Print Sermon

इन संदेशों की पांडुलिपियां प्रति माह २१५ देशों के १,५००,००० कंम्प्यूटर्स पर इस वेबसाइट पते पर www.sermonsfortheworld.com जाती हैं। सैकड़ों लोग इन्हें यू टयूब विडियो पर देखते हैं। किंतु वे जल्द ही यू टयूब छोड़ देते हैं क्योंकि विडियों संदेश हमारी वेबसाईट पर पर पहुंचाता है। यू टयूब लोगों को हमारी वेबसाईट पर पहुंचाता है। प्रति माह ये संदेश ३५ भाषाओं में अनुवादित होकर १२०,००० प्रति माह हजारों लोगों के कंप्यूटर्स पर पहुंचते हैं। लिये उपलब्ध रहते हैं। पांडुलिपि संदेशों का कॉपीराईट नहीं है। आप उन्हें बिना अनुमति के भी उपयोग में ला सकते हैं। आप यहां क्लिक करके अपना मासिक दान हमें दे सकते हैं ताकि संपूर्ण संसार जिसमें मुस्लिम व हिंदु भी सम्मिलित है उनके मध्य सुसमाचार फैलाने के महान कार्य में सहायता मिल सके।

जब कभी आप डॉ हिमर्स को लिखें तो अवश्य बतायें कि आप किस देश में रहते हैं। अन्यथा वह आप को उत्तर नहीं दे पायेंगे। डॉ हिमर्स का ईमेल है rlhymersjr@sbcglobal.net.




बचे हुओं की षिक्षा

THE DOCTRINE OF THE REMNANT
(Hindi)

डो. आर. एल. हायर्मस, जुनि. द्वारा
by Dr. R. L. Hymers, Jr.

लोस एंजलिस के बप्तीस टबरनेकल में प्रभु के दिन की षाम, 27 जनवरी, 2013 को दिया हुआ धार्मिक प्रवचन
A sermon preached at the Baptist Tabernacle of Los Angeles
Lord’s Day Evening, January 27, 2013

‘‘यदि सेनाओं का यहोवा हमारे थोड़े से लोगों को न बचा रखता, तो हम सदोम के समान हो जाते, और अमोरा के समान ठहरते'' (यषायाह 1:9)।


मैंने इस धार्मिक प्रवचन का षिर्शक डो. डब्ल्यु ए. क्रीसवेल (1909-2002), पहले बेपटीस्ट कलीसिया दीर्घकाल के याजक, डल्लास, टेक्सास, से लिया है। मैं आपको वो कहता हूँ क्योंकि मैं जानता हूँ कुछ प्रचारक षायद कहे, ‘‘षिक्षा'' षब्द का इस्तेमाल मत करो। लोग षिक्षा से फिर गये है।'' उन प्रचारको के लिये षिक्षा और सिद्धांत (theology) महत्वपूर्ण नहीं है। उनको धार्मिक प्रवचन देने है आदमीयों की आवष्यकता पर, षिक्षा पर देने से अधिक। इसलिये हम ज्यादा धार्मिक प्रवचन नहीं सुनते सोटेरीयोंलोजी (Soteriology) की षिक्षा पर, या भाग्य (Predestination) की षिक्षा पर, या अतिदुश्टता (reprobation) की षिक्षा पर, या भूतविद्या (demonology) की षिक्षा पर, या धर्मोपदेष संबंधी ज्ञान (ecclesiology) की षिक्षा पर, या किसी और सिद्धांतिक षिक्षा पर। इस प्रकार आज ज्यादातर धार्मिक प्रवचन परमेष्वर केन्द्रित और ईष्वरविद्या से अधिक मानव-केन्द्रित बन गये है। इसलिये मैं डॉ. क्रीसवेल के षिर्शक ‘‘बचे हुओं की षिक्षा'' का इस्तेमाल कर रहा हूँ। वो महान् प्रचारक षिक्षा पर प्रचार करने से डरते नहीं थे।

परंतु ज्यादातर प्रचारक आज षुरूआत करते है आदमी की आवष्यकता के बारे से बजाय पवित्रषास्त्र में षिक्षा और अध्यात्मविद्या संबंधी सच्चाई के बारे में सोचने के बदले। यहाँ कुछ आधुनिक धार्मिक प्रवचन के षिर्शक है जो द्रश्टांत देते है इस ‘‘मानव-केन्द्रित'' मूल्य प्रचार करने को। ये यर्थाथ षिर्शक है : ‘‘आपके जीवन का उत्तरदायित्व लेना'', ‘‘प्रेम में रहना'', ‘‘सामान्य जीवन के लिये उपाय'', ‘‘परमेष्वर सोचते है आप अद्भूत हो'', ‘‘तब तक, असलामती'', ‘‘समतोल जीवन'', ‘‘नश्ट करना षुरू करो, जिना षुरू करो'', ‘‘बेहतर आप बनना'', ‘‘आपका उत्तम जीवन अब जियो'', ‘‘आपकी पहचान का आविश्कार करना'', ‘‘आपके भावों की व्यवस्था करना''। और यहाँ एक है जो यह सब कहता है, ‘‘बेहतर विवाह के आपके रास्ते पर मुस्कुराओ।'' मैं नहीं कहता हूँ कि वहाँ इन संदेषो में कुछ मददरूप नहीं है। वहाँ षायद है। मैं कहता हूँ कि ये सारे षिर्शक दिखाते है कैसे बाइबल षिक्षा और बाइबल अध्यात्मिक विद्या से अधिक मानव की आवष्यकताएँ आज ज्यादातर धार्मिक प्रवचनों के केन्द्र में है। और उस प्रकार का प्रचार सुनके मैं जानता हूँ यह कितना विनोदहीन है! वह ओप्रा विनफ्रे या रीडर्स डायजेस्ट के विशय लगते है!

मैं डॉ. डेवीड एफ. वेल्स द्वारा लिखी अनेक किताब पढ़ता आया हूँ। वे गोर्डन - कोनवेल अध्यात्मविद्या संबंधी धार्मिक पाठषाला में अध्यात्मविद्या के प्राध्यापक है। हाँ, वे नये सुसमाचार - प्रचारक है, परंतु उनके पास कुछ बहुत रूचिकर बातें है कहने के लिये। द्रश्टांत के तौर पर, उन्होंने कहा ‘‘... निरर्थक और बालिष कहानियाँ जो धार्मिक प्रवचनों की तरह दी जाती है हर हफते तख्त से सुसमाचार प्रचारक कलीसियाओं से ... जहाँ हमने अध्यात्मविद्या के हमारेस्वयं को षून्य कर दिया है, हमने हमारे स्वयं को मसीही गंभीरता प्रचार में षून्य कर दिया है'' (डेवीड एफ. वेल्स, पीएच.डी., नो प्लेस फोर ट्रुथ : ओर वोटएवर हेपन्ड टु इवान्जलीकल थीयोलोजी? सच के लिये जगह नहीं : या जो कुछ भी हुआ सुसमाचार प्रचार ईष्वरविद्या को?, एरडमान्स, 1993, पृश्ठ 292)। मैं एक कारण से उनके साथ हो रहा हूँ।

डो. डब्ल्यु ए. क्रीसवेलमत - संबंधी प्रचारक थे। उनके ज्यादातर महान् धार्मिक प्रवचनों में मजबूत अध्यात्मविद्या संबंधी और टीका करनेवाला आधार था। इसलिये मैं आष्चर्यचकित नहीं हूँ कि डो. क्रीसवेल ने प्रचार किया ‘‘बचे हुओं की षिक्षा'' पर। परंतु यह मन्द, षुश्क संदेष नहीं था। कोई भी जिसने कभी भी डो. क्रीसवेल को सुना होगा वो स्मरण रखेगा कि वे तेजस्वी प्रचारक थे! डो. क्रीसवेल पूरी तरह से सहमत हुए होते डो. मार्टीन लोयड़-जोनस के साथ, जब डो. लोयड - जोनस ने कहा,

प्रचार करना क्या है? तर्कषास्त्र या दाह! ... ये दाह (आग) पर अध्यात्मविद्या है ... प्रचार करना अध्यात्मविद्या है आदमी से आती हुई जो आग पर है ... आदमी जो इन बातों के बारे में पक्षपातहीन ढंग से बोल सकता है उसे तख्त पर होने का हक नहीं है, और उसे कभी भी वहाँ प्रवेष करने परवानगी नहीं देनी चाहिए (डी. मार्टीन लोयड-जोनस, एम.डी., प्रीचींग एन्ड प्रीचर्स, प्रचार और प्रचारक, झोन्डरवान प्रकाषन घर, 1972, पृश्ठ 97)।

और इसलिये, मैं डो. क्रीसवेल का षिर्शक ‘‘बचे हुओं की षिक्षा'' रखुँगा। और मैं प्रार्थना करता हूँ कि परमेष्वर मुझे सहाय करे पर्याप्त ‘‘आग'' रखने, आपका ध्यान पकड़े रखने के लिये और आज रात कुछ खोयी आत्मा के परिवर्तन तक ले जाये!

‘‘बचे हुओं की षिक्षा''। हमारा पाठ कहता है,

‘‘यदि सेनाओं का यहोवा हमारे थोड़े से लोगों को न बचा रखता, तो हम सदोम के समान हो जाते, और अमोरा के समान ठहरते'' (यषायाह 1:9)।

‘‘यदि सेनाओं का यहोवा हमारे थोड़े से लोगों को न बचा रखता ...'' इब्रानियों षब्द अनुवाद किया है ‘‘बचा हुआ'' वो है ‘‘सोरीड'' ‘‘sawreed''। इसका अर्थ है ‘‘उद्धारक''। और जब प्राचीन रब्बीयों ने षब्द इब्रानियों (हीब्रु) से ग्रीक में अनुवाद किया, सेप्ट्युअजिन्ट् (Septuagint) (यूनानी भाशा में इज्जील के उत्तरार्ध का उल्टा) में, उन्होंने इस्‍ेमाल किया ग्रीक षब्द ‘‘स्पेर्मा'' (Sperma) जिसका अर्थ है ‘‘स्पर्म'' (sperm) या ‘‘सीड'' (बीज)। ‘‘यदि सेनाओं का यहोवा ने हमारे थोड़े से उद्धारकों को नहीं छोड़ा होता, एक छोटा बीज, विष्वासु फूलों का छोट़ा सा समुदाय (गुच्छा), हम प्रभु के क्रोध द्वारा पूरी तरह नश्ट हो चुके होते, जैसे सदोम और अमोरा के नगर के समान!'' बचे हुओं की ‘‘षिक्षा'' क्या है? ये यह है-परमेष्वर उनके स्वयं को बचाते है विष्वासु लोगों के छोटे़ समुदाय के लिये जिन्हें वे सुरक्षितता से लायेंगे न्याय के आग से उन्हें स्वर्ग में मिलने! वो है बचे हुओं की षिक्षा! वो है हमारे पाठ का संदेष,

‘‘यदि सेनाओं का यहोवा हमारे थोड़े से लोगों को न बचा रखता, तो हम सदोम के समान हो जाते, और अमोरा के समान ठहरते'' (यषायाह 1:9)।

यषायाह ने प्रभु के न्याय का संदेष प्रतिपादन किया। परंतु भविश्यवक्ता ने भी आषा का संदेष दिया। यषायाह की किताब में, उन्होंने कहा कि भूमि (संसार) का न्याय होगा और नश्ट होगी। फिर भी, कोई बात नहीं राश्ट्र को चाहे जो भी हो, परमेष्वर, विष्वासु बचे हुए, एक बीज, उद्धारकों का एक छोटा समुदाय बचायेंगे। और वो बचे हुए बनेंगे धरती पर मसीह के सामराज्य की नींव! वो है बचे हुओं की षिक्षा!

‘‘यदि सेनाओं का यहोवा हमारे थोड़े से लोगों को न बचा रखता, तो हम सदोम के समान हो जाते, और अमोरा के समान ठहरते'' (यषायाह 1:9)।

1. पहला, बचे हुओं की षिक्षा यषायाह की पूरी किताब में मिलती है।

यषायाह ग्यारह में हम पढ़ते है

‘‘उस समय प्रभु अपना हाथ दूसरी बार बढ़ाकर बचे हुओं को, जो उसकी प्रजा के रह गए है छुड़ाएगा'' (यषायाह 11:11)।

उस पाठ में दूसरा पद कहता है,

‘‘उसकी प्रजा के बचे हुओं के लिये राज-मार्ग होगा'' (यषायाह 11:16)।

और सैतीस (37) वे पाठ में, यह कहता है,

‘‘तू इन बचे हुओं के लिये जो रह गए है, प्रार्थना कर'' (यषायाह 37:4)।

हम बाद में उस पाठ में, भी बचे हुओं का निर्देष दो बार देखते है,

‘‘बचे हुए लोग फिर जड़ पकडेंगे ... क्योंकि यरूषलेम से बचे हुए भागे हुए निकलेंगे'' (यषायाह 37:31,32)।

आखिरकार हम यह यषायाह छयालीस (46) में देखते है,

‘‘हे याकूब के घराने, हे इस्त्राएल के घराने के सब बचे हुए लोगों, मेरी ओर कान लगाकर सुनो ...'' (यषायाह 46:3)।

नयी नियमावली में बचे हुओं की षिक्षा दिखती है रोमियों की किताब में, जब प्रेरितो पौलुस ने कहा,

‘‘और यषायाह इस्त्राएल के विशय में पुकारकर कहता है, चाहे इस्त्राएल की सन्तानों की गिनती समुद्र के बालू के बराबर हो, तो भी उनमें से थोड़े ही बचेंगे'' (रोमियों 9:27)।

‘‘जैसा यषायाह ने पहले भी कहा था, यदि सेनाओं का प्रभु हमारे लिये कुछ वंष न छोड़ता तो हम सदोम के समान हो जाते, और अमोरा के सदृष ठहरते'' (रोमियों 9:29)।

यषायाह उनका संदेष षुरू करते है लोगों के पाप के वर्णन द्वारा।

‘‘हाय, यह जाति पाप से कैसी भरी है! यह समाज अधर्म से कैसा लदा हुआ है! इस वंष के लोग कैसे कुकर्मी है, ये बाल-बच्चे कैसे बिगड़े हुए हः उन्होंने यहोवा को छोड़ दिया, उन्होंने इस्त्राएल के पवित्र को तुच्छ जाना है! वे पराए बनकर दूर हो गए है'' (यषायाह 1:4)।

फिर भविश्यवक्ता वर्णन करते है न्याय का जो पवित्र परमेष्वर भेजेंगे उनपर उनके अधर्म के लिये,

‘‘तुम्हारा देष उजड़ा पड़ा है, तुम्हारे नगर भस्म हो गए है; तुम्हारे खेतों को परदेषी लोग तुम्हारे देखते ही निगल रहे है, वह परदेषियों द्वारा नश्ट किए गए देष के समान उजाड़ है'' (यषायाह 1:7)।

आखिरकार, यषायाह ने कहा कि अगर प्रभु बीच में नहीं आते तो वे पूरी तरह से मिट गए होते,

‘‘यदि सेनाओं का यहोवा हमारे थोड़े से लोगों को न बचा रखता, तो हम सदोम के समान हो जाते, और अमोरा के समान ठहरते'' (यषायाह 1:9)।

वो है बचे हुओं की षिक्षा भविश्यवक्ता यषायाह की किताब में।

2. दूसरा, बचे हुओं की षिक्षा समस्त, बाइबल में मिलती है।

‘‘यदि सेनाओं का यहोवा हमारे थोड़े से लोगों को न बचा रखता, तो हम सदोम के समान हो जाते, और अमोरा के समान ठहरते'' (यषायाह 1:9)।

हम महा जल-प्रलय से पहले बचे हुओं की षिक्षा देखते है जब,

‘‘यहोवाने कहा, मैं मनुश्य को जिसकी मैं ने सृश्टि की है पृथ्वी के ऊपर से मिटा दूँगा'' (उत्पति 6:7)।

वो न्याय की धमकी थी।

‘‘परन्तु यहोवा के अनुग्रह की दृश्टि नूह पर बनी रही'' (उत्पति 6:8)।

वह थी बचे हुओं की षिक्षा। नूह और उसके परिवारवाले ‘‘बहुत कम बचे हुए थे'' जिन्हें परमेष्वर ने जल-प्रलय से बचाया था।

हम बचे हुओं की षिक्षा अब्राम के जीवन में देखते है, जो बुलाया गया था कसदियों के ऊर से बाहर, और वे धरती पर परमेष्वर के बचाए हुए बन गये। फिर एक आदमी बचाया हुआ था! निर्गमन में हम देखते है, जब परमेष्वर ने उनके लोगों को बचाया बंधन से मिस्त्र में मूसा के हाथ द्वारा। हम इसे देखते है गिदोन और उसके छोटे़ समुदाय सिर्फ तीन सौ योद्धा के साथ, मिधानी (Midianites) के षक्तिषाली बल के सामने। हम इसे दाऊद में देखते है, उनके निर्वासितों के छोटे़ समुदाय के साथ साऊल राजा की बड़ी सेना के सामने। हम, इसे देखते है षमूएल और सारे भविश्यवक्ताओं में, जो मूर्तिपूजक समान राजा और उनकी क्रूर सेना के सामने खड़े रहे। हम इसे देखते है यीषु और उनके चेलों के छोट़े समुदाय में जो सुसमाचार को षक्तिषाली रोमी साम्राज्य के पास ले जा रहे थे। और, आखिकार, हम बचे हुओं की षिक्षा देखते है बड़े क्लेष के समय में, जब बालबल कहता है कि ष्‍ौतान का क्रोध इस्त्राएल के सामने आता है और ‘‘उसकी ष्‍ोश सन्तान से, जो परमेष्वर की आज्ञाओं को मानते है और यीषु की गवाही देने पर स्थिर है'' (प्रकाषितवाक्य 12:17)। वो हे बचे हुओं की षिक्षा - प्रभु के लोगों का छोट़ा समुदाय जो पाप भरे अंधेरे संसार में छोड़ा गया है।

‘‘यदि सेनाओं का यहोवा हमारे थोड़े से लोगों को न बचा रखता, तो हम सदोम के समान हो जाते, और अमोरा के समान ठहरते'' (यषायाह 1:9)।

3. तीसरा, बचे हुओं की षिक्षा आज सत्य है।

जल-प्रलय के दिनों में, वहाँ पर कितने थे? सिर्फ आठ लोग, नूह और उसका परिवार। वो बचे हुए थे! उस दिन जब परमेष्वर ने अब्राम को बुलाया वहाँ सिर्फ वो एक था। वो था बचा हुआ! इस्त्राएल के स्वधर्म त्याग के दिनों में वहाँ सिर्फ 7,000 थे, और प्रभु ने एलिय्याह से कहा, ‘‘मैंने अपने लिये सात हजार पुरूशों को रख छोड़ा है, जिन्होंने बाअल के आगे घुटने नहीं टेके है'' (रोमियों 11:4)। वो था बचा हुआ। और प्रभु यीषु मसीह ने हमें कहा की सिर्फ थोड़े ही बचाये जायेंगे। उन्होंने कहा,

‘‘सकेत फाटक से प्रवेष करो, क्योंकि चौड़ा है वह फाटक और सरल है वह मार्ग जो विनाष को पहुँचाता है; और बहुत से है जो उस से प्रवेष करते हैं। क्योंकि सकेत है वह फाटक और कठिन है वह मार्ग जो जीवन को पहुँचाता है; और थोड़े है जो उसे पाते है'' (मती 7:13,14)।

‘‘थोड़े है जो उसे पाते है''। वो है बचा हुआ।

लोस एंजलिस में सारे लाखों परिपूर्ण में से परमेष्वर, उनकी दूरदर्षिता द्वारा, आपको इस षाम यहाँ लाये है। क्या आप प्रभु के थोड़े बचाये हुओं में से एक होंगे? क्या उन थोड़े में से एक होंगे जो यीषु को पाते है और बचाये गये हो? यीषु ने कहा, ‘‘थोड़े है जो उसे पाते है'' (मती 7:14)। बाकी के सारे ‘‘अनन्त दण्ड भोगेंगे'' (मती 25:46)। क्या आप हमारे कलीसिया में आओगे, बचाये जाओगे, और प्रभु के बचाये हुओ का हिस्सा बनोगे?

किसी ने एकबार स्पर्जन से कहा, ‘‘तो आप मानते हो वो कोई माने, यीषु का स्वीकार करो, और बचाये जाओ कोई बात आप क्या करो, कोई बात नहीं आप कितना प्रचार करो, कोई बात नहीं आप कितना काम करते हो। कैसी निराषाजनक षिक्षा!'' स्पर्जन ने उसे कहा, ‘‘नहीं, एैसा नहीं है। मैं जानता हूँ कि कोई सूनेगा, कोई उनके मन खोलेंगे, कोई पश्चाताप करेगा और बचाया जायगा,'' और वो बचा हुआ होगा! वो विश्राम है जो परमेष्वर उनके लोगो को देते है बचे हुओं की षिक्षा में। हम सामना करेंगे अविष्वास और अस्वीकार का इस संसार में, परंतु कोई बचाया जाएगा। कोई पाप के स्वार्थी जीवन से फिरेगा और यीषु के पास आएगा! कोई उसके पापों से षुद्ध किया जाएगा उनके बहुमूल्य लहू द्वारा। कोई बचाया जाएगा। क्या आप संसार में प्रभु के थोड़े बचाये हुओं में से एक हिस्सा बनेंगे? यह बड़ी बात है, और अद्भूत बात है जब कोई इस पाप की दुनिया छोड़ता है और यीषु के छोट़े समुदाय का हिस्सा बनता है - प्रभु के बचाए हुओ का हिस्सा! यह अद्भूत है, क्योंकि वही तरीका है उनके साम्राज्य में रहने का। यीषु ने कहा,

‘‘हे छोटे झुण्ड, मत डर; क्योंकि तुम्हारे पिता को यह भाया है, कि तुम्हें राज्य दें'' (लूका 12:32)।

मैं आज रात आपसे कहता हूँ सरल विष्वास में यीषु मसीह के पास आने। बचे हुओं का हिस्सा बनो, उनके छोटे़ झुण्ड का हिस्सा! आज रात यीषु का भरोसा करो। उनके लहू द्वारा आपके पापो से षुद्ध हो जाओ। आज रात, अभी उनके द्वारा बचाए जाओ!

श्रीमान ग्रीफिथ आनेवाले है और पोल रेडार द्वारा फिर गीत से गाएंगे। इसका षिर्शक है, ‘‘सिर्फ विष्वास''। वही है जो आज रात मैं आपसे करने को कहता हूँ। सिर्फ विष्वास - सिर्फ विष्वास यीषु में! जब श्रीमान ग्रीफिथ वो गीत गाते है, मैं आपसे कहता हूँ आपकी बैठक से उठो और सभागृह के पिछे जाओ। अगर आप अभी तक बचाये नहीं गए हो, अगर आप अभी तक सच्चे मसीही नहीं हो, सिर्फ आपकी बैठक छोड़ो और इस कमरें के पिछे जाओ जब वे गाते है। डो. केगन आपको षान्त जगह ले जायेंगे जहाँ हम आपके साथ कुछ पवित्रषास्त्र बांट सके और प्रार्थना कर सके। जैसे श्रीमान ग्रीफिथ गाते है तब आप जाओ।

डर मत, छोटे झुण्ड, क्रूस से सिंहासन तक,
   मृत्यु से जीवन में वे अपने आप गए;
सारा सामर्थ्य धरती में, सारा सामर्थ्य ऊपर,
   उन्हें दिया गया उनके प्रेम के झुण्ड के लिये।
सिर्फ विष्वास, सिर्फ विष्वास;
   सब बातें षक्य है, सिर्फ विष्वास,
सिर्फ विष्वास, सिर्फ विष्वास;
   सब बातें षक्य है, सिर्फ विष्वास,

डर मत, छोटे झुण्ड, वे आगे गये,
   आपके चरवाहे ने रास्ता चुना है आपको चलना ही चाहिए;
माराह (Marah) का पानी वो आपके लिये मीठा बनाएंगे
   उन्होंने सारी कड़वाहट पी ली गतसमनी में
सिर्फ विष्वास, सिर्फ विष्वास;
   सब बातें षक्य है, सिर्फ विष्वास,
सिर्फ विष्वास, सिर्फ विष्वास;
   सब बातें षक्य है, सिर्फ विष्वास,

डर मत, छोटे झुण्ड, आपका भाग्य जो भी जो,
   वे प्रवेषते है सारे कक्षों में ‘‘द्वार बंद है'',
वे कभी भी नहीं छोड़ते;
   वे कभी भी नहीं गए
इसलिये उनकी उपस्थिति पर
   भरोसा करो अंधेरे और प्रभात में
सिर्फ विष्वास, सिर्फ विष्वास;
   सब बातें षक्य है, सिर्फ विष्वास,
सिर्फ विष्वास, सिर्फ विष्वास;
   सब बातें षक्य है, सिर्फ विष्वास,
(‘‘सिर्फ विष्वास'' पोल रेडर द्वारा, 1878-1938)।

डो. चान, मेहरबानी करके आओ और हमें प्रार्थना में ले जाओ।

(संदेश का अंत)
आप डॉ0हिमर्स के संदेश प्रत्येक सप्ताह इंटरनेट पर पढ़ सकते हैं क्लिक करें
www.realconversion.com अथवा www.rlhsermons.com
क्लिक करें ‘‘हस्तलिखित संदेश पर।

आप डॉ0हिमर्स को अंग्रेजी में ई-मेल भी भेज सकते हैं - rlhymersjr@sbcglobal.net
अथवा आप उन्हें इस पते पर पत्र डाल सकते हैं पी. ओ.बॉक्स 15308,लॉस ऐंजेल्स,केलीफोर्निया 90015
या उन्हें दूरभाष कर सकते हैं (818)352-0452

ये संदेश कॉपी राईट नहीं है। आप उन्हें िबना डॉ0हिमर्स की अनुमति के भी उपयोग में ला सकते
 हैं। यद्यपि, डॉ0हिमर्स के समस्त वीडियो संदेश कॉपीराइट हैं एवं केवल अनुमति लेकर
ही उपयोग में लाये जा सकते हैं।

धार्मिक प्रवचन से पहले श्रीमान क्यु. डोन्ग ली द्वारा पढ़ा हुआ पवित्रषास्त्र : यषायाह 1:4-9।
धार्मिक प्रवचन से पहले श्रीमान बेन्जामिन किनकेड ग्रीफिथ द्वारा गाया हुआ गीत :
‘‘सिर्फ विष्वास'' (पोल रेडर द्वारा, 1878-1938)।


रूपरेखा

बचे हुओं की षिक्षा

डो. आर. एल. हायर्मस, जुनि. द्वारा

‘‘यदि सेनाओं का यहोवा हमारे थोड़े से लोगों को न बचा रखता, तो हम सदोम के समान हो जाते, और अमोरा के समान ठहरते'' (यषायाह 1:9)।

1. पहला, बचे हुओं की षिक्षा यषायाह की पूरी किताब में मिलती है,
यषायाह 11:11,16; 37:4,31,32; 46:3; रोमियों 9:27,29;
यषायाह 1:4,7।

2. दूसरा, बचे हुओं की षिक्षा समस्त बाइबल में मिलती है,
उत्पति 6:7,8; प्रकाषितवाक्य 12:17।

3. तीसरा, बचे हुओं की षिक्षा आज सत्य है, रोमियों 11:4;
मती 7:13,14; 25:46; लूका 12:32।