Print Sermon

इन संदेशों की पांडुलिपियां प्रति माह २१५ देशों के १,५००,००० कंम्प्यूटर्स पर इस वेबसाइट पते पर www.sermonsfortheworld.com जाती हैं। सैकड़ों लोग इन्हें यू टयूब विडियो पर देखते हैं। किंतु वे जल्द ही यू टयूब छोड़ देते हैं क्योंकि विडियों संदेश हमारी वेबसाईट पर पर पहुंचाता है। यू टयूब लोगों को हमारी वेबसाईट पर पहुंचाता है। प्रति माह ये संदेश ३५ भाषाओं में अनुवादित होकर १२०,००० प्रति माह हजारों लोगों के कंप्यूटर्स पर पहुंचते हैं। लिये उपलब्ध रहते हैं। पांडुलिपि संदेशों का कॉपीराईट नहीं है। आप उन्हें बिना अनुमति के भी उपयोग में ला सकते हैं। आप यहां क्लिक करके अपना मासिक दान हमें दे सकते हैं ताकि संपूर्ण संसार जिसमें मुस्लिम व हिंदु भी सम्मिलित है उनके मध्य सुसमाचार फैलाने के महान कार्य में सहायता मिल सके।

जब कभी आप डॉ हिमर्स को लिखें तो अवश्य बतायें कि आप किस देश में रहते हैं। अन्यथा वह आप को उत्तर नहीं दे पायेंगे। डॉ हिमर्स का ईमेल है rlhymersjr@sbcglobal.net.




नरक के दंड से आप कैसे बच सकते हैं

HOW CAN YOU ESCAPE THE DAMNATION OF HELL?
(Hindi)

डॉ आर एल हिमर्स
by Dr. R. L. Hymers, Jr.

रविवार की सुबह, ८ मई, २०१६ को लॉस ऐंजीलिस के दि बैपटिस्ट टैबरनेकल
में किया गया प्रचार संदेश
A sermon preached at the Baptist Tabernacle of Los Angeles
Lord’s Day Morning, May 8, 2016

''तुम नरक के दण्ड से क्योंकर बचोगे?'' (मत्ती २३:३३)


मैं एक मसीह घर में पैदा नहीं हुआ। बचपन में कैथोलिक चर्च में मिस्सा की आराधना में भाग लिया करता था। जब तेरह साल का हुआ तब मेरे पडोसी मुझे बैपटिस्ट चर्च ले जाने लगे। बहुत समय पहले १९५४ की बात है। उसके बाद तो प्रचारक बल्कि प्रसिद् प्रचारकों को नर्क के उपर बोलते सुनना आम बात हो गयी। मेरे जवानी के दिनों में कई दक्षिण बैपटिस्ट प्रचारक जैसे डॉ डब्ल्यू ए क्रिसवैल, डॉ आर जी ली व बिली ग्राहम नर्क के उपर प्रचंड प्रचार किया करते थे।

पर यह साठ साल पहले की बात हो गयी! आज मैं नहीं जानता कि प्रचारक इतना प्रबल प्रचार नर्क के उपर करते होंगे। मुश्किल से कोई प्रचारक इस विषय को छूता होगा। सचमुच क्या यह प्रचार कहलायेगा! गलत हैं वे जो लोग इसे प्रचार कहते हैं! वे तो छोटे व्याख्यान देते हैं जो ''व्याख्यात्मक'' होते हैं। व्याख्यात्मक संदेश है − प्रचार कदापि नहीं। आवाज में न करूणा है न जुनून। भिन भिन करते स्वर में एक के बाद एक पद का अर्थ समझाते हुये संवादात्मक लहजे में संदेश देते हैं। इसके साथ ही स्वर्ग पर भी मुझे तो कोई ओजस्वी प्रचार नहीं सुनाई देता! न ही क्षतिपूर्ति, क्रूस, रक्त और दूसरे सिद्वांतो पर प्रचार सुनाई देता है। प्रचार का जैसे अकाल पड गया हो। आपकी पीढी ने किसी प्रभावशाली क्रिश्चियन प्रचारक से ऐसा लगन वाला प्रचार नही सुना हो्गा जिसे वास्तव में आपकी आत्माओं की चिंता हो।

राबर्ट मरे मैकेने मात्र उनतीस साल के थे जब टाईफाईड से उनकी मृत्यु हुई। क्या होनहार प्रचारक थे वह! यधपि १८४३ में उनका देहांत हो गया पर उनका प्रचार आज भी जीवित है। मात्र छ साल के प्रचार में उन्होंने आने वाली पीढियों तक के लिये अमिट प्रभाव छोडा। बहुत कम प्रचारक ऐसे निकलते हैं। अंग्रेजी जगत का हर प्रचारक उनके नाम से परिचित है क्योंकि परमेश्वर ने उनके चर्च में शक्तिशाली आत्मिक जागरण भेजा। ऐसा क्या रहस्य था इस व्यक्ति की शख्सियत में? यह व्यक्ति गहरी प्रार्थनाओं वाला व्यक्ति था पूर्णत पवित्र आत्मा पर निर्भर। प्रार्थना में उनके स्वर होते थे ''पिता, मुझे इतना पवित्र बनाइये जितना कि एक उद्वार प्राप्त पापी होता है।'' एक इवेंजलिस्ट ने उन्हें प्रचार करते हुये सुना और कहा ''जब वह प्रचार करते हैं तब मानो अनंतता उनके माथे पर विधमान दिखती है। उनके प्रचार के दौरान मैं परमेश्वर के भय से कांपा और कभी परमेश्वर को इतना नजदीक महसूस नहीं किया।''

मेरी तत्पर प्रार्थना है कि आज की युवा पीढी भी ऐसा प्रचार करे कि ''ललाट पर अनंत विराजमान दिखे'' ठीक वैसे ही जैसे राबर्ट मरे मैकेने के लिये कहा जाता था!!! आज मैं मैकेने के ''अनंत दंड'' के उपर महान संदेशों के कुछ विशेष अंश आप को देना चाहता हूं। हो सके आप इनको पढकर यीशु पर विश्वास ला सकें और आने वाले क्रोध से भागे!

मैं मैकेने द्वारा उपयोग में लाया गया संदेश प्रयुक्त कर रहा हूं, इसके अंदर एक सा संदेश निहित है,

''तुम नरक के दण्ड से क्योंकर बचोगे?'' (मत्ती २३:३३)

मसीह ने फरीसियों को बहुत सटीक उपदेश दिया। यह पद उसी का हिस्सा है। फरीसी मसीह के समय के शिक्षकगण कहलाते थे। पर यीशु ने उन्हें पाखंडी कहकर बुलाया (२३:१४) ऐसे शिक्षकों को ''अंधा और मूर्ख'' तक कहा (२३:१७) बल्कि यहां तक कहने से भी पीछे नहीं हटे, ''हे सांपो, हे करैतों के बच्चों, तुम नरक के दण्ड से क्योंकर बचोगे?''

१. पहला, बाइबल में उनके बारे में सुनिये जिन्होंने नर्क के बारे में बताया।

दाउद परमेश्वर का मनपसंद व्यक्ति था। वह मनुष्यों और परमेश्वर दोनों से प्रेम रखता था। सुनिये दाउद नर्क के विषय में क्या कहता है एवं उन्हें जो जो मसीह का इंकार करते हैं। दाउद का कथन था,

''दुष्ट अधोलोक में लौट जाएंगे तथा वे सब जातियां भी जो परमेश्वर को भूल जाती है'' (भजन ९:१७)

दाउद ने यह भी कहा,

''वह (परमेश्वर) दुष्टों पर फन्दे बरसाएगा आग और गन्धक और प्रचण्ड लूह उनके कटोरों में बांट दी जाएंगी।'' (भजन ११:६)

शिष्य पौलुस मसीह के प्रेम से भरा हुआ था और उसके मन में पापियों के प्रति बडा प्रेम भरा हुआ था। पौलुस ने ''नर्क'' का वर्णन कभी नहीं किया। तौभी सुनिये वह क्या कहता है,

''और तुम्हें जो क्लेश पाते हो हमारे साथ चैन दे उस समय जब कि प्रभु यीशु अपने सामर्थी दूतों के साथ धधकती हुई आग में स्वर्ग से प्रगट होगा। और जो परमेश्वर को नहीं पहचानते और हमारे प्रभु यीशु के सुसमाचार को नहीं मानते उन से पलटा लेगा'' (२ थिस्सुलुनिकियों १:७−९)

यूहन्ना मसीह का चहेता शिष्य प्रेम से परिपूर्ण व्यक्ति था। उसने भी नर्क के विषय में कहा है। सात बार उसने नर्क को ''अधोलोक'' कहा है − जहां पापी अनंत काल के लिये डूब जायेंगे। यूहन्ना ने नर्क को ''आग की झील'' भी कहा है (प्रकाशितवाक्य २०:१४) बाइबल में इसे नर्क कहा गया है यूहन्ना इसे ''आग की झील'' का नाम देता है।

स्वयं यीशु मसीह। वह परमेश्वर पुत्र थे। सर्वज्ञात है कि ''परमेश्वर प्रेम है।'' पृथ्वी पर बिताये जीवनकाल में उन्होंने पापी मनुष्यों के प्रति प्रेम प्रगट किया – लेकिन नर्क के लिये भी आगाह किया। उनका लहजा सख्त था जब उन्होंने कहा,

''हे सांपो, हे करैतों के बच्चों, तुम नरक के दण्ड से क्योंकर बचोगे?'' (मत्ती २३:३३)

मसीह ने उनको परिणाम भी सुनाया,

''हे स्रापित लोगो, मेरे साम्हने से उस अनन्त आग में चले जाओ'' (मत्ती २५:४१)

एक और स्थल पर वह कहते हैं,

''जो विश्वास न करेगा वह दोषी ठहराया जाएगा।'' (मरकुस १६:१६)

यीशु के मुख से निकली बात से बढकर सीधी बात और क्या हो सकती है?

२. दूसरा, दाउद, पौलुस, यूहन्ना और यीशु नर्क के बारे में सीधे क्यों बोले।

क्योंकि यह सच है। यीशु ने कहा, ''अगर यह बात नहीं होती तो मैंने तुम्हें बता दिया होता।'' यीशु का धरातल पर आना उनके प्रेम का प्रगटीकरण था। पापी जन नर्क की आग में जाने से बचाये जायें उनके प्रति इस प्रेम से भरकर उनके बचाव के रास्ते को क्रूस पर बलिदान देकर प्रस्तुत किया। जैसा यीशु ने किया प्रचारकों को भी वही करना चाहिये। यह सच है! सच है! सच है!

कोई कह सकता है, ''मैं नहीं मानता'' कि इससे कोई बदलाव हो सकता है? एक बूढे व्यक्ति हैरी टूमैन ने विश्वास नहीं किया था कि सेंट हैलेना पहाड ज्वालामुखी जैसा फट जायेगा। हर एक ने इस बात पर विश्वास किया और वह क्षेत्र छोड दिया। किंतु टूमैन का जवाब था, ''मैं नहीं मानता।'' वह पहाड के पास बसे अपने घर में ही रूका रहा। क्या उसके अविश्वास ने उसे बचाया? । नहीं! ज्वालामुखी फटने पर वह और उसका घर दोनों उड गये। उसके अवशेष तक नहीं मिले। टूमैन का जवाब था, ''मैं नहीं मानता।'' उसके अविश्वास ने उसे नहीं बचाया − न ही आप का अविश्वास आप को नर्क की आग से बचायेगा! यह सच है! सच है! सच है!

दूसरा कारण दाउद, पौलुस, यूहन्ना और यीशु द्वारा नर्क के विषय में सतर्क करने का क्योंकि वे भटके हुये प्राणियों से प्रेम करते थे। चर्च में आप के नजदीकी मित्र आप को हमेशा सत्य के बारे में बतायेंगे। यीशु सदैव एक सच्चा परमेश्वर है। एक पुराना भजन कहता है ''यीशु क्या ही प्यारा मित्र पाप और दुख उठाने को!'' यीशु हमेशा एक उत्तम मित्र है'' और आप के उत्तम मित्र यीशु ने कहा था, ''तुम नरक के दण्ड से क्योंकर बचोगे?'' (मत्ती २३:३३)

राबर्ट मैकेने ने कहा, ''कल मैं खेतों में से होकर गुजर रहा था तो एक विचार बहुत तीव्रता से मेरे दिमाग में कौंधा कि प्रत्येक को जो मैंने प्रचार किया है वह या तो स्वर्ग में भेजा जायेगा या नर्क में। इसलिये मैं आप को चेतावनी देता हूं। मुझे आप को नर्क के बारे में बताना बहुत आवश्यक है।'' हरेक सत्य प्रचारक से यही अपेक्षा है। हरेक पास्टर जो नर्क के बारे में नहीं बताता अच्छा व्यक्ति नहीं है। जो नर्क पर प्रचार नहीं करे उस पास्टर पर विश्वास न करें। उसे आप की आत्मा की परवाह नहीं! यीशु तो सीधे पूछते हैं, ''तुम नरक के दण्ड से क्योंकर बचोगे?'' (मत्ती २३:३३)

३. तीसरा, बाइबल में वर्णित नर्क शाश्वत काल तक का है।

यहोवा विटनेस के लोग कहते है नर्क अनंत काल तक रहने वाला नहीं है। क्या आप उनकी बात पर भरोसा करेंगे? पिछले कुछ दिन पहले गायक ''प्रिंस'' का देहांत हो गया। वह यहोवा विटनेस वाला व्यक्ति था। जब उसे एडस हुआ लोगों ने उसे मेडिसिन लेने से मना किया। वह मरा और नर्क गया क्योंकि वह एक भ्रष्ट मत का अनुयायी था।

रोब बेल बाइबल का इंकार करने वाली उदारवादी फुलर सेमनरी का स्नातक था। बेल का भी यही कथन था कि नर्क शाश्वत नहीं है। क्या आप उसकी बात पर भरोसा करेंगे? उसने कहा कि बाइबल में त्रुटियां हैं। एक मनुष्य जो यीशु को अनंत नर्क की शिक्षा देने पर गलत ठहराता है वह या तो झूठा है या भ्रामक शिक्षक है। इन झूठे शिक्षक और भ्रामक मत की शिक्षा सुनने में ही लाखों लोग आनंद प्राप्त कर रहे हैं। पर यह मिथ्या विश्राम है। यीशु, परमेश्वर के पुत्र ने, सीधे उस स्थल की भयावहता आंकी, ''जहां आग नहीं बुझती'' (मरकुस ९:४४) मरकुस के नवें अध्याय में यीशु मसीह ने यह तीन बार कहा है! ''जहां आग नहीं बुझती।'' ''जहां आग नहीं बुझती।'' ''जहां आग नहीं बुझती।'' यीशु मसीह ने मरकुस के नवें अध्याय में ऐसा कहा है। शिष्य यूहन्ना ने कहा था, ''और उन की पीड़ा का धुआं युगानुयुग उठता रहेगा'' (प्रकाशितवाक्य १४:११) यीशु स्वयं बोले, ''और यह अनन्त दण्ड भोगेंगे'' (मत्ती २५:४६)

४. चौथा, आप नर्क से कैसे बच सकते हैं?

यीशु इस पद में कहते हैं, ''तुम नरक के दण्ड से क्योंकर बचोगे?'' (मत्ती २३:३३)

आप वापस चर्च आना बंद करके बच नहीं सकते। कोई कह सकता है, ''कि मैं अब हिमर्स का संदेश सुनने नहीं जाउंगा! उन्होंने मुझे डरा दिया है! अब मैं उस चर्च में नहीं जाउंगा।'' मैं जानता हूं जवानों की बातचीत को। पर मैं भी आप को गफलत में रखने के बजाय खोना पसंद करूंगा! मैंने नर्क के विषय में बाइबल में से निकालकर अनेक पद आप को बताये हैं। मैंने उन जवान प्रचारक राबर्ट मैकेने के विचार आप के साथ बांटे हैं। उन्हें लोग ''युवा प्रचारक'' कहते थे। बीस वर्ष की आयु से ही उन्होंने छ वर्ष प्रचार किया। इस युवा प्रचारक को प्रेसबिटेरियंस का अभी तक का सबसे अच्छा प्रचारक माना जाता है। ''वह ऐसा ही प्रचार करते थे कि उनके (ललाट) पर अनंत विराजमान दिखे'' आप भले ही मुझे पसंद न करें पर मेरी प्रार्थना यही है कि आप उस प्रचारक के विचारों पर विश्वास करें।

अगर आप, हर रविवार चर्च आते रहें और प्रायश्चित करने व यीशु पर भरोसा करने से इंकार करते रहें तब भी आप नर्क से नहीं बच सकते। क्या केवल चर्च आने से उद्वार मिल जायेगा, सोचें? क्या चर्च में पैसा देने से मुक्ति मिल जायेगी, गफलत में न जीयें? क्या चर्च के कार्य जैसे मेज साफ करना, कारों की निगरानी करना, अन्य कार्य कर देने से आप को उद्वार मिल सकता है? अगर आप ऐसा सोचते है तो आप शैतान द्वारा ठगे जा रहे हैं! बाइबल भी कहती है आप छले जा रहे हैं! इस विषय पर बाइबल की सीधी शिक्षा है, ''क्योंकि विश्वास के द्वारा अनुग्रह ही से तुम्हारा उद्धार हुआ है........वरन परमेश्वर का दान है। और न कर्मों के कारण, ऐसा न हो कि कोई घमण्ड करे।'' (इफिसियों २:८‚९) बाइबल का कथन है, ''यह धर्म के कामों के कारण नहीं जो हम ने आप किए पर अपनी दया के अनुसार........हमारे उद्धारकर्ता यीशु मसीह के द्वारा हम पर अधिकाई से उंडेला (तीतुस ३:५‚६)

क्या आप सोचते हैं कि पूछताछ कक्ष में बार बार आने से और बिना पाप के बोध के आप को उद्वार मिल जायेगा? पर मैं जानता हूं कि आप में से कई आज सुबह आयेंगे क्योंकि आप नर्क से डरते हैं। पर हमने पाया है कि नर्क से डरने वाले भी उद्वार प्राप्त नहीं करते। कम से कम मैंने तो एक को भी कभी नहीं देखा! ५८ की सेवकाई में नहीं देखा। एक को भी नहीं देखा! आप पूछताछ कक्ष में आ सकते हैं क्योंकि आप नर्क से डरते हैं। पर इससे भी आप को पापों से मुक्ति नहीं मिल सकती!

आप को अपने पापों के बारे में सोचना चाहिये। न केवल पाप जो आपने किये हैं पर पाप जो आप के दिल में छिपे हुये हैं! आप को अपने घृणा पैदा करने वाले विद्रोही और आंतरिक पापों का प्रायश्चित होना चाहिये। यीशु उनको बचाने नहीं आये जो नर्क से डरते हैं। नहीं! ''मसीह यीशु पापियों का उद्धार करने के लिये जगत में आया'' − और किसी और का नहीं! (१ तीमुथियुस १:१५)

मसीह आप के पापों का मोल चुकाने के लिये मरे! मसीह ने आप के पापों को शुद्व करने के लिये क्रूस पर अपना रक्त बहाया! मसीह मरकर जीवित हूये स्वर्ग पर उठाये गये कि आप को पाप के उपर विजय प्राप्त होने दें! पूछताछ कक्ष में आने का यही एकमात्र अच्छा कारण है! आप के पाप! आप के पाप! आप के पाप! प्रायश्चित करें और यीशु पर विश्वास करें और वह आप को पाप से बचायेंगे! निवेदन है कि खडे होकर भजन १३९:२३‚ २४ संख्या गायें। यह गीत पुस्तिका की पेज संख्या ७ पर है।

''मेरे दिल को जांच ओ प्रभु मुझे खोज:
मुझे परख और मेरे विचारों को जान:
मेरे मन को देख;
मुझे परख और मेरे विचारों को जान;
कि कहीं मुझमें कोई दुष्ट बात तो नहीं‚
मुझे अनंत काल की तरफ ले चल''

आमीन। अपनी आंखे बंद करें। अगर आप अपने पाप के बारे में बात करना चाहते और यीशु के रक्त से शुद्व होना चाहते हैं तो डा कैगन‚ जोन कैगन और नोहा सोंग के साथ आडिटोरियम के पिछले भाग में चले जाइये। वे आप को एक दूसरे कक्ष में ले जायेंगे और हम आप के साथ बात करेंगे‚ पाप के विषय में बात करेंगे‚ और यीशु के रक्त से शुद्व होने के विषय में बात करेंगे। आमीन।


अगर इस संदेश ने आपको आशीषित किया है तो डॉ हिमर्स आप से सुनना चाहेंगे। जब आप डॉ हिमर्स को पत्र लिखें तो आप को यह बताना आवश्यक होगा कि आप किस देश से हैं अन्यथा वह आप की ई मेल का उत्तर नहीं दे पायेंगे। अगर इस संदेश ने आपको आशीषित किया है तो डॉ हिमर्स को इस पते पर ई मेल भेजिये उन्हे आप किस देश से हैं लिखना न भूलें।। डॉ हिमर्स को इस पते पर rlhymersjr@sbcglobal.net (यहां क्लिक कीजिये) ई मेल भेज सकते हैं। आप डॉ हिमर्स को किसी भी भाषा में ई मेल भेज सकते हैं पर अंगेजी भाषा में भेजना उत्तम होगा। अगर डॉ हिमर्स को डाक द्वारा पत्र भेजना चाहते हैं तो उनका पता इस प्रकार है पी ओ बाक्स १५३०८‚ लॉस ऐंजील्स‚ केलीफोर्निया ९००१५। आप उन्हें इस नंबर पर टेलीफोन भी कर सकते हैं (८१८) ३५२ − ०४५२।

(संदेश का अंत)
आप डॉ.हिमर्स के संदेश इंटरनेट पर प्रति सप्ताह पढ सकते हैं
www.sermonsfortheworld.com पर
''पांडुलिपि संदेशों'' पर क्लिक कीजिये।

आप डॉ0हिमर्स को अंग्रेजी में ई-मेल भी भेज सकते हैं - rlhymersjr@sbcglobal.net
अथवा आप उन्हें इस पते पर पत्र डाल सकते हैं पी. ओ.बॉक्स 15308,लॉस ऐंजेल्स,केलीफोर्निया 90015
या उन्हें दूरभाष कर सकते हैं (818)352-0452

पांडुलिपि संदेशों का कॉपीराईट नहीं है। आप उन्हें बिना डॉ. हिमर्स की अनुमति के भी उपयोग में ला सकते हैं। यद्यपि डॉ. हिमर्स के सारे विडियो संदेश का कॉपीराईट है और उन्हें अनुमति से उपयोग में ला सकते हैं।

संदेश के पूर्व ऐबेल प्रुद्योमे द्वारा धर्मशास्त्र पढ़ा गया: प्रकाशितवाक्य १४:९−११
संदेश के पूर्व बैंजमिन किंकेड ग्रिफिथ ने एकल गान गाया गया:
''आप अनंतकाल कहां बितायेंगे?'' (एलिशा ए हाफमैन, १८३९−१९२९)
''मेरे दिल को जांच ओ प्रभु'' (भजन १३९:२३‚ २४)


रूपरेखा

नरक के दंड से आप कैसे बच सकते हैं?

HOW CAN YOU ESCAPE THE DAMNATION OF HELL?

डॉ आर एल हिमर्स
by Dr. R. L. Hymers, Jr.

''तुम नरक के दण्ड से क्योंकर बचोगे?'' (मत्ती २३:३३)

(मत्ती २३:१४‚१७)

१.      पहला, बाइबल में उनके बारे में सुनिये जिन्होंने नर्क के बारे में बताया,
भजन ९:१७; भजन ११:६; २ थिस्सलुनीकियों १:७−९; प्रका २०:१४;
मत्ती २३:३३‚ ४१; मरकुस १६:१६

२.      दूसरा, दाउद, पौलुस, यूहन्ना और यीशु नर्क के बारे में सीधे क्यों बोले,
मत्ती २३:३३

३.      तीसरा, बाइबल में वर्णित नर्क शाश्वत काल तक का है, मरकुस ९:४४
प्रका १४:११; मत्ती २५:४६

४.      चौथा, आप नर्क से कैसे बच सकते हैं? इफिसियों २:८‚९; तीतुस ३:५‚६;
१ तीमुथि १:१५