Print Sermon

इन संदेशों की पांडुलिपियां प्रति माह २१५ देशों के १,५००,००० कंम्प्यूटर्स पर इस वेबसाइट पते पर www.sermonsfortheworld.com जाती हैं। सैकड़ों लोग इन्हें यू टयूब विडियो पर देखते हैं। किंतु वे जल्द ही यू टयूब छोड़ देते हैं क्योंकि विडियों संदेश हमारी वेबसाईट पर पर पहुंचाता है। यू टयूब लोगों को हमारी वेबसाईट पर पहुंचाता है। प्रति माह ये संदेश ३५ भाषाओं में अनुवादित होकर १२०,००० प्रति माह हजारों लोगों के कंप्यूटर्स पर पहुंचते हैं। लिये उपलब्ध रहते हैं। पांडुलिपि संदेशों का कॉपीराईट नहीं है। आप उन्हें बिना अनुमति के भी उपयोग में ला सकते हैं। आप यहां क्लिक करके अपना मासिक दान हमें दे सकते हैं ताकि संपूर्ण संसार जिसमें मुस्लिम व हिंदु भी सम्मिलित है उनके मध्य सुसमाचार फैलाने के महान कार्य में सहायता मिल सके।

जब कभी आप डॉ हिमर्स को लिखें तो अवश्य बतायें कि आप किस देश में रहते हैं। अन्यथा वह आप को उत्तर नहीं दे पायेंगे। डॉ हिमर्स का ईमेल है rlhymersjr@sbcglobal.net.




पवित्रषास्‍त्र का सिकंजा

THE GOSPEL VISE
(Hindi)

डो. आर. एल. हायर्मस, जुनि. द्वारा
by Dr. R. L. Hymers, Jr.

लोस एंजलिस के बप्‍तीस टबरनेकल में प्रभु के दिन की
षाम, 14 जुलै, 2013 को दिया हुआ धार्मिक प्रवचन
A sermon preached at the Baptist Tabernacle of Los Angeles
Lord’s Day Evening, July 14, 2013

‘‘फिर भी तुम जीवन पाने के लिये, मेरे पास आना नहीं चाहते'' (यूहन्‍ना 5:40)।


उस दिन यीषु ने अविष्‍वासी यहूदीयों को कहा था। उनके पास धर्म था, परंतु यीषु नहीं था। उसने उन्‍हे बहुतायत पुरावे दिए कि वही परमेष्‍वर ने भेजा हुआ मसीहा था। किन्‍तु उन्‍होंने उसका अस्‍वीकार किया।

अगर आप यूहन्‍ना की किताबसे पाँचवा अध्‍याय घर पर पढोगे, आप देखोगे कि मसीह ने उन्‍हें याद दिलाया था कि यूहन्‍ना बपतिस्‍मा देने वाले उसकी गवाही दी है। और सभी सर्वसामान्‍य लोगों ने यूहन्‍ना को भविश्‍यद्वक्‍ता माना था। यूहन्‍ना ने मसीह की गवाही दी थी जब उसने कहा था, ‘‘देखो, यह परमेष्‍वर का मेम्‍ना है जो जगत का पाप उठा ले जाता है'' (यूहन्‍ना 1:29)। फिर भी कई जुट के अविष्‍वासीयों ने यूहन्‍ना की गवाही को ठुकराया था।

दूसरा, यीषु ने कहा था कि उसके चमत्‍कार और किये हुए कार्य उसके मसीहा होने की गवाही देता है। उसने कहा था, ‘‘जो काम पिता ने मुझे पूरा करने को सौंपा है, अर्थात्‌ यही काम जो मैं करता हूँ, वे मेरे गवाह है कि पिता ने मुझे भेजा है, उसीने मेरी गवाही दी है'' (यूहन्‍ना 5:36)। मसीह के चमत्‍कार और उसके अद्‌भूत कार्य जो उसने किये थे, साफ बता रहे है कि वही मसीह था।

इसके अलावा, यीषु ने कहा, ‘‘और पिता जिसने मुझे भेजा है, उसी ने मेरी गवाही दी है'' (यूहन्‍ना 5:37)। हालांकि जिन लोगों से उसने कहा था उन्‍होंने परमेष्‍वर की आवाज़ को नहीं सुना था, अन्‍य जिन्‍होंने परमेष्‍वर को कहते हुए सुना था, ‘‘तू मेरा प्रिय पुत्र हैं; मैं तुमसे प्रसन्‍न हूँ'' (लूका 3:22)। इसके लिए निंदा होती थी, और सभी लोग जिनसे उस दिन बात हुई थी उन्‍हें पता था कि परमेष्‍वर की आवाज़ ने यीषु को अपना पुत्र कहा था।

फिर यीषु ने उन्‍हें चौथी गवाही याद दिलाते हुए कहा था कि यीषु मसीह था, उन्‍हें बचाने के लिए भेजा गया था। चौथी गवाही पवित्रषास्‍त्र खुद ही है, पुराने करार के वचनों में, जो समयके अनुसार दिये है, और बहुतसा भाग उन्‍हे मुँहपाठ था। यीषु ने उन्‍हें कहा कि वे, ‘‘पवित्रषास्‍त्र में ढूँढो हो...यह वही है जो मेरी गवाही देता है। फिर भी तुम जीवन पाने के लिए, मेरे पास आना नहीं चाहते'' (यूहन्‍ना 5:39, 40)।

कृपया समझीये कि यह कोई सायी विरोधी बयान नहीं है। दैनिक दृश्‍टि में जैसे, हम मानते है कि परमेष्‍वर का सांसारिक वचन इजारायेल देष के साथ है। इसलिए हम सायी विरोधी का अस्‍वीकार करते है। हम इजरायेल राश्‍ट्र के साथ है। हम यहूदी लोगों के सपोर्ट में है। वे ‘‘भटके'' हुए अन्‍यजाति से कम नहीं है, जिन्‍होंने उद्धारकतो के पास आने के लिए मना की है। किन्‍तु हम ‘‘क्‍योंकि मैं सुमाचार से नहीं लजाता; इसलिये कि वह हरएक विष्‍वास करने वाले के लिये पहले तो यहूदी फिर चूनानी के लिए; उद्धार के निमित परमेष्‍वर को सामर्थ्‍य है'' (रोमियों 1:16)। यीषु हरएक को बचाने के लिए आया जो उस पर विष्‍वास करे, चाहे यहूदी हो या चूनावी। किन्‍तु अगर वे उस पर विष्‍वास न करे, तो भी हम इझरायेल के साथ और यहूदीयों के यहूदीयों के बूराई के विरूद्ध।

अब हम विष्‍वासी यहूदीयों से मुड जाये जिनको यीषु ने उस दिन कहा था। इतना ही नहीं आज की रात हम अविष्‍वासी चूनानी की ओर मुडेंगे। आज की रातको आपको भी यीषु मसीह की वही समान गवाही है, परमेष्‍वर से भेजा गया उद्धारकता। आपको भी बप्‍तीस्‍मा देने वाले यूहन्‍ना की गवाही है। आपको भी मसीह के चमत्‍कारी की गवाही है। आपको भी स्‍वर्ग से परमेष्‍वर के आवाज़ की गवाही है और आपको पवित्र वचन की गवाही है। यह सभी गवाहियाँ कहती है नाझरी का यीषु ही वचन दिया हुआ छुडाने वाले वाला, और पापियों की बचाने वाला एक ही मात्र उद्धार करता है।

सबसे बद्‌तर बात तो यह है कि अविष्‍वासी यहूदी जिनसे यीषु ने उस दिन कहा था कि इन सभी गवाहीयों के बावजूद भी अनंतकाल के जीवन के लिए यीषु का अस्‍वीकार किया! और इसलिए उसने उनसे कहा,

‘‘तुम पवित्रषास्‍त्र में ढूँढते हो; क्‍योंकि समझते हो कि उसमें अनन्‍त जीवन तुम्‍हें मिलता है : और वह वही है जो मेरी गवाही देता है; फिर भी तुम जीवन पाने के लिये, मेरे पास आना नहीं चाहते'' (यूहन्‍ना 5:39, 40)।

तुमको षायद कोई बहाना हो सकता है अगर आप नास्‍तिक देष में रहते है, जैसे कि पहले का सोवियेत संघ किन्‍तु मैंने पासबान रीचर्ड वुर्मब्रांड से इस बारे में पढ़ा था, जो यीषु में विष्‍वासी यहूदी थे। वुर्मब्रांड लुधेरियन सेवक थे जिन्‍होंने रोमानियाके कम्‍युनिस्‍ट जेल में चौदह साल गुजारे थे सुसमाचार के प्रचार के कारण। पासबान वुर्मब्रांड ने एक जवान चित्रकार के बारे में बताया था जो साईबेरिया से था उसे मिले थे कारावास में जाने के पहले। वुर्मब्रांड रूसी और रोमेनियम भाशा अच्‍छी तरह से बोलते थे। जैसे उन्‍होंने कहा कि, यह जवान रूसी ने उन्‍हें बताया,

     ‘‘मुझे पाठषाला में जो पढ़ाया गया था, उतना ही जानता था, कि साम्राज्‍यवाद धर्म का साधन है और बहुत कुछ। परन्‍तु मैं घरके पासवाली, पुरानी कब्रस्‍तान, में चलता था जहाँ मैं अकेला होता था। मैं कईबार छोटे से तुटेफुटे घर में जाता था जो कब्र के बीच था'' (वुर्मब्रांड ने कहा, ‘मैं समझता हूँ कि यह कोई कब्रस्‍तान में रूसी ओर्थोडोफ्‍स चेपल था।' यह युवा आदमी बोलते गया)।
     ‘‘उसकी दीवार पर एक आदमी का चित्र था जिसे क्रूस पर चढ़ाया था। मैंने सोचा, ‘यह कोई बड़ा अपराधी होगा जिसे ऐसी सज़ा दी गयी।' किन्‍तु अगर वह अपराधी, था तो इसे इतना सम्‍मानित क्‍यों किया गया है - जैसे कि वह मार्क्‍स या लेनिन? मैंने निष्‍चय किया पहले उन्‍होंने उसे अपराधी समझा होगा, और बाद में पता लगा होगा कि वो निर्दोशी है इसलिये इसका चित्र [दुःख और पष्‍चाताप] के रूपमें रखा होगा।''
     [वुर्मब्रांड ने कहा] मैंने चित्रकार को कहा, ‘तुम सत्‍य के आधे रास्‍ते पर हो।' जब हम निष्‍चित स्‍थान पर पहुँचे कई घंटे के बाद, मैंने यीषु के बारे जो कुछ बताया उसने जाना। जैसे हम अलग हो रहे थे, उसने कहा, ‘मैंने कुछ चुराने की योजना की है आज रातको, जैसे हम सभी करते है, अब मैं कैसे करू? मैं मसीह में विष्‍वास करता हूँ।' (Richard Wurmbrand, Th.D., In God’s Uderground, Living Sacrifice Books, 2004 edition, pp. 25, 26).

हमने इसी तरह का उत्तर बारबार युवा रूसी लोगों से सुना जब सोवियेत संघ का गिरना हुआ। ताज्‍जुब से, हम इरान के युवा में और अधिक उत्तर पाते हुए देखा है। 600 वर्श में सबसे अधिक लोग मसीह में आते हुए पाए है इरान देषमें और अरब देषोमें। और अवष्‍य ही हम जानते है कि चीन, भारत, और आफ्रीका देष में लाखो की संख्‍या में लोग पूरे दील से यीषु को स्‍वीकार रहे है, अभी हमारे समयमें। और ये परिवर्तित कहते है, युवा रूसी चित्रकार की तरह, ‘‘किंस तरह मैं अपने उन पापों को हवाले कर दूँ? मैं मसीह में विष्‍वास रखता हूँ।''

क्‍या हम इस प्रकार की प्रतिक्रिया अमरिका में पाते है? नहीं, हम नहीं पाते। तब एक समय था जब हमने प्राप्‍त किया, परंतु अब सब खतम हुआ। ‘‘यीषु हलचल'' की षुरूआत साठवी सधी के बीच हुई थी। एक रात श्री. ग्रीफीथ ने अंत में मुझसे कहा था। उन्‍होंने अंतमें नैतिक अधिकता के बारे में कहा, जब जॅरी फालवेल ने मध्‍यवयस्‍क गोरे अमेरिकनो के भय से बढाया दिया था और युवा लोगों के विरोध में भडकाया था कि यहीं उन्‍हें हकारात्‍मक सुसमाचार के संदेष से जीता जा सकता था। श्री. ग्रीफीथ ने कहा कि जॅरी फालवेल ने ‘‘यीषु हलचल'' को खतम किया था। ये षायद थोडा अधिक तर का बयान होगा, किन्‍तु मैं सोचता हूँ कि वह कुछ ओर करने की सोच में था। जॅक हाइल्‍स ने उसकी मदद नहीं की। उसने वाईर रीम्‍मड ग्‍लासीस वाले की विरोध में प्रचार किया (क्‍योंकि जॉन लेनोन ने पहना था) जब की उसका अपना बेटा जंगली सुअर की तरह कलेषिया की लडकियोंं के साथ था। हाईल्‍स, सालवेल, के जैसे प्रजारक कलेषिया से यूवा लोगों को प्रीच ले जाते है उन्‍हें लगा कि कलेषियाँ के बच्‍चों की रक्षा संसारके बच्‍चों के विरोध में प्रचार करते हुए की जा सकती है। परन्‍तु यह तो वचन के विरूद्ध में जाने की पद्धति थी। पूर्वकालिन कलेषिया ने ऐसा नहीं किया था, या तो किसी सुसमाचार के प्रचार के क्रांति के समय में न था। परिणाम के रूप में, उन्‍होंने संसारमें मात्र आदर्ष ही नहीं खोए किंतु 88% अपनी कलेषिया के बच्‍चों की भी खोया, पोलस्‍टर ज्‍योर्ज बारना के अनुसार।

अब वे उस युवा लोगों के लाना चाहते है, परन्‍तु बहुत देर हो चुकी है। अब परमेष्‍वर ने ‘‘वह उनसे दूर हो गया है'' (होष्‍ो 5:6)। आप प्रभु के हिलने को महसूस कर सकते है जैसे ‘‘यीषु हलचल'' अगर वो है तो पीढ़ी में एक बार। अब ‘‘बढ़नेवाले'' बप्‍तीस्‍त युवा लोगों को भडकते प्रकाष और अजीब से संगीत से और ‘‘ईसाई'' गो-गो गर्ल्‍स! बहुत देर हो चुकी है! कुछ ‘‘काम नहीं करेगा!'' अब परमेष्‍वर कहता है,

‘‘फिर मैं अपनी जगह लौत जाऊँगा, जब तक की वे लोग स्‍वयं को अपराधी नहीं मानेगें...'' (होष्‍ोे 5:15)।

व्‍यक्‍तिगत रूपसे, मैं नहीं सोचता हूँ कि युवा लोगों के बीच परमेष्‍वर का हिलना होगा जब तक अमरिका गिरेगा। ओह हाँ, अमेरिका गिरेगा, आप जानते हो! मुझे नहीं लगता है कि परमेष्‍वर और कोई क्रांति युवा लोगों के बीच लायेगा जब तक अमेरिका गिरेगा नहीं। मैं गलत हो सकता हूँ, परन्‍तु मुझे नहीं लगता कि मैं गलत हूँ। तब मात्र यही नहीं हमें समझ आयेगी कि जॅक हाईल्‍स और जॅरी फॉलवेल जैसे इन्‍सानों ने युवा लोगों का अमेरिका में कितना नुकसान पहुँचाया है 1970 और 1980 की सदी में। कृपया समझ ने की कोषिष करे कि मैं पूर्णरीति से डॉ. फॉलवेल के विरूद्ध में नहीं हूँ, किन्‍तु तब उन्‍होंने कई अज्ञानी बातें कही थी।

मसीह के समय में भी यही हुआ था। कई यहूदी युवा लोग यीषु के पास आये और उद्धार पाये। परन्‍तु धार्मिक अगुवोने वार किया कि क्रांति के भयसे कि वे अपने राश्‍ट्र गुमा बैठेंगे (यूहन्‍ना 11:48)। मसीह का अस्‍वीकार करने से वैसे भी उन्‍होंने गुमा दिया है - जैसे आज अमेरिकन अपना राश्‍ट्र गुमा रहे है!

तो, अगर आप उत्तर अमेरिका के युवा हो या तो पष्‍चिम में कहीं भी, यह बिलकुल असम्‍भव है कि आपका उद्धार होगा, यह बिलकुल असंभव है कि तुम यीषु के पास आओगे जैसे उस युवा रूसी चित्रकार ने किया था। परमेष्‍वर सामर्थ्‍य से अमेरिका में कार्य नहीं कर रहा है और सामान्‍य रूपसे पष्‍चिम में। वह ‘‘उनसे दूर है'' (होष्‍ो 5:6)। और आज यीषु तुम से कह रहा है,

‘‘फिर भी तुम जीवन पाने के लिये, मेरे पास आना नहीं चाहते'' (यूहन्‍ना 5:40)।

आपको पता है कि आप यीषु के पास नहीं आ सकते जबतक परमेष्‍वर तुम्‍हें खींचता है? यीषु ने इस बातका स्‍पश्‍टीकरण करते हुए कहा,

‘‘कोई मेरे पास नहीं आ सकता जब तक पिता, जिसने मुझे भेजा है उसे खींच न ले...'' (यूहन्‍ना 6:44)।

और परमेष्‍वर बहुत ही कम अमेरिका के और पष्‍चिम के युवा लोगों को यीषु की ओर खींचता है। यीषु के पास आने के लिए चमत्‍कार होगा। हाँ, ऐसे बुरे समय में तुम्‍हारे बचाव के लिए चमत्‍कार होता है।

इट टुक अ मीराकल टु पुट ध स्‍टार्स इन प्‍लेस,
   इट टुक अ मीराकल टु हेंग ध वर्ल्‍ड इन स्‍पेस;
बट व्‍हेन ही सेवड माय सोल, क्‍लेन्‍सड अेंड मेड मी होल,
   इट टुक अ मीराकल ओफ लव अेंड ग्रेस!
(“It took A Miracle” by John W. Peterson, 1921-2006)।

पुछताछ के कमरे की ओर तुम में से कई लोग लथकाते दिखाई रहे है। तुम अंदर बाहर हो रहे हो Zombies की तरह चलते हुए षव की तरह (इफिसियों 2:1, 5)। लेकिन यीषु की और बढ़ नहीं पा रहे हो - कोई भी नहीं! कोई भी नहीं! ऐसा क्‍यों? यीषु ने कहा था,

‘‘कोई मेरे पास नहीं आ सकता जब तक पिता, जिसने मुझे भेजा है उसे खींच न ले...'' (यूहन्‍ना 6:44)।

‘‘परमेष्‍वर ने कहा ‘‘वह उनसे दूर हो गया है'' (होष्‍ो 5:6)।

अब ऐसे लग रहा है कि चीन के युवा लोग यीषु के पास आ रहे है! हजारों में लोग उनके पास आते है! किन्‍तु जैसे चीन का विद्यार्थी अमेरिका आता है तब यह नहीं होता है। क्‍यों? क्‍योंकि उन्‍होंने परमेष्‍वर के आशिषित चीन के विस्‍तार को छोडा है, और यहाँ स्‍थानांतर किया है, ऐसे विस्‍तार में जैसे परमेष्‍वर ने ‘‘खुद दूर हो गया है।'' हम देखते है कि हजारोें लाखों लोग आँसुओं के साथ यीषु के पास आते है और उद्धार का आनंद पाते है - चीनमें! क्‍ेवल चीन! हम जानते है कि चीनी विद्यार्थी जब अमेरिका आता है तब परमेष्‍वर वहाँ हिलता नहीं है।

डॉ. केनेथ कॉनोली ऐतिहासिक क्रांतियों के विद्यार्थी थे। एक बात पर डॉ. कॉनोली ने ध्‍यान दिया कि क्रांतियों हमेषा ‘चुनी' हुई होती है। उनका मतलब था कि खास प्रकार के ग्रुप के लोगों को छू लेती थी। और बिलकुल ऐसा ही कुछ हो रहा है चीन के युवा लोगों के बीच। चीन में, प्रति एक घंटे में 700 युवा लोग यीषु के पास आते है - रात और दिन - आधुनिक समय की महान क्रांति। परन्‍तु जब चीन का विद्यार्थी यहाँ आते है बहुत ही कम उद्धार पाते है! हम ने कभी एक भी चीनी विद्यार्थी को कलेषिया में आकर उद्धार पाते देखा नहीं है, एक भी नहीं! वे परमेष्‍वर के आषिशित विस्‍तार से आध्‍यात्‍मिक मृत्‍यु के विस्‍तार यु. एस. और युरोप में आये है। और अमेरिका और पष्‍चिम के बहुत ही कम लोग कोई एथ्‍नीक ग्रुप से उद्धार पाते हुए ऐसे बुरे समय में देखा है। ‘‘डिशीझनीझम'' की गलत षिक्षा कारण हो सकता है। डॉ. चार्ल्‍स होडज ने ‘‘डिशीझनीझम'' का बहुत ही बड़ी भुल बताई थी जब उन्‍होंने कहा,

कोई और आत्‍मा को नश्‍ट करने के सिद्धांत अच्‍छी तरह से पापी खुदको पुर्नजन्‍म सिद्धांत से तैयार किया जा सकता है, और पष्‍चाताप करें और जब चाहे विष्‍वास करें। जो लोग ऐसी षिक्षा प्राप्‍त करते है वे कभी भी एक ही मात्र स्‍त्रोत है जहाँ यह आषीपें पायी जाती है। (Charles Hodge, Ph.D., Systematic Theology, Hendrickson Publishers, 1999 edition, volume II, p. 277).

अब, चलो हम कुछ काम की बात करें। क्‍या आप को इन दो वचनो में विरोधाभास नजर आ रहा है?

‘‘फिर भी तुम जीवन पाने के लिये, मेरे पास आना नहीं चाहते'' (यूहन्‍ना 5:40)।

और

‘‘कोई मेरे पास नहीं आ सकता जब तक पिता, जिसने मुझे भेजा है उसे खींच न ले...'' (यूहन्‍ना 6:44)।

मैं आपके यह आसान बनाने का प्रयत्‍न नहीं करूँगा। यह विरोधाभास है! वास्‍तव में तुम्‍हें यीषु के पास उद्धार के लिए आना ही है - परन्‍तु आप नहीं आ सकते जब तक पिता तुम्‍हें खींच ले। यह तुम्‍हें कहाँ छोड़ रहा है? यह तुम्‍हें भटकने की स्‍थिति में छोड़ रहा है! यही तो भटके जाने का मतलब है! तुम्‍हें यीषु के पास उद्धार के लिए आना ही है - किन्‍तु तुम उसके पास नहीं आ सकते जब तक परमेष्‍वर तुम की न खींचे! यह सहीं में विरोधाभास दर्षाता है! भटकना क्‍या है इसका अर्थ बताता है! तुम सोचते होंगे कुछ सीखने से या तो कुछ करने से अपने आपसे उद्धार होगा, तुम्‍हारा उद्धार कभी नहीं होगा। जैसे डॉ. होडज ने कहा था, ‘‘जो सही में यही षिक्षा स्‍वीकार करता है (कि तुम कुछ सीखने से या तो कुछ करने से उद्धार पाओगे) कभी नहीं उन आषीश के लिए लागू पडते है।''

तुम्‍हें मसीह के पास आना ही है - किन्‍तु तुम मसीह के पास नहीं आ सकते! उसे ‘‘पवित्रषास्‍त्र का सिकंजा'' कहा गया है। मैं आषा करता हूँ तुम यह नहीं सोचना कि तुम पहली व्‍यक्‍ति हो जो ‘‘पवित्रषास्‍त्र का सिकंजे'' में पीसे गए हो। जॉन बनयन (1628-1688) को उस सिकंजे में 18 महीने रखा था। यंग स्‍पर्यजन उसमें करीब सात साल तक थे। तुम की इस ‘‘सिकंजे'' में परमेष्‍वर के द्वारा रखे गए हो। मैं नहीं कर सकता किन्‍तु मुझे करना ही है। ये आपकी स्‍तिथी तुम्‍हें उस सिकंजे में कुछ कारण से रखा है।

सिकंजा एक साधन है जिसे कार्य के लिए जुड़ा गया हैै। उसके स्‍टील के दो जबडे होते है जो साथ में घुमते है टेकन या स्‍क्रू द्वारा। उसका प्रयोग दो जबडों के बीच निचोडने के लिए किया जाता है। ‘‘पवित्रषास्‍त्र का सिकंजा'' दिखता है जब परमेष्‍वर तुम्‍हे ‘‘मैं नहीं कर सकता किन्‍तु मुझे करना ही है!'' के बीच निचोडता है। अगर दबाव तुम्‍हें असहय होता है, षायद आप रो पडों। ‘‘मैं कैसा अभागा मनुश्‍य हूँ! मुझे इस मृत्‍यु की देह से कौन छुडायेगा? (रोमियों 7:24)। जब तुम्‍हें ऐसा मेहसूस होता है, तुम जागृत हो गए हो और अकसर यीषु के सामने रो पडने के बिलकुल करीब हो, प्रभु, मुझे बचाए! उसी प्रकार क्‍लासीकल बातचीत होते है इस तरह ही अगस्‍टीन, लुथर, वेस्‍ली, और वाईटफील्‍ड परिवर्तित हुए थे। इसके पहले आप जो कुछ भी करो यह तो मात्र षुरूआत होगी और बुरी तरह से यज़ाक बनोगे। परमेष्‍वर सिकंजे का टेकन घुमाता है। वह स्‍क्रू घुमाता है और सिकंजे के जबड़े मजबूत करता है। तुमको दबाव महसूस होता है? फिर भी निचोढना महसूस करते हो?

जीवन पाने के लिए तुम्‍हें यीषु के पास ही आना है। किन्‍तु अपने आपके सामर्थ्‍य से तुम उसके पास नहीं आ सकते। तुम्‍हें आना ही है - किन्‍तु तुम नहीं आ सकते! तुम भटक गए हो! यीषु को पुकारो! वह ही तुम्‍हें बचा सकता है! वो ही तुम्‍हारे पाप माफ कर सकता है! वो ही तुम्‍हें अनंत काल का जीवन दे सकता है। पवित्रषास्‍त्र के सिकंजे में कुचले जाना मेहसूस करते हो तब वो ही तुम्‍हें बचाता है! यीषु को पुकारो! उसकी करूणा के लिए गिरो। तुम्‍हारे पाप की भुगतान के रूपमें क्रूस पर मरा। वह मृत्‍यु से जी उठा तुम्‍हें जीवन देने के लिए! आज की रात तुम्‍हें विनती करता हूँ - यीषु के पास आओ और अभी करो! अपने आपको परमेष्‍वर के पुत्र पर ड़ालो! डॉ. Issac Watts को सुनो,

अ गिल्‍टी, वीक, एँड हेल्‍पलेस वर्म,
   अॉन क्राइस्‍टस्‌ काइंड आरमस्‌ आय फॉल;
ही इस माय स्‍ट्रेंध अेन्‍ड राईच्‍यसनेस,
   माय जीसस, अेंड माय अॉल।
(“How Sad Our State by Nature Is!” by Dr. Issac Watts, 1674-1784;
      to the tune of “O Set Ye Open Unto Me”).

अगर तुम यीषु द्वारा उद्धार पाने की बात हमसे करना चाहते हो, तो कृपया करके आप अपने स्‍थान से उठकर सभागृह के पीछे जाईए। डॉ. केगन आपको एकांत कमरे की ओर ले जायेंगे आपसे बात करके प्रार्थना करेंगे। डॉ. चान, कृपया आइए और आज जिन्‍होंने उद्धार पाया है उनके लिए प्रार्थना करें, आमीन।

(संदेश का अंत)
आप डॉ0हिमर्स के संदेश प्रत्येक सप्ताह इंटरनेट पर पढ़ सकते हैं क्लिक करें
www.realconversion.com अथवा www.rlhsermons.com
क्लिक करें ‘‘हस्तलिखित संदेश पर।

आप डॉ0हिमर्स को अंग्रेजी में ई-मेल भी भेज सकते हैं - rlhymersjr@sbcglobal.net
अथवा आप उन्हें इस पते पर पत्र डाल सकते हैं पी. ओ.बॉक्स 15308,लॉस ऐंजेल्स,केलीफोर्निया 90015
या उन्हें दूरभाष कर सकते हैं (818)352-0452

ये संदेश कॉपी राईट नहीं है। आप उन्हें िबना डॉ0हिमर्स की अनुमति के भी उपयोग में ला सकते
 हैं। यद्यपि, डॉ0हिमर्स के समस्त वीडियो संदेश कॉपीराइट हैं एवं केवल अनुमति लेकर
ही उपयोग में लाये जा सकते हैं।

धार्मिक प्रवचन से पहले श्रीमान एबेल प्रुद्योम्‍म द्वारा पढ़ा हुआ पवित्रषास्‍त्र : यूहन्‍ना 5:31-40।
धार्मिक प्रवचन से पहले श्रीमान बेन्‍जामिन कीनकेड ग्रीफिथ द्वारा गाया हुआ गीत :
“Come Unto Me” (by Charles P. Jones, 1865-1949).