हैं‚ शुभ संदेश प्रचार और टेलीफोन द्वारा सेवकाई के प्रमुख हैं। मिसिस सालाजर स्पेनिश भाषा में सेवकाई की प्रमुख हैं। ये ‘‘३९" लोग वे हैं जिन्होंने हमारे चर्च के उस बड़े विभाजन के समय चर्च इमारत को बैंक के कर्जे में डूबने से बचाया। मैं एक एक जन के लिये प्रभु को धन्यवाद देता हूं। मैं मि ऐबेल प्रुधोमे के लिये प्रभु का धन्यवाद देता हूं जिन्होंने चर्च के विभाजन को रोका। मैं वर्जिल और बेवरले निकल के लिये परमेश्वर पिता का धन्यवाद देता हूं। ये वे दंपति हैं जिन्होंने हमारे चर्च की इमारत खरीदने के लिये हमें अधिकतम रूपये का ऋण प्रदान किया। वे हमें सहयोग प्रदान करने में कभी पीछे नहीं हटे। वे अब हमारे चर्च के सम्मानीय सदस्य हैं।

पचास प्रतिशत हमारे चर्च की सदस्यता तीस वर्ष से कम युवाओं की है। मुझे हमेशा युवाओं को संदेश देने में बहुत आनंद आता है। अभी जो युवाओं का समूह है‚ वह मेरे लिये अभी तक का सर्वश्रेष्ठ समूह है। हमारे डीकंस का समूह भी बड़ा अदभुत है। आठ अभिषिक्त डीकंस है‚ जिनके कार्यक्षेत्र को हम हर दो साल में बदलते रहते हैं। ऐरोन यांसी इन डीकंस के स्थायी अध्यक्ष है‚ इसलिये उनका स्थानान्तरण कभी नहीं किया जाता है। मैं इन सारे व्यक्तियों के लिये परमेश्वर पिता का धन्यवाद देता हूं।

हमारे चर्च के बुजुर्ग सदस्य हमारे कार्य में बहुत सहयोग करते हैं। वे प्रत्येक सभा में उपस्थित होते हैं। वे बहुत अच्छी प्रार्थना करते हैं और हमारे चर्च को बनाने के लिये कड़ी मेहनत करते हैं। मुझे रविवार की आराधना जॉन कैगन और उनके पिता के हाथों में छोड़कर जाने में तनिक चिंता नहीं होती‚ जब मुझे मोंटबैलो एक नया चायनीज चर्च प्रारंभ करने जाना होता है। पूर्ण रीति से मैं इन लोगों पर विश्वास करता हूं। मैं मूल चर्च में प्रति रविवार रात्रि को संदेश देने के लिये उपस्थित रहा करूंगा।

मेरा संपूर्ण जीवन मेरे चर्च के लोगों के आसपास घूमता है। वे मेरा ‘‘परिवार" हैं। ऐसे अदभुत विस्तारित परिवार का संरक्षक होना मुझे बहुत आनंद से भर देता है। यीशु का कथन था‚

‘‘यदि आपस में प्रेम रखोगे तो इसी से सब जानेंगे‚ कि तुम मेरे चेले हो" (यूहन्ना १३:३५)

एक सच्ची कहानी सुनाकर मैं इस संदेश का अंत करूंगा। मैं मैरीन काउंटी के ओपन डोअर चर्च में प्रचार कर रहा था, मैं हमेशा हर शुक्रवार व शनिवार रात्रि को युवा लोगों के समूह को सैन फ्रांसिस्कों ले जाया करता था। मैं गली में प्रचार करता रहता था और वे पुस्तिका बांटते रहते थे। हम अक्सर शहर के उत्तरी समुद्र-तट पर चले जाते थे। यह थोड़ा निर्लज्ज स्थान हुआ करता था। यहां लोग नशा किया करते थे, ‘‘स्ट्रिपटीज नृत्य" करते थे। मैं अक्सर स्ट्रिपटीज नृत्य के स्थल जिसे ‘‘अदन की वाटिका" नाम भी दिया गया था, उसके सामने बने फुटपाथ पर संदेश दिया करता था!!!

एक रात्रि कुछ बच्चे एक युवा को मेरे पास लेकर आये। उसने मुझे बताया कि उसे बहुत कीमती हेरोईन के सेवन की आदत है। वह इस आदत से छुटकारा पाना चाहता है। जब मैंने उससे बात की तो वह मुझे थोड़ा गंभीर लगा। शाम खत्म होने पर मैंने उसे अपनी कार में बैठाया और अपने अपार्टमैंट में ले आया। मैंने उसे अपने किचन में रखा और ताला लगाकर अपने सोने के कमरे में आ गया।

अगले कई दिन तक किचन की फर्श पर बैठे बैठे उसे हेरोईन के नशे से छूटने में बहुत तकलीफ हुई। अंततः वह थोड़ा संयत हुआ और उसने मुझसे पूछा कि किसी के पास अगर गिटार हो। मेरे साथ के बच्चों ने उसे गिटार लाकर दिया। वह दो दिन फर्श पर बैठकर झंकार निकालता रहा। उसने भक्ति गीत की पुस्तक मांगी। हमने उसे एक पुस्तक लाकर दे दी। उसने उनमें से एक गीत के लिये नयी धुन खोजने का कार्य आरंभ कर दिया। मैं उस लड़के का वास्तविक नाम भूल गया हूं। मैं अक्सर उसे डी ए कहकर पुकारता था, जो ड्रग्एडिक्ट का संक्षिप्त रूप था!

एक दिन डी ए ने मुझसे कहा, ‘‘इस धुन को सुनिये।" उसने गिटार उठाई, भजन पुस्तिका खोली और अल्बर्ट मिडलैंड (१८२५—१९०९) के गीत ‘‘रिवाईव दाय वर्क" की नयी धुन पर गीत गाया। बेहद खूबसूरत! हम डीए की बनाई इस धुन पर आज भी गाना गाते हैं।

अपने कार्य को पुर्नज्जीवित कीजिये प्रभु‚ अपनी प्रबल भुजा को प्रकट कीजिए;
   वह वाणी सुना दीजिए जिससे मुरदे जी उठते हैं‚ आप के लोग सुना करते हैं
पुर्नज्जीवित कीजिए! पुर्नज्जीवित कीजिए! ताजगी की बौछारें बरसा दीजिए;
   सकल महिमा आप की होगी; और आशीषें हमें मिलेंगीं।
(‘‘रिवाईव दाय वर्क" अल्बर्ट मिडलैन द्वारा रचित‚ १८२५—१९०९)

जब मैं लॉस ऐंजीलिस आया‚ डीए से मेरा संपर्क टूट गया। जीवन चलता रहा और अंततः हमारा चर्च इस इमारत में स्थित हो गया। एक रात फोन बजा। मैं अपने आफिस में गया और फोन उठाकर कहा‚ ‘‘हैलो।" उधर से आवाज आयी‚ ‘‘हाय‚ डॉ हायमर्स मैं डी ए बोल रहा हूं।" मैंने कहा‚ ‘‘कौन बोल रहे हैं?" उसने कहा‚ ‘‘डी ए। आप को याद है — ड्रग्एडिक्ट‚ डी ए" मैं लगभग गिरते गिरते बचा। यह आवाज लगभग तीस सालों से नहीं सुनी थी! मैंने पूछा‚ ‘‘तुम कहां हो?" उसने कहा‚ ‘‘मैं फ्लोरिडा में हूं। मैं विवाहित हूं। मेरे दो बच्चे हैं और एक भली पत्नी है। मैं हमारे चर्च के संडे स्कूल में पढ़ाता हूं।"

मैं अति प्रफुल्लित हुआ! उस रात घर में मैं गीत गाता रहा! साठ सालों पहिले आरंभ की गयी सेवकाई में ऐसे मौके मुझे आनंद प्रदान करते रहे। इसके पीछे उठाया गयी तकलीफें और दर्द भी बहुत था! डीए जैसे युवाओं को जीतने से मेरा आनंद पूर्ण होता है! सारा दर्द और दुख पिघल जाता है जब मैं सोचता हूं कि हमारे यहां के सारे युवा उद्धार पा चुके हैं। सेवकाई के साठ सालों ने मुझे अत्यंत आनंद के क्षण भी प्रदान किये हैं। सेवकाई के बदले मैं कुछ नहीं करना पसंद करूंगा!

अंत में हमेशा‚ मैं शुभ संदेश समझाने में थोड़ा सा समय लूंगा। यीशु स्वर्ग से एक कारण विशेष के लिये आये — वे हमारे पापों का दंड चुकाने के लिये क्रूस पर मरने आये। वे ईस्टर रविवार को सशरीर मांस व हडडी समेत जी उठे। उन्होंने हमारे सारे पापों से हमें शुद्ध करने के लिये अपना रक्त बहाया। उन्होंने कहा कि उन पर विश्वास किया जाये और विश्वास करके हम अपने पापों से मुक्ति पा सकते हैं।

मैं अपने कार्यो द्वारा सिद्ध बनकर अपना उद्धार स्वयं कमाना चाह रहा था। मैं फरीसी था। किंतु बायोला कॉलेज में २८ सितंबर‚१९६१ को मैंने प्रभु यीशु पर विश्वास किया। यह वह गीत था‚ जो मुझे यीशु के समीप लेकर आया:

लंबे समय से मेरी आत्मा कैद में थी
   पाप और सांसारिक स्वभाव के घोर बंधन में।
आप की आंखों ने उड़ेल दी एक चपल किरण‚
   वह काल कोठरी रोशनी से जगमगा उठी‚ मैं जागा।
मेरे बंधन खुल गये‚ हृदय मुक्त हो गया।
   मैं उठा‚ आगे गया‚ आप का अनुसरण किया।
अदभुत प्रेम! यह कैसे हो सकता है कि
   हे प्रभु‚ आप मेरे लिये अपने प्राण दे दें?
(‘‘ऐंड कैन इट बी‚ चार्ल्स वैस्ली द्वारा रचित)

परमेश्वर यहोवा यीशु के रूप में आये। वे मेरे लिये मरे। मैंने उनके लिये नये तरीके से सोचा। मैंने मसीह पर विश्वास किया। मेरी प्रार्थना है कि आप भी यीशु पर विश्वास करेंगे और उद्धार पायेंगे। तो यह सुनिश्चित कीजिए कि बाइबल पर विश्वास रखने वाले चर्च में जाइये और अपना जीवन मसीह के लिये जियें।

आप सभी से मेरा यही कहना है‚ ‘‘परमेश्वर यहोवा आप को आशीषें प्रदान करें जैसे उन्होंने मुझे प्रत्येक भय और विपरीत परिस्थितियों में आशीषें प्रदान की।" ‘‘मुझे इस से बढ़कर और कोई आनन्द नहीं कि मैं सुनूं‚ कि मेरे लड़के—बाले सत्य पर चलते हैं" (३ यूहन्न्ना ४) आमीन ।

मैं रेव्ह जॉन कैगन की ओर कार्यक्रम सौपता हूं कि वे आराधना का समापन करें। (जॉन‚ दो केक लेकर डॉ और मिसिस हायमर्स दोनों के जन्मदिन की घोषणा करते हैं और कहते हैं ‘‘हैप्पी बर्थडै टू यू।")


अगर इस संदेश ने आपको आशीषित किया है तो डॉ हिमर्स आप से सुनना चाहेंगे। जब आप डॉ हिमर्स को पत्र लिखें तो आप को यह बताना आवश्यक होगा कि आप किस देश से हैं अन्यथा वह आप की ई मेल का उत्तर नहीं दे पायेंगे। अगर इस संदेश ने आपको आशीषित किया है तो डॉ हिमर्स को इस पते पर ई मेल भेजिये उन्हे आप किस देश से हैं लिखना न भूलें।। डॉ हिमर्स को इस पते पर rlhymersjr@sbcglobal.net (यहां क्लिक कीजिये) ई मेल भेज सकते हैं। आप डॉ हिमर्स को किसी भी भाषा में ई मेल भेज सकते हैं पर अंगेजी भाषा में भेजना उत्तम होगा। अगर डॉ हिमर्स को डाक द्वारा पत्र भेजना चाहते हैं तो उनका पता इस प्रकार है पी ओ बाक्स १५३०८‚ लॉस ऐंजील्स‚ केलीफोर्निया ९००१५। आप उन्हें इस नंबर पर टेलीफोन भी कर सकते हैं (८१८) ३५२ − ०४५२।

(संदेश का अंत)
आप डॉ.हिमर्स के संदेश इंटरनेट पर प्रति सप्ताह पढ सकते हैं
www.sermonsfortheworld.com पर
''पांडुलिपि संदेशों'' पर क्लिक कीजिये।

पांडुलिपि संदेशों का कॉपीराईट नहीं है। आप उन्हें बिना डॉ.
हिमर्स की अनुमति के भी उपयोग में ला सकते हैं। यद्यपि डॉ.
हिमर्स के सारे विडियो संदेश का कॉपीराईट है और उन्हें
अनुमति से उपयोग में ला सकते हैं।

अगर इस संदेश ने आपको आशीषित किया है तो डॉ हायमर्स आप से सुनना चाहेंगे।
संदेश के पूर्व धर्मशास्त्र जॉन वेस्ली हायमर्स द्वारा पढ़ा गया: भजन २७:१—१४
मि बैंजामिन किंकेड ग्रिफिथ द्वारा रचित गान:
“मस्ट जीजस बियर दि क्रास अलोन?" (थॉमस शेपर्ड द्वारा रचित‚ १६६५—१७३९ प्रथम व अंतिम अंतरे।
‘‘दि मास्टर हैज कम" (सारा डूंडने द्वारा रचित‚ १८४१ — १९२६; अंतिम दो अंतरे)