Print Sermon

इन संदेशों की पांडुलिपियां प्रति माह २१५ देशों के १,५००,००० कंम्प्यूटर्स पर इस वेबसाइट पते पर www.sermonsfortheworld.com जाती हैं। सैकड़ों लोग इन्हें यू टयूब विडियो पर देखते हैं। किंतु वे जल्द ही यू टयूब छोड़ देते हैं क्योंकि विडियों संदेश हमारी वेबसाईट पर पर पहुंचाता है। यू टयूब लोगों को हमारी वेबसाईट पर पहुंचाता है। प्रति माह ये संदेश ३५ भाषाओं में अनुवादित होकर १२०,००० प्रति माह हजारों लोगों के कंप्यूटर्स पर पहुंचते हैं। लिये उपलब्ध रहते हैं। पांडुलिपि संदेशों का कॉपीराईट नहीं है। आप उन्हें बिना अनुमति के भी उपयोग में ला सकते हैं। आप यहां क्लिक करके अपना मासिक दान हमें दे सकते हैं ताकि संपूर्ण संसार जिसमें मुस्लिम व हिंदु भी सम्मिलित है उनके मध्य सुसमाचार फैलाने के महान कार्य में सहायता मिल सके।

जब कभी आप डॉ हिमर्स को लिखें तो अवश्य बतायें कि आप किस देश में रहते हैं। अन्यथा वह आप को उत्तर नहीं दे पायेंगे। डॉ हिमर्स का ईमेल है rlhymersjr@sbcglobal.net.




अधोलोक में क्रिसमस

CHRISTMAS IN HELL

डो. आर. एल. हायर्मस, जुनि. द्वारा
by Dr. R. L. Hymers, Jr.

लोस एंजलिस के बप्तीस टबरनेकल में प्रभु के दिन की षाम,
12 दिसंबर, 2010 को दिया हुआ धार्मिक प्रवचन
A sermon preached at the Baptist Tabernacle of Los Angeles
Lord’s Day Evening, December 12, 2010

‘‘पुत्र, स्मरण कर।'' (लूका 16:25)।


धनवान मनुष्य मरा और गाड़ा गया। उसकी आत्मा तुरंत ही नीचे अधोलोक की ज्वाला में गई, ‘‘अधोलोक में उसने पीड़ा में पडे हुए अपनी आँखे उठाई'' (लूका 16:23)। धनवान मनुष्यने अब्राहम को ‘‘दूर से'' स्वर्ग में देखा। उसने थोडे से पानी के लिये पुकार की ‘‘(उसकी) जीभ को ठंडी करे; क्योंकि (वो) इस ज्वाला में तडप रहा (था)'' (लूका 16:24)। अब्राहम ने उसे कहा,

‘‘पुत्र, स्मरण कर कि तू अपने जीवन में अच्छी वस्तुएँ ले चूका है और वैसे ही लाजर बुरी वस्तुएःँ परंतु अब वह यहाँ शान्ति पा रहा है और तू तडप रहा है। इन सब बातों को छोड हमारे और तुम्हारे बीच एक भारी गडहा ठहराया गया है कि जो यहाँ से उस पार तुम्हारे पास जाना चाहे, वे न जा सकें; और न कोई वहाँ से इस पार हमारे पास आ सके'' (लूका 16:25-26)।

प्रभू यीशु मसीह ने खोये हुए पापीयों को अधोलोक के खतरो के बारे में आगाह करने को ये वर्णन दिया।

दोनो सी.एच. स्पर्जन और विलीयम बुथ, मुक्ति की सेना के संस्थापक जिसे कभी चेतावनी दी गई थी, पीछली 19वी सदी में की बीसवी सदी में प्रवचन देना अधोलोक की शिक्षा को अनदेखा करेगा। जब बुथ को अमरीकी समाचार पत्र द्वारा प्रश्न किया गया था कि उसने आगे बीसवी सदी में मुख्य खतरे की तरह क्या विचार किया, उसने जवाब दिया (भागो में) ‘‘अधोलोक बिना स्वर्ग'' (द वोर क्राय, जनवरी 1901, पृष्ठ. 7) बुथ की भविष्यवाणी सच हुई। आज अधोलोक पर प्रवचन करना लगभग बीनसुना है। परंतु ऐसा नहीं होना चाहिये। डो. जे. आई. पेकर, जग मशहूर सुसमाचार धर्मोपदेशक बझज्ञानी, ने कहा,

मसीही धर्मोपदेशक का अधोलोक पर (बोलना) उचीत होगा ः ये उनकी नोकरी का हिस्सा है ... धर्मोपदेशक बचाव कार्य में जुटे थे उनके नमाननेवाले पडोशी, और ये सच और जरूरी है कि, इमानदार मनुष्य जैसे, वे निष्कपटता से निर्णय ले ये समझाने की संशयी लोग मसीह से दूर है ... यीशु के और प्रेरितों के मुताबिक, व्यक्तिगत जीवन शारिरिक मृत्यु के बाद चलाता है और जो मसीह के बिना है उनका मनोगत दृश्य आनेवाले विश्व में ऐसा बूरा और भयानक है जैसा ये हो सकता है और हर एक को यह कहना जरूरी है (जे. आई. पेकर, पीएच.डी., वोटेवर हेपन्नड टु हेल? की प्रस्तावना, जोन ब्लानचर्ड द्वारा, डी.डी., पृश्ठ. 9)।

डो. पेकर के कथन के लिये मेरी सिर्फ एक ही टीका है की लगता है अधोलोक पर प्रवचन देना उन्होंने निरूपण किया सिर्फ ‘‘मसीही धर्मोपदेशक'' को ही। परंतु प्रेरितो पौलुस कहने है कि याजको को भी, ‘‘सुसमाचार प्रचार का काम कर'' (2 तीमुथियुस 4:5) करना ही चाहिये। याजको को भी ‘‘अधोलोक पर (बोलना) उचित होगा; ये उनके कार्य का ही हिस्सा है'' (पेकर, पइपक)।

यीशु हमारे आदर्श है, ‘‘हमें एक आदर्श दे गया है, कि तुम भी उसके पद - चिन्हों पर चलो'' (1 पतरस 2:21)। यीशु कईबार अधोलोक पर प्रवचन दिया और वे हमारे आदर्श है। सच्चे मसीह बनने, हर याजक को कभी कभी अधोलोक पर प्रवचन देना चाहिये, स्पष्टता से और पूर्णरूप से जैसे मसीह ने किया जब उन्होंने प्रवचन दिया ‘‘धनवान मनुष्य और लाजर'' पर। मसीह ने कहा की मनुष्य मरा और सीधे नीचे अधोलोक में गया जहाँ उसे आग की ज्वाला में पीडा दी गई। मनुष्य ने अब्राहम से पानी कुछ बूंदो के लिये पूछा। अब्राहम ने उससे कहा,

‘‘पुत्र, स्मरण कर कि तू अपने जीवन में अच्छी वस्तुएँ ले चूका है और वैसे ही लाजर बुरी वस्तुएःँ परंतु अब वह यहाँ शान्ति पा रहा है और तू तडप रहा है'' (लूका 16:25)।

मैं उस पाठ में से सिर्फ दो शब्द उठाता हूँ :

‘‘पुत्र, स्मरण कर'' (लूका 16:25)।

यह क्रिसमस का समय है। हमारे कलीसिया बहुत खूबसूरती से सजाये गये है। हम पूराने क्रीसमस के आनंद के श्रेष्ठ गाने गाते रहते है। अगले रविवार रात को हम बहुत अच्छी क्रीसमस का रात्रि भोजन रखा है, शुक्रवार रात को 7.30 बजे, क्रीसमस की संध्या पर। परंतु यीशु के जन्म के ये सारी खूबसूरत और अर्थपूर्ण अनुष्ठान के दौरान, चलिये हम अधोलोक को नहीं भूलते। अधोलोक पापो का परिणाम है। यीशु क्रूस पर मरने के लिये जन्मे पापीयों को उस भयानक ज्वाला से बचाने। प्रेरितों पौलुस ने कहा,

‘‘मसीह यीशु पापियों का उध्धार करने के लिये जगत में आया'' (1 तीमुथियुस 1:15)।

परमेश्वर के स्वर्गदूत ने युसूफ से कहा,

‘‘तू उसका नाम यीशु रखना, क्योंकि वह अपने लोगो का उनके पापो से उध्धार करेगा'' (मती 1:21)।

तो क्या ये एकदम वैसा ही नहीं है जैसा क्रीसमस के सच्चे अर्थ के बारे में है? क्या क्रीसमस सच्चा संदेश नहीं है कि यीशु स्वर्ग से नीचे आये क्रूस पर मरने, मनुष्यों के पापो को चूकाने, पापीयों को अधोलोक से दूर रखने?

परंतु क्या अगर आप क्रीसमस के पहले ही मर जाओ? यहाँ पर शायद कोई ऐसा हो सकता है जो अगले कुछ दिनो में मर जाए। अगर ये आपके साथ हो, तो 25 दिसंबर को आप अपना पहला क्रीसमस अधोलोक में बितायेंगे। और आपके बारे में भी ऐसा ही कहा जायेगा, जैसा उस धनवान मनुष्य को कहा गया था,

‘‘पुत्र, स्मरण कर'' (लूका 16:25)।

अगर आप जैसे हो वैसे ही रहेंगे, तो इस क्रिसमस नहीं, परंतु कोई ओर दिन, शायद जल्द ही बाद में आप सोचे, आप क्रीसमस उस ज्वाला की पीडा की जगह में बितायेंगे। आप क्या स्मरण करेंगे जब आप अपनी पहली क्रीसमस अधोलोक में बितायेंगे?

I. पहला, आप स्मरण करेंगे उस धार्मिक प्रवचन का जिसकी आपने उपेक्षा की है।

आप निःसंदेह ही स्मरण करेंगे कैसे आप अपने मन को फिराने को सिखे और धार्मिक प्रवचन से दूर भागने। आप समरण करेंगे की ये सब करने की कोशिष की थी। सबसे पहले धार्मिक प्रवचनों ने आपको परेशान किया और आपको अनंत चीजों के बारे में सोचने को लगाया। परंतु, जैसे समय बिता ये दुष्टात्मा के लिये आसान और आसान होता गया धार्मिक प्रवचनों को आप के मन से ‘‘छीन लेने'' को (देखिये मती 13:19)।

‘‘तब शैतान आकर उनके मन में से वचन उठा ले जाता है कि कहीं ऐसा न हो कि वे विश्वास करके उध्धार पाएँ'' (लूका 8:12)।

पहले शैतान के लिये ये करना कठिन था। परंतु जैसे महिने गुजरते गये और आप शैतानी किमियों के इतने आदि हों गये कि कोई भी वस्तु आपको अब ज्यादा परेशान नहीं करने लगी, और आप धार्मिक प्रवचन के दौरान मौत की नीेंद के समान नीेंद करने लगे। अखिरकार आपकी अंतर आत्मा इतनी मुरझा गई और आप का मन इतना कठोर की, जैसे यीशु ने अपने दुश्मनों से कहा

‘‘तुम मेरा वचन सुन नहीं सकते'' (यूहन्ना 8:43)।

मैं मानता हूँ कि आप इतने मूर्ख बन सकते हो ये सूनके की आपके लिये कहा जा सकता है, ‘‘परमेश्वर ने (उन्हें) उनके निकम्मे मन पर छोड दिया'' (1 रोमियों 1:28)।

‘‘पुत्र, स्मरण कर'' (लूका 16:25)।

अधोलोक में आप बहुत से धार्मिक प्रवचन स्मरण करेंगे। जब आप अपनी पहली क्रीसमस उस जलती ज्वाला में बीतायेंगे आप निःसंदेह इस धार्मिक प्रवचन का स्मरण करेंगे। अधोलोक में आप स्मरण करेंगे वो प्रवचनों का जिसकी आपने उपेक्षा की थी।

II. दूसरा, आप स्मरण करेंगे प्रभु की आत्मा का जिसका आपने अस्वीकार किया था।

अधोलोक में आपकी पहली क्रीसमस पर, आप निःसंदेह स्मरण करोगे, की कोई समय पवित्र आत्मा ने आपको आपके पाप का अपराधी ठहराया था। यीशु ने कहा,

‘‘वह आकर संसार को पाप और धार्मिकता और न्याय के विषय में निरूत्तर करेगा'' (यूहन्ना 16:8)।

आप में से कुछ लोग, जब आप अधोलोक में अपनी पहली क्रीसमस बीताते हो, आप स्मरण करोगे जब प्रभु की आत्माने आपके मन को कोमल बनाया। आप स्मरण करेंगे जब उनकी आत्माने आपको डराया। आप स्मरण करेंगे कैसे आपकी आखों में आँसु आये। परंतु आप ये भी स्मरण करेंगे कैसे आपने उनको अपराधी ठहरानेवाले काम को रोका, कैसे आपने रोका जब तक पवित्र आत्मा आपमें से निकाल न लो और प्रभु आपको कहते हुए लगते है,

‘‘एप्रेम मूरतो का संगी हो गया है; इसलिये उसको रहने दे'' (होषो 4:17)।

जैसे डो. राईसने कहा,

फिर कितना दण्ड का दुःखद सामना,
   आप फिर से बुलाये जायेंगे बिना दयाके
ताकि आप रूके और विलंब करें आत्मा के जाने तक,
क्या धिक्कार और मातम, अगर जब मृत्यु
   आपको आशाहीन पाती है,
आप रूके और विलंब किया और बहुत
   लंबे समय तक राह देखी!
(‘‘अगर आप बहुत देर तर विलंब करो''    डो. जो. आई. राइस, द्वारा 1895 - 1980)।

‘‘पुत्र, स्मरण कर'' (लूका 16:25)।

जब आप नर्क में अपनी पहली क्रीसमस बितायेंगे, आप स्मरण करेंगे कैसे आपने प्रभु की आत्मा के अपराधी ठहराने को रोका था, कैसे आपने ‘‘रूको औरि वलंब किया जब तक आत्मा चली जाती है तब तक'' (राईस, पइपकण्)।

‘‘पुत्र, स्मरण कर'' (लूका 16:25)।

पुत्री, स्मरण कर! जब पर्दा नीचे आता है, और रोशनी बंद हो जाती है और आपकी आत्मा ज्वाला में डूबती है - पुत्र, स्मरण कर! पुत्री, स्मरण कर! आप स्मरण करेंगे धार्मिक प्रवचन का जिसका आपने अस्वीकार किया था। आप प्रभु की आत्मा का स्मरण करेंगे, जिसका आपने अस्वीकार किया था।

III. तीसरा, आप स्मरण करेंगे उध्धारक का जिसका आपने अनादर किया था।

नहीं! मुझे मत कहना की आप मसीह का आदर करते हो! इसके बारे में जुठ मत कहीये! आपको उनके लिये कोई आदर नहीं है! जरा भी नहीं। यहीं तो बाइबल कहता है आपके बारे में

‘‘वह तुचछ जाना जाता और मनुष्यों का त्यागा हुआ था; वह दुःखी पुरूष था, रोग से उसकी जान पहचान थी; और लोग उससे मुख फेर लेते थे; वह तुच्छ जाना गया, और हम ने उसका मूल्य न जाता'' (यशायाह 53:3)।

अगर आपको मसीह के लिये आदर होता तो आपने उनके लिये प्रयत्न किये होते। अगर आपको मसीह के लिये आदर होता तो आपने उनमें ‘‘प्रयत्न कीये (अपनी पूरी शक्ति से) होते प्रवेश करने का'' (लूका 13:24)। आपने क्या प्रयत्न किये है? क्या आपने लुथर की तरह घंटो तक प्रार्थना की हैै ? क्या आपने वाइटफिल्ड की तरह हफतो तक उपवास किये थे? क्या आपने वेस्ली की तरह अपने आपको बाहर निकाला? स्पर्जन की तरह क्या आपने अपने आपको बर्फ के तूफान में ले गये? मैं कहता हूँ आपने प्रयत्न किये ही नहीं! और किसी दिन, जब आप अधोलोक में होंगे, आप स्मरण करेंगे की आप कितने सुस्त और आलसी हो कि आपने कभी भी मसीह को ढुंढने का प्रयत्न ही नहीं किया!

‘‘पुत्र, स्मरण कर!'' (लूका 16:25)।

पुत्री, स्मरण कर! आप वो अधोलोक में स्मरण करेंगे! आप समरण करेंगे की आप को यीशु मसीह के लिये कितना थोडा सा आदर है कि आप जल्दी से उन्हें पा नहीं सकोगे, किसने कहाँ,

‘‘तुम मुझे ढूँढोगे और पाओगे भी; क्योंकि तुम अपने संपूर्ण मन से मेरे पास आओगे'' (यिर्मयाह 29:13)।

पुत्र, स्मरण कर! पुत्री, स्मरण कर! आप स्मरण करेंगे अनंत जला में, कैसे आपने यीशु का अनादर किया, आपने उनके मुक्ति के प्रस्ताव का कैसे अस्वीकार किया।

आपने कितने बकवाद करते हुए राह देखी,
   कितनी सहजता से उनका अस्वीकार किया,
आपने लंबे और भयानक पाप किये,
   आपका मन कितना गलत है;
ओह, अगर प्रभु अधीर होंगे, मधुर आत्मा असंतुष्ट;
अगर वो जल्द ही आपको नहीं बुलाते है,
   दुर्भाग्य आपका है जब वे चले गये हो।
फिर कितना दण्ड का दुःखद सामना,
   आप फिर से बुलाये जाओगे बिना दया के
ताकि आप रूके और विलंब करे
   आत्मा के जाने तक,
क्या धिक्कार और मातम, अगर जब
   मृत्यु आपको आशाहीन पाती है,
आप रूके और विलंब किया और बहुत
   लंबे समय तक राह देखी!
(‘‘अगर आप बहुत देर तक विलंब करो''
     डो. जोन. आर. राइस द्वारा, 1895 - 1980)

(संदेश का अंत)
आप डॉ0हिमर्स के संदेश प्रत्येक सप्ताह इंटरनेट पर पढ़ सकते हैं क्लिक करें
www.realconversion.com अथवा www.rlhsermons.com
क्लिक करें ‘‘हस्तलिखित संदेश पर।

आप डॉ0हिमर्स को अंग्रेजी में ई-मेल भी भेज सकते हैं - rlhymersjr@sbcglobal.net
अथवा आप उन्हें इस पते पर पत्र डाल सकते हैं पी. ओ.बॉक्स 15308,लॉस ऐंजेल्स,केलीफोर्निया 90015
या उन्हें दूरभाष कर सकते हैं (818)352-0452

ये संदेश कॉपी राईट नहीं है। आप उन्हें िबना डॉ0हिमर्स की अनुमति के भी उपयोग में ला सकते
 हैं। यद्यपि, डॉ0हिमर्स के समस्त वीडियो संदेश कॉपीराइट हैं एवं केवल अनुमति लेकर
ही उपयोग में लाये जा सकते हैं।

धार्मिक प्रवचन के पहले डो. क्रेगटन एल. चान द्वारा पढा हुआ पवित्रशास्त्र : लूका 16:19-25।
धार्मिक प्रवचन के पहले श्रीमान बेन्जामिन किनकेड ग्रीफिथ द्वारा गाया हुआ गीत :
‘‘अगर आप बहुत देर तक विलंब करो''
(डो. जोन. आर. राइस द्वारा, 1895 - 1980)।


रूपरेखा

अधोलोक में क्रिसमस

डो. आर. एल. हायर्मस, जुनि. द्वारा

‘‘पुत्र, स्मरण कर'' (लूका 16:25)।

(लूका 16:23, 24, 25-26; 2 तीमुथियुस 4:5;
1 पतरस 1:21; 1 तीमुथियुस 1:15; मती 1:21)

I.   पहला,  आप स्मरण करेंगे उस धार्मिक प्रवचन का जिसकी आपने उपेक्षा की है, मती 13:19; लूका 8:12; यूहन्ना 8:43; रोमियों 1:28।

II.  दूसरा,  आप स्मरण करेंगे प्रभु की आत्मा का जिसका आपने अस्वीकार किया था, यूहन्ना 16:8; होशे 4:17।

III. तीसरा,  आप स्मरण करेंगे उध्धारक को जिसका आपने अनादर किया था, यशायाह 53:3; लूका 13:24; यिर्मयाह 29:13।